खबरें अब तक

  • फेक न्यूज के खिलाफ WhatsApp का बड़ा कदम, बदलकर रख देंगे सबकुछ, जानें डिटेल्स

    फेक न्यूज के खिलाफ WhatsApp का बड़ा कदम, बदलकर रख देंगे सबकुछ, जानें डिटेल्स

     

    WhatsApp कोविड -19 अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए सख्त कदम उठाया है। WhatsApp एक चैट में फ्रिक्वेंटली भेजने वाले मैसेज को सीमित कर रहा है। अक्सर व्हाट्सएप फ्रिक्वेंटली भेजे गए मैसेज को पांच लोगों को भेजने का ऑप्शन देता है। वहीं अब अब ये ऐप ऐसे फीचर पर काम कर रहा है। जिसमें यूजर्स को फॉरवर्ड किए गए मैसेज को वेरिफाई कर सकेगें।

    कंपनी ने बयान जारी कर कहा कि यह फीचर मंगलवार से ही शुरू हो जाएगा। कंपनी ने कहा, 'हम एक फीचर के बारे में आप सभी को बताना चाहते हैं। गलत जानकारी को फैलने से रोकने के लिए अब एक समय पर केवल एक ही यूजर को मैसेज फॉरवर्ड किया जा सकेगा।' बता दें कि पहले एक यूजर मैसेज को एक बार में पांच लोगों तक फॉरवर्ड कर सकता था।

    व्हाट्सएप यूजर जब मैसेज फॉरवर्ड करता है तो मैसेज के ऊपर दो ऐरो बनकर आते हैं, जो बताते हैं कि यह मैसेज फॉरवर्ड किया गया है। इस फीचर को कंपनी ने जनवरी 2019 में लॉन्च किया था।

    कंपनी ने कहा, 'गलत जानकारी को रोकने के उद्देश्य से यह कदम उठाया गया है। यह फॉरवर्ड मैसेज पर लगाई गई लेटेस्ट लिमिट है।' बता दें कि व्हाट्सएप इन दिनों एक और फीचर को लॉन्च करने की तैयारी में है। कंपनी एक ऐसे फीचर की बीटा टेस्टिंग कर रही है, जिसमें फॉरवर्ड किए गए मैसेज के बगल में मैगनिफाइंग ग्लास बनकर आएगा।

    कंपनी ने कहा है कि इस फीचर की मदद से यूजर उस मैसेज के बारे में अन्य सोर्स से जानकारी जुटा पाएंगे। जल्द ही इस फीचर के बारे में और जानकारी दी जाएगी।

    और भी...

  • J & k की पूर्व CM महबूबा मुफ्ती को जेल से स्थानांतरित कर भेजा गया घर, लेकिन हिरासत से मुक्ति नहीं

    J & k की पूर्व CM महबूबा मुफ्ती को जेल से स्थानांतरित कर भेजा गया घर, लेकिन हिरासत से मुक्ति नहीं

     

    जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को आज अस्थायी जेल से उनके घर पर शिफ्ट कर दिया गया है हालांकि जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत वह अब भी हिरासत में ही रहेंगी। यह जानकारी मंगलवार को अधिकारियों ने दी। महबूबा मुफ्ती को स्थानांतरित किए जाने का आदेश जम्मू-कश्मीर के गृह विभाग ने जारी किया है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले से पहले उन्हें हिरासत में लिया गया था। अभी वह जन सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में हैं। 

    60 वर्षीय मुफ्ती को पिछले साल पांच अगस्त को एहतियातन हिरासत में रखा गया था लेकिन बाद में छह फरवरी को उनके खिलाफ सख्त पीएसए के तहत मामला दर्ज किया गया। जम्मू-कश्मीर गृह विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया कि उन्हें मौलाना आजाद रोड की जेल से ‘‘फेयरव्यू गुपकर रोड” स्थानांतरित किया जा रहा है जो उनका आधिकारिक आवास है।

    इसमें बताया गया कि मुफ्ती को स्थानांतरित किए जाने से पहले प्रशासन ने उनके आधिकारिक आवास को तत्काल प्रभाव से अधीनस्थ जेल का दर्जा दे दिया। आपको बता दें कि इससे पहले जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला को रिहा किया जा चुका है। इन दोनों के ऊपर भी पीएसए लगाया गया था, जिसे पिछले महीने वापस ले लिया गया था।

    और भी...

