हिमाचल प्रदेश

  • होम
  • हिमाचल प्रदेश
  • Himachal: लाहौल-स्पीति में भयानक सड़क हादसे, तीन लोगों की मौत, तीन घायल

    Himachal: लाहौल-स्पीति में भयानक सड़क हादसे, तीन लोगों की मौत, तीन घायल

     

    हिमाचल  से आए दिन सड़क हादसे की खबरें आती रहती हैं। ताजा मामला हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति (Lahaul-Spiti) का है, जहां एक सड़क हादसे (Road Accident) में तीन लोगों की मौत हो गई है। यह हादसा लाहौल-स्पीति के काजा मंडल के माने गांव के पास हुआ है। जानकारी के मुताबिक हादसे में एक जीप भी दुर्घटनाग्रस्त हो  गई है। हादसे में

    जानकारों की मानें तो एक जीप (Jeep) दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस जीप में सवार तीन लोगों को मौत हो गई जबकि तीन लोग घायल हो हुए हैं। यह हादसा रविवार रात को माने पुल के पास हुआ था। जहां गाड़ी के खाई में गिरने से मौके पर ही तीन लोगों की दम तोड़ दिया, वहीं तीन लोगों को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गाड़ी के खाई में गिरने से तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई हादसे की जानकारी के बाद पुलिस बल मौके पर पहुंचा जिसके बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा सका।

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृतकों की पहचान 40 वर्षीय सरपू मल्हा पुत्र जोपा मल्हा निवासी नेपाल, 23 वर्षीय टेक बहादुर पुत्र शेर बहादुर निवासी नेपाल व 45 वर्षीय वर्दी मलाह निवासी नेपाल के रूप में की गई है। हादसा का कारण  सड़क की फिसलन को मारा गया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच जुटी हुई है। इसके अलावा घायलों की पहचान केसंग पुत्र नवांग लोटे गांव लिडांग पीओ लारा तहसील स्पीति, कल्पना पत्नी टेक बहादुर आरओ नेपाल तथा पार्वती पत्नी जोपा आरओ नेपाल के रूप में हुई है। सभी घायलों का काजा अस्पताल में इलाज जारी है।

    और भी...

  • Himachal By-Election: 104 वर्षीय श्याम शरण नेगी कल्पा से डालेंगे वोट, रेड कारपेट पर होगा स्वागत

    Himachal By-Election: 104 वर्षीय श्याम शरण नेगी कल्पा से डालेंगे वोट, रेड कारपेट पर होगा स्वागत

     

    Himachal By-Election: देश के कई राज्यों में चुनाव आयोग के उपचुनावों की घोषणा कर दी है। उपचुनावों के लिए 30 अक्टूबर को वोटिंग होनी है। वहीं, हिमाचल प्रदेश में अपना वोट डालने के लिए वोटरों में भी काफी उत्साह देखा जा रहा है। ऐसे ही 104 साल के एक वोटर श्याम शरण नेगी (Voter Shyam Sharan Negi) के मतदान के जज्बे को देखकर आप हैरान रह जाएंगे। बता दें कि प्रदेश में उपचुनाव के दौरान 13729 मतदाता ऐसे हैं, जिन्होंने पोस्टल बैलेट (Postal Ballot) की सुविधा के लिए आवेदन किया, लेकिन 104 वर्षीय देश के प्रथम मतदाता श्याम सरण नेगी ने कहा कि 30 अक्तूबर को वह मतदान केंद्र में जाकर अपना वोट डालेंगे। यही नहीं प्रशासन पोलिंग बूथ पर श्याम शरण नेगी का स्वागत रेड कारपेट बिछाकर करेगा।

    बता दें कि चुनाव आयोग ने इस उपचुनाव में पहली बार 80 साल से ज्यादा उम्र और दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट की सुविधा शुरू की है। वहीं नेगी ने कहा कि आजादी के बाद से आज तक कोई ऐसा चुनाव नहीं है, जिसमें वोट न डाला हो। नेगी का घर कल्पा के वार्ड नंबर एक में आता है। चुनाव आयोग के ब्रांड एंबेसडर रहे नेगी ने कहा कि वह पहले रोजाना चुनाव के बारे में रेडियो से सुनते थे। उनके पुत्र सीपी नेगी ने बताया कि पिता की अब सुनने और देखने की क्षमता कम हो गई है। इस कारण वे ज्यादा बोल नहीं पा रहे हैं। 

