खबरें अब तक

  • Charcha : ज्ञानवापी में 'बाबा', सच होगा दावा ? देखिए प्रधान संपादक Dr Himanshu Dwivedi के साथ

    Charcha : ज्ञानवापी में 'बाबा', सच होगा दावा ? देखिए प्रधान संपादक Dr Himanshu Dwivedi के साथ

     

    जनता टीवी के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, ज्ञानवापी में 'बाबा' सच होगा दावा ? आज का विषय है... वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में दो दिनों का सर्वे खत्म हो गया है।

    ज्ञानवापी में हिंदू और मुस्लिम पक्ष के साथ आज भी वीडियोग्राफी की गई। सबूत खंगालने का काम चला लेकिन बिल्कुल शांतिपूर्ण ढंग से। कोई शोरगुल नहीं, हंगामा नहीं लेकिन सियासी दंगल में शोर भी सुनाई दे रहा है और हंगामा भी बरपा है। जिस मुद्दे का फैसला कोर्ट के दरवाजे से होना है, उसे ओवैसी हाइजैक करना चाहते हैं। ओवैसी अपनी व्याख्या के जरिए अपनी बात को सही साबित करने पर तुले हैं। बीजेपी की तरफ से भी करारा पलटवार हुआ है। क्या लोगों की भावनाओं को भड़का कर संविधान की रक्षा की जा सकती है? ऐसे ही चुभते हुए सवालों के साथ देखिए नेताओं की बड़ी बहस...

    क्या है ज्ञानवापी मस्जिद पर विवाद

    ज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी मंदिर परिसर को लेकर हिंदू पक्ष ने दावा किया था कि वीडियोग्राफी निरीक्षण के दौरान एक शिवलिंग देखा गया था। वीडियोग्राफी सर्वेक्षण आज पूरा हो गया और रिपोर्ट कल तक वाराणसी जिला अदालत को सौंप दी जाएगी। इस बीच अदालत ने वाराणसी के जिलाधिकारी को उस स्थान को बंद करने का निर्देश दिया है जहां शिवलिंग मिला है। उस जगह को तुरंत सील करने का आदेश दिया गया। डीएम, वाराणसी पुलिस आयुक्त और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कमांडेंट, वाराणसी अब ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की सुरक्षा के प्रभारी होंगे। मामले में एक हिंदू याचिकाकर्ता ने पहले मीडिया को बताया था कि वीडियोग्राफी निरीक्षण के दौरान परिसर के भीतर एक शिवलिंग देखा गया।

    एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का बयान

    एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अब एक और विवादास्पद बयान दिया है। उन्होंने मुसलमानों से मस्जिदों की रक्षा करने का आह्वान किया है। ओवैसी ने इससे पहले कहा था कि ज्ञानवापी मस्जिद एक मस्जिद थी और यह फैसले के दिन तक रहेगी, इंशाअल्लाह। वाराणसी की कोर्ट में घुसकर ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर शिवलिंग की सुरक्षा के लिए प्रशासन को आदेश देते हुए ओवैसी ने कहा कि ज्ञानवापी एक मस्जिद थी और हमेशा के लिए वहीं रहेगी।

    और भी...

  • Commonwealth Games-2022 में साक्षी मलिक समेत इन 6 महिला पहलवानों का हुआ चयन

    Commonwealth Games-2022 में साक्षी मलिक समेत इन 6 महिला पहलवानों का हुआ चयन

     

    इंग्लैंड(England) में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों (Birmingham Commonwealth games-2022) के लिए सोमवार को महिला रेसलिंग टीम का ऐलान कर दिया है। एक तरफ जहां टीम में कुछ पुराने दिग्गज प्लेयर्स को जगह दी गई है तो टीम (Indian Wrestling Team) में अनुभवी प्लेयर्स के साथ-साथ युवा खिलाड़ी भी शामिल किए गए हैं। यहां तक की एक प्लेयर्स गेम्स में अपना डेब्यू भी करेगी।

    अलग-अगल छह वेट कैटेगरी में भारतीय महिला रेसलिंग टीम का सिलेक्शन (Selection) किया गया है। 50 किलोग्राम वेट  कैटेगरी में पूजा गहलोत (wrestler Pooja Gehlot) देश का प्रतिनिधित्व करेंगी। इसके अलावा विनेश फोगाट (wrestler Vinesh) 53 किलोग्राम वेट कैटेगरी, 57 वेट कैटेगरी में अंशू मलिक (wrestler Anshu), ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक (wrestler Sakshi Malik) 62 किलोग्राम, 68 किलोग्राम वेट कैटेगरी में दिव्या काकरान ( wrestler Divya Kakran) और 76 किलोग्राम वेट कैटेगरी में पूजा ढांडा (wrestler Pooja) हिस्सा लेंगी। सोमवार को लखनऊ में रेसलिंग टीम के सिलेक्शन के लिए कैंप का आयोजन किया गया। इसका भारतीय कुश्ती संघ ने किया है।

    रेसलिंग चैंपियनशिप (championship) में भारतीय प्लेयर्स पहले भी मेडल हासिल कर चुके है। विनेश और साक्षी से मेडल जीताने की ज्यादा होंगी। दोनों प्लेयर्स अनुभवी होने के साथ—साथ ही बड़े मैचों में हिस्सा ले चुकी है।साक्षी ने दो राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा लिया है। 2014 में ग्लास्गो में साक्षी ने सिल्वर मेडल हासिल किया था और ऑस्ट्रेलिया में ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया। विनेश ने भी राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth games-2022) में हिस्सा लेकर दमखम दिखाया है। ये 2014 और 2018 में गोल्ड मेडल हासिल किया है।

    वहीं, पूजा गहलोत पहली बार गेम्स में डेब्यू करेगी। ट्रायल्स के दौरान पूजा ने घुटने के दर्द के बावजूद मैच खेला और नीलम को फाइनल में हराया है। दिव्या काकरान और पूजा ढांडा दूसरी बार ​हिस्सा लेंगी।

    और भी...