  • कोरोना के खिलाफ दिल्ली सरकार ने तैयार किया 5T प्लान, जानें कैसे होगा काम

    कोरोना के खिलाफ दिल्ली सरकार ने तैयार किया 5T प्लान, जानें कैसे होगा काम

     

    Coronavirus: देश में कोरोनावायरस के बढ़ते कदमों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कोरोना को हराने के लिए 5T प्लान तैयार किया है। जिसके मुताबिक, दिल्ली के लोगों का रैपिड टेस्ट किया जाएगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम 5T प्लान के तहत काम करेंगे। जिसमें पहला टी प्लान लोगों की टेस्टिंग करना होगा। उन्होंने कहा कि हमने बड़े लेवल पर टेस्टिंग करने का फैसला किया है। दिल्ली में रहने वाले लोगों की टेस्टिंग की जाएगी। शुक्रवार से रिपीट टेस्टिंग का काम शुरू होगा। सीएम केजरीवाल ने कहा कि साउथ कोरिया की तर्ज पर लोगों की टेस्टिंग की जाएगी। सबसे पहले कोरोना के हॉटस्पॉट इलाकों में यह रैपिड टेस्ट किया जाएगा। इसके लिए एक लाख कीट का ऑर्डर दिया जा चुका है और शुक्रवार से यह टेस्ट किट आने लगेंगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि दूसरा काम ट्रेसिंग करना होगा।

    जो कोरोना पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों को ट्रेस किया जा रहा है और इसके लिए हमारी सरकार ने पुलिस की मदद ली है। अब तक पुलिस को 27000 से ज्यादा लोगों के फोन नंबर दे जा चुके हैं, जिन को ट्रेस किया जा रहा है और वो होम क्वॉरेंटाइन हैं। इसमें तबलीगी जमात के लोग भी शामिल हैं। सीएम केजरीवाल ने कहा कि वह दिल्ली पुलिस को तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों के फोन नंबर देगी दिन से उन लोग का पता चल पाएगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम केजरीवाल ने कहा कि 5 प्लान में ट्रीटमेंट भी होगा। यानी कि जो लोग कोरोना पॉजिटिव है। उनका ट्रीटमेंट किया जाएगा। अभी तक दिल्ली में 500 से ज्यादा केस सामने आए हैं और हमने अब 3000 बेड वाली क्षमता तैयार कर ली है। दिल्ली के अलग-अलग हॉस्पिटल में यह काम किया जा रहा है। इसके अलावा प्राइवेट हॉस्पिटल में भी ट्रीटमेंट किया जाएगा

    और भी...

  • हरियाणा में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 96 हुई, दो लोगों की मौत

    हरियाणा में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 96 हुई, दो लोगों की मौत

     

    हरियाणा में दिल्ली निजामुद्दीन मरकज से लौटे जमातियों के कारण पाजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। उसके बाद में अभी भी कोरोना संक्रमण से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। सूबे में पाजिटिव मरीजों की संख्या पर गौर करें, तो 96 हो गई है, जिसमें से 15 को डिस्चार्ज किया गया। मुख्यमंत्री ने शाम को प्रदेश की जनता के नाम दिए संदेश में कोरोना पाजिटिव की संख्या बढ़कर लगभग 90 तक पहुंचने पर चिंता जाहिर की थी। दिल्ली तबलीगी जमात से लौटे जमातियों के कारण कोरोना पाजिटिव के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। हरियाणा प्रदेश मेंकोरोना संक्रमित की कुल 96 तक पहुंच गई है। इस बात का एलान सोमवार की शाम को सीएम हरियाणा ने भी अपने दैनिक संबोधन के दौरान कर दिया है। इनमें 45 के करीब जमाती भी पॉज़िटिव मिलने की सूचना हैं। राज्य में सबसे ज्यादा तबलीगी लौटकर नूंह में आए हैं। सोमवार को नूह में 14, पलवल में 25 जमातियों के केस, गुरुग्राम 09 केस आए हैं। पंचकूला 2, सिरसा 3, सोनीपत में एक, कैथल में एक, करनाल में 4, फरीदाबाद में 13 मामले, अंबाला 3, भिवानी 2, हिसार में एक, चरखीदादरी एक, पानीपत में एक केस सामने आया हैं। कुलमिलाकर अभी तक सिर्फ 15 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है, इस तरह से संख्या 79 है, जिनका अस्पतालों में उपचार चल रहा है। अकेले पलवल जिले में सबसे ज्यादा 25 जमाती पॉजिटिव पाए हैं। प्रदेश में अब तक दो मौतें हो चुकी हैं, जिनकी पुष्टि राज्य का सेहत विभाग कर रहा है।