    आपको बता दें कि श्याम सरण नेगी का जन्म जुलाई 1917 को किन्नौर के कल्पा में हुआ। वे 10 साल की उम्र में स्कूल गए नेगी की पांचवीं तक की पढ़ाई कल्पा में हुई। इसके बाद पढ़ाई के लिए रामपुर गए। पढ़ाई के लिए पैदल की रामपुर गए। रामपुर जाने के लिए पैदल तीन दिन लगते थे। उन्होंने अपनी नौवीं कक्षा तक की पढ़ाई रामपुर में ही की। उम्र ज्यादा होने से 10वीं कक्षा में प्रवेश नहीं मिला। मास्टर श्याम सरण नेगी ने शुरू में 1940 से 1946 तक वन विभाग में वन गार्ड की नौकरी की। उसके बाद शिक्षा विभाग में चले गए और कल्पा लोअर मिडल स्कूल में अध्यापक बने। उपायुक्त किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने बताया कि श्याम शरण नेगी ने स्वयं मतदान केंद्र पर आकर वोट डालने के लिए हामी भरी है।

    और भी...

  • Himachal: किन्नौर बना देश का पहला जिला, 100 फीसदी हुआ वैक्सीनेशन

    Himachal: किन्नौर बना देश का पहला जिला, 100 फीसदी हुआ वैक्सीनेशन

     

    हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में कोरोना टीकाकरण का 100 फीसदी लक्ष्य पूरा हो गया है। जिले के सभी वयस्कों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगाने का टारगेट बुधवार को पूरा हो गया। इसके साथ ही कोरोना इस लक्ष्य को हासिल करने वाला देश का पहला जिला बन गया है। किन्नौर के जिलाधिकारी आबिद हुसैन सादिक ने कहा, 'यह मुश्किल काम था, लेकिन जिले ने यह टारगेट हासिल कर लिया है। टीका सभी वयस्कों को लगाया जा चुका है।' जिले के सभी 60,305 वयस्कों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी हैं। बता दें कि हिमाचल प्रदेश के सभी वयस्कों को कोरोना टीके की पहली डोज लग चुकी है।

    यह लक्ष्य हासिल करने वाला हिमाचल प्रदेश देश का पहला राज्य था। जिलाधिकारी आबिद ने कहा कि हेल्थ वर्कर्स ने इस टारगेट को हासिल करने के लिए काफी प्रयास किए हैं। उन्होंने कहा कि हेल्थ वर्कर्स ऊंची पहाड़ियों तक पर गए और लोगों को टीका लगाए। दरअसल किन्नौर हिमाचल प्रदेश का दुर्गम पहाड़ियों वाला जिला है। ऐसे में यहां टीकाकरण अभियान मैदानी इलाकों के मुकाबले मुश्किल था, लेकिन हेल्थ अथॉरिटीज के प्रयासों से यह लक्ष्य हासिल हो चुका है। हिमाचल प्रदेश में अगस्त में ही सूबे के सभी वयस्कों को कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लग गया था। 

    बता दें कि कोरोना वायरस के नए केसों में भी टीकाकरण के अभियान में तेजी के चलते गिरावट देखने को मिल रही है। गुरुवार को आए आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में देश में 20,000 से कम केस मिले हैं। यह लगातार छठा दिन था, जब कोरोना के नए केसों का आंकड़ा 20,000 से कम रहा है। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, बिहार, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड जैसे उत्तर भारत के राज्यों में कोरोना केसों की संख्या अब सैकड़े के करीब ही रह गई है। इससे देश भर में कोरोना से राहत मिल रही है। यही नहीं केरल, महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे राज्यों में भी तेजी से कमी आई है।
           

    और भी...

  • हिमाचल किसानों को पंजाब में धान बेचना पड़ा भारी, पंजाब पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रालियों को किया सीज

    हिमाचल किसानों को पंजाब में धान बेचना पड़ा भारी, पंजाब पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रालियों को किया सीज

     

    हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के किसानों को पंजाब में धान बेचना महंगा पड़ गया। धान लेकर प्रदेश के किसानों (Farmer) की ट्रैक्टर-ट्राली जैसे ही पंजाब कृषि मंडी पहुंची तो किसानों के ट्रैक्टर सीज (Tractor Seize) कर मामले दर्ज कर दिए गए। पंजाब सरकार (Punjab Government) ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बाहरी राज्यों के लिए धान बेचने पर पाबंदी लगा दी है। जानकारी के मुताबिक दभोटा गांव के रणजीत सिंह और दुगरी गांव के लखविंद्र और बलविंद्र तीन ट्रैक्टर ट्रालियां में धान लोडकर पंजाब की भरतगढ़ अनाज मंडी पहुंचे। जैसे ही सूबे के किसानों का धान वहां पहुंचा, आढ़तियों ने भरतगढ़ पुलिस को बुलाकर किसानों के ट्रैक्टर सीज कर उनके खिलाफ धान बेचने के आरोप में मामला दर्ज कर लिया।

