खबरें अब तक

  • PM मोदी ने गुजरात की दो मेट्रो परियोजनाओं का किया भूमि पूजन, बोले- 27 शहरों में 1000 किमी से अधिक...

    PM मोदी ने गुजरात की दो मेट्रो परियोजनाओं का किया भूमि पूजन, बोले- 27 शहरों में 1000 किमी से अधिक...

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुजरात की आर्थिक राजधानी अहमदाबाद को राजनीतिक राजधानी गांधीनगर से जोड़ने वाले अहमदाबाद मेट्रो रेल परियोजना के फेज 2 और हीरा नगरी सूरत की मेट्रो परियोजना का वीडियो कांफ्रेंस के जरिए भूमि पूजन किया। 5384 करोड़ रुपए की लागत वाले 28.25 किमी लंबे अहमदाबाद मेट्रो परियोजना के फेज 2 यानी दूसरे चरण को मार्च 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

    इसके तहत दो कॉरिडोर होंगे। पहला 22.8 किमी लंबा होगा और यह अहमदाबाद स्थित दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम मोटेरा स्टेडियम से गांधीनगर के महात्मा मंदिर को जोड़ेगा। दूसरा 5.4 किमी लम्बा होगा और गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी यानी जीएनएलयू को भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (आइएफएससी) गिफ्ट सिटी से जोड़ेगा।

    इस मौके पर पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कहा कि इन परियोजनाओं से गुजरात और इसके दो प्रमुख व्यावसायिक केंद्रो अहमदाबाद और सूरत के विकास को और गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि बीते छह वर्ष में मेट्रो नेटवर्क के विस्तार से पता चलता है कि वर्तमान सरकार किस गति से विकास की योजनाओं को अमली जामा पहना रही है।

    वही, प्रधानमंत्री ने कहा कि एक समय था जब देश में मेट्रो परियाजनाओं को लेकर न कोई आधुनिक सोच थी और ना ही कोई नीति। इसका परिणाम ये हुआ कि हर शहर में अलग ही प्रकार की मेट्रो थी। उन्होंने कहा, "पहले की सरकारों की जो एप्रोच थी और हमारी सरकार कैसे काम कर रही है इसका बेहतरीन उदाहरण मेट्रो नेटवर्क है। इसके विस्तार से पता चलता है क्या फर्क आया है। वर्ष 2014 से पहले के 10-12 वर्षों में सिर्फ 225 किमी मेट्रो लाइन ऑपरेशनल हुई थी। वहीं बीते 6 वर्षों में 450 किमी से ज्यादा मेट्रो नेटवर्क चालू हो चुका है और इस समय देश के 27 शहरों में 1000 किमी से ज्यादा के नए मेट्रो नेटवर्क पर काम चल रहा है।"

    अहमदाबाद और सूरत को गुजरात और भारत की आत्मनिर्भरता को सशक्त करने वाले शहर करार देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश नए आधारभूत संरचना के निर्माण को लेकर लगातार तेज गति से अपने कदम आगे बढ़ा रहा है। उन्होंने कहा कि बीते कुछ ही दिनों में देश भर में हजारों करोड़ रुपए की अवसंरचना परियोजनाओं का या तो लोकार्पण किया गया है या फिर नयी परियोजनाओं पर काम शुरू हुआ है।

    उन्होंने कहा, "आज हम शहरों के परिवहन को एक टिकाऊ सार्वजनिक परिवहन प्रणाली के तौर पर विकसित कर रहे हैं। यानी बस, मेट्रो, रेल सब अपने अपने हिसाब से नहीं दौड़ें, बल्कि एक सामूहिक व्यवस्था के तौर पर काम करें, एक दूसरे के पूरक बनें।" इसके अलावा केंद्र सरकार की विभिन्न महत्वाकांक्षी परियोजनाओं का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत आत्मविश्वास के साथ फैसले ले रहा है और उन पर तेजी से अमल भी कर रहा है।

    उन्होंने कहा कि आज भारत सिर्फ बड़ा ही नहीं कर रहा है बल्कि बेहतर भी कर रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात के शहरों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी बीते वर्षों में अभूतपूर्व विकास हुआ है विशेष रूप से गांव में सड़क, बिजली और पानी के क्षेत्र में। उन्होंने कहा, "इन क्षेत्रों में बीते दो दशकों में जो सुधार आया है। वो गुजरात की विकास यात्रा का बहुत अहम अध्याय है। आयुष्मान भारत योजना’ के तहत गुजरात के 21 लाख लोगों को मुफ्त इलाज मिला है। अब गुजरात के हर गांव तक पानी पहुंच चुका है। इतना ही नहीं अब करीब 80 प्रतिशत घरों में नल से जल पहुंच रहा है।"

    बता दें कि अहमदाबाद मेट्रो रेल परियोजना के दूसरे चरण में कुल 28.25 किलोमीटर की लंबाई के दो मार्गों पर मेट्रो का संचालन होगा। पहला कॉरिडोर मोटेरा स्टेडियम से महात्मा मंदिर तक होगा और इसकी कुल लंबाई 22.83 किलोमीटर होगी जबकि दूसरा कॉरिडोर जीएनएलयू से गिफ्ट सिटी तक होगा और इसकी कुल लंबाई 5.41 किलोमीटर होगी। इन परियोजनाओं पर कुल लागत 5384.17 करोड़ रुपये की आएगी।

