उत्तराखंड

  • मेयर के आवास पर आत्मदाह करने पहुंची बर्खास्त सफाई कर्मचारी, जमकर किया हंगामा

    मेयर के आवास पर आत्मदाह करने पहुंची बर्खास्त सफाई कर्मचारी, जमकर किया हंगामा

     

    उत्तराखंड (Uttarakhand) से एक चौंका देने वाली खबर सामने आई है। जहां देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ से जुड़ी एक सफाई कर्मी ने आंदोलन के दौरान बर्खास्त किए जाने को लेकर जमकर हंगामा काटा। इतना ही नहीं वह मेयर के आवास में आत्मदाह करने के लिए पहुंच गई। उधर मेयर के आवास में मौजूद पुलिस ने महिला को तुरंत अपने कब्जे में ले लिया है।

    दरअसल, देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ ने चार महीने पहले अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आंदोलन किया था। आंदोलन के दौरान हुई मारपीट के आरोप में नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनोज कांडपाल ने करीब आठ सफाई कर्मियों को बर्खास्त कर दिया था। तब से ही यह सफाई कर्मी बहाली की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

    ऐसे में मंगलवार को बर्खास्त सफाई कर्मी अनीता बहाली की मांग को लेकर मेयर के आवास में पहुंच गई। वहां उसने बहाली नहीं होने पर आत्मदाह करने की चेतावनी दे डाली। उधर आत्मदाह की सूचना मिलने पर पूर्व में पहुंची पुलिस ने महिला को घेर लिया। इस दौरान सफाई कर्मी ने मेयर पर कई आरोप लगाए। कहा एक ओर मेयर आचार संहिता में भी सफाई कर्मियों की भर्ती कर रहे हैं, वहीं बर्खास्त किए गए सफाई कर्मियों को बहाल नहीं कर रहे हैं।

    और भी...

  • उत्तराखंड : BJP से निष्कासित हुए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत

    उत्तराखंड : BJP से निष्कासित हुए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत

     

    उत्तराखंड (Uttarakhand) के कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत (Harak Singh Rawat) को भाजपा (BJP) ने छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई के मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश पार्टी अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर रावत को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासित किया गया है। उन्होंने बताया कि अनुशासनहीनता के चलते रावत को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया है। 

    उन्होंने कहा कि पार्टी में अनुशासनहीनता को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस बीच, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) ने भी रावत को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त कर दिया है। पौड़ी गढ़वाल जिले की कोटद्वार विधानसभा सीट से विधायक रावत अपनी सीट बदलने के साथ ही अपनी पुत्रवधू अनुकृति के लिए भी भाजपा से टिकट मांग रहे थे। समझा जाता है कि इन मुद्दों पर भाजपा के राजी न होने पर उनके कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों के बीच उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।

    और भी...

  • हरिद्वार हेट स्पीच मामला: हिंदू धर्मगुरु यति नरसिंहानंद गिरफ्तार, जानिए क्या है पूरा मामला

    हरिद्वार हेट स्पीच मामला: हिंदू धर्मगुरु यति नरसिंहानंद गिरफ्तार, जानिए क्या है पूरा मामला

     

    हरिद्वार हेट स्पीच मामले में शनिवार को हिंदू धर्मगुरु यति नरसिंहानंद (Yati Narsinghanand) को उत्तराखंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी के बाद इस मामले में ये दूसरी गिरफ्तारी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी की जमानत अर्जी शनिवार को एक अदालत ने खारिज कर दी थी। जितेंद्र त्यागी की गिरफ्तारी के विरोध में धरने पर बैठे यति नरसिंहानंद को पुलिस ने हरिद्वार (Haridwar) में गिरफ्तार कर किया है।

    क्या है पूरा मामला?
    दिसंबर 2021 में हरिद्वार में आयोजित एक धार्मिक सभा में कई हिंदू पुजारियों ने कथित तौर पर इस्लाम के खिलाफ आपत्तिजनक और भड़काऊ बयान दिए थे। सोशल मीडिया पर अल्पसंख्यक समुदायों के खिलाफ हिंसा भड़काने वाले भड़काऊ भाषणों के वीडियो वायरल हुए। बता दें कि इस मामले में दर्ज प्राथमिकी में यति नरसिंहानंद समेत दस से ज्यादा लोगों के नाम दर्ज हैं। गौरतलब है कि बीते बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (SC) ने उत्तराखंड सरकार को मामले में की गई कार्रवाई पर दस दिनों के भीतर हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया था।
     

