देश

  • दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं : CM केजरीवाल

    दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं : CM केजरीवाल

     

    राजधानी दिल्ली सहित पूरे देशभर में पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस के मामलों में काफी उछाल देखने को मिला है। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद से कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। हालांकि लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है।

    उन्होंने आगे कहा कि कोरोना जाने वाला नहीं है, अभी कोरोना रहेगा। सोमवार को सीएम केजरीवाल ने कहा, 'पिछले कुछ दिनों में कोरोना के मामले बढ़े हैं मगर चिंता की बात नहीं है, मुझे चिंता तब होगी जब मौत का आंकड़ा बहुत तेजी से बढ़ने लगेगा। अगर कोरोना होता रहें और लोग ठीक होकर घर जाते रहें तो चिंता का विषय नहीं है। जो केस हो रहे हैं वो इतने गंभीर केस न हो कि हमारे अस्पतालों का सिस्टम बैठ जाए अगर ऐसी स्थिति हो जाएगी तब चिंता का विषय होगा।'

    उन्होंने कहा कि 17 मई को लॉकडाउन-4 में काफी ढील दी गई थी जिससे उम्मीद थी कि मामले बढ़ेंगे। सीएम ने आगे कहा कि 17 मई तक दिल्ली में 9755 केस थे और अब 13418 केस है। इस दौरान 3500 नए कोरोना मामले सामने आए हैं। वहीं, इसी दौरान 2500 मरीज ठीक होकर अपने-अपने घर भी गए है।

    प्रेस कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के सरकारी अस्पताल में 3829 बेड है और सिर्फ 1478 पर मरीज है। वहीं, 3164 बेडों पर ऑक्सीजन की व्यस्था है। इसके अलावा निजी अस्पताल में 677 बेड है जिसमें से 509 पर मरीज है। अस्पतालों में 250 से अधिक वेंटीलेटर है।

    उन्होंने कहा कि दिल्ली के 117 अस्पताल में 20 फीसदी बेड कोरोना के लिए होंगे। इससे 2000 बेड बढ़ जाएगा। इसके अलावा उन्होंने बताया कि जीटीबी में 1500 बेड तैयार कर रहे है और सभी पर ऑक्सीजन होगा। यह सारी व्यवस्था अगले 3 से 4 दिन में तैयार हो जाएगी। हम ऐसी व्यस्था तैयार कर रहे है जिससे कोरोना मरीजा को पता चल जाएगा कि उससे किस अस्पताल में जाना है और कहा बेड खाली है। 

    और भी...

  • फ्लाइट में अकेला सफर कर दिल्ली से बेंगलुरु पहुंचा 5 साल का बच्चा, 3 महीने बाद मां से मिला

    फ्लाइट में अकेला सफर कर दिल्ली से बेंगलुरु पहुंचा 5 साल का बच्चा, 3 महीने बाद मां से मिला

     

    कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते दो माह से भारत में विमान सेवा बंद थी जो आज से बहाल हुई है। देशभर में 25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू हो गई है। ऐसे में कई यात्री फ्लाइट से अपने घर पहुंच चुके हैं। इसी बीच पांच साल का एक बच्चा भी अकेले फ्लाइट से दिल्ली से बेंगलुरु ट्रेवल कर अपनी मां के पास पहुंच गया है। जी हां, सुनकर हैरानी हो रही होगी पर ये सच है।

    दरअसल, पांच साल का विहान शर्मा पिछले तीन महीनों से दिल्ली में अपने दादा-दादी के पास था। लॉकडाउन और विमानों का परिचालन बंद की होने की वजह से वह मां के पास नहीं जा पा रहा था। ऐसे में आज जब कुछ उड़ाने दिल्ली से बेंगलुरु के लिए गई तो वह भी उसमें गया।

    वही, बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर अपने बेटे को लेने आई एक मां ने बताया कि मेरा 5 साल का बेटा विहान शर्मा दिल्ली से अकेले यात्रा पर निकला है, वह 3 महीने बाद बेंगलुरु वापस आया है। आपको बता दें कि वैसे तो इतने छोटे बच्चे का विमान में अकेले सफर करना मुमकिन नहीं है, लेकिन विहान को स्पेशल कैटेगरी में शामिल लाया गया। ताकि वह अपने घर से लौट सके।

    और भी...

