दुनिया

  • ईद पर भी पाकिस्तान ने उगला जहर, कहा- भारत ने किया दुस्साहस तो देंगे मुंहतोड़ जवाब

    ईद पर भी पाकिस्तान ने उगला जहर, कहा- भारत ने किया दुस्साहस तो देंगे मुंहतोड़ जवाब

     

    जहां एक तरफ पूरी दुनिया कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रही है वहीं पाकिस्तान अपनी हरकतों से बज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान सीमा पर बार-बार सीजफायर का उल्लंघन और आतंकी गतिविधियों में लगा हुआ है। यही नहीं इमरान खान सरकार के मंत्री भी भारत के खिलाफ बयानबाजी भी कर रहे है।

    इस बीच पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि अगर भारत उनके देश के खिलाफ कोई दुस्साहस करता है तो पाकिस्तान उसका मुंहतोड़ जवाब देगा। अपने गृहनगर मुल्तान में ईद की नमाज के बाद कुरैशी ने कहा, 'पाकिस्तान शांति चाहता है लेकिन संयम की उसकी नीति को कमजोरी के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।'

    वही, देश के सरकारी रेडियो में पाकिस्तान ने कुरैशी को उद्धृत करते हुए कहा, 'अगर भारत, पाकिस्तान के खिलाफ किसी भी तरह का दुस्साहस करता है तो उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।' कुरैशी ने कहा कि कश्मीर में कथित मानवाधिकारों के उल्लंघन के प्रति ध्यान खींचने के लिए उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव और इस्लामिक सहयोग संगठन से संपर्क किया है। 

    पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने आगे कहा कि उन्होंने दो विश्व संगठनों के प्रमुखों से कहा कि भारत अपने आतंरिक परिस्थितियों से ध्यान भटकाने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ छद्म अभियान चला सकता है। 

     

    और भी...

  • अमेरिका में कोरोना का कहर जारी, मरने वालों का आंकड़ा 95 हजार के पार

    अमेरिका में कोरोना का कहर जारी, मरने वालों का आंकड़ा 95 हजार के पार

     

    कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका में मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां संक्रमितों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में अमेरिका में करीब 1260 लोगों की मौत हुई हैं। शुक्रवार को हुई इन मौतों से अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 95 हजार के पार पहुंच कर 95276 हो गई है।

    दरअसल, जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) के अनुसार देश में कोरोना वायरस के कुल 1588322 मामले हैं। सीएसएसई के आंकड़ों के अनुसार, सबसे खराब स्थिति न्यूयार्क की है यहां कोरोना संक्रमण के 358154 मामले हैं और 28743 लोगों की मौत हो चुकी है। उसके बाद न्यूजर्सी में 10985 मौत, मैसाचुसेट्स में 6148 मौतें और मिशिगन में 5,129 मौतें हुईं हैं।

    वही, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर सभी 50 प्रांतों को खोलने का दबाव है। जबकि सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है इस कदम से पहले से भी अधिक मौतें होंगी। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की स्थिति में भी देश बंद नहीं होगा। मिशिगन राज्य में फोर्ड उत्पादन संयंत्र के दौरे के दौरान यह पूछे जाने पर कि क्या आप कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बार में चिंतित हैं। ट्रंप ने कहा, 'लोग कहते हैं कि यह एक बहुत ही अलग संभावना है। हम देश को बंद नहीं कर रहे। और यह आग लगाने जैसा है।'

    और भी...

  • लाहौर से कराची जा रहा विमान हुआ क्रैश, हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख

    लाहौर से कराची जा रहा विमान हुआ क्रैश, हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख

     

    पाकिस्तान में शुक्रवार को एक बड़ा विमान हादसा हो गया। जिसके चलते 35 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। दरअसल, लाहौर से कराची जा रही पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) की फ्लाइट हादसे का शिकार हो गई। विमान कराची एयरपोर्ट के पास रिहायशी इलाके में गिरा गया। वही, विमान गिरने से कई मकानों में आग लग गई। ये हादसा कराची में लैंडिंग से ठीक पहले हुआ है। बताया जा रहा है कि  विमान में 98 लोग सवार थे। इसमें 90 यात्री और 8 क्रू मेंबर थे। इस दुर्घटना की पुष्टि पीआईए के प्रवक्ता अब्दुल सत्तार ने की।