    कुल 40.35 किलोमीटर लंबाई के दो मेट्रो रेल गलियारों वाली सूरत मेट्रो रेल परियोजना की अनुमानित लागत 12020.32 करोड़ रुपए है। सरथना से ड्रीम सिटी तक पहले गलियारे की कुल लंबाई 21.61 किलोमीटर है, जिसमें से 6.47 किलोमीटर हिस्सा भूमिगत है और 15.14 किलोमीटर हिस्सा जमीन के ऊपर है।

    यह गलियारा 20 स्‍टेशनों - सरथना, नेचर पार्क, कपोदरा, लाभेश्‍वर चौक एरिया, सेंट्रल वेयर हाउस, सूरत रेलवे स्‍टेशन, मस्‍कटी हॉस्पिटल, गांधी बाग, मजूर गेट, रूपाली कनाल, ड्रीम सिटी को जोड़ेगा। दूसरा गलियारा भेसन से सरोली लाइन का है जो 18.74 किलोमीटर लंबा है। यह पूरी तरह जमीन से ऊपर (एलिवेटिड) है। यह 18 मेट्रो स्‍टेशनों – भेसन, उगाट, वारिग्रह, पालनपुर रोड, एलपी सावनी स्‍कूल, अडाजन गाम, एक्‍वेरियम, मजूर गेट, कामेला दरवाजा, मगोब और सरोली को जोड़ेगा।

    और भी...

  • मुरादाबाद:वैक्सीनेशन से नही हार्ट अटैक से हुई थी वॉर्ड बॉय की मौत,पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा

    मुरादाबाद:वैक्सीनेशन से नही हार्ट अटैक से हुई थी वॉर्ड बॉय की मौत,पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा

     

    मुरादाबाद में कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद अस्पताल के एक वार्ड ब्वॉय की मौत हो गई। इसके बाद मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया था कि टीका लगने का बाद वार्ड ब्वाय की मौत हुई है। लेकिन अब खबर सामने आयी है कि महिपाल नाम के वॉर्ड ब्वॉय की मौत हार्ट अटैक से हुई थी न कि टीका लगने से। 16 जनवरी को वार्ड ब्वॉय को कोविशील्ड का टीका लगा था और उसके अगले ही दिन यानी 17 जनवरी को उसकी अचानक मौत हो गई थी।

    मिली जानकारी के अनुसार तीन डॉक्टर के पैनल ने महिपाल के शव का पोस्टमार्टम किया था। जिसके बाद अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि महिपाल की मौत कोरोना के टीके ने नहीं बल्कि हार्ट अटैक से हुई है।

    बता दें कि महिपाल के परिजनों का आरोप है कि टीका लगाने के पहले महिपाल की मेडिकल जांच भी नहीं की गई थी। महिपाल की मौत के बाद उसके परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे मुरादाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एससी गर्ग ने कहा है कि महिपाल को सीने में जकड़न और साँस लेने में दिक्कत हो रही थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था।

    बता दें कि मुरादाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने एम सी गर्ग ने रविवार को कहा  था कि उनके मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही चल पाएगा। जिसके बाद आज गर्ग ने बताया कि महिपाल की मौत हार्टअटैक से हुई  है। फिलहाल इस मामले में अस्पताल प्रशासन जांच कर रहा है।

    और भी...

  • IND vs AUS :टीम इंडिया को पांचवें दिन बनाने होंगे 324 रन,चौथे दिन भी बारिश के कारण पूरा नहीं हुआ खेल

    IND vs AUS :टीम इंडिया को पांचवें दिन बनाने होंगे 324 रन,चौथे दिन भी बारिश के कारण पूरा नहीं हुआ खेल

     

    भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चौथे और आखिरी टेस्ट मैच के चौथे दिन का खेल बारिश के कारण जल्दी समाप्त हो गया। दिन के आखिरी सत्र में ऑस्ट्रेलिया से मिले 328 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारत की दूसरी पारी में सिर्फ 1.5 ओवरों का ही खेल हो पाया। इसके बाद बारिश होने के कारण खेल को रोकना पड़ा।

    गाबा इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले जा रहे इस मैच में बारिश के कारण जब खेल रुका तब भारत का स्कोर बिना किसी नुकसान के चार रन था। रोहित शर्मा चार रन बनाकर खेल रहे हैं और शुभमन गिल ने अभी खाता नहीं खोला है। बारिश न रुकने के कारण अंपायरों ने चौथे दिन के खेल को जल्दी समाप्त करने का फैसला किया। जिसके बाद अब पांचवें दिन भारत को जीत के लिए 324 रन बनाने होंगे।

    ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी में कुल 294 रन बनाए और भारत को जीत के लिए 328 रनों का लक्ष्य दिया। ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में 369 रन बनाए थे और भारत को पहली पारी में 336 रनों पर ऑल आउट कर दूसरी पारी में 33 रनों की बढ़त के साथ उतरी थी।

    ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया के लिए स्टीव स्मिथ ने सबसे ज्यादा 55 रन बनाए। स्मिथ ने अपनी पारी में 74 गेंदों का सामना करते हुए सात चौके लगाए। वहीं डेविड वॉर्नर ने 75 गेंदों की अपनी पारी में छह चौकों की मदद से 48 रन बनाए। कैमरून ग्रीन ने 37, टिम पेन ने 27 बनाए। वहीं पैट कमिंस ने नाबाद 28 रन रन बनाए।

    मोहम्मद सिराज ने लिए 5 विकेट

    भारत के लिए तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने पांच विकेट लिए। वहीं ब्रिस्बेन में पांच विकेट लेने वाले छठे भारतीय गेंदबाज हैं. इसके अलावा शार्दुल ठाकुल को चार सफलता मिलीं। वहीं पहली पारी में तीन विकेट लेने वाले वॉशिंगट सुंदर को एक विकेट मिला।

    और भी...

  • संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरनाम सिंह चढूनी को किया सस्पेंड, राजनीतिक दलों से संपर्क का है आरोप

    संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरनाम सिंह चढूनी को किया सस्पेंड, राजनीतिक दलों से संपर्क का है आरोप

     

    भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी को संयुक्त किसान मोर्चा ने बातचीत कमेटी से बाहर कर दिया है। अब उन्हें 19 जनवरी को किसानों और केंद्र सरकार के बीच होने वाली बैठक से भी बाहर रखा जाएगा। सूत्रों के अनुसार, चढूनी पर आरोप है कि उन्होंने राजनीतिक पार्टियों के साथ दिल्ली में एक सम्मेलन किया था।

    इस सम्मेलन में बीजेपी को छोड़कर बाकी विपक्षी पार्टियों के नेता ने हिस्सा लिया था, इसीलिए संयुक्त किसान मोर्चा ने उन्हें सस्पेंड किया है वही, चढू़नी ने सभी आरोपों को सिरे से खारिज किया है। गुरनाम सिंह चढूनी के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए 7 सदस्य समिति बनाई गई है। समिति के सामने चढूनी को अपना पक्ष रखना होगा। जांच पूरी होने तक संयुक्त किसान मोर्चा की आंतरिक बैठकों और केंद्र सरकार के साथ होने वाली बैठक से चढ़ूनी बाहर भी रहेंगे।

    बता दें कि गुरनाम सिंह चढूनी किसानों की आवाज लगातार उठाते रहते है। इस बीच केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में किसानों को एकत्रित करने में गुरनाम सिंह चढूनी की अहम भूमिका रही है। ऐसे में गुरनाम सिंह चढूनी पर अब तक 34 मामले दर्ज हो चुके है। इनमें प्रदर्शन करने, शांति भंग करने, हत्या व हत्या का प्रयास के तहत मामले दर्ज किए गए है। यही नहीं किसान आंदोलन के दौरान चढूनी कई बार जेल भी जा चुके है।

    और भी...

  • पंजाब में कई जगह बढ़ा न्यूनतम तापमान, जानिए कहा कितना रहा Temperature

    पंजाब में कई जगह बढ़ा न्यूनतम तापमान, जानिए कहा कितना रहा Temperature

     

    पंजाब और हरियाणा में कई स्थानों पर सोमवार को न्यूनतम तापमान में मामूली बढ़ोतरी के साथ ही लोगों को ठंड से थोड़ी राहत मिली। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों के अनुसार दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 7.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

    पंजाब के पटियाला में न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 10.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं हलवारा, बठिंडा और गुरदासपुर में न्यूनतम तापमान क्रमश: 9.6 , 7.8 और 8.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर में न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 5.2 डिग्री सेल्सियस और लुधियाना में न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

    और भी...

  • दुनियाभर में कोविड-19 का कहर बरकरार, कुल संक्रमितों की संख्या 9.5 करोड़ के पार

    दुनियाभर में कोविड-19 का कहर बरकरार, कुल संक्रमितों की संख्या 9.5 करोड़ के पार

     

    विश्व में जानलेवा कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है और अभी तक साढ़े नौ करोड़ से अधिक लोग इससे प्रभावित हुए हैं। वही, कोविड-19 के कारण 20 लाख से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, विश्व के 191 देशों में कोरोना वायरस से अब तक 9 करोड़ 50 लाख तीन हजार 533 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 20 लाख 29 हजार 938 लोग काल का ग्रास बन चुके हैं।

    कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 2.39 करोड़ के पार हो चुकी है, जबकि यहां करीब 3.97 लाख से अधिक मरीजों की मौत हुई है। वही, भारत में संक्रमितों का आंकड़ा, एक करोड़ पांच लाख 71 हजार 773 तक पहुंच गया है। यहां कोरोना वायरस से मुक्त होने वालों की संख्या एक करोड़ दो लाख 11 हजार 342 हो गई है, जबकि मृतकों का आंकड़ा 1,52,419 तक पहुंच गया है।