    हेल्थ विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया है कि अब तक मरकत से लौटे जिन 44 लोगों में कोरोना का संक्रमण पाया गया है उनमें श्रीलंका के 6 और एक व्यक्ति नेपाल का रहने वाला है। जबकि तमिलनाडू के 5, केरल के 3, वेस्ट बंगाल के 4, तेलंगाना के 2, बिहार के 3, उत्तर प्रदेश के 6, पंजाब के 1, कर्नाटक के 1, चेन्नई के 1, आसाम के 1 और महाराष्ट्र का 1 जमाती पॉज़िटिव है।

    हेल्थ बुलेटिन के तहत सोमवार को 18214 निगरानी में रखा गया है जबकि 13399 लोग घरों में निगरानी में हैं। इसके अलावा अब तक 17402 विदेशी की पहचान की है। अब तक 2194 लोगों के सैम्पल भेजे गए हैं जिनमे से 1639 नेगेटिव जबकि 96 पॉज़िटिव है। अभी 459 की रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा 548 को आइसोलेशन में रखे गए हैं।

    और भी...

  •  कोरोना फैलाने पर मरीज के उपर दर्ज होगा हत्या के प्रयास का मामला, सरकार ने दिया अल्टीमेटम

    कोरोना फैलाने पर मरीज के उपर दर्ज होगा हत्या के प्रयास का मामला, सरकार ने दिया अल्टीमेटम

     

    Coronavirus : हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों को अपनी जानकारी आगे आकर देनी होगी। यदि किसी भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने इसकी जानकारी नहीं दी और उससे किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमण फैलता है तो हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया जाएगा। हिमाचल प्रदेश में तब्लीगी जमात के 6 लोगों को पकड़ा गया है। जिन्होंने निजामुद्दीन मरकज में हिस्सा लिया था। ऐसे में हिमाचल प्रदेश के डीजीपी सीताराम मरडी ने कहा है कि जो लोग अपनी जानकारी छुपा रहे हैं वो खुद स्वास्थ्य विभाग के पास जाएं। यदि खुद आगे नहीं आते हैं और उनसे किसी दूसरे लोगों में कोरोना संक्रमण फैलता है तो हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया जाएगा। डीजीपी ने कहा कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति यदि किसी पर थूकता है तो भी हत्या का प्रयास करने का मामला दर्ज किया जाएगा। क्योंकि यह उस व्यक्ति में कोरोना वायरस फैलाने की साजिश है। उन्होंने कहा कि यदि संक्रमित होने वाले व्यक्ति की मौत हो जाती है तो थूकने वाले पर हत्या के आरोपों के तहत कार्रवाई होगी।

    हिमाचल सरकार के फैसले का असर दिखा है। 12 तब्लीगी जमातियों ने खुद संपर्क कर स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दी है। इसके अलावा उनके संपर्क में आने वाले 52 लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया है।

    और भी...