    उन्होंने बताया कि फ्लाइट A-320, 98 यात्रियों को लेकर जा रही थी।विमान लाहौर से कराची जा रहा था और मालिर में मॉडल कॉलोनी के पास जिन्ना गार्डन इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वही, हादसे का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें दुर्घटनास्थल से धुएं के गुबार उठते दिखाई दे रहे हैं। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, विमान के उतरने से 10 मिनट पहले उसका संपर्क टूट गया था।

    वही, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने कहा, 'विमान हादसे से दुखी हूं पीआईए के सीईओ अरशद मलिक के संपर्क में हैं। हादसे की जांच शुरू की जाएगी। मृतकों के परिवारों के लिए प्रार्थना और संवेदनाएं।' इसके अलावा पाकिस्तान एयरलाइंस के सीईओ अरशद मलिक ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि कराची में लैंडिंग से पहले पायलट ने कहा था कि तकनीकी खराबी आ रही है।

    पाकिस्तान में हुए विमान हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेदुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'पाकिस्तान में विमान दुर्घटना के कारण जानमाल के नुकसान से गहरा दुख हुआ। मृतकों के परिवारों के प्रति हमारी संवेदना, और घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।' 

    वही, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा,' मुझे पाकिस्तान में हुए विमान हादसे के बारे में सुनकर दुख हुआ जिसमें कई लोगों की जान चली गई। बचे लोगों की खबर आशा की एक किरण है। मृतकों के परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं।'

    और भी...

  • नेपाल के भक्तपुर में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर मापी गई 3.4 की तीव्रता

    नेपाल के भक्तपुर में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर मापी गई 3.4 की तीव्रता

     

    विश्वभर में फैले कोरोना वायरस के बीच नेपाल में भूकंप आया है। नेपाल के भक्तपुर जिले के अनंतलिंगेश्वर इलाके में आज सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, नेपाल के अनंतलिंगेश्वर के पास सुबह करीब 8:14 मिनट पर  3.4 की तीव्रता वाला भूकंप आया।

    हालांकि अब तक भूकंप के चलते किसी जान-माल को नुकसान की खबर नहीं मिली है। बता दें कि जब से कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन लागू हुआ तब से दिल्ली में चार बार भूकंप आ चुका हैं।

    और भी...

  • पाकिस्तान में कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 44,000 के करीब, अब तक 939 लोगों की गई जान

    पाकिस्तान में कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 44,000 के करीब, अब तक 939 लोगों की गई जान

     

    विश्वभर में फैले कोरोना वायरस का कहर प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में पूरी दुनिया में इस वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा देखने को मिल रहा है। वही, लाखों लोग इसके चलते अपनी जान गंवा चुके है। इस बीच पाकिस्तान में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 के 1,841 नए मामले सामने आए है। इसके बाद मरीजों की संख्या बढ़कर 44,000 के करीब पहुंच गई है, जबकि मृतकों की संख्या 939 हो गई। इस बात की जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को दी। 

    वही, राजधानी इस्लामाबाद में कोरोना वायरस के मामले 1,000 के पार हो चुके हैं, जबकि पाकिस्तान के अन्य हिस्सों में भी संक्रमण का बढ़ना जारी है। ऐसे में सिंध में अब तक 17,241 मामले, पंजाब में 15,976, खैबर-पख्तूनख्वा में 6,230, बलूचिस्तान में 2,820, इस्लामाबाद में 1,034, गिलगित-बाल्तिस्तान में 550 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 115 मामले सामने आए हैं। 

    आपको बता दें कि संक्रमण की लगातार बढ़ती संख्या और प्रतिबंधों में ढील देने के मद्देनजर कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक होने वाली है। पाकिस्तान ने लॉकडाउन में ढील देना शुरू कर दिया है और अपनी घरेलू हवाई सेवाओं को आंशिक रूप से फिर से शुरू कर दिया है। 

    और भी...