  • हनीमून के लिए भारत की ये जगहें हैं एकदम रोमांटिक और खूबसूरत

    हनीमून के लिए भारत की ये जगहें हैं एकदम रोमांटिक और खूबसूरत

     

    एक नए-नए शादीशुदा जोड़े के लिए हनीमून (Honeymoon) सबसे खूबसूरत एहसास होता है। हनीमून पर आपको पता चलता है कि आपके शादी के दिन अब खत्म हो गए हैं और साथ ही आपको इस बात का एहसास भी होता है कि आप सिंगल नहीं हैं। हनीमून के समय आप अपने पार्टनर (Partner) के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिता सकते हैं। उन्हें और करीब से जान सकते हैं, उनके साथ चीजों को एक्सप्लोर कर सकते हैं। इन सब चीजों के लिए सही जगह का चुनाव बहुत जरूरी है, यहां हम आपके लिए लेकर आएं है कुछ बेस्ट हनीमून डेस्टिनेशन (Best Honeymoon Destinations) की जानकारी...

    अंडमान

    अंडमान हनीमून बिताने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। नील आइलैंड, लिटिल अंडमान और पोर्ट ब्लेयर के लोकप्रिय समुद्र तटों से लेकर हैवलॉक आइलैंड में राधानगर और हाथी समुद्र तटों के ऑफबीट क्षेत्रों तक रोमांस और रोमांच का स्वाद हमेशा आपके साथ रहेगा। प्राकृतिक सुंदरता, शांति, साहसिक गतिविधियों के अवसर, समुद्र तट के पास रिसॉर्ट्स और बेहद शांत होने के साथ, यह डेस्टिनेशन एक यादगार हनीमून के लिए एक परफेक्ट प्लेस है।

    श्रीनगर

    भारत में रोमांटिक हनीमून के लिए श्रीनगर एक बेहतरीन जगह है। हनीमून टूर का रोमांटिक आकर्षण सुंदर मौसम, शानदार दृश्यों और मनमोहक सनसेट के साथ चार गुना हो जाता है। स्कीइंग, अद्भुत पहाड़ी झीलों के माध्यम से ट्रेकिंग, और झेलम जलमार्ग पर देवदार निर्मित हाउसबोट में एक उत्कृष्ट सुंदर प्रवास आपकी हनीमून ट्रैवल को संजोने लायक बना सकता है।

    गोवा

    गोवा, सूरज, रेत और समुद्र की भूमि, दुनिया के शीर्ष हनीमून स्थलों में से एक है। अपनी शादी की यात्रा को एक आनंदमयी शुरुआत देने के लिए दुनिया भर से कपल्स अपने हनीमून के लिए गोवा आते हैं। चाहे वह विशाल और सुंदर समुद्र तट हो, कैंडललाइट डिनर, ऐतिहासिक स्मारक या नाइट क्लब की लाइफ, गोवा में बहुत कुछ है जो आपके हनीमून को यादगार बना देगा।

    दार्जिलिंग

    पर्यटक हर साल कंचनजंगा की बर्फीली चोटियों, खूबसूरत चाय बागानों और मनोरम पहाड़ी व्यंजनों का लुत्फ उठाने के लिए दार्जिलिंग की ओर खिंचे चले आते हैं। यदि आप नेचर लवर हैं और चाय के साथ इसका आनंद लेना पसंद करते हैं, तो दार्जिलिंग आपके और आपके पार्टनर के लिए एक परफेक्ट जगह है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता न्यूली वेडेड कपल की हनीमून फोटोज के बैकग्राउंड में एक दम लाइव नजर आएंगे और हमेशा के लिए आपकी इन छुट्टियों को यादों में संजो कर रखेंगे।

    उदयपुर

    हनीमून के लिए उदयपुर बेस्ट डेस्टिनेशंस में से एक है। यह शहर अपने शाही माहौल, खाने, सनसेट और झील के नज़ारों के लिए जाना जाता है जो निश्चित रूप से अभी-अभी शुरु हुए शादीशुदा जीवन में कुछ खूबसूरत एहसास जोड़ देगा। सुंदर संस्कृति और करने के लिए बहुत सी अन्य चीजों से समृद्ध, उदयपुर में एक कपल के लिए बहुत खूबसूरत शहर है। यहां शाम को आप बोटिंग करने जा सकते हैं, सूर्यास्त की तस्वीरें ले सकते हैं। यहां के राजसी खाने का लुत्फ उठाने के लिए आप शहर के कई रूफटॉप रेस्तरां में जा सकते हैं।

    और भी...

  • काले घेरे से चाहिए छुटकारा, इन घरेलू उपायों से मिलेगी राहत

    काले घेरे से चाहिए छुटकारा, इन घरेलू उपायों से मिलेगी राहत

     

    आंखों के नीचे काले धब्बे (Dark Circles) और पफ्फीनेस (Puffiness) का कारण केवल पर्याप्त नींद न ले पाने के कारण ही नहीं होती बल्कि इसके पीछे कई और कारण होते हैं। स्क्रीन टाइम (Screen Time) पर समय आपके लिए तब तक अच्छा हो सकता है, स्किन पर इसका कोई दुष्प्रभाव न पड़े। बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम और अपर्याप्त नींद आपकी चेहरे पर काले घेरे और थकी हुई आंखों का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा डार्क सर्कल एलर्जी, सूरज के संपर्क में आने और अनहेल्दी खाने की आदतों के कारण भी हो सकते हैं। यहां हम आपको डार्क सर्कल्स से राहत के लिए कुछ घरेलू नुस्खों (Home Remedies for Dark Circles) के बारे में बताएंगे...

