खबरें अब तक

  • Haryana में भीषण सड़क हादसा: महेंद्रगढ़ में स्कूल बस पलटने से 6 बच्चों की मौत, 15 से ज्यादा घायल

    Haryana में भीषण सड़क हादसा: महेंद्रगढ़ में स्कूल बस पलटने से 6 बच्चों की मौत, 15 से ज्यादा घायल

     

    Mahendragarh Bus Accident: हरियाणा के महेंद्रगढ़ से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां पर कनीना कस्बे में एक स्कूल बस के अनियंत्रित होकर पलट जाने से बड़ा हादसा हो गया है। इस हादसे में 6 स्कूली बच्चों की मौत हो गई है। वहीं एक दर्जन से ज्यादा बच्चे घायल हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक यह हादसा कनीबा कस्बे के नजदीक कनीना-दादरी सड़क मार्ग पर हुआ है। यह बस जीएल पब्लिक स्कूल की बताई जा रही है, जो कि एक निजी स्कूल है। हादसे के वक्त बस में 35 से 40 बच्चे सवार थे। 

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईद की वजह से आज स्कूल की छुट्टी थी। बावजूद इसके स्कूल प्रबंधन ने सभी बच्चों को कक्षाओं के लिए बुलाया था। आज सुबह यह बस बच्चों को लेकर स्कूल की तरफ जा रही थी। अचानक कनीना के पास यह बस अनियंत्रित होकर पलट गई। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बस चालक ओवरटेक करने का प्रयास कर रहा था। इस दौरान वो बस से अपना नियंत्रण खो बैठा। वहीं कुछ लोगों का यह भी कहना है कि बस चालक नशे की हालत में था। 

    हर तरफ चीख-पुकार
    हादसे के बाद घटनास्थल पर चीख पुकार मच गई। आसपास के लोग भी बच्चों की मदद के लिए घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। साथ ही पुलिस को भी सूचित किया गया। पुलिस ने घायल बच्चों को अस्पताल तक पहुंचाय गया, जहां अभी तक छह बच्चों को मृत घोषित किया जा चुका है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि 15 से अधिक बच्चे घायल हुए हैं। कुछ की हालत गंभीर है, जिन्हें रेवाड़ी रेफर किया जा रहा है। 

    अस्पताल की तरफ दौड़ पड़े परिजन
    यह बस जीएल पब्लिक स्कूल की है। हादसे की खबर पाते ही बच्चों के परिजन घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। कुछ परिजन अस्पतालों की ओर भागे। हादसे की सूचना पाते ही प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच रहे हैं। घटनास्थल पर मौजूद लोगों का आरोप है कि बस चालक की लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ है। बहरहाल, अभी तक इस घटना पर स्कूल प्रबंधन की प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। 

    और भी...

  • अरविंद केजरीवाल को एक और झटका: PA को विजिलेंस विभाग ने किया टर्मिनेट, ED ने 3 दिन पहले की थी पूछताछ

    अरविंद केजरीवाल को एक और झटका: PA को विजिलेंस विभाग ने किया टर्मिनेट, ED ने 3 दिन पहले की थी पूछताछ

    Arvind Kejriwal's assistant Bibhav Kumar sacked: जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक विभव कुमार को उनकी सेवाओं यानी पद से बर्खास्त कर दिया गया है। यह कार्रवाई विजिलेंस विभाग ने की है। विभाग के विशेष सचिव वाईवीवीजे राजशेखर के अनुसार, विभव कुमार पर यह कार्रवाई लंबित 2007 के एक मामले का हवाला देते हुए की गई है। जिसमें उन पर सरकारी काम में बाधा डालने और शिकायतकर्ता को गाली देने या धमकी देने का आरोप लगाया गया था।

    विशेष सचिव वाईवीवीजे राजशेखर ने विभव कुमार के टर्मिनेशन को लेकर लेटर जारी किया है। जिसमें कहा गया कि विभव कुमार को आम आदमी पार्टी (आप) सुप्रीमो के निजी सचिव के पद से तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया है। 

    विभाग ने क्या कारण बताया?
    विजिलेंस यानी सतर्कता निदेशालय ने बर्खास्तगी के पीछे विभव कुमार के खिलाफ दर्ज एफआईआर को कारण बताया है। यह मामला 2007 में नोएडा में विकास प्राधिकरण में तैनात महेश पाल नामक व्यक्ति ने दायर किया था। इसमें आरोप लगाया गया कि विभव कुमार ने तीन अन्य लोगों के साथ मिलकर शिकायतकर्ता, एक लोक सेवक को उसके कर्तव्य का पालन करने से रोका। उसे गाली/धमकी दी।

    एफआईआर में आगे कहा गया है कि बिभव कुमार और मामले के एक अन्य आरोपी राजीव कुमार को गिरफ्तार किए बिना, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत के समक्ष आरोप पत्र दायर किया गया था, जहां यह वर्तमान में लंबित है।

    सतर्कता विभाग ने कहा कि विभव कुमार की नियुक्ति से पहले उनके लंबित आपराधिक मामले के संबंध में पृष्ठभूमि की जांच नहीं की गई थी। उनके खिलाफ आईपीसी धारा 353, 504 और 506 के तहत दर्ज मामला दर्ज है। मामला लंबित होने के बावजूद उनकी नियुक्ति की गई। उनकी नियुक्ति प्रक्रिया में नियमों का पालन नहीं किया गया। इसलिए नियुक्ति अवैध और अमान्य है।

    विभाग ने इस बात पर जोर दिया गया कि प्रशासनिक कार्रवाई आवश्यक है। इसलिए अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक को बर्खास्त किया गया।

    8 अप्रैल को ईडी ने की थी पूछताछ
    बिभव कुमार को उनके पद से तब हटाया गया, जब प्रवर्तन निदेशालय ने 8 अप्रैल को दिल्ली शराब नीति मामले में उनसे पूछताछ की। ईडी अधिकारियों ने कहा कि उनका बयान धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत दर्ज किया गया था।

    और भी...

