हरियाणा

  • हरियाणा में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 96 हुई, दो लोगों की मौत

    हरियाणा में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 96 हुई, दो लोगों की मौत

     

    हरियाणा में दिल्ली निजामुद्दीन मरकज से लौटे जमातियों के कारण पाजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। उसके बाद में अभी भी कोरोना संक्रमण से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। सूबे में पाजिटिव मरीजों की संख्या पर गौर करें, तो 96 हो गई है, जिसमें से 15 को डिस्चार्ज किया गया। मुख्यमंत्री ने शाम को प्रदेश की जनता के नाम दिए संदेश में कोरोना पाजिटिव की संख्या बढ़कर लगभग 90 तक पहुंचने पर चिंता जाहिर की थी। दिल्ली तबलीगी जमात से लौटे जमातियों के कारण कोरोना पाजिटिव के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। हरियाणा प्रदेश मेंकोरोना संक्रमित की कुल 96 तक पहुंच गई है। इस बात का एलान सोमवार की शाम को सीएम हरियाणा ने भी अपने दैनिक संबोधन के दौरान कर दिया है। इनमें 45 के करीब जमाती भी पॉज़िटिव मिलने की सूचना हैं। राज्य में सबसे ज्यादा तबलीगी लौटकर नूंह में आए हैं। सोमवार को नूह में 14, पलवल में 25 जमातियों के केस, गुरुग्राम 09 केस आए हैं। पंचकूला 2, सिरसा 3, सोनीपत में एक, कैथल में एक, करनाल में 4, फरीदाबाद में 13 मामले, अंबाला 3, भिवानी 2, हिसार में एक, चरखीदादरी एक, पानीपत में एक केस सामने आया हैं। कुलमिलाकर अभी तक सिर्फ 15 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है, इस तरह से संख्या 79 है, जिनका अस्पतालों में उपचार चल रहा है। अकेले पलवल जिले में सबसे ज्यादा 25 जमाती पॉजिटिव पाए हैं। प्रदेश में अब तक दो मौतें हो चुकी हैं, जिनकी पुष्टि राज्य का सेहत विभाग कर रहा है।

    हेल्थ विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया है कि अब तक मरकत से लौटे जिन 44 लोगों में कोरोना का संक्रमण पाया गया है उनमें श्रीलंका के 6 और एक व्यक्ति नेपाल का रहने वाला है। जबकि तमिलनाडू के 5, केरल के 3, वेस्ट बंगाल के 4, तेलंगाना के 2, बिहार के 3, उत्तर प्रदेश के 6, पंजाब के 1, कर्नाटक के 1, चेन्नई के 1, आसाम के 1 और महाराष्ट्र का 1 जमाती पॉज़िटिव है।

    हेल्थ बुलेटिन के तहत सोमवार को 18214 निगरानी में रखा गया है जबकि 13399 लोग घरों में निगरानी में हैं। इसके अलावा अब तक 17402 विदेशी की पहचान की है। अब तक 2194 लोगों के सैम्पल भेजे गए हैं जिनमे से 1639 नेगेटिव जबकि 96 पॉज़िटिव है। अभी 459 की रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा 548 को आइसोलेशन में रखे गए हैं।

    और भी...

  • अब हुक्का पीने वालों पर होगी कार्रवाई

    अब हुक्का पीने वालों पर होगी कार्रवाई

     

    करनाल जिले के उपायुक्त कुमार यादव ने कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार जिले में साधारण हुक्का व पाइप से हुक्का पीने पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह प्रतिबंध आम आदमी के स्वास्थ्य को देखते हुए जनहित में लगाया गया है।

    उपायुक्त ने अपने आदेशों में बताया है कि हुक्का पीने से कोविड-19 के संक्रमण दूसरे आदमी में जाने का अंदेशा बना रहता है, ऐसे में इस बीमारी को रोकने के लिए यह प्रतिबंध जनहित में लगाया गया है। यदि कोई व्यक्ति इसका पालन नहीं करता तो महामारी रोग अधिनियम 1897 की धारा 2 के तहत तथा कोविड-2020 विनियम के अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

    और भी...