    बादाम का तेल

    बादाम का तेल काफी चिकना लेकिन अच्छा होता है। बादाम के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो काले घेरों को हल्का करने और आंखों के नीचे की पफ्फीनेस को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा बादाम के तेल में विटामिन ई और के होता है, जो सूखेपन को दूर रखते हुए, चिकनाई को बनाए रखता है। इसे हर दिन अपनी आंखों के नीचे और अपनी पलकों पर बिना ज्यादा दबाव डाले मालिश करें।

    बर्फ के टुकड़े

    जहां इस मौसम में आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक्स हमारे शरीर के लिए काफी जरूरी हो गए हैं। वहीं अगर आप खीरे और एलोवेरा के रस के मिश्रण से बने क्यूब्स के साथ अपनी आंखों की मसाज करेंगे तो ये आपको बहुत राहत देगा। यह आपकी त्वचा को ठंडा कर सकता है और इसे एक बार फिर से तरोताजा कर देगा। इसे आप सुबह के समय में अपनी पलकों पर आंखों के नीचे लगाएं।

    ठंडा दूध

    कुछ कॉटन पैड्स को दूध में डुबोकर आंखों पर लगाएं। रेटिनोइड्स विटामिन ए का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं जो रेटिनोइड्स आते हैं जो बनावट में सुधार करने और काले घेरे को हल्का करने में मदद करते हैं।

    टमाटर

    टमाटर के गूदे के पेस्ट को अपनी पलकों पर और अपनी आंखों के नीचे लगाएं। इस पर मालिश करने के लिए धीरे से एक साफ किए हुए आई-रोलर का उपयोग करें। टमाटर एंटीऑक्सिडेंट और लाइकोपीन से भरपूर होते हैं जो बनावट को चिकना करने और काले घेरे को कम करने में मुख्य भूमिका निभाते हैं। आई-रोलर्स के साथ की गई एक अच्छी मालिश आपकी आंखों पर पड़ने वाले तनाव को कम करती है और इसे एक साथ डी-पफ करती है। हर बार काम करने से पहले अपने आई रोलर को साफ करना सुनिश्चित करें।

    कोल्ड कंप्रेस

    आप जब भी अपनी चाय का आनंद उठाएं तो उन टी बैग्स का फेंके नहीं, बल्कि उन्हें संभाल कर रखें। उन्हें 10 मिनट के लिए रेफ्रिजरेट करें और 10 मिनट के बाद उन्हें अपनी आंखों पर रखें और उन्हें 10-15 मिनट के लिए आराम दें। यह एक लोकप्रिय टिप है जो सूजन को शांत करने और काले घेरे को कम करने में मदद करती है।

    और भी...

  • ज्ञानवापी में मिला शिवलिंग, अदालत ने सील के दिए आदेश, CRPF करेगी सुरक्षा

    ज्ञानवापी में मिला शिवलिंग, अदालत ने सील के दिए आदेश, CRPF करेगी सुरक्षा

     

    वाराणसी के ज्ञानवापी विवादित (Gyanvapi Mosque Survey) ढाँचे का तीन दिनों तक चले सर्वे का काम पूरा हो गया है। सर्वे के तीसरे दिन हिन्दू पक्ष की तरफ से सोमवार को करीब 12 फीट 8 इंच लंबा शिवलिंग नंदी समेत मिलने का दावा किया गया है। जिसके बाद वाराणसी सिविल कोर्ट ने शिवलिंग वाली जगह को सील करने के आदेश दिए है। सिविल कोर्ट के जज रवि कुमार दिवाकर ने शिवलिंग की जगह को सील करने के साथ ही सीआरपीएफ के हवाले कर दिया है। जो अब पूरी तरह सीआरपीएफ की निगरानी में रहेगा। 

    आपको बता दें कि इससे पहले ज्ञानवापी मामले (Gyanvapi Masjid) में गुरुवार को कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया था। सिविल जज (सीनियर डिवीजन) रवि कुमार दिवाकर (Ravi Kumar Diwakar) ने अधिवक्ता आयुक्त को बदलने की मांग को सिरे से खारिज कर दिया। कोर्ट के इस फैसले से मुस्लिम पक्ष को काफी बड़ा झटका लगा था। फैसला आने बाद ज्ञानवापी मामले में सर्वे कमिश्नर अजय मिश्र को नहीं हटाया गया। इतना ही नहीं कोर्ट ने दो और सहायक कमिश्नरों को नियुक्त कर दिया था। अजय मिश्र के साथ विशाल सिंह को सहायक कमिश्नर के तौर पर नियुक्त किया गया था।

    कोर्ट द्वारा आदेश के मुताबिक, 17 मई से पहले सर्वे किया गया। पूरे इलाके की वीडियोग्राफी बनाई गई। सर्वे के दौरान दोनों पक्ष के लोग मौके पर मौजूद रहे। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि 17 मई से पहले इस कार्रवाई को पुख्ता करें। कमीशन की कार्रवाई में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आनी चाहिए।

    क्या है पूरा मामला

    गौरतलब है कि श्रृंगार गौरी (Shringar Gauri) के रोजाना दर्शन और पूजन की मांग को लेकर पांच महिलाओं द्वारा दायर किए गए वादे पर बीते आठ अप्रैल को अदालत ने अजय कुमार मिश्र (Ajay Kumar Mishra) को एडवोकेट कमिश्नर नियुक्त करते हुए ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण कर दस मई तक कोर्ट में रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया था।

    ऐसे में छह मई को कमीशन की कार्यवाही शुरू तो हो गई लेकिन पूरी नहीं हो पाई। क्योंकि सात मई को अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी ने अदालत में प्रार्थना पत्र देकर एडवोकेट कमिश्नर बदलने की मांग उठा दी। इस प्रार्थना पत्र पर तीन दिनों से अदालत में सुनवाई की जा रही थी। गुरुवार को इस पर फैसला आया।

    और भी...