  • ट्रंप का WHO डायरेक्टर को पत्र, 30 दिनों में नहीं किए कोई ठोस सुधार तो स्थाई रूप से रोकेंगे फंडिंग

    ट्रंप का WHO डायरेक्टर को पत्र, 30 दिनों में नहीं किए कोई ठोस सुधार तो स्थाई रूप से रोकेंगे फंडिंग

     

    चीन से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से पिछले कई दिनों से नाराज चल रहे है। इस बीच ट्रंप ने अब डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर डॉ. टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस को लेटर लिखकर अगले 30 दिनों में ठोस कदम उठाने को कहा है। साथ ही उन्होंने डब्ल्यूएचओ को चीन के हाथ की ‘कठपुतली’ बताया है।

    अमेरिकी राष्ट्रपति ने डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर को लिखी इस चिट्ठी में कहा कि अगर अगले 30 दिनों में विश्व स्वास्थ्य संगठन, अपनी नीति और संगठन में बड़ा बदलाव नहीं करता है तो अमेरिका अपनी फंडिंग को हमेशा के लिए बंद कर देगा। इस चिट्ठी में उन्होंने डब्ल्यूएचओ पर आरोप लगाया है कि दिसंबर, 2019 में वुहान से कोरोना वायरस को लेकर जो भी रिपोर्ट्स आईं उनको नजरअंदाज किया गया।

    इसके अलावा ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ चीन के हाथ की ‘कठपुतली’ बताते हुए दावा किया कि वे (डब्ल्यूएचओ) चीन के हाथ की कठपुतली हैं। सही ढंग से कहा जाए तो वे चीन केंद्रित हैं। लेकिन वे हैं चीन के हाथ की कठपुतली ही। उन्होंने आगे कहा, 'मुझे लगता है कि उन्होंने बहुत खराब काम किया है। अमेरिका उन्हें हर साल 45 करोड़ डॉलर देता है। चीन उनको साल में 3.8 करोड़ डॉलर का भुगतान करता है।'

    ट्रंप ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन जनवरी अंत में चीन से यात्रा पर प्रतिबंध लगाए जाने के खिलाफ था। उन्होंने कहा,'डब्ल्यूएचओ इसके खिलाफ था। वे मेरे प्रतिबंध लगाने के खिलाफ थे। उन्होंने कहा था कि आपको इसकी जरूरत नहीं है, ये बहुत ज्यादा है और बेहद सख्त है लेकिन वे गलत साबित हुए।' बता दें कि ट्रंप ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से निपटने में डब्ल्यूएचओ की भूमिका की समीक्षा होने तक अमेरिका की ओर से किए जाने वाले भुगतान पर अस्थाई रूप से रोक लगाई हुई है।

    और भी...

  • कोरोना वायरस: ट्रंप ने WHO के बारे में बयान देने से किया इंकार, कही ये बात

    कोरोना वायरस: ट्रंप ने WHO के बारे में बयान देने से किया इंकार, कही ये बात

     

    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के बारे में फिलहाल कोई बयान देने से इनकार कर दिया है, लेकिन कहा है कि जल्द ही वह इस संगठन को लेकर बयान देंगे। ट्रंप ने कहा है, 'मैंने आज कोई बयान नहीं देने का फैसला किया है। मैं आगामी कुछ समय में बयान दूंगा। मैं विश्व स्वास्थ्य संगठन से खुश नहीं हूं। मैं विश्व व्यापार संगठन से भी पूरी तरह से खुश नहीं हूं।'

    उन्होंने कहा है कि वह अमेरिका की ओर से डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली 45 करोड़ डॉलर की राशि में से चार करोड़ डॉलर की कटौती करने की अनुशंसा कर रहे हैं। ट्रंप ने आगे कहा कि वह जल्द ही एक फैसला लेंगे। उल्लेखनीय है कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से निपटने में डब्ल्यूएचओ की भूमिका की समीक्षा होने तक उसे अमेरिका की ओर से किए जाने वाले भुगतान को रोक दिया है।

    और भी...