  • भारत में आठ दिन में पहली बार कम हुए कोरोना वायरस के संक्रमित, 24 घंटे में आए 488 मामले

    भारत में आठ दिन में पहली बार कम हुए कोरोना वायरस के संक्रमित, 24 घंटे में आए 488 मामले

     

    Cororanavirus : कोरोना वायरस से देशवासियों को राहत की खबर आयी है। पिछले एक सप्ताह में पहली बार कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या कम हुई है। हालांकि इसके बावजूद कोरोना संक्रमितों की संख्या 4803 हो गई है। जबकि 133 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 4288 लोगों को अस्पतालों में उपचार चल रहा है। 382 लोग इलाज के बाद ठीक होकर घर जा चुके हैं।

    भारत में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पिछले 8 दिनों में पहली बार कम हुआ है। 29 मार्च को कोरोना संक्रमितों के 115 नए मामले सामने आए थे। इसके बाद लगातार बढ़ते हुए 6 अप्रैल को 606 संक्रमित आए। इसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या 4290 हो गई। लेकिन 7 अप्रैल को 120 मामले कम आए हैं। पिछले 24 घंटे में 488 कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए।

    कोरोना संक्रमितों मरीजों की संख्या कम होने के साथ ही मृतकों का आंकड़ा भी कम हुआ है। पांच अप्रैल को 22 लोगों की मौत हुई थी। लेकिन 6 अप्रैल को मृतकों की संख्या 13 दर्ज की गई है। अभी तक कुल 133 लोगों की मौत हो चुकी है।

     

    पिछले आठ दिनों में आए कोरोना संक्रमण के नए मामले

    दिनांक

    कोरोना के नए मामले

    29 मार्च

    115

    30 मार्च

    190

    31 मार्च

    306

    1 अप्रैल

    424

    2 अप्रैल

    486

    3 अप्रैल

    560

    4 अप्रैल

    579

    5 अप्रैल

    606

    6 अप्रैल

    488

     

    मध्यप्रदेश : भोपाल में कोरोना वायरस के 12 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से पांच स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। जबकि 7 पुलिस कर्मी और उनसे जुड़े लोग हैं। अभी तक भोपाल में 74 मामले आ चुके हैं।

    महाराष्ट्र : प्रदेश में आज 23 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से पिंपरी चिंचवाड़ा में 4 मामले, बुलढाणा में 2, मुंबई में 10, नागरुपर में 2 और थाणे-सांगली में एक -एक व्यक्ति संक्रमित पाया गया है। जिसके बाद प्रदेश में संक्रमितों की संख्या 891 हो गई है।

    गुजरात : प्रदेश में कोरोना वायरस के 19 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से सिर्फ अहमदाबाद में 13 संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा 3 लोग पाटन में संक्रमित पाए गए हैं। भावनगर, आनंद और साबरकांठा में एक-एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाया गया है। अभी तक कोरोना संक्रमितों की संख्या प्रदेश में 165 हो गई है।

     

    और भी...

  • भारत नहीं देता दवाई की सप्लाई को मंजूरी, तो देते करारा जवाब : ट्रंप

    भारत नहीं देता दवाई की सप्लाई को मंजूरी, तो देते करारा जवाब : ट्रंप

     

    अमेरिका में कोरोना वायरस का खतरा लगातार तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए ट्रायल के तौर पर भारत से दवा की सप्लाई की मांग एक बार फिर दोहराई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मीडिया को संबोधित कर कहा कि अगर भारत हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा सप्लाई करता है तो ठीक, वरना हम जवाबी कार्रवाई करेंगे। बता दें कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा मलेरिया के लिए होता है, जिसका भारत प्रमुख निर्यातक रहा है।

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि इस संबंध में मैंने रविवार की सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और उन्होंने हमारी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के सप्लाई को अनुमति दे दी है, जिसकी हम सराहना करते हैं। उन्होंने आगे कहा, 'तो वह एंटी मलेरिया दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की सप्लाई नहीं भी  करते हैं तो कोई बात नहीं। मगर हम इस पर जवाबी कार्रवाई करेंगे। आखिर हम इसका जवाब क्यों नहीं देंगे।'

    बता दें कि अमेरिका में कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते कहर के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रविवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अमेरिका में बढ़ रहे कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा भेजने का अनुरोध किया है। वही, ट्रम्प के अनुरोध पर भारत ने कहा कि एक जिम्मेदार देश होने के नाते हम जितनी मदद कर पाएंगे उतनी करेंगे। उन्होंने कहा  कि हम भारत के  1.30 अरब आबादी को कोरोना वायरस महामारी से सुरक्षित करने के बाद ही रोगनिरोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति करेंगे।

    और भी...