    क्या कहा था यति नरसिंहानंद ने?
    धार्मिक सभा में अपने भाषण में यति नरसिंहानंद ने कथित तौर पर कहा था कि हिंदू ब्रिगेड को बड़े और बेहतर हथियारों से लैस करना मुसलमानों के खतरे के खिलाफ समाधान होगा। गाजियाबाद के डासना मंदिर के पुजारी यति नरसिंहानंद हरिद्वार में तीन दिवसीय धर्म संसद के आयोजकों में से एक थे।

    और भी...

  • खटीमा विधानसभा क्षेत्र से चुनावी मैदान में उतरेंगे सीएम धामी, बोले- चुनाव लड़ने के लिए है तैयार 

    खटीमा विधानसभा क्षेत्र से चुनावी मैदान में उतरेंगे सीएम धामी, बोले- चुनाव लड़ने के लिए है तैयार 

     

    उत्तराखंड (Uttarakhand) के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) शनिवार यानी आज भारतीय जनता पार्टी (BJP) की कोर कमेटी की बैठक में शामिल हुए। बैठक के बाद सीएम ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान इस बात का खुलासा किया है कि वह किस निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि मैं खटीमा निर्वाचन क्षेत्र (Khatima constituency) से चुनाव लड़ूंगा। हम सब एक साथ हैं और चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। इस बार हमने 'अबकी बार 60 पार' का नारा दिया है। उम्मीदवारों की सूची जल्द घोषित की जाएगी।



    बता दें कि भारतीय जनता पार्टी सत्ता वापसी के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। यही कारण है कि उत्तराखंड में मीटिंगों को सिलसिला जारी है। वहीं जीत की रणनीति पर बातचीत की जा रही है। अब सीएम पुष्कर सिंह खुद चुनावी मैदान में उतरने के लिए तैयार हैं। आगामी उत्तराखंड विधानसभा चुनाव को लेकर आज बीजेपी कोर कमेटी की बैठक हुई। बैठक के बाद सीएम पुष्कर धामी से कहा कि वह विधानसभा चुनाव लड़ेंगे वह खटीमा क्षेत्र से चुनावी मैदान में उतरेंगे। इसके साथ ही उन्होंने साफ किया कि जल्द ही उम्मीवारों की लिस्ट भी जारी कर दी जाएगी।   

    और भी...

  • इस्लामी तालिबान ने स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज को भेजा धमकी भरा पत्र, जांच में जुटी पुलिस

    इस्लामी तालिबान ने स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज को भेजा धमकी भरा पत्र, जांच में जुटी पुलिस

     

    जगदगुरु शंकराचार्य  स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज (Swami Rajrajeshwarashram Maharaj) को इस्माली तालिबानी की ओर से धमकी भरी चिट्ठी मिलने के बाद पुलिस सक्रिय हो गई है। इस मामले में पुलिस ने आश्रम के प्रबंधक की तहरीर पर केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। बता दें कि 2008 में भी स्वामी राजराजेश्वराश्रम को ऐसा ही एक पत्र मिला था।

    कनखल थाना प्रभारी मुकेश चौहान के अनुसार कनखल स्थित श्री जगद्गुरु आश्रम में शारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज के आश्रम के प्रबंधक नारायण शास्त्री ने पुलिस को शिकायत दी है। जिसमें उन्होंने बताया है कि 13 जनवरी को जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज को पोस्ट के जरिए इस्लामी तालिबान का एक धमकी भरी चिट्ठी मिली है। जिसके बाद महाराज ने पुलिस को इस मामले की जानकारी दी।

    इस बात की सूचना मिलने पर कनखल थाना प्रभारी मुकेश चौहान आश्रम पहुंचे और महाराज से मुलाकात कर पत्र के बारे में जानकारी ली। वहीं महाराज को धमकी भरा पत्र मिलने के बाद अब खुफिया विभाग भी सक्रिय हो गया है। इसके साथ ही एसएसपी डॉक्टर योगेंद्र सिंह रावत ने भी इस मामले में संज्ञान लेते हुए जांच करने के निर्देश दिए हैं।

    और भी...