  • बलूचों से डरा पाकिस्तान, कई घंटों तक किया ट्विटर-जूम को ब्लॉक

    बलूचों से डरा पाकिस्तान, कई घंटों तक किया ट्विटर-जूम को ब्लॉक

     

    पाकिस्तान के कई इलाकों में रविवार 17 मई की रात कई घंटों तक सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म जूम बंद कर दिया गया. माना जा रहा है कि पाकिस्तान में हो रहे जबरन धर्म परिवर्तन, बलूचों पर अत्याचार, बलूचों के गायब होने की घटनाओं और विरोधियों की राज्य प्रायोजित हत्या के खिलाफ ‘साथ फोरम’ ने एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस बुलाई थी, जिसको रोकने के लिए ये कदम उठाया गया. हालांकि देर रात ये सेवाएं फिर शुरू हो गईं.

    बता दें कि पाकिस्तान में राज्य स्वीकृत अत्याचार, हत्याएं और लोकतंत्र पर हो रहे प्रहार को लेकर ‘साथ वर्चुअल कॉन्‍फ्रेंस’ का आयोजन किया गया. इसे लेकर पाकिस्तान की सरकार काफी डरी दिखी. पाकिस्तानियों के सवालों से बचने के लिए सरकार ने ट्विटर और जूम को कई घंटों के लिए ब्लॉक कर दिया.

    वहीं, पाकिस्तान में बढ़ते कोरोना वायरस के मामले पर लगाम लगाने के लिए लॉकडाउन किया गया है. हालांकि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का कहना है कि पाकिस्तान लॉकडाउन को लंबा नहीं झेल सकता है. पीएम इमरान खान ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के चलते 150 मिलियन से ज्यादा पाकिस्तानी प्रभावित हुए हैं.

    इमरान खान का कहना है कि पाकिस्तान, अमेरिका, यूरोप और चीन की तरह लॉकडाउन लागू नहीं कर सकता है. इमरान का कहना है कि पहले ही लॉकडाउन ने देश में आर्थिक स्थिति को बुरी तरह प्रभावित किया है, विशेष रूप से कमजोर वर्ग को, जिनमें 25 मिलियन लोग शामिल थे जो दैनिक या साप्ताहिक मजदूरी पर रहते थे.

     

    और भी...

  • कोरोना संकट: ट्रंप पर एक बार फिर बरसे ओबामा, बोले- उन्हें पता नहीं वो क्या कर रहे हैं

    कोरोना संकट: ट्रंप पर एक बार फिर बरसे ओबामा, बोले- उन्हें पता नहीं वो क्या कर रहे हैं

     

    विश्वभर में फैले कोरोना वायरस के कहर के बीच अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों पर एक बार फिर से गुस्सा फूटा है। बराक ओबामा ने कोरोना से निपटने का कामकाज देख रहे कुछ अधिकारियों की आलोचना करते हुए कहा कि यह महामारी दिखाती है कि कई अधिकारी 'प्रभारी होने का दिखावा भी नहीं कर रहे हैं।' 

    शनिवार को बराक ओबामा ने 'हिस्टोरिकली ब्लैक कॉलेजिस एंड यूनिवर्सिटीज के दो घंटे के कार्यक्रम 'शो मी योर वॉक' में यह बात कही। यह कार्यक्रम यूट्यूब, फेसबुक और टि्वटर पर प्रसारित किया गया। उन्होंने कहा, 'इस महामारी ने इस बात से पूरी तरह से पर्दा हटा दिया है कि कई प्रभारी अधिकारी जानते हैं कि वे क्या कर रहे हैं। उनमें से कई प्रभारी होने का दिखावा तक नहीं कर रहे हैं।'

    इस दौरान ओबामा ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप या किसी अन्य संघीय या राज्य अधिकारी का नाम नहीं लिया। वही,  पूर्व राष्ट्रपति ने फरवरी में जॉर्जिया में एक आवासीय सड़क पर जॉगिंग करते वक्त अहमद आर्बरी (25) की गोली मारकर हत्या किए जाने की घटना का भी जिक्र किया।

    बराक ओबामा ने कहा, 'हम कोविड-19 का अपने समुदायों पर असंगत असर देखते हैं। जैसा कि हमने देखा कि जब एक अश्वेत व्यक्ति सैर के लिए जाता है और कुछ लोगों को लगता है कि वे उस व्यक्ति को रोक सकते हैं और उनके सवाल का जवाब नहीं देने पर उसे गोली मार सकते हैं।'

    और भी...