  •  देश के लिए जान दे दूंगी, बंगाल में लागू नहीं होने दूंगी UCC,CAA और NRC- ममता बनर्जी

    देश के लिए जान दे दूंगी, बंगाल में लागू नहीं होने दूंगी UCC,CAA और NRC- ममता बनर्जी

     

    Mamata Banerjee: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ईद के मौके पर गुरुवार, 11 अप्रैल को कोलकाता में रेड रोड पर आयोजित समारोह में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने मुस्लिम समुदाय को ईद की मुबारकबाद दी। सीएम ने कहा कि यह खुशियों की ईद है। यह ताकत देने की ईद है। इस ईद को एक महीने तक उपवास करके मनाना बहुत बड़ी बात है।
    ईद के मौके पर ममता बनर्जी ने एक कसम भी खाई। उन्होंने कहा कि हम देश के लिए खूब बहाने को तैयार हैं। लेकिन अत्याचार बर्दाश्त नहीं करेंगे। मुझे सर्वधर्म समभाव चाहिए। हम बंगाल में सीएए, एनआरसी और यूनिफॉर्म सिविल कोड को लागू नहीं होने देंगे। 
    ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि...
    ममता बनर्जी ने समारोह में अल्लामा इकबाल का शेर पढ़ा। कहा- ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले. ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है? पहली बार बंगाल मुख्यमंत्री ने यूनिफॉर्म सिविल कोड पर तृणमूल कांग्रेस की स्थिति को स्पष्ट किया है। लोकसभा चुनाव की वोटिंग से पहले उनका यह स्टैंड काफी अहम माना जा रहा है। तृणमूल कांग्रेस बंगाल में मुस्लिम वोटों को अपने पाले में करने के लिए लोकसभा चुनाव से ठीक पहले यूसीसी के खिलाफ एक जन अभियान बनाना चाहती है। 
    हम रॉयल बंगाल टाइगर
    मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हम रॉयल बंगाल टाइगर की तरह हैं। मैं अपने देश के लिए मरने को तैयार हूं। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि चुनाव के दौरान आप मुस्लिम नेताओं को फोन करते हैं। पूछते हैं कि आप क्या चाहते हैं। मैं कहती हूं कि उन्हें कुछ नहीं चाहिए। बस उन्हें प्यार चाहिए। यह यूसीसी स्वीकार नहीं करेंगे। आप मुझे जेल भेज सकते हैं। लेकिन मेरा मानना है कि मुद्दे लाख बुरा चाहे तो क्या होता है, वही होता है जो मंजूर-ए-खुदा होता है। 
    कोई दंगा करने आए तो चुप रहिए
    ममता बनर्जी ने मुस्लिम समुदाय से अपील की और बीजेपी पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि अगर कोई दंगा करने आता है, तो आपको चुप रहना चाहिए। अपना सिर ठंडा रखना चाहिए। अगर कोई विस्फोट होता है, तो वे (भाजपा) सबको गिरफ्तार करने के लिए एनआईए भेजते हैं। गिरफ्तार करके सब लोग, तुम्हारा देश वीरान हो जाएगा। हमें एक खूबसूरत आसमान चाहिए, जिसके लिए सभी को एक साथ रहना होगा। 

    और भी...

  • सुशील गुप्ता ने पूंडरी के गांवों और वार्डों में की बैठक, BJP की किसान विरोधी नीतियों पर साधा निशाना

    सुशील गुप्ता ने पूंडरी के गांवों और वार्डों में की बैठक, BJP की किसान विरोधी नीतियों पर साधा निशाना

     

    APP Haryana: आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और कुरुक्षेत्र लोकसभा से ‘इंडिया’ गठबंधन के प्रत्याशी सुशील गुप्ता ने बुधवार को पूंडरी विधानसभा के गांव एवं वार्ड में चुनावी यात्रा शुरू की। इससे पूर्व, उन्होंने कैथल में प्रेस वार्ता की।

    उनके साथ पूर्व विधायक सुल्तान जंडौला, बलकार पुंडरी, राजीव आर्य, महेंद्र झांबा, गज्जन सिंह, नीता चौहान, सतबीर गोयत,  सतपाल साकरा, कंवरपाल करोड़ा, प्रेम, धीमान, भूप सिंह सैनी, पूनम गुज्जर, प्रेमचंद्र गुज्जर, सरपंच जाडौला, सतबीर भाना, विरेंद्र श्योकंद, सोनिया शर्मा और देवेंद्र हंस मुख्य तौर पर मौजूद रहे। उन्होंने अपनी चुनावी यात्रा गांव टीक से शुरू की।

    इसके बाद वे बंदराणा में लोगों से मिले। वहां से रसूलपुर में ग्रामीणों से रूबरू हुए। इसके बाद गांव खेड़ी रायवाली में पहुंचे। यहां से गांव सोलू माजरा, गांव चुहड़ माजरा, मटरवाखेड़ी, गांव डुलयानी, गांव टयोंठा, संगरौली और दुसैन में लोगों को संबोधित किया और आशीर्वाद लिया। इस दौरान उन्होंने बुजुर्गों और महिलाओं का आशीर्वाद लिया और "इंडिया" गठबंधन को भारी बहुमत से जिताने की अपील की।

    हजारों की तादात में किसान भाई मुझसे मिल रहे- सुशील गुप्ता

    सुशील गुप्ता ने कहा वे कुरुक्षेत्र लोकसभा के गांवों में दौरे कर रहे हैं। हर रोज़ हज़ारों की तादात में किसान भाई मुझसे आकर मिल रहे हैं।किसान बहुत ग़ुस्से में हैं। वे कहते हैं कि उनपर पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए, पैलेट गन से हमला किया गया। किसानों पर रासुका लगाया गया। बैंक खाते सील किए, उनकी प्रॉपर्टी ज़ब्त की गई। जिन किसानों को बीजेपी सरकार ने लाठियों से पीटा, आज उन्हीं किसानों से बेशर्मी से वोट माँगने जा रहे हैं।

    उन्होंने कहा किसानों ने इन लोगों की गाँव में एंट्री बंद कर दी है। किसानों ने गांवों में बोर्ड लगाने का काम किया। बीजेपी- जेजेपी नेताओं को गांवों में घुसने नहीं दिया जाएगा। किसानों ने कहा कि हमें नेशनल हाईवे पर रोका गया, हम गांवों में घुसने से रोकेंगे।आज इनको लगता है कि किसान डर के घर बैठ जाएगा। किसान सड़कों पर बीजेपी की लाठियों से नहीं डरा, अब इनसे क्या डरेगा?