  • हरिद्वार: गंगा घाटों में स्नान पर रोक, हर की पौड़ी भी हुई सील

    हरिद्वार: गंगा घाटों में स्नान पर रोक, हर की पौड़ी भी हुई सील

     

    उत्तराखंड में तेजी से कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच हरिद्वार ज़िला प्रशासन ने मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं के स्नान करने पर प्रतिबंध लगाया है। हरिद्वार में हर की पौड़ी पर भी श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है। जिला प्रशासन ने हर की पौड़ी सहित अन्य गंगा घाटों तक श्रद्धालु न पहुंच पाएं इसके लिए रात बारह बजे से सभी रास्तों को सील कर दिया है।

    इसके अलावा पूरे मेला क्षेत्र को चार जोन और आठ सेक्टरों में बांटकर अधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। बाहरी राज्यों और जिलों से स्नान के लिए आने वालों को रोकने पुलिस जिले की सीमाओं पर गुरुवार से ही सख्ती करनी शुरू कर दी थी।

    आपको बता दें कि हरिद्वार में एक जनवरी से अब तक जिले में 2187 संक्रमित मिल चुके हैं। बीते 13 दिनों में गुरुवार को ही सर्वाधिक 429 मरीज मिले हैं। बता दें कि हर साल मकर संक्रांति पर हर की पौड़ी पर लाखों लोगों की भीड़ स्नान करने के लिए उमड़ती है। बीते साल भी कोरोनाकाल में पांच लाख श्रद्धालुओं ने स्नान किया था, लेकिन इस बार जिला प्रशासन ने मकर संक्रांति से तीन दिन पहले ही स्नान पर रोक लगा दी है। 

    वहीं, देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2,64,202 नए मरीज सामने आए हैं। यह आंकड़ा कल यानी गुरुवार के मुकाबले 6.7 फीसदी ज्यादा है। भारत में अभी कोरोना की संक्रमण दर 14.78 फीसदी हो गई है। फिलहाल देश में नए वैरिएंट यानी ओमिक्रॉन के मामले 5,753 हैं।

    और भी...

  • उत्तराखंड में मतदान के लिए भारत-चीन सीमा पर हेलीकॉप्टर से वोट देने जाएंगे वोटर

    उत्तराखंड में मतदान के लिए भारत-चीन सीमा पर हेलीकॉप्टर से वोट देने जाएंगे वोटर

     

    भारत-चीन सीमा (India-China Border) पर बन रही सड़क निर्माण के काम में लगे मजदूर वोट डालने के लिए हेलीकॉप्टर (Helicopter) से उत्तराखंड लाए जाएंगे। भारी बर्फबारी के कारण बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (BRO) ने फैसला लिया है। सीमांत पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में 3400 मीटर की ऊंचाई पर मिलम-लास्पा में बड़ी संख्या में श्रमिक भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाली सड़क के निर्माण कार्य में लगे हुए हैं। मुनस्यारी से करीब 54 किमी दूर लास्पा में छह फीट से ज्यादा हिमपात हुआ है।

    बता दें कि मतदान की तारीख तक भी बर्फ से ढके पैदल मार्गों के खुलने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं। इसलिए स्थानीय मजदूरों को वोट डालने के लिए हेलीकॉप्टर के जरिए निचले इलाकों में लाया जाएगा। अब तक सौ लोगों चिह्नित किया जा चुका हैं। उधर, उत्तरकाशी में बीआरओ के मेजर वीएस वीनू ने बताया कि हमारे यहां करीब 3400 मजदूर काम में जुटे हुए हैं। लेकिन अधिकांश रूट खुले हैं। इसलिए मतदान के दिन मजदूरों को अवकाश दिया जाएगा।  हमने ऊंचाई वाले इलाकों में काम कर रहे लोगों को मतदान के लिए हेलीकॉप्टर की सुविधा देने का निर्णय लिया है। अभी तक 100 ऐसे लोग हैं जिन्हें हेलीकॉप्टर के जरिए मतदान के लिए भेजा जाएगा। आगे भी ऐसे लोग आएंगे, तो उन्हें हेलीकॉप्टर से मतदान केन्द्रों तक पहुंचाया जाएगा।

    और भी...