  • डोनाल्ड ट्रंप ने निभाई दोस्ती, बोले भारत को देंगे वेंटिलेटर्स, कोरोना जैसे दुश्मन को मिलकर देंगे मात

    डोनाल्ड ट्रंप ने निभाई दोस्ती, बोले भारत को देंगे वेंटिलेटर्स, कोरोना जैसे दुश्मन को मिलकर देंगे मात

     

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को अनुदान के तौर पर वेंटिलेटर्स देंगे। इस बात की जानकारी डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करके दी है। डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है। हम भारत को कुछ वेंटिलेटर भेज रहे हैं। हमारे पास वेंटिलेटर की जबरदस्त आपूर्ति है। डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, मुझे गर्व है कि संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) भारत के मेरे दोस्तों को वेंटिलेटर्स का दान करेगा। हम इस महामारी के दौर में भारत के साथ खड़े हैं। हम लोग वैक्सीन बनाने में भी एक दूसरे का सहयोग कर रहे हैं। हम साथ मिलकर कोरोना जैसे दुश्मन को मात देंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप ने बीते शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ की। ट्रंप का कहना है कि भारत बहुत महान देश है। पीएम नरेंद्र मोदी मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं। मैं कुछ दिन पहले ही भारत से लौटा हूं और पीएम मोदी और हम एक साथ रहे। डोनाल्ड ट्रंप ने अपने बयान में नई दिल्ली, अहमदाबाद और आगरा दौरे का जिक्र किया. इससे पहले व्हाइट हाउस की ओर से कहा गया कि भारत के साथ अमेरिकी संबंधों को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप बहुत खुश हैं।

    उन्होंने यह भी कहा कि भारत अमेरिका का एक बड़ा साझीदार बन गया है। सूत्रों के मुताबिक, अमेरिका भारत को 200 वेंटिलेटर्स दे सकता है। भारत और अमेरिका मिलकर वैक्सीन बना रहे हैं जिसे लोगों को मुफ्त में दिया जा सकता है।

     

    और भी...

  • प्रत्यर्पण मामले में विजय माल्या को ब्रिटेन हाई कोर्ट से बड़ा झटका, जल्द लाया जा सकता है भारत

    प्रत्यर्पण मामले में विजय माल्या को ब्रिटेन हाई कोर्ट से बड़ा झटका, जल्द लाया जा सकता है भारत

     

    भारतीय शराब कारोबारी विजय माल्या को बृहस्पतिवार को प्रत्यर्पण मामले में बड़ा झटका है। ब्रिटेन की सर्वोच्च अदालत में प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील की अनुमति मांगने वाला माल्या का आवेदन अस्वीकृत हो गया। अब प्रत्यर्पण की प्रक्रिया 28 दिन के अंदर पूरी करनी होगी। आपको बता दें कि इससे पहले बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के कर्ज से संबंधित धोखाधड़ी और धनशोधन के मामले में भारत प्रत्यर्पण के आदेश के खिलाफ माल्या की अपील हाई कोर्ट में पिछले महीने ही खारिज हो गई थी।

    वही, बृहस्पतिवार को प्रनाउन्समेंट में कहा गया है कि भारत-ब्रिटेन प्रत्यर्पण संधि के तहत ब्रिटेन का गृह कार्यालय अब माल्या को भारत प्रत्यर्पित किए जाने के अदालत के आदेश को 28 दिन के भीतर औपचारिक रूप से प्रमाणित कर सकता है।

    दरअसल, लंदन की रॉयल कोर्ट्स ऑफ जस्टिस में लॉर्ड जस्टिस स्टीफन इरविन और जस्टिस एलिजाबेथ लाइंग की दो सदस्यीय पीठ ने फैसले में कहा, ''अदालत ने सुप्रीम कोर्ट में अपील के मद्देनजर आम सार्वजनिक महत्व के विधि के प्रश्न को प्रमाणित नहीं करने के अपने इरादे को प्रकट कर दिया है।" अदालत ने ब्रिटेन के प्रत्यर्पण कानून 2003 की धारा 36 और धारा 118 के तहत 28 दिन की 'जरूरी अवधि तय की है जिसके भीतर प्रत्यर्पण प्रक्रिया होनी चाहिए।

    और भी...