    उन्होंने कहा कि जिन किसानों पर इन्होने अत्याचार किए, आज वही किसान इनको इनकी हैसियत याद दिला रहे हैं। जिन किसानों ने मेहनत से अपनी फसल तैयार की है, ये चाहते हैं कि कौड़ियों के भाव बिके। ये चाहते हैं कि किसान लाइनों में लगा रहे। ना मंडियों में कोई सुविधा मिले, ना पीने का पानी मिले और मंडियों में ऐसे ही धक्के खाता रहे। 

    किसान अपनी फसलों को औने पौने भाव पर बेचने को मजबूर- सुशील गुप्ता

    उन्होंने कहा ये मंडियों को खत्म करना चाहते हैं और ताकि किसान अपनी फसलों को अडानी के गोदामों में रखने को मजबूर हो। अडानी के गोदामों में औने पौने भाव पर बेचने को मजबूर हो। इस देश और प्रदेश का किसान इस बात को समझ चुका है। यही कारण है कि जिन काले क़ानूनो को रद्द करवाने के लिए 700 से ज्यादा किसानों ने शहादत दी थी।

    ये उन्हीं काले कानूनो को बैक डोर से लागू करना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा जब तक आम आदमी पार्टी है, तब तक तो इनके मक़सद को कामयाब नहीं होने देंगे। आम आदमी पार्टी हमारे किसान भाइयों को अडानी का मज़दूर नहीं बनने देगी।

    उन्होंने कहा ये किसानों की अस्मिता की लड़ाई है और इस लड़ाई में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, सुशील गुप्ता और इंडिया गठबंधन किसानों के साथ मजबूती से खड़े हैं। किसानों के ख़िलाफ़ इस सरकार ने अघोषित जंग छेड़ रखी है।

    इसमें इंडिया गठबंधन किसानों के साथ खड़ा है। एक के बाद एक किसानों के ख़िलाफ़ सरकार मोर्चा खोल रखा है। किसानों पर जो केस दर्ज किए हुए थे, किसानों के ट्रैक्टरों को ज़ब्त किया जा रहा है। सारे सीज़न ट्रैक्टर थाने में खड़े रखने की सरकार साजिश कर रही है।

    उन्होंने कहा भारतीय जनता पार्टी किसानों को गुलाम समझना बंद कर दे। बुजुर्ग किसानों के ख़िलाफ़ एफआईआर हो रही है, युवा किसानों पर जानलेवा हमले हो रहे हैं। जब से ये सरकार आयी है तब से किसानों को लगातार बर्बादी की खाई में धकेला जा रहा है। इन्होंने कहा था कि 2022 तक किसानों की आय दुगनी कर देंगे, किसानों की आय दुगनी तो नहीं की, लेकिन कर्जा दुगना हो गया।

    कृषि मंत्री के गृह जिले में तो किसानों पर तिगुना कर्जा हो गया। ये सरकार ना फसल का सही दाम देना चाहती है। ना फसल ख़राब होने पर मुआवज़ा मिलता है। किसानों को आज तक बाढ़ का मुआवजा नहीं मिला।

    किसान वोट की चोट से BJP से बदला लेने का काम करेंगे- सुशील गुप्ता

    उन्होंने कहा भावांतर योजना के नाम पर तो इस सरकार ने खुली लूट मचा रखी है। ये सरकार किसानों से नफ़रत करती है, क्योंकि किसानों ने सवा साल तक आंदोलन करके इनके अहंकार को घुटनों पर ला दिया था। प्रधानमंत्री को माफी मांगनी पड़ी थी और तीन काले कानूनों को वापस लेना पड़ा था। तब से बीजेपी सरकार बदले की भावना से किसान भाइयों पर कार्यवाही कर रही है।

    इन्होंने किसानों पर हर जुल्म की इंतेहा कर दी। भारतीय जनता पार्टी ने किसानों को कभी खालिस्तानी कहा, कभी आतंकवादी कहा और अब उपद्रवी कह जा रहा है। अब किसान वोट की चोट से भारतीय जनता पार्टी से बदला लेने का काम करेंगे। 

    उन्होंने जजपा पर पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन्होंने भारतीय जनता पार्टी को कोस कोसकर वोट लेने का काम किया था, बाद में उनकी ही गोदी में बैठने का काम किया। आज जनता सब कुछ समझ रही है। जब किसान सड़कों पर पिट रहे थे तो दुष्यंत चौटाला काले कानूनों की तारीफ कर रहे थे। जब किसानों पर लाठी चल रही थी, वो सत्ता का सुख भोग रहे थे। अब किसानों ने कह दिया, ये लोग अपनी जमीन खो चुके हैं।

    उन्होंने कहा कि अब जनता समझ चुकी है। प्रदेश के किसान भी अपने घरों से निकल रहे हैं। ये चुनाव किसानों और नौजवानों की अस्मिता से जुड़ा चुनाव है। अब प्रदेश का हर वर्ग वोट की चोट से बीजेपी को सत्ता से बाहर करने का काम करेगा।बीजेपी का कुरुक्षेत्र से एक डरा हुआ प्रत्याशी चुनाव लड़ रहा है।

    बीजेपी को कोई प्रत्याशी नहीं मिला तो नवीन जिंदल को ईडी का डर दिखा कर उम्मीदवार बना दिया। जिस व्यक्ति को खुद बीजेपी ने कुरूक्षेत्र की धरती पर कोयला चोर कहा, उसे ही कुरुक्षेत्र से बीजेपी का प्रत्याशी बना दिया। 

    उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति अपनी आवाज नहीं उठा सकता वो कुरुक्षेत्र की जनता की आवाज क्या उठाएगा। आज कुरुक्षेत्र की जनता को मजबूर उम्मीदवार नहीं मजबूत उम्मीदवार की जरूरत है। भाजपा ने उस व्यक्ति नायब सैनी को मुख्यमंत्री बनाया है। उनको हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी दी है, जो अपनी पत्नी को जिला परिषद का चुनाव नहीं जीता पाए। कुरुक्षेत्र लोकसभा के जिस गांव में भी हम जा रहे हैं हमें जनता का पूरा समर्थन मिल रहा है और हर व्यक्ति बदलाव के लिए वोट करने के लिए तैयार हैं।

     

    और भी...

  • Chaitra Navratri 2024: मां को प्रसन्न करने के लिए इन चीजों का लगाएं भोग, परिवार को मिलेगा आशीर्वाद

    Chaitra Navratri 2024: मां को प्रसन्न करने के लिए इन चीजों का लगाएं भोग, परिवार को मिलेगा आशीर्वाद

     

    Navratri Puja 2024: चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ हो गया है, यह पावन पर्व 17 अप्रैल तक रहेंगे। चैत्र नवरात्रि के शुभारंभ होने के साथ ही नया हिंदू वर्ष भी आरंभ भी हो गया है। नवरात्रि के 9 दिन बहुत पवित्र माना जाता है, इन नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरुपों की पूजा-अर्चना की जाती है। ऐसे में 9 दिनों तक यदि आप हर दिन अलग-अलग देवी के मंत्रों का जाप करेंगे तो घर-परिवार में सुख शांति और समृद्धि आएगी और घर में शांति भी बनी रहेगी। 

    ऐसे करें मां की पूजा, लगाएं प्रिय भोग

    1. पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः

    प्रिय भोग- मां शैलपुत्री को सफेद और शुद्ध भोग्य खाद्य पदार्थ पसंद है। इसीलिए पहले मां शैलपुत्री को प्रसन्न करने के लिए सफेद चीजों का भोग लगाया। अगर घर परिवार को निरोगी जीवन और स्वस्थ शरीर चाहिए तो मां को गाय के शुद्ध घी से बनी सफेद चीजों का भोग लगाएं।