    किसानों ने बताया कि उनकी पंजाब में जमीन है और वह उसी जमीन का धान लेकर मंडी गए थे, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। 15 दिन से किसानों की धान की फसल खेतों में पड़े-पड़े खराब होने लगी है। ढेर में रखे धान का रंग काला पड़ गया है। प्रदेश में न तो खरीद केंद्र है और न खरीदार, जबकि पंजाब में फसल बेचने जाओं तो उन पर मामले दर्ज हो रहे हैं। उधर, भरतगढ़ के पुलिस चौकी प्रभारी एसआई बलदीप सिंह ने मामला दर्ज होने की पुष्टि की है। 

    उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार के आदेश हैं कि कोई भी बाहरी राज्य का किसान पंजाब की मंडियों में एमएसपी पर अपना उत्पाद नहीं बेच सकता। पुलिस ने इनके खिलाफ धारा 420 व 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है। हिमाचल प्रदेश में किसानों को एमएसपी का लाभ देने के लिए राज्य सरकार भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से 15 अक्तूबर से धान की खरीद करने जा रही है। इसको लेकर पांवटा साहिब, ऊना, नालागढ़, रियाली फ तेहपुर, अनाज मंडी फ तेहपुर और इंदौरा के त्यौरा में मंडियां खोली जा रही हैं। सरकारी खरीद ना होने से प्रदेश के किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

    और भी...

  • हिमाचल सरकार की इन 18 डिग्री कॉलेजों को एक-एक करोड़ रुपये की सौगात

    हिमाचल सरकार की इन 18 डिग्री कॉलेजों को एक-एक करोड़ रुपये की सौगात

     

    हिमाचल सरकार का प्रदेश में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए एक नई पहल की है। प्रदेश सरकार ने बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए प्रदेश के 18 उत्कृष्ट डिग्री कॉलेजों को एक-एक करोड़ रुपये की अनुदान राशि देने का ऐलान किया है।

    इसमें सभी कॉलेज भवन बाहर से लेकर अंदर तक एक रंग के होंगे। इन कॉलेजों में फर्नीचर भी एक जैसी खरीदना होगा। सांस्कृतिक और खेल गतिविधियों पर 20-20 लाख रुपये खर्च होंगे। मंगलवार को उच्च शिक्षा निदेशालय में 18 उत्कृष्ट कॉलेजों के प्रिंसिपलों और वरिष्ठ प्रवक्ताओं के साथ उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने बैठक की। उच्च शिक्षा निदेशालय ने कॉलेजों का चयन कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

    उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने बताया कि इन 18 उत्कृष्ट कॉलेजों के द्वार के साथ इलेक्ट्रॉनिक नोटिस बोर्ड लगाया जाएगा। यहां विद्यार्थियों को कॉलेज से संबंधित हर जानकारी उपलब्ध होगी। इन कॉलेजों में वर्चुअल कक्षाएं भी एक सी होंगी। नए विषयों को शुरू किया जाएगा। 
    निदेशक ने बताया कि इन कॉलेजों में कॅरिअर और गाइडेंस सेल को मजबूत बनाया जाएगा। प्रवेश प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। पुस्तकालयों में सुधार किया जाएगा। वेबसाइट की सुविधा दी जाएगी। विद्यार्थियों की हाजिरी इलेक्ट्रानिक माध्यम से लगाई जाएगी। ई रिसोर्स का प्रयोग भी किया जाएगा। बैठक में अतिरिक्त निदेशक डॉ. प्रमोद चौहान, डॉ. अशीथ मिश्रा, डॉ. हरीश सहित उत्कृष्ट कॉलेजों के प्रिंसिपल और वरिष्ठ प्रवक्ता मौजूद रहे।

    इन कॉलेजों को मिलेगी राशि

    डिग्री कॉलेज कोटशेरा, जोगिंद्रनगर, नूरपुर, बिलासपुर, कुल्लू, ऊना, नालागढ़, नादौन, पावंटा साहिब, हमीरपुर, अंब, चंबा, थुरल, सरकाघाट, ठियोग, अर्की, शिलाई और ढलियारा कॉलेज को उत्कृष्ट कॉलेज बनाने का फैसला लिया गया है।

    और भी...