  • करनाल के एक अस्पताल से कोरोना संक्रमण संदिग्ध ने किया भागने का प्रयास, हुई मौत

    करनाल के एक अस्पताल से कोरोना संक्रमण संदिग्ध ने किया भागने का प्रयास, हुई मौत

     

    हरियाणा के करनाल के एक सरकारी अस्पताल की छठी मंजिल से गिरने के कारण सोमवार को एक व्यक्ति की मौत हो गई। कोरोना संक्रमण संदिग्ध 55 वर्षीय मरीज ने अस्पताल से भागने के लिए बेडशीट को बांधकर रस्सी बनाई थी। इस प्रयास में नाकाम कोशिश के चलते उसकी मौत हो गई। डिप्टी कमिश्नर (उपायुक्त) निशांत कुमार यादव ने कहा कि पानीपत के रहने वाले मरीज शिव चरण को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज के एक आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था। वह कई बीमारियों से ग्रसित मरीज था।

    वही, उसे 1 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती किया गया था। कल के आकंड़े के अनुसार हरियाणा में रविवार को छह और लोग इस बीमारी से संक्रमित मिले हैं। राज्य में कोविड-19 के मरीजों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 76 हो गया जिनमें से 15 को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है।

    और भी...

  • कैथल में मिला पहला कोरोना वायरस से संक्रमित जमाती

    कैथल में मिला पहला कोरोना वायरस से संक्रमित जमाती

     

    कैथल। अब तक कोरोना वायरस से सुरक्षित कैथल जिले में पहला कोराना संक्रमित व्यक्ति मिला है। संक्रमित व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रशासान हरकत में आ गया है और पूरी सावधानी बरती जा रही है। कोराेना संक्रमित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लेकर कैथल लौटा था। प्रशासन ने उसकी पहचान कर टेस्ट करवाया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अब यह पता लगाया जा रहा है कि वह और किन किन लोगों के संपर्क में आया था।

    कोराेना संक्रमित व्यक्ति सिरसा रोड निवासी है इसलिए इस पूरे इलाके को ही सील कर दिया है और लोगों से कहा जा रहा है कि वो घरों में रहे। कोई भी अगर इस व्यक्ति के संपर्क में आया है तो इसकी जानकारी तुरंत जिला प्रशासन को मुहैया करवाई जाए। काेरोना संक्रमित की उम्र करीब 65 साल है और वह जमात में शामिल होकर आया था। इसके बाद प्रशासन ने उसकी पहचान की और टेस्ट करवाया गया था। अब प्रशासन इस पूरे इलाके में कोराेना के लक्षण वाले व्यक्तियों की जांच करेगा।

    स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमित व्यक्ति के परिवार के पांच सदस्यों को भी आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया है ताकि उनकी भी जांच की जा सके। उन सभी के टेस्ट किए जाएंगे ताकि संक्रमण का पता लगाा जा सके। इसके अलावा एक मदरसा भी सील किया गया है। इसमें अभी भी 15 बच्चे हैं, जिनकी भी जांच की जा जाएगी।

    और भी...

  • पंचकूला: अस्पताल में मरीज का मोबाइल इस्तेमाल करने के बाद कोरोना पॉजिटिव पाई गई नर्स

    पंचकूला: अस्पताल में मरीज का मोबाइल इस्तेमाल करने के बाद कोरोना पॉजिटिव पाई गई नर्स

     

    हरियाणा के पंचकूला सिविल अस्पताल से कोविड 19 संक्रमण का मामला सामने आया है। यहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों की देखभाल कर रही नर्स ने खुद भी इस वायरस की चपेट में आ गई है। बताया जा रहे है कि नर्स ने मरीज के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया, जिसके चलते वह खुद कोरोना वायरस का शिकार हो गई।

    अब उस नर्स को उसी आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है, जहां पर वह पहले कोविड-19 के महिला मरीजों का देखभाल कर रही थी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, उसके घर के चार सदस्यों के साथ ही घर के दो मालिकों को भी क्वारंटाइन किया गया है, जहां वह किराए पर रहती है। 

    वही, पंजकूला के सिविल सर्जन डॉक्टर जसजीत कौर ने कहा, "यह पहला केस था जिसे हैंडल किया जा रहा था और पहले केस में ये सारे प्रोटोकॉल्स समझना मुश्किल था। संक्रमण किसी भी तरह से फैला है, हो सकता है कि वह कोविड-19 मरीज का मोबाइल फोन छूआ हो। हालांकि, हमने आइसोलेशन वॉर्ड में तैनात सभी स्टाफ को सुरक्षा की सभी चीजें दी है।" बता दें कि भारत में कोरोना वायरस (Covid-19) के मामलों की संख्या बढ़कर 1965 तक पहुंच गई है, जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई।

    और भी...