  • 10 दिनों तक फ्लाइट की मिडिल सीट पर यात्री बिठा सकता है Air India, सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी

    10 दिनों तक फ्लाइट की मिडिल सीट पर यात्री बिठा सकता है Air India, सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी

     

    सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को अगले दस दिनों तक विमान की मिडिल सीटों पर यात्रियों को बिठाने की अनुमति दे दी है। हालांकि 10 दिनों के बाद एयर इंडिया को यात्रा के दौरान विमान के मिडिल की एक सीट खाली छोड़ना होगा। दरअसल, बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ केंद्र और एयर इंडिया की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को मंजूरी दी है

    सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया शरद अरविंद बोबड़े ने कहा, 'अगले 10 दिनों के लिए मध्य सीटों की बुकिंग के साथ एयर इंडिया को विदेशी उड़ानों को संचालित करने की अनुमति दी जाएगी।' सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई ने कहा कि डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) और एयर इंडिया इस मामले की पेंडेंसी के दौरान किसी भी मानदंड को बदलने के लिए स्वतंत्र हैं। वही, याचिका पर सीजेआई बोबड़े ने कहा कि हम नागरिकों के स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं। इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट दो  जून को मामले की सुनवाई करेगा। 

    क्या था बॉम्बे हाई कोर्ट का आदेश 

    गौरतलब है कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने एयर इंडिया को डायरेक्टर ऑफ जनरल सिविल एविएशन के 'सोशल डिस्टेंसिंग' सर्कुलेशन का पालन करने के लिए कहा था, जिसके लिए बीच की सीटों को इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर खाली रखने की जरूरत थी। स्पष्ट शब्दों में कहा जाए तो हाई कोर्ट ने एयर इंडिया को मिडिल सीट की बुकिंग न करने का आदेश दिया था। 

    और भी...

  • महाराष्ट्र सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, नांदेड़ के अस्पताल में चल रहा है इलाज

    महाराष्ट्र सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, नांदेड़ के अस्पताल में चल रहा है इलाज

     

    भारत में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के मामले महाराष्ट्र में है। यहां कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा लगातार तेजी से बढ़ रहा है। इसी कड़ी में अब उद्धव ठाकरे सरकार में  पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट (पीडब्ल्यूडी) मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना की चपेट में आ गए हैं। बता दें कि वह महाराष्ट्र सरकार में दूसरे कोरोना संक्रमित मंत्री हैं। इससे पहले एनसीपी कोटे से मंत्री जितेंद्र अव्हाड़ संक्रमित हुए थे। 

    बताया जाता है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुंबई से मराठवाड़ा स्थित अपने गृह जिले की नियमित यात्रा करते थे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कुछ दिन पहले अशोक चव्हाण को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। पहले उन्हें होम क्वारंटाइन रखा गया था और अब नांदेड़ के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है और उनकी हालत स्थिर है। वही, उन्हें इलाज के लिए मुंबई शिफ्ट करने की तैयारियां चल रही हैं।

    बता दें कि महाराष्ट्र में जानलेवा कोरोना वायरस की वजह से दिन पर दिन स्थिति बिगड़ती जा रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक,  यहां कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 50 हजार के पार चली गई है। राज्य में अब तक 14600 लोग कोरोना मुक्त हुए हैं, जबकि 1635 लोगों की जान जा चुकी है।

    और भी...

  • राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने दी ईद-उल-फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ रहने की कामना की

    राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने दी ईद-उल-फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ रहने की कामना की

     

    कल चांद के दीदार के बाद देशभर में आज यानि सोमवार को ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जा रहा है। इस मौके पर राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने ईद की बधाई दी है। पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, 'ईद मुबारक, ईद-उल-फितर की बधाई। इस विशेष अवसर पर करुणा, भाईचारे और सद्भाव की भावना को आगे बढ़ाएं। सभी लोग स्वस्थ और समृद्ध रहें।'

    इससे पहले राष्ट्रपति कोविंद ने अपने संदेश में लोगों से कहा कि सामाजिक दूरी के नियम का पालन करने का संकल्प लें और कोरोना वायरस की चुनौती से जल्द पार पाने व सुरक्षित रहने के लिए अन्य सभी एहतियात बरतें। वही, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कामना की, 'ईद-उल-फितर से जुड़े महान आदर्श हमारे जीवन में स्वास्थ्य, शांति, समृद्धि और सद्भाव लेकर आएं।' 