    2. दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः

    प्रिय भोग-  मां ब्रह्मचारिणी की पूजा अर्चना के दिन उन्हें मिश्री, चीनी और पंचामृत का भोग लगाएं। मां को मिश्री जैसा शुद्ध मीठा पसंद है और इस भोग के अर्पण से प्रसन्न होकर मां साधक को दीर्घायु और निरोगी जीवन का आशीर्वाद देती हैं।

    3. तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी चंद्रघण्टायै नमः

    प्रिय भोग-  मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीजें पसंद है। इसलिए पूजा के समय मां को दूध और दूध से बनी वस्तुओं का भोग लगाएं। भोग लगाने के बाद यही चीजें प्रसाद के रूप में जरुर बांट। ऐसा करने से मां प्रसन्न होगी और लंबे समय से चली आ रही समस्याओं का नाश करेंगी और घर में सुख समृद्धि का वास होगा।

    4. चौथे दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी कूष्माण्डायै नमः

    प्रिय भोग-मां कुष्मांडा को मालपुआ पसंद है। मां को शुद्ध देसी घी में बने मालपुए का भोग लगाएं और पूजा के बाद इसे प्रसाद  के तौर पर किसी ब्राह्मण को दान कर दें। खुद भी खाएं और घरवालों को भी खिलाएं। प्रसन्न होकर मां घर और परिवार जनों की बुद्धि और निर्णय लेने की क्षमता का विकास करती है। खासकर विद्यार्थियों को इस दिन पूजा से बहुत बड़ा फल मिलता है।

    5. पांचवे दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी स्कन्दमात्र्यै नमः

    प्रिय भोग- मां स्कंदमाता को प्रसाद के रूप में केला पसंद है। इसीलिए इस दिन पूजा करके उन्हें केले का भोग लगाएं। चाहें तो दूसरे फल भी अर्पित कर सकते हैं। इसके बाद प्रसाद को सभी में बांट देना चाहिए। ऐसा करने से आपको उत्तम स्वास्थ्य और निरोगी काया की प्राप्ति होती है।

    6. छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी कात्यायन्यै नमः

    प्रिय भोग- मां कात्यायनी को भोग में शहद पसंद है। इस दिन शुद्ध शहद का भोग लगाकर देवी का पूजन करें। खुद भी किसी न किसी रूप में शहद का सेवन जरूर करें। मां प्रसन्न होकर भक्तों को सुंदर रूप और निरोगी काया का वरदान देती हैं, सुख-सौभाग्य में वृद्धि होती है।

    7. सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी कालरात्र्यै नमः

    प्रिय भोग- सप्तमी तिथि की देवी मां कालरात्रि को भोग में गुड़ के नैवेद्य अर्पित करें। पूजा के बाद गुड़ को ब्राह्मण को दान कर दें और गुड़ के बने प्रसाद को वितरित कर दें। इससे लंबे समय से चले आ रहे शोक मिट जाते हैं और संकटों से रक्षा होती है।

    8. आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी महागौर्यै नमः

    प्रिय भोग- अष्टमी का दिन मां महागौरी की पूजा-अर्चना का दिन है। इस दिन कई लोग कन्या पूजन भी करते हैं। मां को नारियल का भोग लगाएं। ऐसा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।  

    9. नौवें दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है, मां को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रो का जाप करें और उनके प्रिय भोग अर्पित करें। 
    मंत्र- ॐ देवी सिद्धिदात्र्यै नमः

    प्रिय भोग- नौंवे दिन यानी महानवमी को हलवे, चने और पूरी का भोग लगाना चाहिए और कन्या पूजन के समय वही प्रसाद कन्याओं को वितरित करना चाहिए। दुर्गा मां को हलवा पूरी का प्रसाद प्रिय है और नवमी को हुए परायण से साधक को हर तरह से सुख संपन्नता का वरदान मिलता है।

    और भी...

  • बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड का शार्पशूटर गिरफ्तार, उत्तराखंड के DGP ने बताई पूरी कहानी

    बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड का शार्पशूटर गिरफ्तार, उत्तराखंड के DGP ने बताई पूरी कहानी

     

    Baba Tarsem Singh Murder Case: उत्तराखंड के उधम नगर सिंह के नानकमत्ता गुरुद्वारे के डेरा कारसेवा प्रमुख बाबा तरसेम सिंह हत्या का शार्पशूटर आखिरकार एनकाउंटर में मारा गया। STF और हरिद्वार पुलिस के साथ देर रात चली मुठभेड़ में एक मुख्य आरोपी मारा गया जबकि दूसरा आरोपी फरार हो गया। उत्तराखंड के DGP ने मंगलवार को इस एनकाउंटर की पूरी जानकारी दी।

    DGP अभिनव कुमार ने बताया कि कल देर शाम एसटीएफ टीम ने एसएसपी हरिद्वार को उधम सिंह नगर के नानकमत्ता गुरुद्वारा के बाबा तरसेम सिंह की हत्या में वांछित इनामी बदमाशों के सहारनपुर से हरिद्वार के भगवानपुर कलियर होकर उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जाने की गुप्त सूचना दी। इस पर पूरे हरिद्वार जनपद में जगह-जगह एसटीएफ टीमों के साथ संयुक्त रूप से चेकिंग अभियान चलाया गया।

    सोमवार रात हुई थी मुठभेड़

    DGP ने बताया कि रात लगभग 12:30 बजे मुखबिर की सूचना पर थाना भगवानपुर आ रहे रहे दो संदिग्ध बदमाशों को पुलिस टीम ने रोकने का प्रयास किया तो दोनों बदमाश नहीं रुके और पुलिस टीम से बचते हुए तेजी से भगवानपुर से इमलीखेड़ा-कलियर की तरफ भागे, जिस पर कलियर संयुक्त पुलिस टीम द्वारा मार्ग में रोकने पर छंगा माजरी तिराहे से छंगा माजरी गांव की ओर मुड़ गए। जहां कुछ दूरी पर पुलिस टीमों ने इन दोनों बदमाशों को घेर लिया। पुलिस से घिर जाने पर इन बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायर किया, जिस पर पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश को गोली लगी, जबकि दूसरा बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भाग गया, जिसकी सरगर्मी से तलाश जारी है।

    गोरतलब है कि 28 मार्च को तरसेम सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और पूरी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई थी।  

    और भी...