  • आखिर 7 अप्रैल को ही क्यों मनाया जाता है World Health Day, जानें इस दिन का इतिहास और उदेश्य

    आखिर 7 अप्रैल को ही क्यों मनाया जाता है World Health Day, जानें इस दिन का इतिहास और उदेश्य

     

    हर साल 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस (World Health Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने की शुरुआत साल 1950 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा की गई थी। इस दिन मुख्य उद्देश्य वैश्विक स्वास्थ्य और उससे जुड़ी समस्याओं पर विचार करना है। साथ ही, अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं को लोगों तक पहुंचना है।

    स्वास्थ्य के महत्व की ओर बड़ी संख्या में लोगों का ध्यान आकृष्ट करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के नेतृत्व में हर वर्ष 7 अप्रैल को 'विश्व स्वास्थ्य दिवस' मनाया जाता है। दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा जेनेवा में वर्ष 1948 में पहली बार विश्व स्वास्थ्य सभा रखी गई थी और विश्व स्वास्थ्य दिवस यानि 'वर्ल्ड हेल्थ डे' वर्ष 1950 में पूरी दुनिया में पहली बार मनाया गया।

    आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का मुख्यालय स्विटजरलैंड के जेनेवा शहर में स्थित है। इसका मुख्य उद्देश्य विश्व भर के लोगों के स्वास्थ्य का स्तर ऊंचा रखना है। वही, हर साल इसके लिए एक थीम निर्धारित की जाती है, जो आंकड़ों के अनुसार वर्ष विशेष में स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले विषयों के आधार पर होती है। ऐसे में विश्वभर में वर्ल्ड हेल्थ डे 2020 7 अप्रैल मंगलवार को मनाया जाएगा।

    जानकारी के लिए बता दें कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य दिवस के मौके पर तमाम स्‍वास्‍थ्‍य संगठनों समेत सरकारी, गैर-सरकारी संस्‍थाएं और एनजीओ कार्यक्रमों का आयोजन करती हैं। इस दिन विशेष हेल्‍थ कैंप लगाए जाते हैं। साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए नुक्‍कड़ नाटकों का आयोजन भी होता है और कला प्रदर्शनी भी लगाई जाती है।

    इसके अलावा स्‍कूल-कॉलेजों में निबंध और वाद-विवाद प्रतियोगिताएं भी होती हैं। लेकिन इस बार शायद हर बार की तरह कार्यक्रमों का आयोजन न हो, क्योंकि आप तो जानते ही है इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Covid-19) से झूझ रही है।

    और भी...

  • 7 April के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

    7 April के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

     