  • Himachal By-Election: महंगाई पर कांग्रेस प्रभारी ने भाजपा पे साधा निशाना, कही ये बड़ी बात

    Himachal By-Election: महंगाई पर कांग्रेस प्रभारी ने भाजपा पे साधा निशाना, कही ये बड़ी बात

     

    Himachal By-Election: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में इसी माह के अंत में तीन विधानसभा व एक लोकसभा सीट (Lok Sabha seat) पर उपचुनाव होने हैं। चुनावों को लेकर अब पार्टियों में आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला भी शुरू हो गया है। प्रदेश में इन चारों सीटों पर 30 अक्तूबर को वोटिंग होनी है। इन चुनावों में सेब के कम दाम और महंगाई एक बड़ा मुद्दा है। महंगाई को लेकर कांग्रेस के प्रभारी राजीव शुक्ला (Rajiv Shukla) ने भाजपा पर हमला किया है। 

    उन्होंने कहा कि आज देश की जनता कह रही है कि उनके बुरे दिन वापस लौटा दो, क्योंकि वहीं उनके अच्छे दिन थे। उन्‍होंने उपचुनाव में सभी चार सीटों पर कांग्रेस के जीतने का दावा किया है। कांग्रेस के प्रभारी राजीव शुक्‍ला यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि आज पेट्रोल के दाम 100 रुपये से ऊपर चले गए हैं और डीजल भी 100 रुपये तक पहुंचने ही वाला है। जबकि रसोई गैस सिलेंडर 1200 से अधिक रुपये में मिल रहा है। बढ़ती किमतों खाद्य पदार्थों के दामों में भी बेतहाशा बढ़ोतरी हो गई है। 

    उन्होंने कहा कि इससे जनता परेशान है इस उपचुनाव में भाजपा को सबक सिखाएगी। साथ ही दावा किया कि प्रदेश में चार सीटों पर हो रहे उपचुनावों को कांग्रेस पार्टी जीतेगी और इस जीत से देश को नई दिशा और दशा का संकेत मिल जाएगा। वहीं उनसे जब कांग्रेस की एकजूटता के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कहा की कांगेस में सबकुछ ठीक है। हम इस उपचुनाव में तीन विधानसभा व एक लोकसभा सीट सहित चारों सीटों को जरूर जितेंगे। वहीं सब के कम रेट पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि इस सरकार में किसान और व्यापरी दोनों ही दुखी हैं। अंत में उन्होंने कहा की हम सत्ता में आने पर स्व. वीरभद्र सिंह द्वारा किए गए विकास को दौहराएंगे। कांग्रेस इन उपचुनावों में जीत के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

    और भी...

  • Himachal में भी गहराया बिजली संकट, बार-बार बिजली कट से परेशान हुए लोग

    Himachal में भी गहराया बिजली संकट, बार-बार बिजली कट से परेशान हुए लोग

     

    हिमाचल प्रदेश में भी अब बिजली संकट गहराने लगा है। लंबे-लंबे कटों पर लोग परेशान हो गए हैं। जानकारों की मानें तो प्रदेश में बिजली संकट की सबसे बड़ी वजह पावर सरप्लस हिमाचल के पास वर्तमान में हाइड्रो सेक्टर में भी उत्पादन गिरा है। जिसकी वजह से थर्मल प्लांट से आने वाले राज्य के शेयर की बिजली भी नहीं आ रही। हालांकि लोड शेडिंग का तुरंत कोई खतरा नहीं है।

    ऊर्जा राज्य हिमाचल में वर्तमान में करीब 11000 मेगावाट बिजली का ही दोहन किया जा रहा है। इनमें से बोर्ड के पास 487 मेगावाट, पावर कारपोरेशन के पास 265 मेगावाट, केंद्रीय और संयुक्त क्षेत्र में सबसे ज्यादा 7500 मेगावाट, हिमऊर्जा के पास 315 मेगावाट, स्वतंत्र ऊर्जा उत्पादकों के पास 2010 मेगावाट और राज्य के हिस्से के 160 मेगावाट के प्रोजेक्ट हैं।

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश में घरेलू उपभोक्ता 16 लाख से ज्यादा हैं। लेकिन बिजली की खपत उद्योगों में सबसे ज्यादा है। प्रदेश में शनिवार को यूज की गई 318 लाख यूनिट में से सबसे ज्यादा 218 लाख यूनिट उद्योगों में फूंकी गई। घरेलू उपभोक्ताओं ने सिर्फ 100 लाख यूनिट बिजली खर्च की है। वर्तमान में राज्य को न तो बैंकिंग पर किसी अन्य राज्य से बिजली आ रही है, न ही हम ग्रिड की एक्सचेंज के अलावा बिजली बेच रहे हैं।

    अश्वनी सूद का कहान है कि एक तो नदियों में पानी कम होने से उत्पादन गिरा है, दूसरा कोल आधारित संयंत्रों से बिजली का हिस्सा नहीं मिल रहा। इसके बावजूद हम पावर सरप्लस कैटेगरी में हैं। दिक्कत आई, तो भी राज्य में पावर कट लगाने की नौबत नहीं आएगी। जल्द ही समस्या से निजात पाया जाएगा।

     

    और भी...