  • Himachal Weather: मनाली पर्यटकों से हुई गुलजार, आने वाले दिनों में बारिश और बर्फबारी के आसार

    Himachal Weather: मनाली पर्यटकों से हुई गुलजार, आने वाले दिनों में बारिश और बर्फबारी के आसार

     

    Himachal Tourist: दिन ब दिन गर्मी बढ़ती जा रही है, इससे निजात पाने के लिए मैदानी इलाकों के लोग मनाली का रुख कर रहे हैं और मनाली की हसीन वादियों में अपना समय गुजार रहे हैं। इससे प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों सहित पर्यटन नगरी मनाली पर्यटकों से गुलजार होने लगी है। गौरतलब है कि मनाली में इन दिनों मौसम सुहावना बना हुआ है। इसके अलावा मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में फिर से बर्फबारी के आसार जताए हैं। ऐसे में पर्यटकों का हिमाचल की और रुख करना वहां के पर्यटक क्षेत्र को लाभ पहुंचाएगा।  

    ऊंचाई वाले इलाकों में बारिश और बर्फबारी के आसार

    मौसम विज्ञान के शिमला केंद्र के अनुसार, हिमाचल प्रदेश में 9 से 15 अप्रैल तक मध्य पर्वतीय और ऊंचाई वाले इलाकों में बारिश और बर्फबारी की संभावना जताई हैं, जिसको देखते हुए येलो अलर्ट जारी किया गया है।

    वहीं 13 अप्रेल को ऑरेंज अलर्ट रहेगा। ऑरेंज अलर्ट के चलते सूबे के सात जिलों मंडी, शिमला, कुल्लू, किन्नौर, लाहौल स्पीति, चंबा, कांगड़ा, सोलन और सिरमौर में भारी बारिश के आसार जताए गए हैं। हिमाचल प्रदेश में पंजाब से सटे ऊना जिले में सीजन में पहली बार पारा 35 पार हुआ है। यहां पर 35.4 डिग्री दर्ज हुआ है। वहीं, लाहौल स्पीति के केलांग में न्यूनतम पारा -1.3 रिकॉर्ड किया गया है।

    Shimla - IMD - India- Meteorological Department

    किसी जन्नत से कम नहीं मनाली

    बीते दिनों हुई बर्फबारी के कारण मनाली पर्यटकों के लिए किसी जन्नत से कम नहीं लग रही है। ऐसे में मनाली के होटलों का ऑक्यूपेंसी रेट बीते सप्ताह से 50  से 60 फीसदी बढ़ गया है। जबकि वीकेंड में मनाली के 80 फीसदी  होटल पैक चल रहे हैं।

    जिला कुल्लू में 5200 से अधिक होटल, होम स्टे व गेस्ट हाउस है। अकेले मनाली में ही 3 हजार से अधिक होटल, होम स्टे व गेस्ट हाउस है। पर्यटन नगरी मनाली के साथ घाटी के अन्य पर्यटन स्थलों कसोल, मणिकर्ण, सोलंगनाला, कोठी गुलाबा और मढ़ी में रौनक छा गई है।

    यहां पहुंच कर पर्यटक जिप लाइन, पैराग्लाइडिंग, रिवर राफ्टिंग इत्यादि साहसिक गतिविधियां कर रहे हैं, जबकि शाम होते होते मनाली के माल रोड पर भी पर्यटकों की भीड़ उमड़ पड़ती है।
     
    आंकड़ों की माने तो बीते साल अप्रैल महीने में इस साल 2,48,721 पर्यटकों ने  कुल्लू मनाली के इलाकों का रुख किया था। इस साल अप्रैल महीने में भी मनाली के उपरी इलाकों में बर्फ़बारी हो रही है ऐसे में पर्यटन कारोबारियों को अप्रैल महीने में ज्यदा पर्यटकों के आने की उम्मीद है।

    और भी...

  • सूखी फसलों को समेट ले किसान, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट, जानें किस दिन होगी बारिश

    सूखी फसलों को समेट ले किसान, मौसम विभाग ने जारी किया येलो अलर्ट, जानें किस दिन होगी बारिश

     

    Haryana Weather: अप्रैल का महीना चल रहा है और तेजी से गर्मी बढ़ रही है। इसी के बीच एक राहत भरी खबर सामने आ रही है, मौसम विभाग ने हरियाणा में 13 और 14 अप्रैल को राज्य के सभी जिलों में बारिश की संभावना जताई है। इसके साथ ही आने वाले दिनों में  मौसम और ज्यादा खराब होने की संभावना है, जिसको देखते हुए दोनों दिन के लिए मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है। बारिश के साथ ओले गिरने के आसार हैं। वहीं कुछ एक स्थानों पर मध्यम से तेज बारिश की भी संभावना बन रही है। मौसम में यह बदलाव एक्टिव हुए 2 पश्चिमी विक्षोभ के कारण हो रहा है।

    Chandigarh Meteorological Department

    सूखी फसलों को समेट ले किसान

    अप्रैल का महीना किसानों के लिए खास होता है खेतों में उनकी फसल पककर खड़ी होती है , ऐसे में उन्हें समय से समेट लेना बहुत जरुरु होता है। फसलों को देखते हुए मौसम विभाग ने किसानों के लिए भी सावधान रहने को कहा है। मौसम विशेषज्ञों ने संभव हो 12 अप्रैल तक सुखी हुई फसलों की कटाई कर सुरक्षित कर लें। 12 अप्रैल से 16 अप्रैल के बीच राजस्थान पंजाब हरियाणा दिल्ली मध्यप्रदेश सहित उतरीं भारत में तेज आंधी बारिश व ओलावृष्टि की प्रबल संभावना है। 

    बता दें कि प्रदेश में गर्मी का दौर शुरू हो चुका है। पिछले 24 घंटे के दौरान दिन का अधिकतम तापमान 39 डिग्री के पार हो चुका है। ऐसे में बारिश की खबरें गर्मी में थोड़ी राहत देगी।

    और भी...

  • 10 अप्रैल की ऐतिहासिक घटनाएं

    10 अप्रैल की ऐतिहासिक घटनाएं

     