  • राज्य के लोगों की समस्याएं आज भी वैसी ही हैं जैसे राज्य गठन के समय थी- गोपाल राय

    राज्य के लोगों की समस्याएं आज भी वैसी ही हैं जैसे राज्य गठन के समय थी- गोपाल राय

     

    आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता गोपाल राय (Gopal Rai) ने कहा कि पार्टी के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की गारंटी योजनाओं में उत्तराखंड (Uttarakhand) के 25 लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराकर संकेत दे दिया है अब प्रदेश में आम आदमी पार्टी की लहर है। राय ने मंगलवार को रामनगर रोड स्थित आम आदमी पार्टी कार्यालय में पत्रकारों वार्ता की।

    उन्होंने कहा कि '21 वर्ष तक उत्तराखंड की जनता के लिए भाजपा-कांग्रेस मजबूरी थी लेकिन अब आम आदमी पार्टी के रूप में यहाँ की जनता को एक मजबूत विकल्प मिल गया है। राज्य के लोगों की मूलभूत समस्याएं आज भी वैसी ही हैं जैसे कि राज्य गठन के समय थी। दिल्ली में पार्टी के कामकाज से यहाँ की जनता प्रभावित है। राज्य की एक बहुत बड़ी समस्या पलायन है इसे न तो भाजपा और न कांग्रेस दूर कर पाई है।'

    उन्होंने कहा कि 'जनता से टैक्स लेकर इन सरकारों के मंत्रियों व नेताओं ने खुद का विकास कर लिया और जनता वहीं की वही रह गई। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी जनता के हित और जनता के मुद्दे सर्वोपरि रख कर राजनीति करती है। 

    चुनाव कैंपेन कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष व पार्टी प्रत्याशी दीपक बाली ने कहा कि वह काशीपुर में आज से डोर टू डोर जनसंपर्क अभियान की शुरुआत ग्रामीण क्षेत्रों से कर रहे हैं। कहा कि वह काशीपुर विधानसभा क्षेत्र की जनता से मिलकर उनकी समस्याएं सुनते रहे हैं। उन्हें इस क्षेत्र की जनता की हर समस्या की जानकारी है। ऐसे में वह क्षेत्र की जनता को गारंटी देने जा रहे हैं कि उन्हें सेवा का अवसर मिला तो हर समस्या के त्वरित समाधान की गारंटी देने जा रहे हैं।'

    इस दौरान दीपक बाली ने कहा कि 'आम आदमी पार्टी एक मौका मांगती है सेवा के लिए। साथ ही आम आदमी पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है जो खुलकर जनता के सामने स्वीकारती है कि अगर जनता की भावनाओं पर खरी नहीं उतरी तो दूसरा मौका न दे।'

    और भी...

  • धर्म संसद में ‘भड़काऊ भाषण’ मामले पर सुनवाई करेगा SC, कपिल सिब्बल ने उठाया मुद्दा

    धर्म संसद में ‘भड़काऊ भाषण’ मामले पर सुनवाई करेगा SC, कपिल सिब्बल ने उठाया मुद्दा

     

    सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) आखिरकार उत्तराखंड (Uttarakhand) के हरिद्वार (Haridwar) में आयोजित हुए 'धर्म संसद' के दौरान दी गई हेट स्पीच (Hate Speech Case) मामले पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। इस मामले में अभद्र भाषा और भड़काऊ बयान देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है। इस जनहित याचिका पर कोर्ट जल्द ही सुनवाई करेगा। सीजेआई एनवी रमना (CJI NV Ramanna) की अध्यक्षता वाली पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) की दलीलों पर गौर किया कि प्राथमिकी दर्ज होने के बावजूद भड़काऊ भाषणों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हरिद्वार में आयोजित हुई धर्म संसद में भड़काऊ भाषणों के कई वीडियो सामने आए थे। इस मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने जा रही है। इस मामले में वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने याचिका दायर की है। कपिल सिब्बल ने कहा कि कहा कि देश में सत्यमेव जयते की जगह अब शास्त्रमेव जयते की बात हो रही है। सबसे अहम बात है कि एफआईआर होने के बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई।