  • भिवानी: तालाब में डूबे तीन बच्चे, कच्ची पगडंडी से पैर फिसलने के कारण गई जान

    भिवानी: तालाब में डूबे तीन बच्चे, कच्ची पगडंडी से पैर फिसलने के कारण गई जान

     

    अमृत सरोवर योजना (Amrit Sarovar Yojana) के तहत बहल के खाड़ी तालाब से एक दर्दनाक खबर सामने आई है। जहां तालाब में भरे गंदे पानी में डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई। घटना के वक्त तीनों बच्चे तालाब के किनारे बनी कच्ची पगडंडी पर पैदल चल रहे थे। अचानक उनका पैर फिसल और एक दूसरे को बचाने के चक्कर में तीनों बारी-बारी से तालाब में डूब गए।

    साथ गए अन्य बच्चों ने जोर - जोर से शोर मचाया तो बड़ी संख्या में आसपास के लोग इकट्ठा हो गए। कुछ तैराकी जानने वाले युवक तालाब में उतरे और रस्सी बांधकर एक एक कर तीनों बच्चों को तालाब से बाहर निकाला। बच्चों को गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचाया गया, जहां तीनों को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। तीन बच्चों की मौत से क्षेत्र में मातम पसर गया है।  

     

    और भी...

  • Knowledge: जानें क्या है भारत में भाप के इंजन का इतिहास, कैसे हुई शुरुआत और कब हुआ अंत

    Knowledge: जानें क्या है भारत में भाप के इंजन का इतिहास, कैसे हुई शुरुआत और कब हुआ अंत

     

    भारतीय रेलवे (India Railway) को दुनिया के सबसे बड़े रेलवे नेटवर्क में से एक कहा जाता है। भारतीय रेल यहां के लोगों के जीवन का अहम हिस्सा है। हर दिन 2.50 करोड़ लोग रेल यात्रा करते हैं। दूसरी तरफ 33 लाख टन माल एक स्थान से दूसरी जगह पहुंचाया जाता है। भारतीय रेलवे केंद्र सरकार के स्वामित्व वाला एक सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम है। भारत में रेलवे की स्थापना या रेलवे का जन्म 8 मई 1845 को हुआ था। तब भारत सरकार नहीं बल्कि ब्रिटिश सरकार की ट्रेनों में सफर किया जाता था। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। 177 साल पुराना भारतीय रेलवे आज भी लंबी यात्रा के लिए लोगों की पहली पसंद है।

    भारत में ऐसे हुई थी पहली ट्रेन की एंट्री
    कहते हैं कि ब्रिटिश शासन के दौरान भारत की पहली ट्रेन रेड हिल रेलवे थी। जो 1837 में 25 किमी चली थी और रेड हिल्स से चिंताद्रिपेट ब्रिज के बीच चली थी। जो तमिलनाडु में है। सर आर्थर कॉटन को भारत में ट्रेन लाने का श्रेय दिया गया था। सार्वजनिक परिवहन के लिए भारत में पहली ट्रेन 16 अप्रैल 1853 को 34 किमी की दूरी पर बोरी बंदर और ठाणे के बीच चली। ट्रेन में 400 यात्री सवार थे। दिलचस्प बात यह है कि इस दिन को सार्वजनिक अवकाश भी घोषित किया गया था।

    भारत में रेलवे का विकास कब हुआ
    भारत में रेलवे का पहला कदम 1851 में था। देश में ब्रिटिश राज था और ब्रिटिश शासकों ने अपनी प्रशासनिक सुविधा को बढ़ाने के लिए देश में रेलवे की नींव रखी। शुरुआत बहुत मामूली थी लेकिन 16 अप्रैल 1853 को पहली ट्रेन ने मुंबई से ठाणे तक 34 किमी की दूरी तय की। लेकिन भाप के इंजन का आविष्कार थॉमस न्यूकोमेन जॉर्ज ने किया था। इस इंजन का इस्तेमाल 50 साल तक खदानों और कुओं से पानी निकालने के लिए किया जाता था।

    भारत में भाप का इंजन कब बंद हुआ?
    भारत का पहला स्टीम इंजन 68 साल पहले चित्तरंजन रेल फैक्ट्री 1950 में बनाया गया था। इस दिन भारत का पहला स्टीम इंजन चित्तरंजन रेल फैक्ट्री में बनाया गया था। 1971 में यहां भाप इंजनों का निर्माण पूरी तरह से बंद कर दिया गया था और इसमें डीजल इंजन बनाए गए थे। इसके बाद बिजली से चलने वाली ट्रेनों पर भी काम किया गया और अब ज्यादातर ट्रेनें बिजली से चलती है। कोयले से भी ट्रेनों के चलने का दौर रहा।

    और भी...