  • सड़क दुर्घटना: चंबा से लिल्ह जाने वाली बस सड़क से 50 मीटर गिरी नीचे, 34 लोग घायल

    सड़क दुर्घटना: चंबा से लिल्ह जाने वाली बस सड़क से 50 मीटर गिरी नीचे, 34 लोग घायल

     

    शिमला: हिमाचल प्रदेश(Himachal Pradesh) के चम्बा जिले में रविवार को एक सड़क दुर्घटना का मामला सामने आया है। जहां एक भरमौर मार्ग पर बस अनियंत्रित होकर 50 मीटर नीचे जा गिरी। इस हादसे में करीब 34 लोग घायल हो गए। इस घटना की जानकारी देते हुए एक अधिकारी कहा कि अचानक से बस चालक का नियंत्रण वाहन से हट गया जिसके बाद बस एक घर के पास गिर गई।

    दरअसल, बस यह बस लिल्ह से चंबा जा रही थी। उसी समय सरेई नाले के पास गिर गई। उस समय बस में कुल 40 यात्री सफर कर रहे थे। मौके पर मौजूद अधिकारी ने बताया कि बस से यात्रा कर रहे 34 लोगों घायल हो गए हैं। घायलों को चम्बा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया है। फिलहाल पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है।

     

     

    और भी...

  • Himachal High Court: बिजली बोर्ड के कर्मचारी संघ की सिफारिश पर किए जा रहे तबादले गैरकानूनी

    Himachal High Court: बिजली बोर्ड के कर्मचारी संघ की सिफारिश पर किए जा रहे तबादले गैरकानूनी

     

    बिजली बोर्ड के कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों की सिफारिश पर किए जा रहे तबादले के आदेश को हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय(Himachal High Court) ने गैर कानूनी पाये जाने पर कड़ा संज्ञान लिया है। कोर्ट ने कहा कि अगर कोई व्यक्तिगत कर्मचारी, अधिकारी या मान्यता प्राप्त या फिर गैर मान्यता प्राप्त संघ का पदाधिकारी किसी को भी जबरदस्ती या डराने धमकाने या अनुशासनहीन व्यवहार में लिप्त होता है तो नियोक्ता को उसके खिलाफ कानून तौर पर कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र होता है।

    इस पर न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान और न्यायाधीश सत्येन वैद्य की खंडपीठ ने कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 12 और 226 के तहत राज्य की परिभाषा के अंतर्गत आने वाले बोर्ड, निगम या कोई अन्य संस्थान आदि। वे किसी भी व्यक्ति विशेष अथवा संघ या संगठन की ओर से की गई सिफारिशों पर विचार करने और निर्णय लेने के लिए बाध्य नहीं है। कोर्ट कहा कि अगर कभी कोर्ट के समक्ष कर्मचारी संघ या यूनियन की सिफारिश संबंधी मामला आता है, जिसमें कर्मचारी की सहमति न हो, तो संघ को अन्य कार्यवाही के अलावा अयोग्य माना जाएगा।


    इतना ही नहीं कोर्ट ने आदेश दिए कि इस आदेश की प्रति हिमाचल सरकार के मुख्य सचिव और सरकार के सभी विभागों, सभी बोर्डों, निगमों आदि को निर्देश जारी करने के लिए भेज दी जाए। न्यायालय ने कहा कि ऐसा लग रहा है जैसे कि सुशील कुमार के मामले में दिए गए निर्णय का कर्मचारी संघों या यूनियनों पर कोई असर नहीं पड़ा है। न्यायालय ने हालांकि समय से पहले दायर याचिका को खारिज कर दिया।

    और भी...