    धर्म संसद पर विवाद क्यों
    उत्तराखंड के हरिद्वार में धर्म संसद में भड़काऊ भाषण का वीडियो सामने आने के बाद से हंगामा मचा हुआ है। दरअसल, इस धार्मिक संसद में एक स्पीकर ने विवादित भाषण देते हुए कहा था कि 'धर्म की रक्षा के लिए हिंदुओं को हथियार उठाने की जरूरत है। किसी भी सूरत में मुसलमान को देश का प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहिए। साथ ही मुस्लिम आबादी में बढ़ोतरी को रोकना होगा।

    और भी...

  • उत्तराखंड में बूस्टर डोज अभियान जारी, ये सर्टिफिकेट लाना है अनिवार्य

    उत्तराखंड में बूस्टर डोज अभियान जारी, ये सर्टिफिकेट लाना है अनिवार्य

     

    कोरोना संक्रमण (Corona) के बाद अब देश, विदेश में आ रहे नए वैरिएंट से स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। कोरोना वैक्सीन के बाद अब नए वैरिएंट से बचने के लिए जनता को बूस्टर डोज (Precaution Dose) लगनी शुरू हो गई है। आज पूरे देश के साथ ही उत्तराखंड (Uttarakhand) में भी इसकी शुरुआत से हो गई है। इसके लिए पहले 60 आयु वर्ग के ऊपर वाले लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। ऐसे में टीकाकरण केंद्र में स्वास्थ्य विभाग की तैयारियां पूरी तरह से चाक-चौबंद हैं। सभी बूथों पर 20 प्रतिशत वैक्सीन तीसरी डोज के लिए उपलब्ध है।

    बता दें कि इसके लिए पहले हेल्थ वर्कर (Health Workers) और फ्रंट लाइन (Frontline) में काम कर रहे लोगों का टीकाकरण हुआ। इस डोज को लगाने से पहले उनके पास कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के नौ महीने पूरे होना वाला सर्टिफिकेट का होना जरूरी है। बिना नौ महीने पूरे करने वालों को यह टीका नहीं लगाया जाएगा। यह डोज अभी 60 आयु वर्ग के ऊपर वाले लोगों को दी जा रही है।

    इस पर देहरादून के जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. कुलदीप मर्तोलिया ने बताया कि "बुजुर्गों, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंट लाइन वर्करों को 10 जनवरी से तीसरा टीका लगाया जा रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने सभी तैयारियां पूरी कर ली थीं। टीकाकरण बूथों पर तीसरी डोज के लिए 20 प्रतिशत वैक्सीन अलग से उपलब्ध रहेगी। जिन लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाने के लिए नौ महीने या 39 सप्ताह का समय हो गया है। उन्हें ही तीसरी डोज लगाई जाएगी।"

    और भी...

  • Uttarakhand Election 2022: पार्टी अबकी बार साठ पार के नारे को चरितार्थ करेगी- सीएम धामी

    Uttarakhand Election 2022: पार्टी अबकी बार साठ पार के नारे को चरितार्थ करेगी- सीएम धामी

     

    मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के आने के बाद कई मिथक टूटे हैं। हम उत्तराखंड (Uttarakhand) में भाजपा (BJP) की सरकार बनाकर मिथक तोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में लोकतंत्र के उत्सव का शुभारंभ अब हो चुका है। उन्होंने मतदाताओं से चुनाव में बढ़ चढ़कर भाग लेने का आह्वान किया। उन्होंने अपील की कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करें।

    वहीं, कोरोना (Corona) की चुनौती पर मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि 'जल्द ही पूर्ण रूप से इस महामारी को हराने में हम सफल होंगे। हम सभी कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के नियमों का पूर्णत: पालन करेंगे और लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में उत्तराखंड के लिए एक लाख करोड़ रुपये की योजनाओं की स्वीकृति हुई। हमने रेलवे, सड़क, हवाई कनेक्टिविटी की योजनाओं के अलावा किसान, उद्यमी, कारोबारी, व्यापारी, दुकानदार, कमजोर वर्ग, युवा, महिला सहित हर वर्ग के हितों के लिए काम किया। रोजगार देने की शुरुआत की। 21 साल से लंबित परिसंपत्तियों के बंटवारे को निपटाया। हमें पूरा भरोसा है कि भाजपा को फिर से जनता का आशीर्वाद मिलेगा।' 