  • कांग्रेस नेता दीपेंद्र हूडा ने बीजेपी-जजपा सरकार पर कसा तंज, बोले- यह सेवा का वक्त, प्रचार का नहीं

    कांग्रेस नेता दीपेंद्र हूडा ने बीजेपी-जजपा सरकार पर कसा तंज, बोले- यह सेवा का वक्त, प्रचार का नहीं

     

    हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हूडा के बेटे दीपेंद्र हूडा ने राज्य की सरकार पर तंज कसा है। दीपेंद्र हूडा ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर एक सैनिटाइजर की बोतल पर सीएम मनोहर लाल खट्टर और डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की फोटो को लेकर फोटो को शेयर किया है। दीपेंद्र हुड्डा ने अपने टि्वटर हैंडल पर लिखा कि बीजेपी और जज्बा को लग रहा है कि यह देश में बीमारी नहीं बल्कि उसके चुनावी रैली चल रही है बीमारी का इस्तेमाल अपने चेहरे चमकाने के लिए करना राजनीति का क्रूर चेहरा है उन्होंने आगे लिखा कि क्या सैनिटाइजर के बाद वह मास्क पर भी अपनी फोटो लगाएंगे। उन्होंने आगे लिखा कि बोतल बरसो तक लोगों को बीजेपी और जजपा की संवेदनहीनता याद दिलाएगी। समय राजनीति का नहीं सेवा का है। बता दें कि हरियाणा में लॉक डाउन के दौरान सरकार लोगों से जागरूक और सावधान रहने के लिए कह रही है। वहीं दूसरी तरफ एक बोतल सैनिटाइजर से भरी हुई है। जिस पर सीएम और डिप्टी सीएम की फोटो लगी हुई है। इसको लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि वह राजनीति न करें बल्कि लोगों की सेवा करें। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक निजामुद्दीन से गुड़गांव पहुंचे 37 लोगों को संदिग्ध हालत में अस्पताल पहुंचाया गया है जिनका यहां इलाज किया जा रहा है। इसको लेकर मंत्रियों के बीच बैठक भी हुई है। बता दें कि हरियाणा के सिरसा, हिसार और फरीदाबाद में नए मामले सामने आने के बाद पूरे प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 25 हो गई है। इसकी जानकारी अधिकारियों ने दी है। वहीं दूसरी तरफ राज्य में लगातार सरकार लोगों से घर में रहने की अपील कर रही है और जरूरी होने पर ही उन्हें कहा है कि वह घर से निकले। इसमें इटली के उन 14 टूरिस्टो को शामिल नहीं किया गया है। जो अभी गुरुग्राम के एक अस्पताल में अपना इलाज करा रहे हैं।

    और भी...

  • लॉकडाउन में पलायन: CM खट्टर ने दिए हरियाणा के सारे बॉर्डर सील करने के निर्देश

    लॉकडाउन में पलायन: CM खट्टर ने दिए हरियाणा के सारे बॉर्डर सील करने के निर्देश

     

    देश में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे है। इस वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार ने भारत में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा कर रखी है। वही, लॉकडाउन के बाद से ही पलायन शुरू हो गया है। ऐसे में पलायन को मद्देनजर रखते हुए हरियाणा की खट्टर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है।

    हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने रविवार को सभी जिला उपायुक्तों को प्रदेश की सभी सीमाओं को सील करने के आदेश दिए ताकि प्रवासी मजदूरों के पलायन को रोका जा सके। खट्टर ने कहा कि प्रवासियों को जहां हैं, वहीं रोक देना चाहिए और किसी को भी अपनी वर्तमान जगह से हिलने नहीं देना चाहिए। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने यह निर्देश उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए बैठक में दिया।