    1847: पुलित्जर पुरस्कारों के प्रणेता अमेरिकी पत्रकार एवं प्रकाशक जोसेफ पुलित्जर का जन्म।
    1875 : स्वामी दयानंद सरस्वती ने आर्यसमाज की स्थापना की।
    1894: भारतीय उद्योगपति घनश्यामदास बिड़ला का जन्म।
    1912: टाइटैनिक ब्रिटेन के साउथहैंपटन बंदरगाह से अपनी पहली और आखिरी यात्रा पर रवाना हुआ।
    1916: पहले गोल्फ टूर्नामेंट का प्रोफेशनल तरीके से आयोजन।
    1930: पहली बार सिंथेटिक रबर का उत्पादन।
    1972: ईरान में भूकंप से करीब 5 हजार लोगों की मौत।
    1972 : जैविक हथियारों के विकास, उत्पादन और भंडारण पर जैविक हथियार संधि के जरिए रोक लगा दी गई. इसपर 150 से ज्यादा देशों ने हस्ताक्षर किए।
    1973 : पाकिस्तान ने संविधान में संशोधन कर जुल्फिकार अली भुट्टो को राष्ट्रपति के स्थान पर प्रधानमंत्री बनाया।
    1988 : पाकिस्तान के रावलपिंडी और इस्लामाबाद के बीच घनी आबादी वाले एक इलाके में सेना के शस्त्र भंडार में आग लगने से जान माल का भारी नुकसान। कम से कम 90 लोगों की मौत. एक हजार से ज्यादा घायल।
    1982 : भारत के बहुउद्देशीय उपग्रह इनसेट- 1 ए का सफल प्रक्षेपण।
    1995: भारत रत्न से सम्मानित भारत के पांचवें प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई का निधन।
    2001 : नीदरलैंड ने एक विधेयक को मंजूरी देकर इच्छा मृत्यु को मंजूरी दी. इस तरह का कानून बनाने वाला वह दुनिया का पहला देश बना।
    2002 : 15 साल में पहली बार लिट्टे सुप्रीमो वी. प्रभाकरन ने प्रेस कांफ्रेस में भाग लिया।
    2010: पोलैंड वायुसेना का टू-154एम विमान रूस के स्मोलेंस्क के पास दुर्घटनाग्रस्त. पोलैंड के राष्ट्रपति लेच केजिस्की, उनकी पत्नी और दर्जनों अन्य वरिष्ठ अधिकारियों व गणमान्य व्यक्तियों समेत 96 लोगों की मौत।
    2016: केरल के पुत्तिंगल मंदिर में आग लगने से 100 से अधिक लोगों की मौत, 300 से अधिक लोग घायल हुए।

    और भी...

  • केजरीवाल को बड़ा झटका, हाईकोर्ट ने कहा- हमारे सामने पर्याप्त सबूत, गोवा चुनाव के लिए पैसा भेजा गया

    केजरीवाल को बड़ा झटका, हाईकोर्ट ने कहा- हमारे सामने पर्याप्त सबूत, गोवा चुनाव के लिए पैसा भेजा गया

     

    Arvind Kejriwal: दिल्ली शराब घोटाले मामले में गिरफ्तार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को हाईकोर्ट से बड़ा झटका मिला है। हाई कोर्ट ने गिरफ्तारी व ईडी रिमांड को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी, याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा- कोर्ट ने कहा कि ईडी द्वारा इकट्ठा की गई सामग्री से पता चलता है कि अरविंद केजरीवाल ने साजिश रची थी। केजरीवाल अपराध के पैसे के उपयोग और छिपाने में सक्रिय रूप से शामिल थे। ईडी के मामले से यह भी पता चलता है कि वह निजी तौर पर आम आदमी पार्टी के संयोजक के तौर पर भी शामिल थे। 

    हाईकोर्ट ने शराब नीति मामले में मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी-रिमांड को सही ठहराया है। हाईकोर्ट ने कहा कि ED ने हमारे सामने पर्याप्त सबूत पेश किए। हमने बयानों को देखा, जो बताते हैं कि गोवा के चुनाव के लिए पैसा भेजा गया था। इसके साथ ही कोर्टने सरकारी गवाहों पर भी सुनवाई करते हुए कहा कि सरकारी गवाहों के बयान किस तरह रिकॉर्ड किए, इस बात पर शक करना कोर्ट और जज पर कलंक लगाने जैसा है। 

    बता दें कि केजरीवाल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सरकारी गवाहों पर संदेह व्यक्त किया था, इस पर अदालत ने कहा है कि मजिस्ट्रेच के सामने सरकारी गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे इसलिए उनेक बयान की अहमियत है। अदालत ने आगे कहा है कि कानून सबके लिए बराबर है। कोर्ट किसी सीएम के लिए अलग से कानून नहीं बनाया जा सकता है। हाई कोर्ट ने कहा कि अप्रूवर पर कानून 100 साल पुराना है। जांच के दौरान ईडी घऱ जा सकता है।

    अदालत ने कहा कि जांच के लिए ईडी घर जा सकती है। अदालत ने कहा की अप्रूवल का बयान ईडी नहीं कोर्ट लिखता है। जांच किसी की सुविधा के मुताबिक नहीं हो सकत है। दस्तावेज के मुताबिक केजरीवाल साजिश में शामिल रही है। गवाहों पर शक करना कोर्ट पर शक करना है। सरकारी गवाह बनना कोर्ट तय करता है। सरकारी गवाह के बयान दर्ज करने के तरीके पर संदेश करना अदालत और न्यायाधीश पर आपेक्ष लगाना होगा। 

    गोरतलब है कि शराब नीति मामले में दिल्ली सीएम को 21 मार्च को ED ने अरेस्ट किया था। ED ने 22 मार्च को केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया था। कोर्ट ने दिल्ली सीएम को 28 मार्च तक ED रिमांड पर भेजा, जिसे बाद में 1 अप्रैल तक बढ़ाया गया। 1 अप्रैल को कोर्ट ने उन्हें 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया।​​​​​​ वह पिछले 9 दिनों से तिहाड़ जेल में बंद हैं।

    और भी...

  • Navratri 2024: नवरात्रि के शुभ अवसर पर जरुर खरीदे ये वस्तुएं,  घर में आएगी शुभता, होंगे अनेक फायदे

    Navratri 2024: नवरात्रि के शुभ अवसर पर जरुर खरीदे ये वस्तुएं, घर में आएगी शुभता, होंगे अनेक फायदे

     

    Chaitra Navratri 2024: 9 अप्रैल यानि आज से चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ हो गया है, यह पावन पर्व 17 अप्रैल तक रहेंगे। चैत्र नवरात्रि के शुभारंभ होने के साथ ही नया हिंदू वर्ष भी आरंभ भी होता है। नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरुपों की पूजा-अर्चना की जाती है। देवी दुर्गा के 9 रुपों की पूजा अर्चना करने से त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश का भी आशीर्वाद आपके साथ बना रहता है। वैसे तो हर साल चार बार नवरात्रि का पावन पर्व आता है, लेकिन चैत्र नवरात्रि और शारदीय नवरात्रि का अपना अलग ही महत्व होता है।

    वहीं चैत्र और शारदीय नवरात्रि को प्रकट नवरात्रि कहा जाता है। आषाढ़ और माघ माह में पड़ने वाली नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि के रुप में जाना जाता है। इतना ही नहीं नवरात्रि के 9 दिन बहुत पवित्र माना जाता है। इस बीच कई तरह के धार्मिक कार्य और अनुष्ठान भी किए जाते हैं। साथ ही इन दोनों कुछ चीजों को खरीद कर घर लाना भी बेहद शुभ माना जाता है।

