खबरें अब तक

  • अमिताभ बच्चन के कोरोना से संक्रमित होने पर शाहिद अफरीदी ने दिया ये रिएक्शन

    अमिताभ बच्चन के कोरोना से संक्रमित होने पर शाहिद अफरीदी ने दिया ये रिएक्शन

     

    शोएब अख्तर के बाद अब पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद आफरीदी ने भी बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन और उनके बेटे अभिषेक बच्चन के जल्द स्वस्थ होने की दुआ मांगी है. बता दें कि अमिताभ बच्चन और उनके बेटे अभिषेक बच्चन के कोविड-19 पॉजिटिव आने पर दुनिया भर के उनके चाहने वाले उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं.

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद आफरीदी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन के लिए मेरी प्रार्थना. उम्मीद है आप जल्द ठीक होकर आएंगे.' बता दें कि शाहिद आफरीदी भी हाल ही में कोरोना वायरस से उबरे हैं.

    बता दें कि इससे पहले खुद अमिताभ बच्चन ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी ट्विटर पर दी थी. अमिताभ ने ट्विटर पर लिखा था, 'मेरी जांच में मुझे कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है. अस्पताल में भर्ती हो गया हूं.'अमिताभ बच्चन के साथ-साथ उनके बेटे अभिषेक बच्चन, बहू एश्वर्या राय बच्चन और पोती आराध्या की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आई है.

    इससे पहले सरहद पार से पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब अख्तर ने भी अमिताभ बच्चन के जल्द स्वस्थ होने की दुआ मांगी थी. कोरोना पॉजिटिव होने के बाद बॉलीवुड के महानायक को मुंबई के नानावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था. शोएब अख्तर ने ट्वीट करते हुए कहा था, 'जल्दी से ठीक हो जाइए अमित जी. आपके जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थनाएं.'

    अमिताभ बच्चन कोरोना संक्रमित होने के बाद से ही मुंबई के नानावटी अस्पताल में एडमिट हैं. अभिषेक बच्चन भी अमिताभ के बगल वाले कमरे में एडमिट हैं. सूत्रों की मानें तो दोनों की सेहत में सुधार भी देखने को मिल रहा है. अमिताभ बच्चन के परिवार में जया बच्चन की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई हैं. ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन भी कोरोना संक्रमित हैं और फिलहाल होम क्वारनटीन हैं.

    और भी...

  • कोरोना के बढ़ते मामलों पर एक्शन मोड में पंजाब सरकार, सीएम बोले नहीं बनने देंगे  दिल्ली, मुंबई

    कोरोना के बढ़ते मामलों पर एक्शन मोड में पंजाब सरकार, सीएम बोले नहीं बनने देंगे दिल्ली, मुंबई

     

    पंजाब में कोरोना वायरस ने सरकार की नींद उड़ा दी है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण से राज्य में इसके बचाव के हर मुमकिन कोशिशें जारी हैं। इसी को देखते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में कुछ और सख्त कदम उठाने की तैयारी की है।

    फेसबुक लाइव सैशन 'कैप्टन से सवाल' के दौरान सोमवार को मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि कोरोना को फैलने से रोकने के लिए हमें सख्ती दिखानी होगी। उन्होंने कहा कि हम पंजाब को दिल्ली, मुंबई या तमिलनाडु नहीं बनने देंगे। जैसी स्थिति आज वहां के राज्यों में हैं हमें उससे बचना है। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि पंजाब भी दिल्ली, मुंबई या तमिलनाडु के रास्ते पर बढ़े।

    सीएम अमरिंदर ने बताया कि शनिवार को मास्क न पहनने के लिए 5100 लोगों के चालान किए गए। उन्होंने आश्वासन दिया कि राज्य सरकार जरूरतमंदों को मास्क बांटेगी। इसी के साथ-साथ बढ़ते मामलों के कारण कैप्टन सरकार सख्ती करने की रणनीति बना चुकी है जिसमें सामाजिक, सार्वजनिक और पारिवारिक समारोहों पर बंदिशों सहित कामकाज के दौरान भी मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
     

    और भी...