    उन्होंने अधिकारियों से शेल्टर होम अथवा राहत शिविर स्थापित करने व प्रवासी के लिए खाने की व्यवस्था के इंतजाम के भी निर्देश दिए खट्टर ने कहा कि यदि कोई इन शेल्टर होम या राहत शिविरों में रहने से इंकार करे तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने हर जिले में प्रत्येक शिविर के लिए एक नोडल अधिकारी को प्रवासियों के लिए रहने, खाने और चिकित्सकीय सुविधाओं की जिम्मेवारी सौंपने के निर्देश दिए और कहा कि इन शिविरों में भी सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित की जाए।

    सीएम खट्टर ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्गों के साथ विशेष शेल्टर होम या राहत शिविर बनाए जाएं ताकि प्रवासी उनमें रह सकें और कोई भी सड़कों पर घूमता नजर न आए। उन्होंने इसके साथ जिला स्तरीय कॉल सेंटर भी बनाने के निर्देश दिए। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने प्रशासन से गैर सरकारी संगठनों और सामाजिक संस्थाओं की मदद लेने को भी कहा और अधिकारियों को निर्देश दिए कि एनजीओ यदि मदद करना चाहते हैं, स्थिति से निपटने में योगदान दे सकते हैं तो उन्हें यह करने दिया जाए। उन्होंने कहा कि राधा स्वामी सत्संग जैसी कुछ संस्थाओं ने अपने भवन देने की पेशकश की है तो अधिकारियों को ऐसे संगठनों से समन्वय स्थापित कर उन स्थलों पर शेल्टर अथवा राहत शिविर बनाएं।

    और भी...

  • राजस्थान लॉकडाउन में फंस गया परिवार, चोरों ने मकान पर हाथ किया साफ

    राजस्थान लॉकडाउन में फंस गया परिवार, चोरों ने मकान पर हाथ किया साफ

     

    बहादुरगढ़। लॉक डाउन के चलते राजस्थान में ठहरे बहादुरगढ़ निवासी एक परिवार के मकान को चोरों ने निशाना बनाया। चोर इन मकान से एलईडी, पानी की मोटर सहित अन्य सामान चुरा ले गए। पुलिस ने केस दर्ज के जांच शुरू कर दी है। दरअसल, मॉडल टाउन का निवासी तरुण कुमार 20 मार्च को परिवार सहित राजस्थान में एक रिश्तेदार के यहां गया था। वहां कुछ दिन ठहरा। इसी दौरान कोरोना के चलते हालात बिगड़ गए। इस वजह से उसका परिवार अपने घर नहीं लौट पाया और फिलहाल वहीं पर ठहरा हुआ है।

    बुधवार की देर शाम किसी पड़ोसी ने फोन करके तरुण को उनके मकान की कुंडी टूटे होने के बारे में सूचना दी। इसके बाद उन्होंने मॉडल टाउन में रहने वाले अपने परिचित दीपक को घर संभालने के लिए भेजा। दीपक वहां गया तो मकान की कुंडी टूटी हुई भीतर सारा सामान अस्त व्यस्त रहा। एलईडी और पानी की मोटर गायब मिली। कमरों के भीतर से क्या चोरी हुआ है, इसकी पुष्टि तरुण के लौटने के बाद हो सकेगी। उधर, दीपक ने पुलिस को चोरी की सूचना दी। सूचना मिलते ही सिटी पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की। चोरों की पहचान के लिए पुलिस आसपास सीसीटीवी की फुटेज चेक कर रही है।

    और भी...