    1. घर लेकर आए मटका

    मटके को धन का प्रतीक माना जाता है। ऐसे में चैत्र नवरात्रि के दौरान घर में मटका लाना बहुत शुभ होगा। साथ ही मटका धन का प्रतीक भी है ऐसे में घर में मटका लाने से धन का आगमन भी होगा और आर्थिक स्थिति मजबूती होगी। इसलिए अगर आप अभी तक मटक नहीं लाए है तो नवरात्रि में मटका जरूर लेकर आ आए।

    2. शंख खरीदना भी शुभ

    अगर आप नया शंख खरीदना चाहते है और आपको अभी तक कोई समय सही नहीं लगा तो नवरात्रि के शुभ अवसर पर इस शुभता का प्रतीक माने जाने वाला शंख जरुर खरीद सकते हैं। मां दुर्गा के इन नौ दिनों में घर में शंख लाने से घर में सकारात्मकता का संचार होता है। मान्यता के अनुसार जिस घर में शंख की ध्वनि सुनाई देती है वहां से नकारात्मक ऊर्जा दूर चली जाती है।

    3. खरीदे चांदी 

    अगर आप कोई आभूषण खरीदना चाहते है तो इस नवरात्रि के शुभ अवसर पर घर में चांदी जरुर लाए। माना जाता है कि चांदी लाने से न सिर्फ चंद्रमा की स्थिति कुंडली में मजबूत होती है बल्कि बीमारी पैदा करने वाले दोषों का भी अंत होता है।

    4. तुलसी का पौधा

    तुलसी को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। वैसे भी सनातन धर्म को मानने वाले सभी लोगों के घर में तुलसी का होना शुभ माना जाता है। अगर आप चैत्र की नवरात्रि में तुलसी लेकर आते हैं तो यह आपके लिए शुभ होगा।

    और भी...

  • UP में बीजेपी का 12 सीटों को लेकर फंसा पेंच, क्या बृजभूषण शरण सिंह को मिलेगा टिकट?

    UP में बीजेपी का 12 सीटों को लेकर फंसा पेंच, क्या बृजभूषण शरण सिंह को मिलेगा टिकट?


     

    UP BJP: भारत में 80 लोकसभा सीटों वाला राज्य उत्तर-प्रदेश में बीजेपी का 12 सीटों को लेकर पेंच फंसा हुआ है।  माना जा रहा है कि बीजेपी 10 अप्रैल तक इन सीटों पर अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर सकती है। जिन  12 सीटों पर उम्मीदवार घोषित होने हैं, उनमें मैनपुरी, रायबरेली, गाजीपुर, बलिया, भदोही, मछलीशहर, प्रयागराज, फूलपुर, कौशांबी, देवरिया, फिरोजाबाद और कैसरगंज शामिल हैं, साथ ही प्रदेश में लोकसभा चुनाव के साथ चार सीटों पर उप चुनाव भी होने है, उपचुनाव के लिए भी बीजेपी के अपने प्रत्याशी घोषित करने हैं।

    वर्तमान सांसद हैं बृजभूषण

    यूपी की कैसरगंज लोकसभा सीट से बीजेपी ने अभी तक अपने प्रत्याशी के नाम का ऐलान नहीं किया है। यहां से वर्तमान बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों द्वारा यौन शोषण के आरोप लगाने के बाद बीजेपी बृजभूषण शरण सिंह पर दांव लगाने से बच रही है।

    खबरों के मुताबिक बृजभूषण खुद इस सीट से चुनाव लड़ने पर अड़े हुए हैं जबकि बीजेपी ने उनकी पत्नी और बेटे को चुनाव लड़ाने का ऑफर दिया है। वहीं बृजभूषण के हठ को देखते हुए बीजेपी अब एमपी-एमएलए कोर्ट दिल्ली के फैसले की प्रतीक्षा कर रहा है। बृजभूषण के एक मामले में अंतिम सुनवाई होनी है, कयास लगाए जा रहे है कि शायद कोर्ट की सुनवाई के बाद बीजेपी कोई फैसला लेगी। 

    विधानसभा उपचुनाव के प्रत्याशी भी होंगे घोषित

    लोकसभा की 12 सीटों के उम्मीदवारों की सूची के साथ ही उन चार विधानसभा सीटों के प्रत्याशियों की भी सूची जारी होगी, जिनपर उपचुनाव होने हैं। इनमें लखनऊ पूरब, ददरौल (शाहजहांपुर), गैसड़ी (बलरामपुर) और दुद्धी (सोनभद्र) शामिल हैं। इनमें तीन सीटों पर भाजपा जीती थीं, जबकि गैसड़ी में सपा।

    लखनऊ पूरब सीट विधायक आशुतोष टंडन और ददरौल विधायक मानवेंद्र सिंह के निधन की वजह से खाली हुई है। जबकि एक मामले में सजा के बाद भाजपा विधायक रहे रामदुलार गोंड को अयोग्य करार दिए जाने की वजह से दुद्धी सीट खाली हुई है। 

    बता दें कि ददरौल सीट पर चौथे चरण में 13 मई को, लखनऊ पूरब सीट पर पांचवें चरण में 20 मई को, गैसड़ी सीट पर छठवें चरण में 25 मई को और दुद्धी सीट पर सातवें चरण में 1 जून को मतदान होने है, जिनके प्रत्याशी अभी घोषित होने बाकी हैं।

    और भी...

  • प्रतिभा सिंह ने विक्रमादित्य के मंडी से चुनाव लड़ने के दिए संकेत, PWD मंत्री का सामने आया ये रिएक्शन

    प्रतिभा सिंह ने विक्रमादित्य के मंडी से चुनाव लड़ने के दिए संकेत, PWD मंत्री का सामने आया ये रिएक्शन

     

    Himachal News: हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव को लेकर जहां बीजेपी ने अपनी सैना तैयार कर ली है तो वहीं कांग्रेस अभी तक मंथन पर ही अटकी है। कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी ने प्रत्याशियों के नाम तय कर लिए हैं। इस पर आखिरी मुहर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में लगनी है। 

    वहीं प्रतिभा सिंह ने विक्रमादित्य सिंह का मंडी से चुनाव लड़ने के संकेत देते हुए कहा कि- विक्रमादित्य सिंह एक युवा है, मंडी से बीजेपी प्रत्याशी कंगना रनौत भी एक युवा हैं। ऐसे में उनका टक्कर देने के लिए एक युवा नेता की आवश्यकता है, उन्होंने कहा कि विक्रमादित्य सिंह एक यूथ आइकॉन हैं। ऐसे में क्षेत्र का युवा भी उनके साथ जुड़ेगा। इन्हीं तथ्यों के आधार पर सभी ने पैनल में उनका नाम सुझाया। प्रतिभा सिंह ने कहा मौजूदा सांसद होने के नाते उनका टिकट काटना आसान नहीं है, लेकिन सभी तथ्यों का आधार पर सभी नेताओं में विक्रमादित्य सिंह के नाम का सुझाव आया है।