  • Uttarakhand : सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, सात युवक और आठ युवती गिरफ्तार

    Uttarakhand : सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, सात युवक और आठ युवती गिरफ्तार

     

    उत्तराखंड के एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल (एएचटीयू) की टीम लगातार प्रदेश में छापेमारी कर रही है। देह व्यापार करने वालों के खिलाफ पुलिस और एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल एक्टिव मोड़ में है। इसी कड़ी में उत्तराखंड के काशीपुर में उत्तराखंड के काशीपुर में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल (एएचटीयू) और पुलिस ने एक होटल में छापा मारा है।

    जहां पुलिस ने सात युवक और आठ युवतियों को अनैतिक देह व्यापार अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया है। होटल में पकड़ी गई महिलाओं में तीन शादीशुदा और दो किशोरी भी शामिल हैं। इस मामले जानकारी के अनुसार होटल संचालक और उसकी पत्नी के भी देह व्यापार में शामिल होने की बात सामने आ रही है। पुलिस होटल मालिक और उसकी पत्नी की तलाश करने में जुटी है।

    एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल की टीम ने शनिवार को ट्रैफिकिंग सेल रुद्रपुर और कुंडा थाना प्रभारी प्रदीप नेगी ने ग्राम सरवरखेड़ा स्थित पैराडाइज होटल में छापा मारा। होटल की तलाशी के दौरान पुलिस ने वहां सात युवक और आठ महिलाएं को संदिग्ध अवस्था में पकड़ा है। इनमें से कई के पास पहचान पत्र नहीं था। होटल के रिकॉर्ड में भी उनकी एंट्री नहीं की गई थी। पुलिस ने मौके से आपत्तिजनक वस्तुएं भी बरामद की हैं।

    वहीं इस मामले में पुलिस ने बताया की आरोपियों ने अनैतिक देह व्यापार में संलिप्त होने की बात स्वीकार कर ली है। पुलिस ने आगे बताया कि होटल मालिक वेदप्रकाश चौहान और उसकी पत्नी सेक्स रैकेट चलाती है। जिनकी तालाश जारी है।  

    पुलिस ने आगे बताया कि इस कार्रवाई में कुंडा थाने में अनैतिक देह व्यापार अधिनियम, छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। पकड़े गए आरोपियों में दो किशोरियां हैं, जबकि तीन शादीशुदा महिलाएं भी शामिल हैं।

    वहीं, इससे पहले भी पुलिस ने 9 मई को रुद्रपुर में एक होटल में संचालित सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है। इस छापेमारी में भी पुलिस ने होटल से भारी मात्रा में आपत्तिजनक सामग्री बरामद की थी। पुलिस ने होटल संचालक और देह व्यापार में लिप्त महिला को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने दोनों के खिलाफ अनैतिक देह व्यापार एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर कोर्ट में पेश किया है।

    और भी...

  • हरी सब्जियों के दामों में गिरावट, 5 रुपये किलो पहुंचा भिंडी, तोरई का भाव

    हरी सब्जियों के दामों में गिरावट, 5 रुपये किलो पहुंचा भिंडी, तोरई का भाव

     

    Green Vegetables Latest Price: इन दिनों आम आदमी महंगाई की आग में झुलस रहा है। पेट्रोल से लेकर हर चीज के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे में जनता को हरी सब्जियां थोड़ी राहत दे रही हैं। कुछ महीने पहले तक 60 से 80 रुपये प्रति किलो बिकने वाली सब्जियों की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। अब नेनुआ, भिंडी, करेला, लौकी, तोरई के भाव औंधे मुंह गिरकर गांव-कस्बों के खुदरा बाजारों (Retail Markets) में 5 रुपये पर आ गिरे हैं, जबकि शहरों में अभी भी इन सब्जियों के दाम 20 से 30 रुपये किलो मिल रही है।  

    बता दें कि शादियों के सीजन (Wedding Season) के चलते हरी सब्जियों की डिमांड काफी घट गई है। यही वजह है कि किसान अपनी सब्जियों की लागत तो छोड़िये, मंडी तक पहुंचाने का किराया भी नहीं जुटा पा रहा है। रविवार को उत्तर प्रदेश के कुशीनगर (kushinagar) जिले के मथौली कस्बे में तोरई, करेला, नेनुआ, भिंडी, लौकी 5 रुपये किलो मिल रहे थे। वहीं, परवल 30 रुपये और टमाटर 60 रुपये किलो बिक रहे थे।

    अगर सरकारी आंकड़ों की बात की जाए तो पिछले एक महीने में टमाटर का खुदरा औसत भाव 54.74 प्रतिशत से बढ़कर 26.27 रुपये से 41.11 रुपये पर पहुंच गया है। वहीं प्याज 9.18 प्रतिशत सस्ता हुआ है। उपभोक्ता मंत्रालय (Consumer Ministry) की वेबसाइट पर दिए गए ताजा आंकड़ों के अनुसार प्याज 26.36 रुपये के औसत भाव से 23.94 रुपये पर आ गिरा है। वहीं, शादी समारोहों में आलू की बढ़ती मांग को देखते हुए इस एक महीने में 7.82 प्रतिशत से चढ़कर 21.36 रुपये से 23.03 रुपये पर पहुंच चुका है। हालांकि ज्यादातर खुदरा बाजारों में इसकी कीमत 10 से 20 रुपये प्रति किलो के बीच बनी हुई है। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) सहित देश के कई हिस्सों में चैत्र नवरात्रि (Navratra) के दौरान फलों और सब्जियों के दाम (Fruits and Vegetables Prices) आसमान छूने लगे थे। उसके बाद सब्जियों के कम होते दाम आम जनता के लिए राहत की खबर है।

    और भी...

  • ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स का निधन, निकनेम रॉय कर रहा ट्रेंड

    ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स का निधन, निकनेम रॉय कर रहा ट्रेंड

     

    ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के दिग्गज ऑलराउंडर रहे एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) ने शनिवार की रात को अलविदा कह दिया। एंड्रयू साइमंड्स एक कार दुर्घटना में निधन हो हुआ है। एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) की उम्र 46 साल की थी। लेकिन कार दुर्घटना में वह अपने चाहने वालों को सिर्फ यादों के सहारे दुनिया को छोड़ गए। 

    एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) ने ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के लिए 26 टेस्ट, 198 वनडे और 14 टी20 मुकाबले खेले हैं। इस बीच वह कई बार विवादों में भी रहे। 

    आपको बता दें कि ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) ने 1998 में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्‍यू किया था और अपनी एक अलग छाप छोड़ी थी। एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) ने वनडे क्रिकेट में लंबे समय तक अपना दबदबा बनाए रखा। Andrew Symonds साल 2003 में वनडे वर्ल्ड कप, साल 2006 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी और 2007 में वनडे वर्ल्ड कप जीतने वाली ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के सदस्य भी रहे थे। साइमंड्स अपने समय के टॉप फील्डर रहे है। वह 2003 और 2007 में वर्ल्ड कप जीतने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम के मेंबर थे। आईपीएल में वह डेक्कन चाजर्स और मुंबई इंडियंस के लिए खेले थे, जिसमें 2009 में डेक्कन चाजर्स की खिताबी जीत का वह हिस्सा रहे थे।

    दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) के निधन की खबर के बाद से ही लगातार श्रद्धांजलि देने का सिलसिला अब भी जारी है। साइमंड्स के टीम साथी और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली (Brett Lee) ने भी दिग्गज ऑलराउंडर को अपनी श्रद्धांजलि दी है। इसके साथ ही क्रिकेट जगत के महान गेंदबाज और बल्लेबाज दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) को श्रद्धांजलि दे रहे है। 

    एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) की कार दुर्घटना से हुए मौत के बाद उनके चाहने वाले अपना दुख व्यक्त कर रहे है। वहीं, कई खिलाड़ी उनसे जुड़ी अपनी यादें भी सोशल मीडिया पर साझा कर रहे है।

    पूर्व ऑस्‍ट्रेलियाई ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symonds) के नाम अनेकों रिकॉर्ड जुड़े हुए हैं। साइमंड्स के निधन के बाद से ही सोशल मीडिया पर उनका निकनेम रॉय भी ट्रेंड कर रहा है। 

    और भी...

  • Khatron Ke Khiladi 12:रोहित शेट्टी के शो में नजर आएंगे ये 13 सितारे, जल्द केपटाउन के लिए होंगे रवाना

    Khatron Ke Khiladi 12:रोहित शेट्टी के शो में नजर आएंगे ये 13 सितारे, जल्द केपटाउन के लिए होंगे रवाना

     

    रोहित शेट्टी (Rohit Shetty) के मच अवेटेड रिएलिटी शो खतरों के खिलाड़ी 12 (Khatron Ke Khiladi 12) का आगाज अब कुछ ही दिनों में होने जा रहा है। मेकर्स की तरफ से शो के कलाकारों के नाम फाइनल हो गए हैं। इस शो से टीवी इंडस्ट्री के तमाम कलाकारों के नाम पिछले 2-3 महीने में जुड़े हैं। खतरों के खिलाड़ी 12 के मेकर्स हर बार इस शो को हिट बनाने की पूरा प्रयास करते हैं और इसके लिए वह बड़े कलाकारों को मुंह मांगी रकम भी देने को भी तैयार रहते हैं। बता दें कि बीते दिनों इस शो से रुबीना दिलैक, मुनव्वर फारूकी, प्रतीक सहजपाल और जन्नत जुबैर समेत कई लोगों के नाम जोड़े गए थे। लेकिन अब मेकर्स ने इस शो के कंटेस्टेंट्स की फाइनल लिस्ट तैयार कर ली है।

    कन्फर्म हुए ये कलाकार
    खतरों के खिलाड़ी 12 के मेकर्स ने इस बार कई टीवी कलाकारों के नाम पर पक्की मुहर लगा दी है। इस लिस्ट में प्रतीक सहजपाल (Pratik Sehajpal) समेत शिवांगी जोशी (Shivangi Joshi), अनेरी वजानी (Aneri Vajani), कनिका मान (Kanika Maan), मोहित मलिक (Mohit Malik) का नाम शामिल हैं। इतना ही नहीं शो के लिए बिग बॉस फेम राजीव अदातिया (Rajeev Adatia), चेतना पांडे (Chetna Pandey), तुषार कालिया (Tushar Kalia), निशांत भट्ट (Nishant Bhatt), सृति झा (Sriti Jha), रुबीना दिलैक (Rubina Dilaik), फैसल शेख (Faisal Sheikh) और एरिका पैकर्ड (Erica Packard) के नाम पर भी पक्की मुहर लग चुकी है।

    यहां होगी शूटिंग
    खबरों की मुताबिक, ये सभी कलाकार 27 मई के आसपास ही शो की शूटिंग के लिए केपटाउन रवाना होंगे। इस बार केपटाउन में ही इस शो की शूटिंग की जाएगी। ताजा रिपोर्ट्स के अनुसार, यहां लगभग 55 दिनों तक शूटिंग चलने वाली है। ऐसा भी बताया जा रहा है कि केपटाउन जाने से पहले सभी कंटेस्टेंट्स कुछ दिन के लिए क्वारंटाइन भी होंगे।  

    और भी...