  • गिलगित-बाल्टिस्तान में PAK का अत्‍याचार जारी, स्‍थानीय लोग बोले- क्या हम इंसान नहीं हैं?

    गिलगित-बाल्टिस्तान में PAK का अत्‍याचार जारी, स्‍थानीय लोग बोले- क्या हम इंसान नहीं हैं?

     

    विश्वभर में फैले कोरोना वायरस के कहर के चलते जहां पूरी दुनिया परेशान है। ऐसे में पाकिस्तान अपनी नापाक आदतों से बाज नहीं आ रहा है। कोरोना संकट के बीच भी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) के लोगों के ऊपर पाक का सितम जारी है। दरअसल, पाकिस्तान के प्रशासन द्वारा गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में वहां के स्थानीय व्यापारी और आम लोगों पर अत्याचार जारी है और उन्हें बाजार खोलने नहीं दिया जा रहा है, जबकि अन्य बाजारों को खोलने की इजाजत मिल चुकी है।

    इस बीच गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में एनएलआई बाजार के व्यापारियों का कहना है कि उनके साथ स्थानीय प्रशासन द्वारा भेदभाव किया जा रहा है। एक व्यापारी ने कहा, 'अन्य सभी बाजार खुले हुए हैं मगर हमें बंद करने को कहा गया है। क्या हम इंसान नहीं हैं? क्या हमारे बच्चे नहीं हैं?'

    आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान द्वारा पीओके के इन इलाकों में इस्लामाबाद के हुक्मरानों द्वारा अत्याचार और भेदभाव की खबरें आई हैं, बल्कि पाकिस्तान पहले भी पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान के लोगों के साथ भेदभाव करता रहा है।

    और भी...

  • अमेरिका में कोरोना संकट, 13 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित, 80 हजार की हुई मौत

    अमेरिका में कोरोना संकट, 13 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित, 80 हजार की हुई मौत

     

    चीन के वुहान से पूरी दुनिया में फैला कोरोना वायरस अब अमेरिका में अपना कहर बरपा रहा है। अमेरिका में मरने वालो की अब तक कोरोना संक्रमितओं की संख्या 80,000 हो गई है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिका में 1,30,0000 से ज्यादा लोग कोरोना की चपेट में हैं। अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, बीते 24 घंटे में 776 लोग अपनी जान गवा चुके हैं। वही अमेरिका में अब तक मौत का आंकड़ा 80 हजार के पार हो चला है। अमेरिका में अब तक एक लाख 13 हजार से ज्यादा लोग वायरस से संक्रमित हैं। अमेरिका ने संभावना जताई है कि आने वाले दिनों में मौत का आंकड़ा और भी ज्यादा बढ़ सकता है। अमेरिका की जॉन्स हापकिंस यूनिवर्सिटी के ताजा आंकड़ों की माने तो अमेरिका में 80562 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई है। वहीं दूसरी तरफ अमेरिका के सबसे सुरक्षित व्हाइट हाउस में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के करीब कोरोनावायरस का 2 मामले सामने आ चुके हैं। इसकी पुष्टि व्हाइट हाउस ने कर दी है। डोनाल्ड ट्रंप के वैलेट और उपराष्ट्रपति माइक पेंस की प्रेस सचिव को कोरोनावायरस हो गया है। जिसके बाद व्हाइट हाउस में सैनिटाइजेशन और स्क्रीनिंग का काम किया जा रहा है। वहीं व्हाइट हाउस में अलर्ट जारी कर दिया गया है। अमेरिका के अलावा दुनिया के तमाम देशों में कोरोना वायरस तेजी फैल रहा है। अब तक दुनिया भर में कोरोना के 41 लाख मामले सामने आ चुके हैं। जिसमें से 2, 90,000 लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन वहीं दूसरी तरफ अब तक 14 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमण से ठीक हो गए हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लॉक डाउन खेलने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि तिमाही में लॉक डाउन कोरोना चल रहा है। हम अच्छा काम कर रहे हैं। मुझे लगता है कि सब अच्छा रहा तो लॉक डाउन में ढील दी जाएगी और आने वाले दिनों में लॉक डाउन पूरी तरह से खोल दिया जाएगा।