  • हरियाणा सरकार ने डॉक्टरों की सेवानिवृति को किया निरस्त, कैदियों को पैरोल पर भेजने का फैसला

    हरियाणा सरकार ने डॉक्टरों की सेवानिवृति को किया निरस्त, कैदियों को पैरोल पर भेजने का फैसला

     

    Coronavirus: कोरोना वायरस ने देश और राज्य सरकार को कई ऐसे फैसले लेने पर मजबूर कर दिए जिसके बारे में सरकार ने भी कभी नहीं सोचा होगा। इसी क्रम में हरियाणा सरकार ने कहा है कि उन सभी डॉक्टरों की सेवानिवृत्ति को निरस्त कर दिया जाएगा, जो इसी महीने रिटायर होने वाले थे। साथ ही हरियाणा सरकार ने कैदियों को भी पैरोल पर भेजने का फैसला किया है।

    हरियाणा सरकार ने मेडिकल और पैरामेडिकल के स्टाफ की सेवाओं को बढ़ाने की बात कही है। साथ ही यह भी कहा है कि उन डॉक्टरों की सेवानिवृत्ति को भी निरस्त किया जाएगा जो इसी महीने रिटायर होने वाले हैं। रिपोर्ट के अनुसार ये फैसले संकट समन्वय समिति की बैठक में लिए गए हैं।

    हरियाणा सरकार ने कहा है कि कैदियों को पैरोल पर भेजने की तैयारी चल रही है। इसके अलावा जो कैदी पहले से पैरोल पर हैं, उनके पैरोल की अवधि को 4 सप्ताह के लिए बढ़ाया जाएगा। साथ ही हरियाणा सरकार ने ये भी कहा है कि जो कैदी एक पैरोल के बाद शांति से जेल वापस आ गए, उन्हें 6 सप्ताह के लिए विशेष पैरोल दी जाएगी।

    और भी...

  • कोरोना के चलते पूरा देश लॉकडाउन, हरियाणा के इन जिलों में खुली रहेंगी शराब की दुकानें

    कोरोना के चलते पूरा देश लॉकडाउन, हरियाणा के इन जिलों में खुली रहेंगी शराब की दुकानें

     

    भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इसके मद्देनजर मंगलवार की मध्यरात्रि 12 बजे से पूरे देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है, जिसका ऐलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। जहां एक तरफ लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की दुकानें, मीडिया कर्मियों समेत कई लोगो को बंदी में छूट दी गई है। ऐसे में हरियाण सरकार के मुताबिक लॉकडाउन में आवश्यक वस्तुओं की दुकानों में शराब की दुकान भी शामिल है। लॉकडाउन में हरियाणा के सातों जिलों में शराब की दुकानें खुली रहेंगी, केवल अहाते पूरी तरह से बंद रहेंगे।

    प्रशासन की ओर से दुकानदारों को कहा गया है कि दुकानदार यह ध्यान रखें कि लोग एक साथ इकठ्ठा न हों, और प्रयास किया जाए कि लोग एक-एक मीटर की दूरी पर खड़े हों। हरियाणा के मुख्य सचिव केशनी आनन्द अरोड़ा ने हरियाणा के लॉकडाउन सात जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, रोहतक, झज्जर और पंचकूला के जिला उपायुक्तों को निर्देश दिए कि अंतर जिला बॉर्डर पर नाके लगाकर लोगों की चैकिंग की जाए और पूरी जांच-पड़ताल के बाद ही उन्हें जाने दिया जाए। 

    इसके अलावा इन जिलों में दवाइयों, किराने की दुकानें व अन्य आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी तथा किसी प्रकार की पैकेजिंग की यूनिटें, चीनी व चावल मिलों को बंद नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हर हाल में सोशल डिसटेंसिंग के मानदंडों का पालन करना सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव ने यह निर्देश यहां लॉकडाउन सात जिलों के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान दिए।

    और भी...

  • कोरोना की जाँच कराने पहुंचे मरीजों को भेजा वापिस, चार घंटे देरी से पहुँची टीम

    कोरोना की जाँच कराने पहुंचे मरीजों को भेजा वापिस, चार घंटे देरी से पहुँची टीम

     