  • Himachal ByElection:कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए जारी की 20 स्टार प्रचारकों की लिस्ट

    Himachal ByElection:कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए जारी की 20 स्टार प्रचारकों की लिस्ट

     

    नई दिल्ली। कांग्रेस ने 30 अक्टूबर को होने वाले हिमाचल प्रदेश के लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव के लिए 20 स्टार प्रचारकों की घोषणा की है। सूची में भूपेश बघेल, चरणजीत एस चन्नी, भूपिंदर एस हुड्डा, आनंद शर्मा, राजीव शुक्ला, सचिन पायलट, नवजोत सिंह सिद्धू और कन्हैया कुमार आदि के नाम शामिल हैं। हिमाचल प्रदेश में 30 अक्टूबर को होने वाले लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव को लिए कांग्रेस ने जिन 20 स्टार प्रचारकों के नाम जारी किए हैं। वो इस प्रकर हैं...
    1.भूपेश बघेल
    2. चरणजीत सिंह चन्नी
    3.भूपेंद्र सिंह हुड्डा
    4.आनंद शर्मा
    5. राजीव शुक्ला
    6. राज बब्बर
    7. आशा कुमारी
    8. धनीराम शांडिल
    9. सचिन पायलट
    10. गुरकीरत सिंह कोटली
    11. नवजोत सिंह सिद्धू
    12. संजय दत्त
    13. ठाकुर कौल सिंह
    14. सुखविंदर सिंह सुखु
    15. कुलदीप सिंह राठौर
    16. मुकेश अग्निहोत्री
    17. राजेंद्र राणा
    18. धरमवीर सिंह राणा
    19. कन्हैया कुमार
    20. विक्रमादित्य सिंह

    आपको बता दें कि कांग्रेस ने मंगलवार को मंडी लोकसभा सीट और तीन विधानसभा क्षेत्रों अर्की, फतेहपुर और जुब्बल कोटखाई के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी कर चुकी है। कांग्रेस पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह को मंडी लोकसभा से, संजय अवस्थी को अर्की विधानसभा क्षेत्र से, भवानी सिंह पठानिया को फतेहपुर से और रोहित ठाकुर को जुब्बल कोटखाई निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा है।

    और भी...

  • शिमला-मटौर नेशनल हाईवे की मरम्मत के लिए हिमाचल सरकार ने NHI को लिखा पत्र

    शिमला-मटौर नेशनल हाईवे की मरम्मत के लिए हिमाचल सरकार ने NHI को लिखा पत्र

     

    शिमला-मटौर नेशनल हाईवे पर सफर करना दिन-ब-दिन मुश्किल होता जा रहा है। हाईवे की कई जगह से टारिंग उखड़ चुकी हैं। सड़क गढ़े होने से हादसे का डर बना रहता है। ऐसे में प्रदेश सरकार ने एनएच की दशा को सुधारने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया(NHI) को चिट्ठी लिखी है। इतना ही नहीं सरकार ने इस मुद्दे को लेकर नेशनल हाईवे के अधीक्षक अभियंता को भी NHI से लगातार संपर्क करने को कहा है। लोक निर्माण विभाग के प्रधान सचिव सुभाशीष पांडा भी इस हाईवे का जायजा ले चुकी है। हाईवे पर दिन रात वाहनों की आवाजाही लगी रहती है।

    हाईवे का सफर कितना0 जोखिम भरा है इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि हाईवे पर जो गढ़े पानी की निकासी के लिए बनाए गए थे। वो तक मिट्टी से भर चुके हैं। ऐसे में बरसात के मौसम में सड़कें क्या हाईवे पर भी पानी जमा होने का डर रहता है। वहीं कई जगह बैरियर टूटे हुए हैं। बरसात में सड़क के किनारे पर गिरा मलबा अभी तक वहीं पड़ा है। बता दें कि लोक निर्माण विभाग द्वारा एनएच पर पुल का निर्माण किया जा रहा है। ऐसे में लोक निर्माण ने कहा है कुछ सप्ताह के अंदर हाईवे पर वाहनों की आवाजाही को शुरू कर दिया जाएगा। वहीं एनएचआई से भी हाईवे की मरम्मत के लिए लगातार संपर्क साधा जा रहा है।


     

     

     

    और भी...

  • हिमाचल प्रदेश: बिजली बिल में गड़बड़ी करने के आरोप में तीन अफसर निलंबित

    हिमाचल प्रदेश: बिजली बिल में गड़बड़ी करने के आरोप में तीन अफसर निलंबित

     

    हिमाचल प्रदेश से एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां औद्योगिक क्षेत्र कालाअंब, बद्दी, नालागढ़ और पांवटा साहिब में कुछ उद्योगपतियों को बिजली बिल में गड़बड़ी करने के आरोप में अधिशासी अभियंता समेत करीब तीन अफसरों को निलंबित कर दिया गया है। ये तीनों अफसर कालाअंब में कार्यरत थे। इस मामले में बोर्ड ने 10 सहायक और कनिष्ठ अभियंताओं पर जांच बैठा दी है। मामले में अफसरों को नोटिस भेजा कर जवाब तलब किया गया है।