    बता दें कि पुरे विश्व में फैले कोरोना वायरस के चलते देश में लॉकडाउन लागू है। ऐसे में दिल्ली के प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरुओं ने रविवार को लोगों से अपील की कि वे ईद मनाते समय सामाजिक मेलजोल से दूरी के नियम पर अमल के साथ-साथ लॉकडाउन नियमों का पालन करें। फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मुकर्रम अहमद ने कहा कि चांद दिख गया है और सोमवार (25 मई) को ईद मनाई जाएगी।

    उन्होंने कहा, 'हमने लोगों से एक-दूसरे को गले लगाने और हाथ मिलाने से बचने के लिए कहा है।' वही, जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने लोगों से सादगी से ईद मनाने और गरीब लोगों तथा अपने पड़ोसियों की मदद करने की अपील की। उन्होंने कहा, 'कोरोना वायरस के कारण ईद की नमाज पारंपरिक तौर पर अदा नहीं की जा सकेगी, लेकिन लोगों समझना चाहिए कि केवल सावधानी बरतने से ही वायरस को हराया जा सकता है।'

    तो इसलिए मनाई जाती है ईद-उल-फितर

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि ईद-उल-फितर मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार है, जो रमजान के महीने के पूरा होने पर मनाया जाता है। ईद-उल-फितर का त्योहार रमजान के 29 या 30 रोजे रखने के बाद चांद देखकर मनाया जाता है। बता दें कि ईद-उल-फितर का चांद दिखाई देने के बाद रमजान का महीना खत्म हो जाता है और शव्वाल का महीना शरू होने के साथ ईद मनाई जाती है, इसलिए चांद के हिसाब की वजह से दुनियाभर में ईद मनाने की तारीख अलग-अलग होती है।

    और भी...

  • भारत में कोविड-19 से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या हुई 1,38,845

    भारत में कोविड-19 से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या हुई 1,38,845

     

    भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में रोजाना तेजी से उछाल आ रहा है। ऐसे में पिछले 24 घंटे में 6977 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं और 154 लोगों की मौत हुई है। इस तरह कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या तकरीबन एक लाख 40 हजार के निकट पहुंच गई है।

    स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 25 मई, सोमवार को जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी कोरोना वायरस के कुल मामले बढ़कर 138845 हो गए हैं। वहीं, मरने वालों की कुल संख्या 4021 हो गई है। इसके अलावा भारत में कुल मामलों में से 77103 अभी भी सक्रिय मामले है। वही, अब तक 57720 लोग ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं।

    और भी...

  • पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश को छोड़ पूरे देश में आज से घरेलू उड़ानें शुरू

    पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश को छोड़ पूरे देश में आज से घरेलू उड़ानें शुरू

     

    कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच देश में दो माह बाद घरेलू उड़ानों का परिचालन आज यानि सोमवार (25 मई) से शुरू हो गया है। लेकिन आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में अभी भी हवाई सेवा की शुरुआत नहीं होने वाली है। ऐसे में दिल्ली एयरपोर्ट से सुबह 4:45 पर पुणे के लिए पहली फ्लाइट रवाना हुई। जबकि मुंबई एयरपोर्ट से सुबह 6:45 पर पहली फ्लाइट पटना के लिए रवाना हुई।

    इससे पहले घरेलू विमान सेवा की शुरुआत को लेकर रविवार को केंद्रीय नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा था, 'देश में नागरिक उड्डयन कार्यों की सिफारिश करने के लिए विभिन्न राज्यों के साथ बातचीत का एक लंबा दिन रहा। आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल को छोड़कर सोमवार से पूरे देश में घरेलू उड़ानों की शुरुआत होगी।' उन्होंने ट्वीट कर हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि सोमवार से मुंबई और राज्य के अन्य हवाई अड्डों से अनुमोदित और अनुसूची के अनुसार मुंबई से सीमित उड़ानें होंगी। वहीं, आंध्र प्रदेश में 26 मई और पश्चिम बंगाल में 28 मई से घरेलू उड़ानों की शुरुआत की जाएगी।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार (24 मई) को गाइडलाइन जारी कर कहा कि राज्य यात्रियों को क्वारंटाइन करने के नियम खुद तय कर सकते हैं। मंत्रालय ने घरेलू उड़ानों, ट्रेन और बस यात्रा के लिए क्वारंटाइन गाइडलाइन जारी कर राज्यों और हवाई यात्रियों की मुश्किलें काफी हद तक दूर कर दी। इसमें कहा गया है कि यात्रा की समाप्ति पर अगर यात्रियों में कोरोना के लक्षण मिलते हैं तभी उन्हें क्वारंटाइन किया जाए। लेकिन राज्य चाहें तो इसमें बदलाव कर स्वयं निर्णय ले सकते हैं किन्हें क्वारंटाइन करना है, किन्हें नहीं या फिर सभी यात्रियों को क्वारंटाइन करना है। राज्य सरकारें अपनी जरूरत के हिसाब से क्वारंटाइन और आइसोलेशन के प्रोटोकाल तय कर सकती है। 