    सरकार कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए जनता कर्फ्यू के बाद लाकडाउन करके जनता से सहयोग मांग रही है। वहीं सिविल अस्पताल में कोरोना वायरस के लक्षण जैसे मरीज जांच कराने पहुंच रहे हैं तो डाक्टर उनकी जांच न करके यह कहकर वापिस भेज रहे है कि वे सिर्फ विदेश व विदेशियों के संपर्क में आने वालों की ही जांच कर रहे है। ऐसे में इन मरीजों को प्राथमिक उपचार भी नहीं दिया जा रहा। कोरोना वायरस के सैंपल लेने वाली टीम चार-चार घंटा लेट अस्पताल में पहुंचती है। सोमवार को कोराना वायरस की जांच कराने आए 50 मरीजों को बिना ईलाज वापिस घर भेज दिया गया। ये सभी खांसी, जुकाम व बुखार से पीडि़त थे। कोरोना वायरस के सैंपल देने आए इसराना के विधायक बलबीर वाल्मीकि को भी एक घंटा तक सैंपल देने के लिए इंतजार करना पड़ा। वे भी सरकारी व्यवस्था पर काफी नाराज दिखाई दिए। वहीं दूसरी ओर एमरजेंसी वार्ड में आने वाले मरीजों को भी तीन घंटे तक बाहर धूप में ही खड़ा रहना पड़ा। जिन्हे अंदर भी नहीं जाने दिया गया जिस पर मरीजों को हंगामा करना पड़ा लोगों ने डाक्टरों पर बदतमीजी करने के भी आरोप लगाए। वहीं नेताजी कालोनी की रजनी का कहना है कि 15 दिन से खांसी, जुकाम व तेज बुखार है। तीन दिन से ईलाज के लिए चक्कर काट रहे हैं। निजी अस्पताल में गए तो डाक्टरों ने सिविल अस्पताल में जाने की सलाह दी थी। यहां कोरोना वायरस का टेस्ट कराना था। चार घंटे से रूम के बाहर बैठे है। अब डाक्टर आया तो जांच करने से इंकार कर दिया। गांव काबड़ी के सुरेश का कहना है कि सिविल अस्पताल में किसी की सुनवाई नहीं होती। मरीजों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई दे रहे है न तो डाक्टर परामर्श दे रहे हैं और न ही ईलाज। वहीं इसराना के विधायक बलबीर वाल्मीकि का कहना है कि उन्हे भी एक घंटा तक इंतजार करना पड़ा। जबकि अन्य लोग काफी देर से इंतजार करते रहे। अस्पातल की व्यवस्था ठीक नहीं है। जिसमें सुधार की जरूरत है जो भी पीडि़त आये उसकी जांच होनी चाहिए। वहीं सिविल अस्पताल के एमएस डा. आलोक जैन का कहना है कि डाक्टरों को सैंपल लेने के लिए फोन कर दिया गया था। दोनों डाक्टर आनकाल ड्यूटी पर है। इसलिए शायद लेट हो गए। शहीदी दिवस होने के कारण भी आज सभी ओपीडी बंद थी।

    और भी...

  • कोरोना वायरस: हरियाणा पूरी तरह से लॉकडाउन, CM खट्टर ने किया ऐलान

    कोरोना वायरस: हरियाणा पूरी तरह से लॉकडाउन, CM खट्टर ने किया ऐलान

     

    हरियाणा के सात जिलों में बंदी की घोषणा करने के एक दिन बाद राज्य सरकार ने 23 मार्च, सोमवार को कोरोना वायरस रोधी उपायों को राज्य के बाकी 15 जिलों में भी लागू करने की घोषणा की और यहां भी लॉकडाउन लागू कर दिया। यह बंद आज यानी 23 मार्च आधी रात से लागू होगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा, “हमने रोकथाम से जुड़े उपायों के तहत सात जिलों में बंद का आदेश दिया था। हमने अब फैसला किया है कि इनके अलावा बाकी 15 जिलों में भी 24 मार्च से यह प्रभावी होगा।”

    उन्होंने आगे कहा कि 24 मार्च से अंतरराज्यीय सीमाएं सील रहेंगी और अंतरराज्यीय बस सेवाएं भी स्थगित हैं वही, आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। बता दें कि इससे पहले हरियाणा सरकार ने 22 मार्च को राज्य के सात जिलों में बंद की घोषणा की थी। इनमे गुड़गांव, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, झज्जर, रोहतक और पंचकूला शामिल हैं। कहा गया था कि रविवार रात नौ बजे से लागू यह बंद 31 मार्च तक प्रभावी रहेगा।

    इस दौरान सीएम खट्टर ने कहा कि इस महीने के अंत तक पूरा राज्य बंद रहेगा और 31 मार्च को स्थिति की समीक्षा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने हरियाणा कोरोना राहत कोष (एचसीआरएफ) बनाने की भी घोषणा की और लोगों से स्वेच्छा से इसमें योगदान की अपील की। वही, खट्टर ने अपने निजी खाते से इस कोष में पांच लाख रुपए दान भी दिया। इसके अलावा राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के अब तक 14 पुष्ट मामले सामने आए हैं।

    और भी...