    दरअसल, यह कार्रवाई बिजली बोर्ड मुख्यालय कुमार हाउस शिमला से प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्रों के निरीक्षण पर गई आईटी टीमों की रिपोर्ट के आधार पर की गई है। बोर्ड ने मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए दो वरिष्ठ सहायकों समेत तत्कालीन सहायक अभियंता, जो की अब अधिशासी अभियंता हैं, उन्हें निलंबित कर दिया है।

    बता दें कि पिछले दिनों औद्योगिक क्षेत्रों कालाअंब, बद्दी, नालागढ़ और पांवटा साहिब, विद्युत बिलिंग प्रणाली में बोर्ड की कामर्शियल कार्यालय आईटी कार्य निरीक्षण टीम ने अनियमितताएं पाई थी। इसी रिपोर्ट के आधार पर बोर्ड ने कार्रवाई की है। रिपोर्ट के अनुसार इन सभी अधिकारियों पर कुछ उद्योगों को फायदा देने की कोशिश करने और बिजली बोर्ड को हानि पहुंचाने की आशंका का आरोप है। इस पर बोर्ड के प्रबंध निदेशक पंकज डढवाल ने कहा कि बोर्ड के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को अपनी पूरी ऊर्जा से अपना कार्य करना चाहिए। बोर्ड का काम प्रदेश की जनता को सारी सुविधाएं देना है। इस काम में किसी भी तरह की कोताही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।।   

     

     

     

     

    और भी...

  • HP पुलिस विभाग ने शुरू की कॉन्स्टेबल पद पर भर्तियां, 31 अक्टूबर तक कर सकते है आवेदन

    HP पुलिस विभाग ने शुरू की कॉन्स्टेबल पद पर भर्तियां, 31 अक्टूबर तक कर सकते है आवेदन

    हिमाचल प्रदेश पुलिस विभाग ने शुरू की कॉन्स्टेबल पद पर भर्तियां, 31 अक्टूबर है आवेदन की आखिरी तारिख

     

    हिमाचल प्रदेश पुलिस विभाग, शिमला ने कॉन्सेटबल पद पर भर्ती शुरू कर दी है। विभाग के तरफ से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक पुलिस कॉन्स्टेबल जनरल ड्यूटी के लिए 1000 से ज्याद रिक्तयों पर महिला और पुरुष उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। यह आवेदन 1 अक्टूबर 2021 से शुरू हो चुके हैं।

    हिमाचल प्रदेश पुलिस भर्ती में कॉन्स्टेबल पदों पर कुल 1334 रिक्तियां खाली हैं। अगर आपने 12वीं पास कर ली है और सरकारी नौकरी की तलाश में है तो आप इस नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन जमा करने की आखिरी तारिख 31 अक्टूबर 2021 है।


    पुलिस भर्ती में खाली पदों की पूरी जानकारी

    जीडी कॉन्स्टेबल पुरुष के लिए खाली पद - 932

    जीडी कॉन्स्टेबल महिला के लिए खाली पद- 311

    कॉन्स्टेबल ड्राइवर पुरुष के लिए खाली पद - 91

    कुल खाली पद - 1334
     

    आवेदन के लिए शैक्षणिक योग्यता
    आवेदन के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं पास होना या कोई किसी अन्य समकक्ष परीक्षा में उत्तीर्ण होना जरूरी है।

    आवेदन के लिए आयु सीमा

     योग्य आवेदकों की उम्र कम से कम 18 वर्ष, जबकि अधिकतम 25 वर्ष है। सरकार के नियमों के मुताबिक कुछ आयु में छूट दी जाएगी।


    आवेदन के लिए चयन प्रक्रिया
    उम्मीदवारों का चयन शारीरिक मानक परीक्षण, शारीरिक दक्षता परीक्षा और एक लिखित परीक्षा के लिए उपस्थित होने के बाद किया जाएगा और इन टेस्ट और मूल्यांकन के आधार पर मेरिट सूची को जारी किया जाएगा।

    पुलिस भर्ती के लिए फिजिकल एफिसिएंशी टेस्ट
    ऊंचाई-

    पुरुष:  5'-6"

    महिला: 5'-6"
    केवल छाती पुरुष: 31 ”x 32”

    पुरुष: दौड़- 06 मिनट 30 सेकंड में 1500 मीटर।
    महिला: रेस- 06 मिनट 30 सेकंड में 800 मीटर।
    पुरुष: ऊंची कूद- 1.25 मीटर, महिला-  1 मीटर
    पुरुष: लंबी कूद- 4 मीटर, महिला- 3 मीटर
    सिर्फ हिमाचल प्रदेश अधिवास उम्मीदवारों के लिए।

    कैसे कर सकते हैं अप्लाई?