    ब्राजील में कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या 84.88 लाख के पार हो गई है जबकि इस महामारी से 2.09 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या 34.30 लाख से अधिक हो गई है, जबकि 64,601 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा ब्रिटेन में 34.05 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और 89,429 लोगों की मौत हुई है। फ्रांस में करीब 29.69 लाख से अधिक लोग इस वायरस से प्रभावित हुए हैं और 70,422 मरीजों की मौत हाे चुकी है।

    तुर्की में कोविड-19 से अब तक करीब 23.87 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं तथा 23,997 लाेग काल के गाल में समा गए हैं। इटली में अब तक 23.81 लाख से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं और 82,177 लोगों की मौत हो चुकी है। वही, इस महामारी से स्पेन में अब तक 22.52 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं तथा 53,314 लोगों की मौत हुई है। जर्मनी में इस वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 20.51 लाख के पार पहुंच गई है तथा 46,781 लोगों की मौत हुई है।

    इस जानलेवा वायरस से कोलंबिया में अब तक 19.08 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं तथा 48,631 लोगों ने जान गंवाई है। अर्जेंटीना में कोविड-19 से 17.99 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं तथा 45,407 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा मेक्सिको में कोरोना से करीब 16.30 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और 1.40 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। पोलैंड में संक्रमण के 14.35 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं तथा 33,355 लोगों की मौत हो गई है।

    दक्षिण अफ्रीका कोरोना संक्रमितों के मामले में ईरान से आगे निकल गया है यहां कोरोना से संक्रमित के मामले करीब 13.38 लाख तक पहुंच गयी है और तथा 37,105 लोग काल के गाल में समा गए हैं। ईरान में इस महामारी से अब तक करीब 13.30 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं तथा 56,803 लोगों की मौत हो गई है। यूक्रेन में 11.98 लाख से ज्यादा लाेग इस वायरस से प्रभावित हुए हैं जबकि 21,767 लोगों की मौत हो चुकी है। पेरू में इस वायरस से अब तक 10.60 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और 38,770 लोगों की मौत हो चुकी है। 

    और भी...

  • स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कोरोना वैक्सीन पर दिया ये बड़ा बयान

    स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कोरोना वैक्सीन पर दिया ये बड़ा बयान

     

    उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर योगी सरकार को घेरते हुए कहा है कि सरकार ने प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को ही आईसीयू में भर्ती कर दिया है। अखिलेश ने कहा, 'प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं खुद बीमार हो गई हैं। गरीब का इलाज मंहगा तो हुआ ही, अस्पतालों में अव्यवस्था का शिकार भी वही बन रहा है। भाजपा सरकार ने जनता को बेहतर जिंदगी के साधन देने के बजाए प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को ही आईसीयू में भर्ती कर दिया है।' 

    उन्होंने कहा, 'भाजपा को टीके पर दावा क्यों करना चाहिए? यह एक अत्यंत संवेदनशील मसला है। समाजवादी पार्टी का वैज्ञानिकों की दक्षता पर पूरा भरोसा है पर भाजपा की ताली-थाली वाली अवैज्ञानिक सोच एवं भाजपा सरकार की चिकित्सा व्यवस्था पर भरोसा नहीं है। जनता में भरोसा हो इसके लिए सरकार को टीकाकरण में पारदर्शिता के साथ व्यवस्था की खामियां भी दूर करनी चाहिए।' 

    वही, अखिलेश ने कहा, 'मथुरा जिला अस्पताल में बुजुर्ग महिला मरीज को स्ट्रेचर तक नहीं मिला। बेटा ठेले पर मां को लादकर अस्पताल पहुंचा। पहले भी ऐसी कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। अमेठी के जिला अस्पताल में तो महिला चिकित्सक ही नहीं है। वहां आने वाली बीमार और गर्भवती महिलाओं का कोई हाल पूछने वाला नहीं। किसी महिला को इलाज कराना हो तो उसे 30 किमी दूर जाना पड़ता है।'

    उन्होंने आगे कहा, 'भाजपा सरकार की गलत और प्राथमिकता रहित नीतियों के चलते स्वास्थ्य सेवाओं का चरमरा जाना स्वाभाविक है। तमाम अस्पतालों में चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ के हजारों पद खाली पड़े हैं। ऐसी हालत में लखीमपुर खीरी के संपूर्णानगर और गौरीफंडा के स्वास्थ्य केंद्रों में फार्मेसिस्ट ही अस्पताल चला रहे हैं। ग्रामीण इलाकों में चिकित्सकों की अनुपस्थिति से झोलाछाप चिकित्सकों का धंधा फल फूल रहा है।'

    और भी...

  • कोरोना वैक्सीन पर सुरजेवाला ने सरकार से पूछा- क्या गरीबों और वंचितों को मुफ्त में लगेगा टीका?

    कोरोना वैक्सीन पर सुरजेवाला ने सरकार से पूछा- क्या गरीबों और वंचितों को मुफ्त में लगेगा टीका?