    1509 फ्रांस ने वेनिस के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।
    1712 न्यूयॉर्क में दास विद्रोह में छह गोरे लोगों मारे गए और 21 अफ्रीकी अमेरिकी घायल हुए।
    1818 ब्रूक्स ब्रदर्स, संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे पुराने कपड़ो के व्यापारियों ने न्यूयॉर्क शहर में कैथरीन और चेरी स्ट्रीट्स के पूर्वोत्तर कोने पर अपना पहला स्टोर खोला।
    1819 लिवोनिया राज्यपाल ने अपने किसानों को रूसी साम्राज्य के गुलामों से बचाया।
    1843 ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारतीय गुलामता अधिनियम 1843 से दासता के लिए कानूनी समर्थन को हटाया गया।
    1856 नेल्सन कॉलेज की स्थापना न्यूज़ीलैंड में की गयी।
    1920 प्रसिद्ध सितारवादक रविशंकर का बनारस में जन्म।
    1921 क्रांतिकारी नेता सनयात सेन चीनी गणतंत्र के प्रथम राष्ट्रपति बने।
    1928 हेरोल्ड लॉयड मूक कॉमेडी फिल्म स्पीडी जारी की गई।
    1946 सीरिया को फ्रांस से आजादी मिली।
    1947 अरब बाथ पार्टी की स्थापना दमिश्क में हुई।
    1948 संयुक्त राष्ट्र ने विश्व स्वास्थ्य संगठन का गठन किया।
    1948 शंघाई में एक बौद्ध मठ में आग लगने से 20 बौद्ध भिक्षुओं मरे गए।
    1981 टेक्सास के कॉर्पस क्रिस्टी शहर में एक अनाज की लिफ्ट में विस्फोट होने से 9 लोग मारे गए और 30 घायल हुए।
    1994 रवांडा के राष्ट्रपति जुवेनल हेव्यारिमाना एवं बुरुंडी के राष्ट्रपति सिप्रियन न्तायमिटा का किगाली हवाई अड्डे पर राकेट हमले में निधन।
    1998 विश्व स्वास्थ्य दिवस को महिला चिकित्सा दिवस के रूप में मनाने का विश्व स्वास्थ्य संगठन की घोषणा।
    2000 ब्राजील से विश्व के सबसे छोटे अख़बार योर आनरका प्रकाशन प्रारम्भ।
    2001 चीन ने संयुक्त राज्य अमेरिका से खेद के बजाय माफी मांगने के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका व भारत के मध्य रक्षा सहयोग समझौता, प्रोटोकोल के विपरीत राष्ट्रपति बुश की भारतीय रक्षा मंत्री जसवंत सिंह से भेंट, मंगल ग्रह के लिए नासा का ओडिसी यान रवाना।
    2006 बगदाद में बम विस्फोट में 79 लोग मारे गये।
    2012 सियाचिन में भूस्खलन से 130 पाकिस्तानी सैनिकों की मौत।
    2012 जॉयस बांदा मलावी के राष्ट्रपति बने।
    2015 अमेरिकी अभिनेता जियोफरे लेविस का निधन।

    और भी...

  • खुशखबरी: गोएयर ने शुरू की 15 अप्रैल से घरेलू विमानों के टिकटों की बुकिंग

    खुशखबरी: गोएयर ने शुरू की 15 अप्रैल से घरेलू विमानों के टिकटों की बुकिंग

     

    विमानन कंपनी गोएयर ने 15 अप्रैल से घरेलू विमानों के लिए टिकटों की बुकिंग शुरू करने की घोषणा कर दी है बता दें कि कंपनी ने यह फैसला ऐसे समय में किया है जब एक दिन पहले नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने उन अटकलों को खारिज किया जिसमें कहा गया था कि सरकार 14 अप्रैल को 21 दिन के लॉकडाउन खत्म होने के बाद चरणबद्ध तरीकों से घरेलू और विदेशी उड़ानों की अनुमति देगी।

    प्राप्त जानकारी के अनुसार, गोएयर के प्रवक्ता ने कहा, 'गोएयर के घरेलू उड़ानों के लिए 15 अप्रैल 2020 से बुकिंग हो रही है और 1 मई 2020 से अंतरराष्ट्रीय विमानों के लिए बुकिंग होगी।' बता दें कि देश में बढ़ते कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए पिछले सप्ताह ही सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने 30 अप्रैल तक अडवांस बुकिंग रोक दी है। 

    और भी...

  • देश में कोरोना वायरस के कुल मामलों में से 1445 तबलीगी जमात से जुड़े : स्वास्थ्य मंत्रालय

    देश में कोरोना वायरस के कुल मामलों में से 1445 तबलीगी जमात से जुड़े : स्वास्थ्य मंत्रालय

     

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4067 हो गई है। पिछले 24 घंटों में 693 नए मामले सामने आए हैं। वही, अब तक 291 लोग ठीक हो चुके हैं। इसके अलावा अब तक 109 लोगों की मौत हो चुकी है स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि रविवार को 30 लोगों की जान गई है। वही, तबलीगी जमात से जुड़े अब तक 1445 कोरोना मामले सामने आए हैं।

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के कम्युनिटी संक्रमण (स्टेज 3) के दावों को खारिज किया है। कहा है कि किसी क्षेत्र में लोकल ट्रांसमिशन को कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं कह सकते। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि देश में अब तक सामने आए कोरोना संक्रमण के मामलों में 76 फीसदी पुरुष, तो 24 फीसदी महिलाएं हैं।