    अप्लाई करने के लिए हिमाचल प्रदेश पुलिस विभाग की आधिकारिक वेबसाइट recruitment.hppolice.gov.in जाएं और रिक्तियों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

    और भी...

  • सिरमौर की बेटी मानसी अरोड़ा ने रोशन किया हिमाचल प्रदेश का नाम, पंजाब विश्वविद्यालय में किया टॉप

    सिरमौर की बेटी मानसी अरोड़ा ने रोशन किया हिमाचल प्रदेश का नाम, पंजाब विश्वविद्यालय में किया टॉप

     

    हिमाचल प्रदेश की बेटी मानसी अरोड़ा ने पंजाब विश्वविद्यालय से हिस्ट्री आनर्स(कल स्नातक) में टॉप किया है। मानसी अरोड़ा जिला सिरमौर के उपमंडल पच्छाद मुख्यालय सराहां की रहने वाली हैं। मानसी के पिता सिरमौर जिला में एक प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर काम करते हैं। वह अभी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग में जिला कल्याण अधिकारी के पद पर हैं, जबकी उनकी माता देवेश्वरी अरोड़ा एक गृहणी हैं।

    मानसी ने हिस्ट्री ऑनर्स में 800 में से 717 अंक अर्जित कर टॉप किया है। मानसी की इस सफलता से पूरे हिमाचल का नाम रोशन हुआ है। मानसी की इस सफलता पर उनके अभिभावाकों को लगातार शानदार उपलब्धि पर बधाई दी जा रही है। मानसी ने अपनी इस सफलता का सारा श्रेय अपने माता-पिता को दिया है। बता दें कि इससे पहले मानसी ने दसवीं बोर्ड में भी मेरिट में पूरे हिमाचल प्रदेश में सातवां स्थान प्राप्त किया था। 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद तीन साल पहले पंजाब विश्वविद्यालय के एमसीएम डीएवी कॉलेज फॉर वूमेन चंडीगढ़ में एडमिशन लिया था।

    हाल ही में पंजाब विश्वविद्यालय ने स्नातक परिक्षाओं के परिणाम घोषित है, जिसमें हिस्ट्री ऑनर्स में मानसी ने टॉप किया है। मानसी ने इस अवसर पर अपना सपना बताते हुए कहा कि वह अपने पिता की ही तरह प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहती हैं। इसलिए वह इन दिनों एचएएस और आइएएस की तैयारियों में जुटी हुई हैं।

     

     

    और भी...

  • दर्दनाक हादसा: भावा नदी में गिरी कार, बाप-बेटी की मौके पर मौत

    दर्दनाक हादसा: भावा नदी में गिरी कार, बाप-बेटी की मौके पर मौत

     

    हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में शनिवार को एक दर्दनाक हादसे में बाप-बेटी की जान चली गई। यह मामला भावावेली का है, जहां बेई झरने के पास एक कार अनियंत्रित होकर 400 मीटर नीचे गहरी खाई में गिरकर भावा नदी पहुंच गई। जानकारी के मुताबिक खाई में गिरते समय कार में बाप-बेटी सवार थे। हादसे में दोनों की ही मौके पर ही मौत हो गई। खाई में गिरने से गाड़ी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है।

    मामले पर कटगांव पुलिस चौकी इंचार्ज एएसआई रमेश चंद का कहना है कि शनिवार सुबह करीब 7:30 बजे उन्हें सूचना मिली कि बेई झरने के साथ एक काली रंग की गाड़ी अनियंत्रित होकर सड़क से करीब 400 मीटर नीचे भावा नदी में गिर गई है। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों बाप-बेटी के शवों को कब्जे में लेकर अस्पताल भेजा। मृतकों की पहचान श्याम सिंह (47) और कामिनी(21) शांगो डाकघर कटगांव निवासी के रूप में हुई है। दोनों के शवों को पोस्टमार्टम पीएचसी कटगांव में कराया जा रहा है।

    एएसआई रमेश चंद के मुताबिक गाड़ी में सिर्फ पिता और पुत्री ही मौजूद थे, जो वांगतू की ओर से अपने गांव शांगो जा रहे थे। तभी बेई के पास झरने के पास गाड़ी अनियंत्रित होकर सड़क से नीचे जा नदी में जा गिरी, जिसमें दोनों की मौत हो गई। फिलहाल दुर्घटना के कारण का सही पता नहीं चल पाया है आगे की जांच जारी है। वहीं, इस पर तहसीलदार निचार चंद्रमोहन ठाकुर का कहना है कि मृतकों के परिजनों को राहत राशि के तौर पर 20-20 हजार की फौरी राहत दे दी गई है।  

     

     

    और भी...