     

    भारत में कोविड-19 का टीकाकरण अभियान की शुरुआत होने के बाद कांग्रेस ने पूछा है कि क्या सरकार की सभी भारतीयों को खासकर वंचितों और गरीबों को मुफ्त टीका लगाने की योजना है और यह कब लगाया जाएगा?

    कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार दावा करती है कि टीकाकरण अभियान के पहले चरण में तीन करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा, लेकिन इस बारे में कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है कि क्या भारत की शेष आबादी को टीका लगाया जाएगा और क्या यह मुफ्त लगाया जाएगा?

    उन्होंने कहा, "क्या सरकार को नहीं पता कि 81.35 करोड़ लोग खाद्य सुरक्षा कानून के तहत सब्सिडी वाले राशन के हकदार हैं? क्या अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वालों, गरीबों और वंचितों को टीका मुफ्त में लगाया जाएगा या नहीं? अगर हां तो टीकाकरण की क्या योजना है और कब तक सरकार नि:शुल्क टीकाकरण कराएगी।"

    सुरजेवाला ने कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सरकार को जवाब देना होगा। मुफ्त कोरोना टीका किसे लगेगा? कितने लोगों को मुफ्त कोरोना टीका लगेगा? मुफ्त टीका कहां लगेगा?" वही, कांग्रेस नेता ने कोविड-19 के दो टीकों ‘कोवैक्सीन’ और ‘कोविशील्ड’ के मूल्य को लेकर भी सवाल खड़े किए।

    कांग्रेस महासचिव ने पूछा कि सरकार को भारत बायोटेक को उस टीके के लिए 95 रुपये अधिक क्यों देने चाहिए जिसे भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के वैज्ञानिकों के अनुभव और विशेषज्ञता के साथ विकसित किया गया है। उन्होंने कहा, 'क्या ऐसे टीके की कीमत एस्ट्राजेनेका-सीरम इंस्टीट्यूट के टीके से कम नहीं होनी चाहिए? खुले बाजार में कोरोना के टीके की कीमत 1,000 रुपये क्यों है।'

    बता दें कि भारत बायोटेक द्वारा स्वदेश विकसित कोवैक्सीन और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित तथा भारत में एसआईआई द्वारा निर्मित कोविशील्ड को देश में सीमित आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। सुरजेवाला ने आगे कहा कि सरकार को कंपनियों से उत्पादन की लागत और टीके से हो रहे मुनाफे पर पारदर्शिता बरतने को कहना चाहिए।

    संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, 'टीके का विकास और सामूहिक टीकाकरण ना तो कोई इवेंट है और ना ही प्रचार का हथकंडा, बल्कि ये जनता की सेवा में महत्वपूर्ण मील का पत्थर हैं।' वही, कांग्रेस नेता ने कहा, 'भारत अपने अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं को कोरोना वायरस से सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक साथ खड़ा है, वहीं यह भी याद रखा जाए कि टीकाकरण एक महत्वपूर्ण जनसेवा है और राजनीतिक या कारोबारी अवसर नहीं है।'

    और भी...

  • रिकॉर्ड में हुआ बड़ा खुलासा, कैपिटल में हिंसा करने वाली रैली के पीछे डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों का हाथ

    रिकॉर्ड में हुआ बड़ा खुलासा, कैपिटल में हिंसा करने वाली रैली के पीछे डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों का हाथ

     

    अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चुनाव प्रचार मुहिम से जुड़े लोगों की वॉशिंगटन में उस रैली को आयोजित करने में अहम भूमिका थी, जिसने अमेरिकी कैपिटल में घातक हमला किया था। यह बात 'एसोसिएटिड प्रेस' द्वारा की गई रिकॉर्डों की समीक्षा में सामने आई है।

    ट्रंप समर्थक गैर सरकारी संगठन 'विमेन फॉर अमेरिका फर्स्ट ने व्हाइट हास के निकट स्थित संघ के मालिकाना हक वाली जमीन 'इलिप्स में छह जनवरी को 'सेव अमेरिका रैली का आयोजन किया था, लेकिन 'नेशनल पार्क सर्विस द्वारा दी गई मंजूरी की सूची में छह से अधिक ऐसे लोग हैं, जो स्टाफकर्मी थे और जिन्हें ट्रंप की 2020 चुनाव प्रचार मुहिम ने कुछ ही सप्ताह पहले हजारों डॉलर का भुगतान किया था।

    इसके अलावा प्रदर्शन के दौरान घटनास्थल पर मौजूद कई लोगों के व्हाइट हाउस के साथ निकट संबंध हैं। बता दें कि चुनाव परिणाम में धांधली का आरोप लगाने वाले ट्रंप के इलिप्स में दिए भाषण और इससे पहले की टिप्पणियों के कारण कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) में हिंसा भड़की थी। इसके बाद प्रतिनिधि सभा ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित किया।