  • Nag Panchami 2020: जानिए कब है इस बार नाग पंचमी? इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा

    Nag Panchami 2020: जानिए कब है इस बार नाग पंचमी? इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा

     

    मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है. पौराणिक काल से ही नागों को देवता के रूप में पूजा जाता रहा है. इसलिए नाग पंचमी के दिन नाग पूजन का बहुत महत्व माना गया है. मान्यता है कि इस दिन सर्पों को दूध से स्नान और पूजन कर दूध से पिलाने से अक्षय-पुण्य की प्राप्ति होती है.

    इस दिन घर के प्रवेश द्वार पर नाग चित्र बनाने की भी परम्परा हैं. माना जाता है कि इससे नागदेव की कृपा बनी रहती हैं और घर सुरक्षित रहता हैं. इस बार नाग पंचमी का त्योहार 25 जुलाई को मनाया जाएगा. आईये आपको बताते हैं नाग पंचमी की पूजा विधि

    इस दिन नागों की पूजा की जाती है और अगर किसी को नागों के दर्शन होते हैं तो उसे बेहद शुभ माना जाता हैं. ऐसी मान्यता है कि इस नाग पंचमी की पूजा को करने से धन-धान्य की प्राप्ति होती हैं और सर्पदंश का डर भी दूर होता है.

    नाग पंचमी के दिन अनन्त, वासुकि, पद्म, महापद्म, तक्षक, कुलीर, कर्कट और शंख नामक अष्टनागों की पूजा की जाती है. पूजा करने के लिए नाग चित्र या मिट्टी की सर्प मूर्ति बनाकर इसे लकड़ी की चौकी के ऊपर स्थापित करें. और चतुर्थी के दिन एक बार भोजन कर पंचमी के दिन उपवास करके शाम को भोजन करना चाहिए. हल्दी, रोली, चावल और फूल चढ़कर नाग देवता की पूजा करें. कच्चा दूध, घी, चीनी मिलाकर सर्प देवता को अर्पित करें. पूजन करने के बाद सर्प देवता की आरती उतारी जाती है. और अंत में नाग पंचमी की कथा अवश्य सुनें.

     

    और भी...

  • Karnal में करंट लगने से बिजली कर्मचारी की मौत, जेई और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज

    Karnal में करंट लगने से बिजली कर्मचारी की मौत, जेई और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज

     

    करनाल गांव कालरम में बिजली फाल्ट ठीक करते समय 25 वर्षीय बिजली कर्मचारी की करंट लगने से मौत हो गई। वहीं जेई और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू हो गई है। विधायक हरविंदर कल्याण  ने मौके पर पहुंचकर अधिकारियों को बुलाकर तुरंत कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

    बताया जा रहा हैं की 25 वर्षीय सुमित की जल्द ही शादी होने वाली थी, लेकिन बिजली फाल्ट ठीक करते समय करंट की चपेट में आ गया। यह हादसा उस समय हुआ जब जेई के बुलाने पर सुमित फाल्ट ठीक कर रहा था और अचानक पीछे से बिजली छोड़ दी गई जिसकी वजह से युवक की करंट लगने से मौत हो गई । वही परिजनों की शिकायत पर जेई और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी ।

    मृतक युवक ठेकेदार के अंडर काम कर रहा था और ठेकदार की तरफ से ही बिजली का फाल्ट ठीक करने गया था लेकिन अचानक करंट ने उसकी जान ले ली फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। वहीं मौके पर पहुंचे विधायक हरविंदर कल्याण ने परिवार के लोगों को सांत्वना दी और जल्द कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया।

     

    और भी...

  • राजस्थान के सियासी घमासान के बीच प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभालीं कमान

    राजस्थान के सियासी घमासान के बीच प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभालीं कमान

     

    राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार के सामने खड़ा संकट ढलता हुआ नजर आ रहा है। एक तरफ सीएम ने मीडिया के सामने शक्ति प्रदर्शन दिखाया तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कमान संभाल ली है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सीएम गहलोत और सचिन पायलट से बातचीत कर रहीं हैं। माना जा रहा है कि प्रियंका गांधी दोनों की सुलह कर तनाव कम करवाएंगी । कांग्रेस ने भी सचिन पायलट से बैठक में शामिल होने के लिए कहा था।

    वहीं दूसरी तरफ सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सीएम आवास पर हुई बैठक में मीडिया के सामने सीएम अशोक गहलोत ने सभी विधायकों की परेड कराई। जिसमें उनके पास 109 विधायकों का समर्थन हासिल है। वहीं उन्हें बहुमत के लिए 101 विधायक चाहिए थे।
     

    और भी...