    उन्होंने आगे कहा कि 'पार्टी अबकी बार साठ पार के नारे को चरितार्थ करेगी। पीएम नरेंद्र मोदी के केंद्र में आने के बाद कई मिथक टूटे, दोबारा सरकार बनाकर हम उत्तराखंड में भी मिथक तोड़ेंगे। राज्य को ऐसी सरकार चाहिए जो केंद्र में भी हो। धामी ने पार्टी का नारा सुनाया, न काले हाथ में आएगी, न झाड़ू पाएगी विकास की लक्ष्मी कमल के फूल पर आएगी।'

    खटीमा मेरा प्यार - धामी
    मुख्यमंत्री ने कहा कि खटीमा उनका पहला और आखिरी प्यार है। उन्होंने खटीमा विधानसभा से अलग दूसरी विधानसभा से चुनाव लड़ने की चर्चाओं को अफवाह करार दिया। उन्होंने कहा कि खटीमा उनकी कर्मभूमि है और इसे छोड़कर वह कहीं नहीं जाने वाले।

    और भी...

  • उत्तराखंड में इस तारीख को होगा चुनाव, जानें क्या हैं नियम और पाबंदियां, 10 को मतगणना

    उत्तराखंड में इस तारीख को होगा चुनाव, जानें क्या हैं नियम और पाबंदियां, 10 को मतगणना

     

    5 States Assembly Election 2022 Dates: कोरोना (Corona) महामारी के बीच शनिवार 8 जनवरी 2022 को चुनाव आयोग (EC) ने 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Election 2022) की तारीखों का ऐलान कर दिया है। इस साल उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा के चुनाव होने हैं। गोवा, पंजाब और उत्तराखंड में 14 फरवरी को मतदान होगा। उत्तराखंड में एक फेज में चुनाव होगा।
     
    आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में आचार संहिता लागू हो गई है। निर्वाचन आयोग ने दिल्ली के विज्ञान भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आचार संहिता की घोषणा कर दी है। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही आचार सहिंता लागू हो गई है।

    चुनाव आयोग ने कहा कि कोरोना काल में चुनाव कराना एक बड़ी चुनौती है। कोविड को देखते हुए नए प्रोटोकाल में अगले विधानसभा चुनाव में होंगे। इस बार 5 राज्यों की 690 विधानसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। चुनाव आयोग ने 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों का ऐलान करते हुए कहा कि इस बार 7 चरणों में चुनाव होंगे। 

    चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि 10 मार्च को पांच राज्यों में मतगणना होगी। कोरोना गाइडलाइन्स के तहत नियमों का पालन करना जरूरी होगा। परिणामों की घोषणा के बाद जश्न की अनुमति नहीं होगी। मतगणना के बाद किसी भी तरह के रोड शो की अनुमति भी नहीं होगी।

    और भी...

  • उत्तराखंड: PM मोदी के बाद पूर्व सीएम हरीश रावत की सुरक्षा में चूक, मंच पर छुरा लेकर पहुंचा शख्स

    उत्तराखंड: PM मोदी के बाद पूर्व सीएम हरीश रावत की सुरक्षा में चूक, मंच पर छुरा लेकर पहुंचा शख्स

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के बाद उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, काशीपुर में एक युवक छुरा लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत के मंच पर पहुंच गया। इसके बाद कार्यक्रम में अफरा तफरी मच गई।

    बताया जा रहा है कि पूर्व सीएम कांग्रेस के सदस्यता अभियान में बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर एक कार्यक्रम में शिरकत करने काशीपुर पहुंचे थे। जब हरीश रावत कार्यक्रम को संबोधित करने के बाद मंच से नीचे उतरे, तभी एक व्यक्ति मंच पर छुरा लेकर पहुंच गया और माइक पर जय श्रीराम के नारे लगाने शुरू कर दिए। 

    Also- BUDGAM ENCOUNTER: बडगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर

    जब कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विरोध किया और माइक बंद कर दिया तभी व्यक्ति आक्रोशित हो गया और उसने अचानक छुरा निकाल लिया और जय श्री राम नहीं बोलने पर जान से मारने की धमकी दी। तत्काल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने उसे मंच से नीचे उतारा और छुरे को अपने कब्जे में लेकर व्यक्ति को पुलिस के हवाले कर दिया। हलांकि, इस दौरान कार्यक्रम में अफरा तफरी मच गई। कांग्रेस का आरोप है कि यह प्रशासन की बड़ी चूक है। 

    और भी...