  • Russia को बड़ा झटका, फिनलैंड और स्वीडन नाटो में जाने को तैयार, तुर्की भी हुआ राजी

    Russia को बड़ा झटका, फिनलैंड और स्वीडन नाटो में जाने को तैयार, तुर्की भी हुआ राजी

     

    रूस (Russia) द्वारा यूक्रेन (Ukraine) पर हमला करने का एक बड़ा कारण यह भी था कि वह नाटो का हिस्सा न बनने की कोशिश कर रहा था, लेकिन इस मुद्दे पर व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) को अगले हफ्ते एक और बड़ा झटका लग सकता है। क्योंकि अब फिनलैंड (Finland) की सरकार ने नाटो का हिस्सा बनने की आधिकारिक तौर पर इच्छा जाहिर कर दी है। इतना ही नहीं स्वीडन (Sweden) ने भी कुछ ऐसे ही संकेत दिए हैं। ऐसे में इन दोनों देशों की एंट्री पर एतराज जताने वाले तुर्की को अमेरिका ने साध लिया है। स्वीडन की सत्ताधारी सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी (Social Democratic Party) ने नाटो में जाने पर अपनी सहमति जाहिर की है। दोनों ही देश रूस से सीमा से लगते हैं, ऐसे में उनका नाटो में जाना रूस की चिंता को और भी बढ़ा सकता है। यही कारण है कि रूस पड़ोसियों के नाटो में शामिल होने का विरोध कर रहा है।

    रूस की हमेशा से यह राय रही है कि पड़ोसी देशों के नाटो में शामिल होने से अमेरिका (America) उसकी सीमाओं के पास आसानी से आ सकता है और कभी भी हथियारों को तैनात कर सकता है। इसी को आधार बनाते हुए उसने यूक्रेन पर हमला बोल दिया था और उसके नाटो में जाने की संभावनाओं को अपने लिए बड़ा खतरा बताया था। यही नहीं युद्ध खत्म होने की शर्त भी यही रखी थी कि यूक्रेन खुद यह ऐलान करे कि वह नाटो का सदस्य नहीं बनेगा। फिनलैंड के राष्ट्रपति साउली निनिस्तो (Finnish President Sauli Niinisto) ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'यह हमारे लिए एक ऐतिहासिक दिन है। नए युग की शुरुआत हो होने जा रही है।'

    स्वीडन ने बोला, अब NATO से ही मिलेगी सुरक्षा
    फिनलैंड मीडिया के अनुसार, इसी हफ्ते नाटो से जुड़ने के प्रस्ताव को संसद में मंजूरी दी जाने की संभावना है। इस प्रस्ताव के पारित होने के बाद एक औपचारिक आवेदन ब्रसेल्स स्थित नाटो दफ्तर में दे दिया जाएगा। इसके बाद इस पर जल्दी ही निर्णय हो सकता है। फिनलैंड के ऐलान के कुछ घंटों के बाद ही स्वीडन के सत्ताधारी दल सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ने भी नाटो में शामिल होने की इच्छा जाहिर की है। इस पर पार्टी का कहना है कि वह नाटो में शामिल होने के पक्ष में हैं। दरअसल, एक दशक पहले स्वीडन ने इसका जमकर विरोध किया था, लेकिन यूक्रेन पर रूस के अटैक को देखते हुए घरेलू स्तर पर इसकी मांग जोरों से उठने लगी थी कि उसे नाटो जॉइन कर लेना चाहिए। 

    और भी...

  • हिमाचल: चंबा में तीन मकानों में लगी भीषण आग, हादसे में जिंदा जला बुजुर्ग

    हिमाचल: चंबा में तीन मकानों में लगी भीषण आग, हादसे में जिंदा जला बुजुर्ग

     

    हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के चंबा (Chamba) जिले में आधी रात को तीन मकानों में भीषण आग लग गई। इस हादसे में एक बुजुर्ग की जिंदा जलने से मौत हो गई। फिलहाल आग पर पूरी तरह से काबू पा लिया है।

    जानकारी के मुताबिक, यह आग चंबा जिले की तहसील होली की क्वारसी पंचायत के हिलंग गांव में आधी रात करीब एक बजे तीन मकान में लगी। आगजनी की इस घटना में एक बुजुर्ग की जिंदा जलकर खाक हो गए। बताया जा रहा है कि आग ने देखते ही देखते काफी भयंकर रूप धारण कर लिया था।

    ग्रामीणों ने बाल्टियां, डिब्बे से पानी और मिट्टी फेंक आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन भयंकर आग के सामने यह सब कुछ भी काम नहीं आया। इस पर एडीएम संजय कुमार धीमान ने बताया कि आग से हुए नुकसान का आंकलन तैयार करने और सहायता राशि देने के लिए मौके पर टीम रवाना हो चुकी है।

    और भी...