    ट्रंप अमेरिका के इतिहास में पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं, जिनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग चलाया जा रहा है। जब 'विमेन फॉर अमेरिका फर्स्ट से पूछा गया कि इस रैली के लिए वित्तीय मदद किसने दी थी और ट्रंप की मुहिम की इसमें क्या संलिप्तता थी, तो उसने इन संदेशों का कोई जवाब नहीं दिया। इस रैली में हजारों लोग शामिल हुए थे। ट्रंप की प्रचार मुहिम ने एक बयान में कहा कि उसने 'समारोह आयोजित नहीं किया या उसे वित्तीय मदद नहीं दी तथा मुहिम का कोई भी सदस्य रैली के आयोजन में शामिल नहीं था।

    वही, बयान में कहा गया है कि यदि किसी पूर्व कर्मी या मुहिम से स्वतंत्र रूप से जुड़े किसी व्यक्ति ने रैली में भाग लिया, तो उसने ट्रंप मुहिम के निर्देश पर ऐसा नहीं किया। मेगन पावर्स छह जनवरी को हुए कार्यक्रम के प्रबंधकों में शामिल थी। उनकी लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार, वह जनवरी 2021 में ट्रंप की मुहिम से जुड़ी हुई थीं।

    उन्होंने इस संबंध में किए गए सवालों का कोई जवाब नहीं दिया। समीक्षा के अनुसार, रैली के लिए दी गई मंजूरी में ट्रंप की मुहिम से जुड़े कम से कम तीन ऐसे लोगों का जिक्र है, जिन्होंने प्रदर्शन से स्वयं को अलग करने की कोशिश की है। उन्होंने अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल लॉक कर दिए हैं या बंद कर दिए हैं और रैली संबंधी ट्वीट हटा दिए हैं।

    और भी...

  • गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे किसान, योगेंद्र यादव बोले- परेड में नहीं होगा...

    गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे किसान, योगेंद्र यादव बोले- परेड में नहीं होगा...

     

    केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटी सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहीं किसान यूनियनों ने कहा कि वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजधानी में अपनी प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड निकालेंगे। रविवार को यूनियन नेता योगेंद्र यादव ने सिंघु बॉर्डर स्थित प्रदर्शन स्थल पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "हम गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में बाहरी रिंग रोड पर एक ट्रैक्टर परेड करेंगे। परेड बहुत शांतिपूर्ण होगी। गणतंत्र दिवस परेड में कोई भी व्यवधान नहीं होगा। किसान अपने ट्रैक्टरों पर राष्ट्रीय ध्वज लगाएंगे।"

    वही, प्राधिकारियों ने किसानों द्वारा प्रस्तावित ट्रैक्टर मार्च या ऐसे किसी अन्य प्रकार के विरोध प्रदर्शन पर रोक की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है ताकि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह में किसी तरह की बाधा न आए। बता दें कि यह मामला अदालत में लंबित है। एक अन्य किसान यूनियन नेता दर्शन पाल सिंह ने आरोप लगाया है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) उन लोगों के खिलाफ मामले दर्ज कर रही है जो विरोध प्रदर्शन का हिस्सा हैं या इसका समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी किसान यूनियन इसकी निंदा करती हैं।

    दरअसल, पाल का इशारा एनआईए द्वारा उन समन की ओर था जो प्रतिबंधित संगठन ‘सिख्स फॉर जस्टिस’ से जुड़े एक मामले में एक किसान यूनियन नेता को जारी किए गए हैं। बता दें कि पिछले एक महीने से ज्यादा समय से पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों किसान कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर दिल्ली के विभिन्न बार्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

    और भी...

  • लॉकडाउन के बाद दिल्ली और राजस्थान में आज से खुले स्कूल, छात्र बोले- हम नियमों का करेंगे पालन

    लॉकडाउन के बाद दिल्ली और राजस्थान में आज से खुले स्कूल, छात्र बोले- हम नियमों का करेंगे पालन

     

    कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से दिल्ली और राजस्थान में बीते 10 महीने से बंद स्कूल आज यानी सोमवार को खुल चुके है। राज्य सरकारों ने इसके लिए स्कूलों के लिए गाइडलाइन जारी की है, जिनमें मास्क लगाना अनिवार्य रूप से शामिल हैं। इसके साथ ही सरकार ने अपनी गाइडलाइन में साफ किया है कि बच्चे अपने माता- पिता की अनुमति लेकर ही स्कूल आएंगे।

    तो वही, यूनिफॉर्म में छात्रों के स्कूल पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है। एक छात्र ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हम अपने सभी सवालों को शिक्षकों से पूछेंगे और नए पैटर्न को सीखेंगे। इसके साथ ही हम सोशल डिस्टैंसिंग और मास्क जैसे जरूरी नियमों का पालन करेंगे।

    दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए 18 जनवरी से स्कूल खोलने की अनुमति दी है। तो वहीं, राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि 18 जनवरी से कक्षा नौ से बारहवीं के लिए विद्यालय खोलने की अनुमति के तहत स्कूलों में कोरोना नियमों का पूरा ध्यान रखा जायेगा।

    जानकारी के लिए बता दें कि दोनों राज्यों की सरकार ने स्कूल खोलने को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी कर दिए थे। सभी स्टाफ को मास्क लगाना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना होगा। इसमें बच्चे भी शामिल होंगे। 10 महीने के अंतराल के बाद दिल्ली और राजस्थान के स्कूल 18 जनवरी से खोलने का फैसला पहले ही जारी कर दिया गया था। स्कूल आगामी बोर्ड परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए दोनों राज्यों में खोले गए हैं।

    बता दें कि कोरोना महामारी आने के बाद सरकार ने पूरे देश में एक दिन का जनता कर्फ्यू लगा दिया था और साथ ही उसके बाद पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया था। फिर सरकार ने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की और देश को फिर से धीरे धीरे खोला गया।
     

    और भी...