    उन्होंने बताया कि अब तक मारे गए लोगों में 73 फीसदी मृतक पुरुष हैं, जबकि मृतकों में 27 फीसदी महिलाएं हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगे बताया कि उम्र के हिसाब से देखें तो 47 फीसदी मरीज 40 साल से कम वर्ष के हैं। 34 फीसदी मरीज 40 से 60 साल के हैं। 19 फीसदी मरीज 60 साल से अधिक उम्र के हैं। वही, 63 फीसदी मौतें 60 साल से अधिक उम्र के लोगों की हुई है। 30 फीसदी मृतक 40 से 60 साल के उम्र के हैं। जान गंवाने वाले मरीजों में से 7 फीसदी 40 साल से कम उम्र के हैं। 

    इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने कहा कि इड्रोक्सीक्लोरोक्वीन अभी केवल उन स्वास्थ्य कर्मियों को लेने के लिए कहा गया है जो कोरोना मरीजों के इलाज में जुटे हैं या हाई रिस्क में है। अभी इसके प्रभाव को लेकर अधिक सबूत नहीं है। इसे अभी सामुदायिक स्तर पर इस्तेमाल के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

    प्रेस कांफ्रेंस में गृह मंत्रालय की ओर से बताया गया कि तबलीगी जमात के कार्यकर्ताओं और उनके संपर्क में आए 25 हजार से अधिक लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। वही, हरियाणा में 5 गांवों को सील किया गया है। तबलीगी जमात से जुड़े 2083 विदेशी पहचाने गए हैं, इनमें से 1750 ब्लैकलिस्ट किए गए हैं। इस दौरान आईसीएमआर की ओर से बताया गया कि 5 लाख रैपिड टेस्ट किट का ऑर्डर दिया गया है। इनमें से 2.50 लाख किट 8-9 तारीख तक डिलीवर हो जाएंगे। 

    और भी...

  • PM, कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30% की कटौती, राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति भी लेंगे कम वेतन

    PM, कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30% की कटौती, राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति भी लेंगे कम वेतन

     

    कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में मोदी सरकार ने सोमवार को बड़ा फैसला लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में आज दो अहम फैसले लिए गए। सरकार ने प्रधानमंत्री समेत सभी कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी की कटौती करने का फैसला लिया है। इसके अलावा दो साल के लिए MPLAD फंड को खत्म कर दिया गया है। यह जानकारी केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दी। 

    कैबिनेट फैसले की जानकारी देते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसदी तक कम किया जाएगा। सांसदों की इस सैलरी का इस्तेमाल कोरोना वायरस से लड़ने के लिए किया जाएगा। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है।

    प्रकाश जावड़ेकर ने आगे बताया कि कैबिनेट ने भारत में कोविड-19 के प्रतिकूल प्रभाव के प्रबंधन के लिए 2020-21 और 2021-22 के लिए सांसदों को मिलने वाले MPLAD फंड को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है। 2 साल के लिए MPLAD फंड के 7900 करोड़ रुपए का उपयोग भारत की संचित निधि में किया जाएगा।

    और भी...

  • पश्चिम बंगाल: ममता की मंत्री ने लॉकडाउन को बताया 'कठिन समय', लोगों को बांटी लूडो

    पश्चिम बंगाल: ममता की मंत्री ने लॉकडाउन को बताया 'कठिन समय', लोगों को बांटी लूडो

     

    कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के चलते देश में लगे 21 दिनों के लॉक डाउन के कारण लोग घरों में कैद हो गए है। ऐसे में घर में बैठे-बैठे वे बोर हो गए है और अब धीरे-धीरे मोहल्ले और गलियों में निकलना शुरू हो गए है। इस बीच पश्चिम बंगाल के एक मंत्री ने लोगों के घर में लूडो बांटे, ताकी वो घर पर ही रहें।

    दरअसल, पश्चिम बंगाल की मंत्री डॉ. शशि पांजा ने सोमवार को अपने संसदीय क्षेत्र श्यामपुकुर में लोगों के बीच खाद्य सामग्री और खेलने के लिए लूडो बोर्ड बांटे। इस मौके पर उन्होंने कहा, "घर पर लंबे समय तक रहना लोगों के लिए बेहद कठिन है। लूडो खेलने से वो उनका घर में मन लगा रहेगा और साथ ही मोबाइल की लत से भी छुटकारा मिलेगा।" 

    बता दें कि भारत में अब तक 4067 लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। इसमें से सक्रिय मामले 3666 हैं। इसके अलावा 292 मरीज ठीक हो चुके हैं अथवा उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। ऐसे में कोरोना के चलते देश में अब तक 109 लोगों की मौत हो चुकी है।

    और भी...