  • राजस्थान में ऐसे बचेगी गहलोत सरकार, ये है विधानसभा का पूरा गणित

    राजस्थान में ऐसे बचेगी गहलोत सरकार, ये है विधानसभा का पूरा गणित

     

    राजस्थान में कांग्रेस के लिए एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है। सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच तनातनी का दौर जारी है। इस बीच आज सीएम आवास पर सभी विधायकों की बैठक हुई। जिसमें अभी तक 100 विधायक पहुंच चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ डिप्टी सीएम सचिन पायलट को मनाने की कवायद कांग्रेस की तरफ से जारी है।

    कांग्रेस पार्टी ने राजस्थान संकट को लेकर अपील की है कि सभी विधायक पार्टी की बैठक में मौजूद रहे। कोई भी पार्टी से ऊपर नहीं है। जानकारी के लिए बता दें कि अशोक गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे 13 में से 3 निर्दलीय विधायकों से कांग्रेस ने अब दूरी बना ली है। जिसमें खुशवीर सिंह, सुरेश डॉक्टर और ओम प्रकाश हुडला शामिल है।

    वहीं एसओजी ने सरकार को अस्थिर करने के प्रयास के मामले में दो मोबाइल नंबर पर हुई बातचीत जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा राजस्थान विधानसभा के गणित के मुताबिक 200 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस के पास विधायक 107 हैं। जिसमें डीटीपी के दो, सीपीआईएम के दो, आरएलडी के 1 और 13 निर्दलीय विधायक हैं।

    सत्ता पक्ष के पास कुल 124 विधायक हैं। जबकि वहीं दूसरी तरफ भाजपा के पास 76 विधायक हैं जिसमें से खुद भाजपा के 72 विधायक हैं और आरएलपी के तीन विधायक शामिल हैं, एक निर्दलीय विधायक बीजेपी में शामिल है।

    ऐसे में अगर दावों के हिसाब से बात की जाए तो सचिन पायलट के खेमे में 30 विधायक शामिल है। तो कांग्रेस के पास 77 विधायक रह जाएंगे। बाकी अन्य विधायकों का समर्थन रहते हुए भी अशोक गहलोत सरकार राज्य में बनी रहेगी।

    विधानसभा कुल सीट- 200

    कांग्रेस- 107

    भाजपा- 72

    बीटीपी- 2

    सीपीआईएम- 2

    आरएलडी- 1

    आरएलपी- 3

    निर्दलीय विधायक- 13
     

    और भी...

  • बारिश के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू तरीके

    बारिश के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू तरीके

     

    बारिश के मौसम में मलेरिया, डेंगू और कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता हैं. ऐसे में आयुष मंत्रालय ने वायरल, फ्लू और वायरस से बचने के कई देसी उपाय बताए हैं. मंत्रालय ने बताया कि मॉनसून की बीमारियों के शुरूआती लक्षण छींक-खांसी, जुकाम और गले में खराश हैं तो कुछ उपायों से इनसे बचा जा सकता है. आइए जानते हैं इनके बारे में.

    आमतौर पर गर्मी के मौसम में लोग हल्दी वाला दूध नहीं पीते हैं लेकिन इस बार कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए मंत्रालय ने इस मौसम में भी हल्दी वाला दूध पीने की सलाह दी है. खांसी, जुकाम, सांस से जुड़ी दिक्कतों और गले में दर्द से बचने के लिए दिन में एक बार हल्दी वाला दूध जरूर लें. दूध में हल्दी की मात्रा पर ध्यान दें. एक ग्लास दूध में सिर्फ एक चौथाई चम्मच हल्दी मिलाएं.