  • 18 जनवरी के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

    18 जनवरी के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

     

    1955: आज ही के दिन उर्दू के मशहूर लेखक और कवि सदात हसन मंटो ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था।

    1886: हॉकी एसोसिएशन का गठन इंग्‍लैंड में हुआ था. आज का दिन मॉडर्न हॉकी के जन्‍मदिन के रूप में देखा जाता है।

    1991: 62 साल के कारोबार के बाद आज ही के दिन ईस्‍टर्न एयरलाइन को आर्थिक कारणों से बंद कर दिया गया था।

    1995: आज ही के दिन याहू डॉट कॉम का डोमेन बनाया गया था।

    1996: आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एन टी रामा राव का निधन हुआ था।

    2003: हिन्दी भाषा के प्रसिद्ध लेखक और कवि हरिवंशराय बच्चन का निधन हुआ था।

    1896: 'एक्सरे मशीन' का पहला प्रदर्शन किया गया था।

    1930: रवीन्द्रनाथ टैगोर ने साबरमती आश्रम की यात्रा की।

    1997: 'नफीसा जोसेफ़' 'मिस इंडिया' बनीं थी।

    2006: अमेरिका में आत्महत्या पर सुप्रीम कोर्ट ने मुहर लगाई थी।

    और भी...

  • IND vs AUS: निर्णायक मुकाबले में तीसरे दिन टीम इंडिया ने की शानदार वापसी, देखने को मिलेगी कड़ी टक्कर

    IND vs AUS: निर्णायक मुकाबले में तीसरे दिन टीम इंडिया ने की शानदार वापसी, देखने को मिलेगी कड़ी टक्कर

     

    टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच ब्रिस्बेन के गाबा में चल रहे चौथे और अंतिम टेस्ट में रोमांच बढ़ता ही जा रहा है। ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में भारत के सामने 369 रन बनाए। जिसके जवाब में भारत ने अपनी पहली पारी में 336 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 33 रनों की मामूली बढ़त हासिल करने के बाद तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक बिना कोई विकेट खोए 21 रन बना लिए हैं। जिसके साथ ऑस्ट्रलिया ने दूसरी पारी में कुल 54 रनों की बढ़त बना ली है।

    भारत ने की टेस्ट में वापसी

    भारत ने दूसरे दिन 62 रन पर दो विकेट के नुकसान से आगे खेलना शुरू किया था। जिसके बाद पुजारा और रहाणे की जोड़ी ने इंडिया के स्कोर को 100 रन के पार पहुंचाया। हालांकि पुजारा 25 रन ही बनाकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद रहाणे ने भी 37 रन बनाकर पवेलियन का रुख अपना लिया। फिलहाल, पांच नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आए मयंक अग्रवाल ने 38 रन बनाए, लेकिन वह भी लंबी पारी नहीं खेल सके। उनके पंत भी 23 रन बनाकर आउट हो गए।

    भारत ने 186 रनों पर अपने छह विकेट गवां दिए थे। जिसके बाद इस टेस्ट में भारत की वापसी बहुत ही मुश्किल लग रहा था। लेकिन इसके बाद शार्दुल ठाकुर और वॉशिंगटन सुंदर की जोड़ी मैदान पर जम गई। इन दोनों खिलाड़ियों के बीच सातवें विकेट के लिए 118 रन की पार्टनरशिप हुई। वॉशिंगटन सुंदर ने 144 गेंदो में 62 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने सात चौके और एक छक्का लगाया। वहीं शार्दुल ठाकुर ने 115 गेंदो में 67 रनों की शानदार पारी खेली। उन्होंने अपनी इस पारी में 9 चौके और दो छक्के लगाए।

    हेडलवुड ने लिए पांच विकेट

    ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने शानदार गेंदबाजी की। उन्होंने 24.4 ओवर में 57 रन देकर पांच विकेट लिए। इसके अलावा मिशेल स्टार्क और पैट कमिंस ने दो-दो विकेट लिए।

    और भी...