  • कोरोना वायरस : हरियाणा में 31 मार्च तक सात जिलों में लॉकडाउन

    कोरोना वायरस : हरियाणा में 31 मार्च तक सात जिलों में लॉकडाउन

     

    कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए हरियाणा सरकार ने 22 मार्च, रविवार को रात 9.00 बजे से 31 मार्च तक राज्य के सात जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, झज्जर, रोहतक, पंचकूला में लॉकडाउन करने के आदेश दिए हैं। इन जिलों में आम गतिविधियां बंद रहेंगी। यह जानकारी हरियाणा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के एक प्रवक्ता ने दी।

    प्रवक्ता ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोविड-19 को महामारी घोषित किया गया है और हरियाणा में कोरोना के 6600 से अधिक संदिग्ध हैं। ऐसे में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए कड़े सामाजिक भेद और अलगाव के उपायों को अपनाना अत्यावश्यक है, जो दुनिया भर के कई देशों में कहर मचा रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना से संक्रमित लोगों में विदेश से लौटे अधिकांश लोग गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, झज्जर, रोहतक, पंचकूला आदि से हैं।

    हरियाणा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि इन क्षेत्रों में रविवार, 22 मार्च 2020 से 31 मार्च 2020 तक विभिन्न प्रतिबंधों को निर्धारित करते हुए टैक्सी, ऑटो-रिक्शा के संचालन सहित किसी भी सार्वजनिक परिवहन सेवाओं की अनुमति नहीं होगी। जबकि अपवाद के तौर पर अस्पतालों, हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशन से और सभी प्रकार के परिवहन शामिल होंगे। इसी प्रकार सभी दुकानें, वाणिज्यिक प्रतिष्ठान, कार्यालय और कारखाने, कार्यशालाएं, गोदाम भी बंद रहेंगे।

    प्रवक्ता ने कहा कि सभी विदेशी रिटर्न व्यक्तियों को निर्देशित किया गया हैं कि वे स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा तय की गई अवधि के तहत घर पर ही एकांतवास में रहें। उन्होंने आगे बताया कि लोगों को घर पर रहने और केवल बुनियादी चीजों के लिए बाहर आने की आवश्यकता है तथा पहले से जारी सोशल डिस्टेंसिंग दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा। हालांकि, आवश्यक सेवाएं प्रदान करने वाले विभिन्न प्रतिष्ठानों को इन प्रतिबंधों से बाहर रखा जाएगा।

    उन्होंने बताया कि सात जिलों में विभिन्न प्रतिबंधों के अलावा भी पूरे राज्य में सभी अंतरराज्यीय बस सेवाएं निलंबित रहेंगी। सभी उपायुक्त कोविड-19 प्रकोप के लिए अपने-अपने प्रत्येक जिले में नियंत्रण कक्ष स्थापित करेंगे। प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस कमिश्नर, कलेक्टर, डीएम, एडीएम, डीसीपी, एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, बीडीपीओ, नगर निगम आयुक्त, कार्यकारी अधिकारी, शहरी स्थानीय निकायों के सचिव, एसएचओ इसके द्वारा पूर्वोक्त उपायों को लागू करने के लिए सभी आवश्यक कार्रवाई करने हेतु अधिकृत हैं।

    उन्होंने बताया कि स्थानीय पुलिस उपरोक्त अधिकारियों द्वारा अपेक्षित और आवश्यक सहायता प्रदान करेगी। किसी भी व्यक्ति को जो रोकथाम के उपायों का उल्लंघन करते हुए पाया गया है, तो उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (1860 का 45) के तहत दंडनीय अपराध माना जाएगा तथा पूर्व में लगाए गए प्रतिबंध राज्य के बाकी हिस्सों में लागू रहेंगे।

    और भी...