  • योगी सरकार के कैबिनेट मंत्रियों को आज गुरु मंत्र देंगे PM Modi, जानिए क्या है पूरा एजेंडा

    योगी सरकार के कैबिनेट मंत्रियों को आज गुरु मंत्र देंगे PM Modi, जानिए क्या है पूरा एजेंडा

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) आज लखनऊ (Lucknow) में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की डिनर पार्टी में शिरकत करेंगे। इस दौरान वह उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्रियों (UP Cabinet Ministers) से संवाद भी करेंगे और उन्हें सरकारी कामकाज चलाने के तरीकों और चुनावी मैनेजमेंट से जुड़े कुछ खास टिप्स देंगे। इससे पहले वह नेपाल (Nepal) के लुम्बिनी (lumbini) में पूजा अर्चना करेंगे और नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा (Prime Minister Sher Bahadur Deuba) से मुलाकात भी करेंगे। नेपाल दौरे के बाद वह शाम को लखनऊ जाएंगे।

    रिपोर्ट्स के अनुसार, योगी सरकार के कैबिनेट मंत्रियों के साथ आज पीएम मोदी 'डिनर पर चर्चा' करेंगे। इसमें वह मंत्रियों को अपनी सरकार का एजेंडा समझाएंगे और उन्हें उनकी सरकार की प्राथमिकताओं के बारे में बताएंगे। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के गठन के बाद पीएम मोदी पहली बार उत्तर प्रदेश की कैबिनेट से मिलेंगे।

    पीएम मोदी लेंगे कामकाज की रिपोर्ट
    प्रधानमंत्री न सिर्फ़ मंत्रियों को मंत्र देंगे, बल्कि उनसे रिपोर्ट भी मांगेंगे कि वे कैसा काम कर रहे हैं। इसके बाद वह मंत्रियों को आगे की रणनीति के बारे में विस्तार से बताएंगे कि कैसा और क्या काम करना चाहिए। इस पूरी कवायद के पीछे 2024 का लोकसभा चुनाव छिपा हुआ है। 2022 में यूपी विधानसभा का चुनाव जीतने के बाद बीजेपी (BJP) भले ही उत्साहित है, लेकिन पीएम मोदी चुनावी की तैयारी में किसी भी तरह की कोई चूक नहीं चाहते हैं।

    सभी मंत्रियों को न्योता
    इस डिनर के लिए प्रधानमंत्री के साथ उत्तर प्रदेश के सभी यानी 52 मंत्रियों को न्योता दिया गया है। खुद सीएम योगी आदित्यनाथ और उनके डेप्युटी केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad maurya) और ब्रजेश पाठक (Brijesh Pathak) भी मौजूद रहेंगे। यह कार्यक्रम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरकारी आवास पर आयोजित किया जाएगा।

    नेपाल यात्रा पर पीएम नरेंद्र मोदी
    प्रधानमंत्री आज नेपाल यात्रा पर हैं। बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) के असवर पर वह भगवान बुद्ध की जन्मभूमि लुंबिनी पहुंचकर पूजा करेंगे। उनके साथ, नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा भी मौजूद रहेंगे। इसके बाद वह भगवान बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थल (यूपी के कुशीनगर) भी जाएंगे। कुशीनगर के बाद वह शाम को राजधानी लखनऊ पहुंचकर योगी कैबिनेट के साथ डिनर करेंगे।

    और भी...

  • Yamunanagar: यमुना नहर में नहाने गए युवकों पर लोहे की रॉड से हमला, पांच की डूबने से मौत

    Yamunanagar: यमुना नहर में नहाने गए युवकों पर लोहे की रॉड से हमला, पांच की डूबने से मौत

     

    यमुनानगर जिले के बूडिया थाना क्षेत्र में यमुना नहर में नहाने गए युवकों पर 30 से 35 हमलावरों ने हमला बोल दिया। जिस कारण पांच युवक नहर में डूब गए। आरोपितों ने उनकी कार को भी तोड़ डाला। पांच युवकों ने किसी तरह मौके से भागकर अपनी जान बचाई। भागते हुए एक युवक की टांग तोड़ दी। युवकों पर हमले का कारण पुरानी रंजिश बताई जा रही है। घटना की सूचना पर डीएसपी सुभाष पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे। गोताखोरों की मदद से युवकों की नहर में तलाश की जा रही है। किसी को भी बाहर नहीं निकाला गया। 

    जानकारी के मुताबिक शांति कालोनी निवासी सुलेमान, अलाउदीन, साहिल, निखिल, सन्नी अमन कुमार, साहिल उर्फ डेढ़ा, ईशु, दीपक व शौकीन गर्मी के चलते पश्चिमी यमुना नहर के बूडिया घाट पर नहाने के लिए गए थे। इनमें से कोई नहर के अंदर नहा रहा था तो कोई नहाने की तैयारी में था। इसी दौरान घाट पर 30 से 35 युवक बाइकों पर सवार होकर आए। इन्होंने आते ही गाली गलाैच शुरू कर दी। उसके बाद लोहे की राड से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। काफी देर तक दोनों पक्षों में खूनी संघर्ष चलता रहा। आरोपितों की संख्या अधिक होने पर युवकों पर भारी पड़ गए। इसी दौरान वहां पर आसपास के लोग भी एकत्र हो गए। उन्होंने भी युवकों को छुडवाने का प्रयास किया, लेकिन हमलावरों ने उनको धमकी दी। जिस कारण सभी लोग शांत हो गए।

    यह युवक डूबे नहर में 
    हमले के दौरान सुलेमान, अलाउदीन, साहिल, निखिल व सन्नी यमुना नहर में बह गए, जबकि अमन , साहिल उर्फ डेढ़ा, ईशु दीपक व शौकिन किसी तरह से जान बचाकर वहां से भागे। हमले में दीपक की टांग टूट गई।

    पुरानी रंजिश के चलते हुआ हमला 
    सुलेमान के पिता मोहम्मद इब्राहिम ने बताया कि वर्ष 2020 से सन्नी के साथ उनका विवाद चल रहा है। सन्नी ही हमलावरों को लेकर आया था। मामले की जांच कर रहे बूडिया थाना प्रभारी लज्जा राम का कहना है कि उनको सूचना मिली थी कि कुछ युवक नहर में डूब गए। मौके पर क्षतिग्रस्त कार मिली है। जिससे लग रहा है कि युवकों पर हमला किया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है।

    और भी...