    बरसात के मौसम में भाप लेना बहुत फायदेमंद रहता है. शरीर को स्वस्थ रखने के लिए एक प्राकृतिक चिकित्सा की तरह काम करती है. इससे बंद नाक और गले में दर्द से राहत मिलती है. इसके लिए गर्म पानी में विक्स या पुदीनहरा डालकर भाप लें. इसके अलावा गर्म पानी में लौंग का तेल, टी-ट्री ऑयल या लेमन ग्रास ऑयल मिलाकर भी भाप ले सकते हैं. और इम्यूनिटी को मजबूत करने के लिए आयुष मंत्रालय ने खान-पान के समय में भी बदलाव करने की सलाह दी है. इस मौसम में ताजा खाना ही खाएं.

    मॉनसून में होने वाले फ्लू के लक्षण और कोरोना वायरस के लक्षण आपस में बहुत मिलते जुलते हैं. ऐसे में इनकी सही पहचान बहुत जरूरी है. मॉनसून के मौसम में लोगों को आमतौर पर खांसी, बदन में दर्द, सिरदर्द, मांसपेशियों में खिंचाव, नाक बंद होना और सांस लेने में परेशानी जैसी समस्याएं आती हैं. अगर आपको घरेलू उपचारों से मदद नहीं मिल पा रही है तो आप तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करें.

    और भी...

  • बर्फ के तेजी से पिघलने के कारण आने वाले दिनों में हो सकती है पानी की कमी

    बर्फ के तेजी से पिघलने के कारण आने वाले दिनों में हो सकती है पानी की कमी

     

    अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए मशहूर हिमाचल प्रदेश से कुछ ऐसे संकेत मिल रहे हैं, जो खतरा बनकर उभर रहे हैं. हिमाचल प्रदेश के हिमालयी पहाड़ों से बर्फ तेजी से पिघल रही है. यह एक बड़ी चेतावनी है. क्योंकि अगर हिमालय की बर्फ ज्यादा तेजी से पिघली तो भविष्य में बड़ा जल संकट उत्पन्न हो सकता है. हिमाचल जलवायु परिवर्तन केंद्र के वैज्ञानिकों के अनुसार हिमाचल प्रदेश की कुल बर्फ में पिछले दो सालों में 0.72 प्रतिशत की कमी आई है.

    खबरों के मुताबिक वैज्ञानिकों ने बताया कि साल 2018-19 में हिमाचल में स्नो कवर 20,210 वर्ग किलोमीटर से ज्यादा था. जो 2019-20 में घटकर 20,064 वर्ग किलोमीटर हो गया है. इसका सीधा असर हिमाचल प्रदेश और उसके आसपास के राज्यों में रहने वाले लोगों पर पड़ेगा.

    गर्मियों के दौरान बर्फ में हुई लगातार कमी नदियों के प्रवाह को प्रभावित करती हैं. एक्सपर्ट की मानें तो लगातार तेजी से पिघलती बर्फ के कारण आने वाले दिनों में पानी की कमी हो सकती है. जिन राज्यों में हिमाचल की इन नदियों से पानी जाता है, वहां के लिए भारी संकट हो जाएगा. जैसे- पंजाब, उत्तराखंड और जम्मू-कश्मीर.


    जलवायु परिवर्तन केंद्र ने प्रदेश में स्नो कवर एरिया की मैपिंग की. इस रिपोर्ट में ब्यास और रावी बेसिन यानी जलग्रहण क्षेत्र की स्टडी की गई. तो पता चला कि यहां बर्फ में काफी कमी आई है. जबकि सतलुज बेसिन में तुलनात्मक रूप से ज्यादा बर्फ देखी गई है. अप्रैल में चिनाब बेसिन का 87 फीसदी हिस्सा बर्फ में था. लेकिन यह मई में घटकर 65 फीसदी हो गया. उम्मीद जताई जा रही हैं की अगस्त में बर्फ और भी तेजी से पिघल सकती हैं.

     

     

    और भी...