  • 22 मार्च को 'जनता कर्फ्यू' के दौरान हरियाणा रोडवेज को दिल्ली आने-जाने पर रोक

    22 मार्च को 'जनता कर्फ्यू' के दौरान हरियाणा रोडवेज को दिल्ली आने-जाने पर रोक

     

    कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के मद्देनजर हरियाणा रोडवेज की बसें अब दिल्ली नहीं जाएंगी। गुड़गांव से दिल्ली आने-जाने वाली सभी बसों को बंद रखने का फैसला लिया गया है। बता दें कि गुड़गांव में अब तक कोरोना के 4 मामलों की पुष्टी हो चुकी है। दरअसल, हरियाणा सरकार ने 'जनता कर्फ्यू' के दौरान राज्य परिवहन की सभी बसों को बंद रखने का निर्णय लिया है।

    हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आहूत जनता कर्फ्यू के दृष्टिगत 22 मार्च, रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक राज्य परिवहन की सभी बसों का संचालन बंद रहेगा।" इसके अलावा उन्होंने सामान्य दिनों में डिपो महाप्रबंधकों से सवारियों की उपलब्धता को देखते हुए मार्ग पर जाने वाली बसों में कटौती करने तथा आगामी आदेशों तक सभी ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूलों को भी बंद करने को कहा है। 

    मूलचंद शर्मा ने कहा हरियाणा सरकार कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए हर स्तर पर कार्य कर रही है और इसी दिशा में 22 मार्च को बसों का संचालन बंद करने का फैसला लिया गया है ताकि कम से कम लोग एक-दूसरे के सम्पर्क में आएं। वही, परिवहन मंत्री ने निर्देश दिए कि इस महामारी के दृष्टिगत कार्यालयों, बस अड्डों व वर्कशॉप की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए तथा समय-समय पर इनको कीटाण-मुक्त किया जाए। इसी तरह बसों को भी पूरी साफ-सफाई व सेनिटाइजेशन के बाद ही रूटों पर चलाया जाए। 

    उन्होंने कार्यालयों के सभी कर्मचारियों, चालकों और परिचालकों को मास्क उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि जनता कर्फ्यू के दौरान पूरी बस प्रणाली बंद करने के साथ ही हरियाणा सरकार वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए पूरे राज्य में आपराधिक प्रक्रिया सहिंता के तहत धारा-144 लगाने का निर्णय ले चुकी है। इसके तहत 20 या इससे अधिक व्यक्तियों को एक स्थान पर एकत्रित होने पर प्रतिबंध रहेगा। गुरुग्राम तथा फरीदाबाद में यह संख्या पांच तक रहेगी। 

    और भी...

  • रोहतक में बुलेट बाइक सवार ने तोड़ा ट्रैफिक रूल, तो कटा साढ़े 32 हजार का चालान

    रोहतक में बुलेट बाइक सवार ने तोड़ा ट्रैफिक रूल, तो कटा साढ़े 32 हजार का चालान

     

    हरियाणा के रोहतक में बुलेट बाइक द्वारा पटाखे चलाकर राहगीरों को परेशान करने पर पुलिस ने 35 हजार का चालान काटा। दरअसल, शुक्रवार को मॉडल टाउन चौकी के प्रभारी एसआई बीर सिंह ने दिनभर चैकिंग अभियान चलाया। इस दौरान मॉडल टाउन पुलिस ने दो बुलेट बाइकों के चालान किए। उन्होंने कुल पांच बाइकों के चालान काटे।

    वही, दो बाइकों को साइलेंसर बदलवाने समेत अन्य कागजात न होने पर चालान किए गए। इस क्रम में पुलिस ने एक बुलेट बाइक पर 25 हजार का जुुर्माना लगाया गया। जबकि दूसरी बाइक के चालक पर साढ़े 32 हजार का जुर्माना लगाया गया। ये जानकारी खुद पुलिस द्वारा दी गई. उन्होंने बताया कि भविष्य में भी जोरशोर से ऐसे अभियान चलाए जाएंगे।

    और भी...