  • सुजानपुर में कोरोना वायरस के चलते एक महिला की मौत, परिवार सहित 30 लोगों को किया गया आइसोलेट

    सुजानपुर में कोरोना वायरस के चलते एक महिला की मौत, परिवार सहित 30 लोगों को किया गया आइसोलेट

     

    सुजानपुर में महिला की कोरोना वायरस से मौत होने के बाद प्रदेश में सख्ती बढ़ाई गई है। पुलिस के साथ-साथ लोगो ने अपनी गलियां तक सील कर दी है। मृतक महिला के परिवार के साथ 30 लोगों को भी प्रशासन की ओर से आइसोलेट किया गया। बता दें कि लॉकडाउन के चलते हर जगह कर्फ्यू लगा है उसके बाबजूद भी लोग कोरोना की चपेट में आ रहे है।

    बीते दिन सुजानपुर की 75 वर्षीय महिला राज रानी की कोरोना से मौत के कारण जहां पुलिस ने सुजानपुर को पूरी तरह से सील कर दिया है। वही, लोगो ने भी अपनी गलियों और मोहल्लों को जो चीज मिली उसके साथ बंद कर दिया है तांकि कोई भी अब मोहल्ले से न बाहर जा सके और न ही अंदर आ सके।

    इसके इलावा मृतक महिला के परिवार सहित 30 के करीब लोगों को सेहत विभाग की ओर से आइसोलेट किया गया है। मामले पर स्थानीय लोगो ने कहा कि कोरोना से बचने के लिए घरों में रहना जरूरी है, इसी वजह से हमने अपनी गलियों को सील कर दिया है। वही, इस बारे में पुलिस अधिकारी ने बताया कि सुजानपुर को पूरी तरह सील कर दिया गया है।

    और भी...

  • HDFC बैंक को मिली पीएम केयर फंड के लिए दान स्वीकारने की अनुमित

    HDFC बैंक को मिली पीएम केयर फंड के लिए दान स्वीकारने की अनुमित

     

    विश्वभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। पूरी दुनिया में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से निपटने के लिए पीएम-केयर फंड बनाया है। पीएम मोदी ने सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष के गठन की घोषणा की जहां लोग कोरोना के खिलाफ सरकार की लड़ाई में मदद एवं अपना योगदान दे सकते हैं।

    साथ ही, उन्होंने देशवासियों से इसमें दान करने की अपील की है। इस बीच, HDFC बैंक को पीएम केयर कोष के लिए दान स्वीकारने की अनुमति मिल गई है। देश के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी को प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष (पीएम - केयर्स) के लिए दान संग्रह करने की अनुमति मिल गई है। पीएम-केयर्स कोष कोरोना संकट से निपटने के लिए बनाया गया है।

    दरअसल, बैंक के प्रबंध निदेशक आदित्य पुरी ने कहा, "हमें यह अवसर (दान संग्रह का) प्रदान करना एक सम्मान की तरह है। मेरा सबसे अनुरोध है कि इस मुश्किल वक्त में सरकार के प्रयासों में मदद करें जो हमारे जीवन में न्यूनतम व्यवधान सुनिश्चित करने में लगी है।" बैंक ने एक बयान में रविवार को कहा कि ग्राहक डेबिट, क्रेडिट कार्ड और अन्य डिजिटल बैंकिंग माध्यमों से घर से ही इस कोष के लिए योगदान कर सकते हैं। बता दें कि एचडीएफसी समूह ने भी इस कोष में 150 करोड़ रुपये दान देने की प्रतिबद्धता जताई है।

    और भी...