  • अमिताभ बच्चन ने जताई उम्मीद, पोलियो की तरह देश से कोरोना वायरस भी हो जाएगा खत्म

    अमिताभ बच्चन ने जताई उम्मीद, पोलियो की तरह देश से कोरोना वायरस भी हो जाएगा खत्म

     

    भारत में शनिवार को दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान शुरू होने पर दिग्गज अभिनेता अमिताभ बच्चन ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि देश कोविड-19 से मुक्त हो जाएगा। भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने इस महीने की शुरुआत में सीरम संस्थान द्वारा तैयार ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके 'कोविडशील्ड' और भारत बायोटेक द्वारा विकसित स्वदेशी टीके 'कोवैक्सीन' के आपात स्थिति में सीमित इस्तेमाल को मंजूरी दे दी थी, जिसके बाद टीकाकरण अभियान का रास्ता साफ हो गया था।

    अमिताभ बच्चन ने रविवार को कहा कि भारत की जनता पोलिया की तरह ही कोरोना वायरस को भी जड़ से उखाड़ फेंकेगी। भारत में पोलियो उन्मूलन अभियान के लिए 'यूनिसेफ' के सद्भावना दूत रहे बच्चन ने ट्वीट किया, 'जब भारत पोलियो मुक्त हुआ था तो वह हमारे लिए गौरवशाली क्षण था। ऐसा ही गर्व का क्षण वह होगा जब हम भारत को कोविड-19 मुक्त बनाने में कामयाब होंगे। जय हिंद।'

    बता दें कि अमिताभ बच्चन पिछले साल जुलाई में खुद भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे, जिसके दो सप्ताह बाद वह संक्रमण से उबरने में कामयाब रहे थे। देश में महामारी फैलने के बाद से ही बच्चन सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस के बारे में लिखते रहे हैं।

    और भी...

  • अब स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक पहुंचना हुआ और आसान, पीएम मोदी ने 8 ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी

    अब स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक पहुंचना हुआ और आसान, पीएम मोदी ने 8 ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के केवडिया को देश के विभिन्न हिस्सों से जोड़ने वाली आठ ट्रेनों का आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शुभारंभ किया। इस मौके पर पीएम ने कहा कि ट्रेनों की कनेक्टिविटी से स्टेच्यू ऑफ यूनिटी आने वाले पर्यटक लाभान्वित होंगे। वहीं, उन्होंने कहा कि केवडिया के जनजातीय समुदाय के जीवन में भी बदलाव के लिए यह सहायक होगा। साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि ट्रेन कनेक्टिविटी से रोजगार और स्वरोजगार के नए अवसर भी सामने आएंगे।

    इस दौरान प्रधानमंत्री ने छोटी रेल लाइनों पर चलने वाली धीमी गति वाली ट्रेनों में अपनी पुरानी यात्राओं को भी याद किया। उन्होंने कहा कि केवडिया में अनेक सुविधाएं उपलब्ध कराइ गई है और आसपास के आदिवासी बहुल गांवों में रोजगार सृजित किए जा रहे हैं तथा इन गांवों में 200 से अधिक कमरों को होमस्टे में बदल दिया गया है। 

    पीएम मोदी ने कहा कि स्टेच्यू ऑफ यूनिटी ने विश्वभर के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित किया है और स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से ज्यादा इसे देखने लोग आ रहे हैं। उन्होंने कहा, 'केवडिया विश्व में सबसे बड़े पर्यटनस्थल के रूप में उभर रहा है। स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से ज्यादा लोग स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को देखने आ रहे हैं। स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के लोकार्पण के बाद से अब तक करीब 50 लाख लोग इसे देखने आ चुके हैं।'

    उन्होने आगे कहा, 'लौह पुरुष सरदार पटेल की केवडिया में स्थापित सबसे ऊंची प्रतिमा को उनकी स्मृति में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी नाम दिया गया है जो देश के सभी प्रांतों और रियासतों को एक करने में उनके योगदान को समर्पित है।' इस अवसर पर पीएम मोदी ने रेलवे की कई अन्य परियोजनाओं का भी उद्घाटन किया। उन्होंने कहा, 'हम रेलवे में नई तकनीकों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। रेलवे के इतिहास में यह पहला मौका है, जब देश के विभिन्न हिस्सों से एक ही स्थान के लिए इतनी ट्रेनों को रवाना किया गया।'

    प्रधानमंत्री ने केवडिया को जोड़ने वाली जिन ट्रेनों का शुभारंभ किया, उनमें वाराणसी-केवडिया एक्सप्रेस, दादर-केवडिया एक्सप्रेस, अहमदाबाद-केवडिया जनशताब्दी एक्सप्रेस, हजरत निजामुद्दीन-केवडिया एक्सप्रेस, रीवा-केवडिया एक्सप्रेस, चेन्नई-केवडिया एक्सप्रेस, प्रतापनगर-केवडिया मेमू शामिल है।

    वही, पीएम मोदी ने प्रतापनगर-केवडिया के नये विद्युतीकृत खंड का भी उद्घाटन किया। नए खंड में तीन स्टेशन, आठ बड़े और 79 छोटे पुल हैं तथा इस परियेाजना में 811 करोड़ रूपये की लागत आई  है। बता दें कि इस कार्यक्रम में रेल मंत्री पीयूष गोयल, विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर, रेल मंत्री पीयूष गोयल, गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री विजयभाई रूपाणी भी मौजूद थे।

    और भी...