    अब एयरपोर्ट पर यात्रियों को इन नए नियमों का करना होगा पालन 

    उत्तर प्रदेश जाने और आने वाले यात्री ध्यान दें 

    यूपी के बाहर से आने वाले यात्रियों को 14 दिन के होम क्वारंटाइन में रहेंगे। ऐसे में आगमन के छठवें दिन रिपोर्ट निगेटिव आने पर होम क्वारंटाइन खत्म होगा। वही, हवाई अड्डे से निकलने से पहले https://reg.upcovid.in पर अनिवार्य रूप से पंजीकरण करना होगा। इसके अलावा एक सप्ताह से कम समय के लिए जो यात्री आ रहे हैं उन्हें वापसी का पूरा ब्योरा और टिकट देना होगा। किस काम से आए हैं। क्यों और कहां जा रहे हैं। इसका विवरण देना होगा। वे क्वारंटाइन नहीं होंगे। वही, अपने घर आने वाले यात्रियों को स्थानीय जिला प्रशासन जांच के बाद ही जाने देगा। जिला प्रशासन ही होम क्वारंटाइन में छूट देने के लिए जिम्मेदार होगा। इस बीच यूपी से अन्य राज्य जाने वालों को भी जांच से गुजरना पड़ेगा और पंजीकरण करना होगा लौटने का टिकट भी दिखाना होगा। किस काम के लिए जा रहे इसका विवरण देना होगा। 

    तमिलनाडु में व्यक्ति को 14 दिन के क्वारनटीन में रहना होगा 

    तमिलनाडु ने जो नियम बनाए हैं उनके मुताबिक राज्य में आने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाएगी। सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा इसके लिए एयरपोर्ट पर इंतजाम भी किए गए हैं। यात्रियों के सामान को डिसइंफेक्ट किया जाएगा। एयरपोर्ट पर सभी अधिकारी पीपीई किट में रहेंगे। इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण बात है कि राज्य में आने वाले सभी व्यक्ति को 14 दिनों के लिए क्वारनटीन में रहना होगा। 

    पटना आने और जाने वाले यात्रियों के लिए ये है नियम

    पटना एयरपोर्ट पर यात्रियों को जानकारी देने के लिए हेल्पडेस्क बनेगी। हर आने-जाने वाले यात्री की मेडिकल स्क्रीनिंग होगी। एयर टिकट ही वाहन पास का काम करेगा। वाहन से एयरपोर्ट तक आने के लिए टिकट जरूरी होगा। यात्रियों को घर तक पहुंचने के लिए पर्याप्त संख्या में ऑटो, ई-रिक्शा, टैक्सी आदि की व्यवस्था होगी। 

    यात्रियों के लिए दिल्ली सरकार ने जारी की गाइडलाइंस 

    दिल्ली सरकार ने भी अपनी गाइडलाइंस जारी की हैं। जिसमें कहा गया है कि यात्रियों का क्वारनटीन अनिवार्य नहीं होगा। बिना लक्षण वाले यात्रियों को सलाह दी जाएगी कि वह अगले 14 दिन तक अपने स्वास्थ्य को मॉनिटर करें। अगर उनमें कोई लक्षण आता है तो वह तुरंत डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस ऑफिसर को सूचना दें। वही, जिन यात्रियों में कोरोना के लक्षण पाए जाएंगे उनको पास के अस्पताल में तुरंत ले जाया जाएगा और देखा जाएगा कि उनकी असल स्थिति क्या है। अगर पॉजिटिव पाए गए तो प्रोटोकॉल के हिसाब से इलाज होगा और यदि निगेटिव पाए गए तो उन्हें घर जाने की इजाजत होगी लेकिन अगले 7 दिन आइसोलेशन में ही रहना होगा। 