  • क्या बीजेपी में शामिल हो गए हैं सचिन पायलट, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने किया बड़ा दावा

    क्या बीजेपी में शामिल हो गए हैं सचिन पायलट, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने किया बड़ा दावा

     

    राजस्थान कांग्रेस में सियासी घमासान शुरू हो गया है। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया ने बड़ा दावा पेश किया है। पीएल पुनिया ने कहा कि सचिन पायलट अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या सचिन पायलट बीजेपी में शामिल हो सकते हैं या फिर वह अपनी एक नई पार्टी बना सकते हैं।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस के नेता पी एल पुनिया से जब सचिन पायलट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जो अब बीजेपी में हैं। बीजेपी का कांग्रेस के प्रति क्या रुख है। सब जानते हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ उन्होंने साफ कहा कि ऐसे में हमें बीजेपी से कोई सर्टिफिकेट नहीं चाहिए। पीएल पुनिया ने कहा कि कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है। जहां पर सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सम्मान दिया जाता है।

    अब कयास लगाए जा रहे हैं कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट राजस्थान में अपनी एक नई पार्टी बना सकते हैं। इस पार्टी का नाम प्रगतिशील कांग्रेस रखा जा सकता है। इस तरह सूबे में कांग्रेस और बीजेपी के अलावा सचिन पायलट की एक नई पार्टी सत्ता में आएगी। तो क्या इस बार राजनीतिक घटनाक्रम बदलते ही सियासत का ऊंट भी करवट बदल सकता है।

    जानकारी के लिए बता दें कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच तनाव चल रहा है। ऐसे में कांग्रेस विधायक दल की सोमवार को बैठक से पहले सचिन पायलट ने विधायकों के समर्थन का दावा किया। दूसरी तरफ बैठक में सीएम अशोक गहलोत के नेतृत्व में 30 विधायक पार्टी की बैठक में पहुंचे। जिनमें से चार विधायक सचिन पायलट के समर्थन बताए जा रहे हैं। ऐसे में अभी पार्टी में सियासी दांवपेच का खेल खेला जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने रविवार को दो टूक कह दिया था कि वह कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे।


     

    और भी...

  •  पश्चिम बंगाल: फंदे पर लटका मिला BJP विधायक का शव

    पश्चिम बंगाल: फंदे पर लटका मिला BJP विधायक का शव

     

    पश्चिम बंगाल में आज सुबह हेमताबाद से भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय का शव सड़क किनारे एक दुकान के बाहर फंदे पर लटकता मिला है। भाजपा ने उनकी हत्या का आरोप तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पर लगाया है। मिली जानकारी के मुताबिक, भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय पहले माकपा (सीपीएम) की टिकट पर विधायक बने थे। इसके बाद वर्ष 2019 में उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया था।
     

    भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय की हत्‍या के मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पर निशाना साधा है। कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्विटर एकाउंट से वीडियो ट्वीट कर लिखा 'निंदनीय और कायरतापूर्ण कृत्य!!! ममता बनर्जी के राज में भाजपा नेताओं की हत्या का दौर थम नहीं रहा। CPM छोड़ भाजपा में आये हेमताबाद के विधायक देबेंद्र नाथ रॉय की हत्या कर दी गई। उनका शव फांसी पर लटका मिला। क्या इनका गुनाह सिर्फ भाजपा में आना था ?

     

    लोकतंत्र को कैसे कुचला जाता है पश्चिम बंगाल की ममता सरकार इसका जीवंत उदाहरण है। राजनीतिक मतभेदों को हिंसक तरीके से दबाया जा रहा है। लेकिन, लोकतंत्र का ये मख़ौल ज्यादा दिन का नहीं है! आखिर ममता राज का फैसला तो जनता ही करेगी।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस पार्टी के बीच विवाद की खबरें सामने आती रहती हैं।
     

    और भी...