    कंगना का मंडी से हारना तय- विक्रमादित्य सिंह 

    विक्रमादित्य सिंह का मंडी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की खबरें सुर्खियों में बनी हुई है। ऐसे में अब PWD मंत्री का रिएक्शन भी देखने को मिला है। दिल्ली से लौटने के बाद शिमला में पत्रकारों से बातचीत में विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि वह आलाकमान के हर आदेश का पालन करेंगे। पहले भी उनके माता-पिता मंडी से सांसद रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह भी तीसरी बार मंडी से सांसद हैं और मंडी की जनता उनके साथ जुड़ी है जो भी आदेश हाईकमान देगा, उसका पालन किया जाएगा।


    विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि कंगना का मंडी से हारना तय है। कांगना को हराकर वापिस बॉलीवुड भेजा जाएगा। कंगना हिमाचल की बेटी है वह उसका सम्मान करते हैं, लेकिन हिमाचल में हजारों बेटियां है कि जिन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों में अपना नाम कमाया है। कांगना पर निशाना साधनते हुए विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि चुनावों में हर मुद्दा उठेगा, सवाल जवाब भी होंगे जिसके लिए कंगना जवाब देने को तैयार रहें। 

    गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में आखिरी चरण में चुनाव होने है। भारतीय जनता पार्टी चारों लोकसभा सीट पर अपने प्रत्याशी की घोषणा कर चुकी है। कांग्रेस में अब अभी प्रत्याशियों की घोषणा का इंतजार है। कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी ने प्रत्याशियों के नाम तय कर लिए हैं. इस पर आखिरी मुहर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में लगनी है।

    और भी...

  • JJP Haryana:नारनौल नगर परिषद की चेयरपर्सन कमलेश सैनी ने छोड़ी पार्टी, इस दल में शामिल होने की अटकलें

    JJP Haryana:नारनौल नगर परिषद की चेयरपर्सन कमलेश सैनी ने छोड़ी पार्टी, इस दल में शामिल होने की अटकलें

     

    JJP Haryana: लोकसभा चुनाव सिर पर है और ऐसे में जननायक जनता पार्टी से एक-एक सदस्य इस्तीफा देते दिखाई दे रहे हैं। निशान सिंह के बाद अब नारनौल नगर परिषद की चेयरपर्सन कमलेश सैनी ने भी जजपा की प्राथमिक सदस्यता और सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा ईमेल के माध्यम से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय चौटाला के नाम प्रेषित किया है। कमलेश सैनी के भाजपा में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे हैं तो वहीं निशान सिंह का कांग्रेस में शामिल होने की अटकले हैं। 

    पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष निशान सिंह ने छोड़ी पार्टी

    बता दें कि बीते दिन जजपा के प्रदेश अध्यक्ष निशान सिंह ने सोमवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद निशान सिंह के कांग्रेस में शामिल होने की संभावना है। कयास लगाए जा रहे हैं कि जेजेपी के कई विधायक भी उनके साथ जा सकते है। 

    कमलेश सैनी और निशान सिंह पहले भी छोड़ चुके है पार्टी

    कमलेश सैनी ने 2022 में नारनौल नगर परिषद का चुनाव लड़ा था। उस समय जजपा का भाजपा के साथ गठबंधन था और नारनौल से भाजपा ने अपना प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारा था। इस वजह से जजपा ने किसी को टिकट नहीं दी थी। इस बात से नाराज होकर कमलेश सैनी ने जजपा छोड़कर निर्दलीय चुनाव लड़ा था और भारी मतों से विजयी होने में कामयाब रही थी हालांकि चुनाव जीतने के बाद उन्होंने दोबारा से जेजेपी का दामन थाम लिया था। 

    वहीं निशान सिंह की नाराजगी पहले भी देखने को मिली थी, जब 2019 कांग्रेस छोड़कर जेजेपी में शामिल हुए देवेंद्र बबली को उनकी जगह टिकट दे दिया गया था। निशान सिंह 2000 में टोहाना से विधानसभा का चुनाव जीता था। उन्होंने टोहाना से 2019 में विधानसभा चुनाव के समय प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। लेकिन, पार्टी ने देवेंद्र बबली को टोहाना से चुनाव मैदान मे उतारा. उस समय निशान सिंह की नाराजगी नजर आई थी।

    और भी...

  • 9 अप्रैल की ऐतिहासिक घटनाएं

    9 अप्रैल की ऐतिहासिक घटनाएं

     

    1893: हिंदी साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन का जन्म हुआ।
    1948: अभिनेत्री जया बच्चन का मध्य प्रदेश के जबलपुर में जन्म हुआ। गुड्डी, कोरा कागज, जंजीर, अभिमान, चुपके-चुपके, मिली और शोले जैसी फिल्मों में काम करने वाली जया राज्यसभा सांसद हैं।
    1988: अभिनेत्री स्वरा भास्कर का दिल्ली में जन्म हुआ। स्वरा तनु वेड्स मनु, रांझणा और वीरे दी वेडिंग जैसी फिल्मों में नजर आ चुकी हैं।
    1669 : मुगल बादशाह औरंगजेब ने सभी हिन्दू स्कूलों और मंदिरों को ध्वस्त करने का आदेश दिया।
    1860 : पहली बार मनुष्य की आवाज रिकार्ड की गई।
    1893: हिंदी साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन का जन्म हुआ।
    1965 : कच्छ के रण में भारत पाक में युद्ध छिड़ा।
    1988 : अमेरिका ने पनामा पर आर्थिक प्रतिबंध लगाये।
    2001 : अमेरिकी एयरलाइंस ने ट्रांस वर्ल्ड एयरलाइंस का औपचारिक रूप से अधिग्रहण किया और वह उस समय दुनिया की सबसे बड़ी एयरलाइन बन गई।
    2002 : बहरीन में निगम चुनाव में महिलाओं को हिस्सा लेने की अनुमति मिली।
    2003 : इराक को सद्दाम की तानाशाही से मुक्ति मिली।
    2005 : प्रिंस चार्ल्स ने कैमिला से विवाह किया।
    2009: कटी पतंग, अमर-प्रेम और आराधना जैसी 40 से ज्यादा हिंदी और बंगाली फिल्मों के डायरेक्टर शक्ति सामंत का निधन हुआ।
    2010 : श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के यूनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम एलायंस ने 225 सीटों वाली संसद में 117 सीटें जीती।
    2011 : सरकार द्वारा लोकपाल कानून बनाने की मांग मान लेने के बाद अन्ना हजारे ने 95 घंटे से जारी अपना आमरण अनशन समाप्त कर दिया।
    2020 : देश में कोरोना वायरस से 169 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 5,865 पर पहुंची. पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 591 मामले सामने आए और 20 लोगों की मौत हुई।

     

    और भी...