  • उत्तराखंड में बारिश-बर्फबारी ने बढ़ाई ठंड, अगले 24 घंटे बिगड़ा रहेगा मौसम का मिजाज

    उत्तराखंड में बारिश-बर्फबारी ने बढ़ाई ठंड, अगले 24 घंटे बिगड़ा रहेगा मौसम का मिजाज

     

    उत्तराखंड (Uttarakhand) में भी एक बार फिर पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता ने मैदान से लेकर पहाड़ तक मौसम का मिजाज बदल दिया है। मंगलवार को प्रदेश के मैदानी इलाकों में हल्की बारिश और चारधाम, पिथौरागढ़ समेत ऊंची पहाड़ियों पर बर्फबारी होने से ठंड बढ़ गई है।


    मौसम विशेषज्ञों ने प्रदेश में बुधवार यानी आज प्रदेश के कुछ स्थानों पर भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना जताई है। अगले पांच दिनों तक मौसम के मिजाज में इसी तरह उतार-चढ़ाव बना रहेगा। बारिश और बर्फबारी से पूरे प्रदेश में दिन में भी ठंड बढ़ गई है। बारिश को रबी की फसलों और बर्फबारी को सेब जैसी फसलों की बागबानी के लिए लाभदायक बताया गया है।


    मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार, अगले 24 घंटे मौसम का मिजाज इसी तरह बिगड़ा रहेगा। मैदान से लेकर पहाड़ तक बारिश-बर्फबारी की संभावना जताई गई है। कई जिलों में शीतलहर चलने के आसार हैं। वहीं छह और सात जनवरी को थोड़ी राहत मिलने की उम्मीद है, लेकिन आठ जनवरी को एक बार फिर मौसम में जबरदस्त बदलाव देखने को मिल सकता है।

    और भी...

  • Bullibai App: उत्तराखंड की महिला का था प्लान, इंजीनियर ने किया खुलासा, दोनों गिरफ्तार

    Bullibai App: उत्तराखंड की महिला का था प्लान, इंजीनियर ने किया खुलासा, दोनों गिरफ्तार

     

    'बुल्ली बाई एप' (Bullibai App) मामले में मंगलवार को मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। इस व्यक्ति की पहचान  21 वर्षीय विशाल कुमार के रूप में की गई है, जोकि इंजीनियरिंग का छात्र है और उसे सोमवार को बेंगलुरु से हिरासत में लिया गया था। 

    इस मामले में मुंबई पुलिस ने बताया है कि मामले में मुख्य आरोपी एक महिला है जिसे उत्तराखंड से गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों आरोपी एक दूसरे को पहले से ही जानते हैं। पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी महिला बुल्ली बाई एप से संबंधित तीन अकाउंट का संचालन कर रही थी। 

    पुलिस ने आगे बताया कि मामले में सह आरोपी विशाल कुमार ने खालसा सुप्रीमैसिस्ट (Khalsa Supremacist) के नाम से एक एक अकाउंट शुरू किया था। इसके बाद 31 दिसंबर 2021 को उसने अन्य अकाउंट के भी नाम  बदल कर सिख नामों से मिलते-जुलते कर दिए थे।

    'सुल्ली डील्स' और 'बुल्ली बाई एप' 
    कुछ प्रमुख हस्तियों समेत सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की एडिट की गई तस्वीरें बिना उनकी अनुमति के बुल्ली बाई एप पर ‘नीलामी’ के लिए रखी गई हैं। यह पहली बार नहीं है ऐसा मामला दूसरी बार सामने आया है। यह पिछले साल विवादों में आए बिल्कुल ‘सुल्ली डील्स’ जैसा ही है।

    और भी...