  • शादी के लिए सोनीपत से दो नाबालिग बहनों का हुआ अपहरण

    शादी के लिए सोनीपत से दो नाबालिग बहनों का हुआ अपहरण

     

    मध्य प्रदेश के दो युवकों ने शादी करने के लिए उत्तर प्रदेश के अमेठी के रहने वाले गार्ड की दो नाबालिग बेटियों का अपहरण कर लिया. लड़कियों ने दिल्ली से फोन करके अपने परिवार के लोगों को अपहरण किए जाने की जानकारी दी। पुलिस ने गार्ड की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

    रिपोर्ट के अनुसार आरोपी युवक गार्ड के मकान के बराबर में कपड़े सिलाई का काम करते थे। कुंडली थाने में दर्ज रिपोर्ट में व्यक्ति ने कहा है कि वह उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले के संग्रामपुर थानाक्षेत्र के एक गांव का रहने वाला है। कई साल से सोनीपत में एक फैक्ट्री में गार्ड की नौकरी करता है। यहीं पर प्रेम कॉलोनी क्षेत्र में परिवार के साथ रहता है। घर के पड़ोस में मध्य प्रदेश के सागर जिले के गांव फटेरा निवासी रवि व भुपेंद्र कपड़ा सिलाई का काम करते थे। एक सप्ताह पहले रवि ने छोटी बेटी को रास्ते में रोककर अभ्रदता की थी। इसको लेकर दोनों भाइयों को डांट दिया था। इसकी शिकायत पुलिस को दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। दो दिन बाद भूपेंद्र ने बेटियों का अपहरण करने की चेतावनी दी थी, इसको लेकर दोबारा से झगड़ा हुआ था।

    दोनों आरोपी लड़कियों को लेकर फब्तियां कसते रहते थे। इससे परेशान होकर यहां से मकान बदलकर शहर में रहने की तैयारी कर ली थी। इसी बीच उसकी 13 व 15 साल की बेटियां गायब हो गईं। पीड़ित ने बताया कि दिल्ली के एक पीसीओ से फोन करके बेटियों ने अपहरण किए जाने की जानकारी दी। आरोपियों का एक भाई अभी यहीं पर रह रहा है। वह अपने दोनों भाईयों को निर्दोष बता रहा है। गार्ड की तहरीर पर कुंडली थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
     

    और भी...

  •  भारत में पहली बार आये रिकॉर्ड तोड़ 29 हजार 105 नए केस, एक दिन 500 लोगों की हुई मौत

    भारत में पहली बार आये रिकॉर्ड तोड़ 29 हजार 105 नए केस, एक दिन 500 लोगों की हुई मौत

     

    भारत में कोरोना वायरस के आज रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आए हैं। देश में प्रतिदिन कोरोना वायरस के 25000 से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 29105 मामले सामने आए हैं। और 1 दिन में 500 लोगों की मौत हुई है।

    बीते 24 घंटे में कोरोना के 29105 मामले सामने आने के बाद भारत में कुल संक्रमितों की संख्या 8 लाख 79 हजार 466 हो गई है। इनमें 3,01, 468 एक्टिव मामले हैं जबकि 5,54,429 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। वहीं भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 23187 हो गई है।

    बता दें कि महाराष्ट्र में एक बार फिर रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र में आज कोरोना वायरस के 7 हजार 827 मामले सामने आए हैं। इसी के साथ राज्य में संक्रमितों की संख्या 2,54,427 हो गई है। जिनमें 1,03,516 मामले एक्टिव हैं। जबकि, 1,40,325 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं 10,289 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है।

    वहीं तमिलनाडु में 3617, दिल्ली में 2276, गुजरात में 513, तेलंगाना में 1563, उत्तर प्रदेश में 645, आंध्र प्रदेश में 1019, पश्चिमी बंगाल में 622 नए मामले दर्ज किए गए हैं। जानकरी के लिए आपको बता दें कि भारत में हर रोज बीतें कुछ दिनों से कोरोना वायरस के 25 हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं।
     

    और भी...

  • फिल्म इंडस्ट्री को लगा एक और झटका, एक्ट्रेस दिव्या चौकसे ने हारी कैंसर से जंग

    फिल्म इंडस्ट्री को लगा एक और झटका, एक्ट्रेस दिव्या चौकसे ने हारी कैंसर से जंग

     

    फिल्म इंडस्ट्री से लगातार बुरी खबरें सामने आ रही हैं. सुशांत सिंह राजपूत के बाद अब एक्ट्रेस दिव्या चौकसे का निधन हो गया. दरअसल एक्ट्रेस दिव्या चौकसे पिछले कुछ सालों से कैंसर की बीमारी से लड़ रही थी. लेकिन रविवार को वह अपनी इस लड़ाई में हार गई.वह महज 28 साल की थी.बता दें, कि दिव्या के निधन की खबर उनकी कजन बहन ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए दी थी.