     

    और भी...

  • कोरोना से निपटने को लेकर ओबामा ने की ट्रंप की कड़ी आलोचना, कही ये बात

    कोरोना से निपटने को लेकर ओबामा ने की ट्रंप की कड़ी आलोचना, कही ये बात

     

    विश्वभर में फैले कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा अमेरिका प्रभावित है। यहां कोविड-19 से मरने वालों का आंकड़ा 78,746 हो चुका है। वहीं, इस वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 13 लाख को पार कर चुका है। ऐसे में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कोरोना वायरस से निपटने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के तरीके को लेकर उनकी कड़ी आलोचना की है।

    बराक ओबामा ने अपने पूर्व प्रशासन के सदस्यों के साथ बातचीत के दौरान डोनाल्ड ट्रंप के पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन के खिलाफ न्याय मंत्रालय द्वारा आपराधिक मामला समाप्त किए जाने के बारे में भी कहा है कि 'कानून के शासन की मूलभूत समझ को खतरा है।' ओबामा ने अपने समर्थकों से राष्ट्रपति पद के चुनाव में पूर्व उपराष्ट्रपति जो बाइडेन का समर्थन करने की अपील की जिनके तीन नवंबर को होने वाले चुनाव में ट्रंप के खिलाफ मैदान में उतरने की संभावना है।

    ओबामा ने कहा, 'हम स्वार्थी होने, विभाजित होने और दूसरों को शत्रु की तरह देखने जैसी लंबे समय से चली आ रही प्रवृत्तियों से लड़ रहे हैं और ये प्रवृत्तियां अमेरिकी जीवन में मजबूती से घर बना चुकी है। हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी यही देख रहे हैं। यही कारण है कि इस वैश्विक संकट को लेकर प्रतिक्रिया और कार्रवाई इतनी कमजोर और दागदार है।' उन्होंने कहा, 'यह पूरी तरह अराजकतापूर्ण आपदा है क्योंकि मानसिकता यह है कि 'इसमें मेरे लिए क्या है।'

    और भी...

  • भारत में दिखाया गया PoK के मौसम का हाल तो पाकिस्तान को लगी मिर्ची, कही ये बात

    भारत में दिखाया गया PoK के मौसम का हाल तो पाकिस्तान को लगी मिर्ची, कही ये बात

     

    पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मीरपुर, मुजफ्फराबाद और गिलगिट के मौसम का हाल बताने वाली रिपोर्ट देने के भारत के कदम को पाकिस्तान ने शुक्रवार को अस्वीकार कर दिया। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा कि भारत द्वारा पिछले साल जारी किए गए कथित 'राजनीतिक नक्शों' की तरह ही उसका यह कदम भी कानूनन निरर्थक है।

    बता दें कि सरकारी प्रसारणकर्ता दूरदर्शन तथा आकाशवाणी ने शुक्रवार से अपने प्राइम टाइम समाचार बुलेटिन में पीओके के इन क्षेत्रों के मौसम का हाल बताना शुरू कर दिया है। दरअसल, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भारत के इस दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है, 'पिछले साल भारत की ओर से जारी किए गए तथाकथित राजनीतिक नक्शे की तरह ही यह कदम भी पूरी तरह से अवैध, वास्तविकता के विपरीत और यूएनएससी के प्रस्तावों का उल्लंघन है। यह भारत का गैरजिम्मेदाराना व्यवहार है। पाकिस्तान भारत के इस वेदर बुलेटिन को खारिज करता है।'

    और भी...