    दिव्या की कजन सौम्या वर्मा ने फेसबुक पर पोस्ट लिख उन्हें याद किया. बता दें फेसबुक पोस्ट में उन्होनें लिखा, "मुझें बड़े दुख के साथ ये बताना पड़ रहा है की मेरी कजन दिव्या चौकसे का कैंसर की वजह से बहुत छोटी सी उम्र में आज निधन हो गया है. लंदन से एक्टिंग का कोर्स किया था, वो एक बहुत अच्छी मॉडल भी थी, उन्होंने कई सारी फिल्मों और धारावाहिकों में भी काम किया था. आज वो हमें यू छोड़ कर चली गईं.  ईश्वर उन की आत्मा को शन्ति दे." R.I.P

     दिव्या ने मरने से पहले अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर आखिरी स्टोरी पोस्ट की थी. पोस्ट में उन्होनें लिखा था कि अब वे दुनिया छोड़कर जा रही हैं. साथ ही दिव्या ने लिखा- शब्द इस बात को जाहिर नहीं कर सकते जो मैं बताना चाहती हूं. लेकिन क्योंकि मुझे महीनेभर से ढेरों मैसेज आ चुके हैं तो समय आ गया है कि मैं आप सभी को बता दूं कि मैं अपनी मृत्युशैया पर हूं. खराब चीजें होती रहती हैं. मैं बेहद ताकतवर हूं. काश अगला जन्म बिना दिक्कतों वाला हो. प्लीज सवाल मत पूछना. बस मेरा भगवान जानता है कि मैं आप सभी से कितना प्यार करती हूं

     एक्ट्रेस दिव्या चौकसे ने 2011  में मिस यूनिवर्स इंडिया पुरस्कार जीता था. इसके बाद उन्होंने कुछ म्यूजिक वीडियोज और टीवी शोज में काम किया. साल 2016  में दिव्या की पहली फिल्म थी 'है अपना दिल तो आवारा'. निर्देशक मंजोय मुखर्जी के अनुसार अभिनेत्री ने अपने गृहनगर भोपाल में अंतिम सांस ली. मुखर्जी ने बताया, 'वह करीब डेढ़ साल से कैंसर से जूझ रही थीं. वह सही हो गयी थीं, लेकिन कुछ महीने बाद कैंसर फिर उभर गया. लेकिन इस बार वह उबर नहीं पाई. 

    और भी...

  • कपिल देव और गैरी सोबर्स के क्लब में शामिल हुए बेन स्टोक्स, ये रिकॉर्ड किया अपने नाम

    कपिल देव और गैरी सोबर्स के क्लब में शामिल हुए बेन स्टोक्स, ये रिकॉर्ड किया अपने नाम

     

    इंग्लैंड के कार्यवाहक कप्तान बेन स्टोक्स ने अपने खाते में एक और रिकॉर्ड जोड़ लिया है. वह खेल के लंबे प्रारूप में सबसे तेजी से 150 विकेट और 4000 रन बनाने दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं.

    स्टोक्स ने यह मुकाम इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में हासिल किया. एजेस बाउल में स्टोक्स ने चार विकेट लेकर विंडीज को पहली पारी में 318 रनों पर ढेर कर दिया.

    स्टोक्स का तीसरा विकेट अल्जारी जोसेफ का था और यही उनका 150वां टेस्ट विकेट भी रहा. वह टेस्ट क्रिकेट में 150 विकेट और 4000 रन बनाने की दोहरी उपलब्धि रखने वाले छठे क्रिकेटर बन गए हैं.

    स्टोक्स से पहले इस सूची में वेस्टइंडीज के गैरी सोबर्स, इंग्लैंड के इयान बाथम, भारत के कपिल देव, दक्षिण अफ्रीका के जैक कैलिस न्यूजीलैंड के डेनियल विटोरी के नाम शामिल हैं.

    स्टोक्स ऐसा सबसे तेजी से करने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं. उनसे तेज यह मुकाम सोबर्स ने हासिल किया था. सोबर्स ने 63 टेस्ट मैच में यह उपलब्धि हासिल की थी जबकि स्टोक्स ने यह 64 टेस्ट मैचों में किया है.

    बता दें कि साउथेम्प्टन टेस्ट में इंग्लैंड ने अपनी दूसरी पारी में 284/8 रन बनाए. चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक वेस्टइंडीज पर इंग्लैंड की बढ़त 170 रनों की हुई है. मार्क वुड (1) और जोफ्रा आर्चर (5) क्रीज पर हैं. पहली पारी में इंग्लैंड ने 204 रन बनाए थे, जबकि विंडीज ने 318 रनों का स्कोर बनाया था.

    इंग्लैंड की ओर से दूसरी पारी में जाक क्राउली (76), डोम सिबले (50), कप्तान बेन स्टोक्स (46) के अलावा रोरी बर्न्स (42) अपनी पारियों को लंबा नहीं खींच पाए. वेस्टइंडीज के गेंदबाज मेजबान बल्लेबाजों को रोकने में कामयाब दिखे. शेनॉन गैब्रियल ने 3, रोस्टन चेस तथा अल्जारी जोसफ ने 2-2 विकेट चटकाए, जबकि कप्तान जेसन होल्डर को एक विकेट मिला.

     

    और भी...

  • जब बैंक में नहीं लगी नौकरी तो कोरोना काल में खोल डाली SBI की नकली ब्रांच

    जब बैंक में नहीं लगी नौकरी तो कोरोना काल में खोल डाली SBI की नकली ब्रांच

     

    यहां पनरुति के निकट स्टेट बैंक आफ इंडिया (SBI) की एक ब्रांच खोलने के कथित प्रयास में एक 19 वर्षीय युवक को गिरफ्तार कर लिया गया।

    पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि युवक एसबीआई के एक पूर्व कर्मी का पुत्र है। उसने देश के सबसे बड़े बैंक के नाम से मुहर, चालान फार्म तथा अन्य कागजात तैयार करा लिए। उसने ब्रांच में नोट गिनने की मशीन से मिलती-जुलती एक मशीन भी रख ली ताकि लोगों को बैंक की असली ब्रांच जैसी लगे। उसने यह काम अपने घर के ऊपर किया। उसने हालांकि अपने घर के बाहर कोई साइनबोर्ड नहीं लगाया।

    एसबीआई की पनरुति ब्रांच के प्रबंधक ने एक ग्राहक से मिली सूचना के बाद पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया और उसके पास से सारी जाली सामग्री जब्त कर ली। उसके लिए जाली कागजात और बैंक के चालान छापने वाले मुद्रक को भी गिरफ्तार कर लिया गया। यह पूछने पर कि उसने पैसे जमा कराने के नाम पर क्या लोगों को ठगा है तो पनरुति पुलिस निरीक्षक ने कहा कि हमें इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिली।

    युवक के पिता एसबीआई के पूर्व कर्मचारी थे जिनका निधन हो गया है। उसकी मां भी उसी बैंक में काम कर चुकी हैं और कुछ समय पहले ही रिटायर हुई हैं। पुलिस ने कहा कि उसे बैंक के कामकाज की जानकारी थी और वह उसमें काम करना चाहता था। पुलिस ने कहा कि पूछताछ में उसने बचकानी व नासमझवाली बातें कीं। उसने कहा कि वह मुंबई से बैंक की शाखा खोलने की अनुमति की प्रतीक्षा कर रहा था। उसके बाद उसकी योजना साइनबोर्ड टांगने की थी। उसने अपने पिता की मृत्यु के बाद अनुकंपा के आधार पर बैंक में नौकरी पाने का भी प्रयास किया था, लेकिन वह नौकरी पाने में विफल रहा था, जिसके बाद उसने यह कदम उठाया।

     

    और भी...