    हिमाचल और चंडीगढ़ जाने वाले यात्री के लिए जरुरी सूचना

    रेड जोन से हिमाचल प्रदेश आने वाले हवाई यात्रियों को 14 दिन पृथक-वास में रहना होगा। हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के होटलों में भुगतान करने पर पृथक-वास की सुविधाएं मिलेंगी। पर्यटकों को जिले में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी और उन्हें तत्काल पृथक-वास में रखा जाएगा। वही, हिमाचल प्रदेश के वैध पते वाले नागरिकों ही धर्मशाला के गग्गल हवाई अड्डे जाने दिया जाएगा। चंडीगढ़ में बिना लक्षण वाले ट्रेन या हवाई यात्रियों को 14 दिन क्वारंटाइन किया जाएगा। 

    छत्तीसगढ़ आने और जाने वाले यात्रियों के लिए नियम 

    यात्रियों को संबंधित राज्य से प्रस्थान के पूर्व छत्तीसगढ़ सरकार के पोर्टल पर पंजीकृत करना होगा। एक बार में 20 यात्री ही विमान से बाहर निकलेंगे सभी के समानों को सैनेटाइज किया जाएगा। जिन यात्रियों में लक्षण मिलेंगे उन्हें अलग से स्थापित किए गए पृथक कियोस्क में भेजा जाएगा। ऐसे यात्रियों का चेक-इन बैगेज से लेकर उन्हें एम्बुलेंस तक पहुंचाने का जिम्मा ग्राउंड स्टाफ का होगा। छत्तीसगढ़ से अन्य राज्य जाने वालों को भी जांच से गुजरना पड़ेगा और पंजीकरण करना होगा- यात्रियों के बोर्डिंग पास तथा वाहन चालक के ई-पास के आधार पर ही हवाईअड्डे में प्रवेश दिया जाएगा। 

    केरल में यात्रियों को होना पड़ेगा क्वारनटीन 

    हवाई सेवा को लेकर केरल ने भी गाइडलाइन जारी की है जिसके तहत, यात्रियों को covid19jagratha.kerala.nic.in पर रजिस्टर करना होगा। केरल पहुंचे यात्रियों को 14 दिनों तक क्वारनटीन रहना होगा। इसके अलावा तिरुवनंतपुरम से दूसरे जिलों तक जाने के लिए केरल परिवहन विभाग की बसें चलेंगी। 

    उत्तराखंड के लिए यात्रियों के लिए ये है रूल्स 

    सभी यात्रियों को अनिवार्य तौर पर संस्थागत क्वारंटाइन में रहना होगा। इसके लिए किराए पर कमरा मिलेगा। सभी यात्रियों को उत्तराखंड सरकार के वेबपोर्टल पर खुद को पंजीकृत करना होगा। एडिशनल नोडल अधिकारी आने वाले सभी यात्रियों का नाम-पता राज्य सैटेलाइट कंट्रोलरूम को देंगे। 

    ओडिशा वाले यात्री ध्यान दें 

    ग्रामीण क्षेत्रों में जाने वाले यात्रियों को सात दिन संस्थागत और सात दिन घर में क्वारंटाइन रहना होगा। शहर क्षेत्र में जाने वाले यात्रियों को 14 दिन घर में ही रहना होगा। इसकी निगरानी पुलिस करेगी। 72 घंटे के लिए राज्य में आने वालें अधिकारी, पेशेवर, व्यवसायी को क्वारंटाइन नहीं किया जाएगा। 

    जम्मू आने और जाने वाले यात्रियों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही भेजा जाएगा घर 

    जांच रिपोर्ट आने तक जम्मू और श्रीनगर आने वाले यात्रियों को संस्थागत पृथकवास में रहना होगा। रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें 14 दिन तक गृह पृथकवास में भेजा जाएगा।

    और भी...

  • चांद का हुआ दीदार, देशभर में आज मनाई जाएगी ईद-उल-फितर

    चांद का हुआ दीदार, देशभर में आज मनाई जाएगी ईद-उल-फितर

     

    देश के विभिन्न हिस्सों में रविवार (24 मई) को चांद दिखाई दे गया है। इसी के साथ पूरे भारत में अब सोमवार (25 मई) को ईद-उल-फितर (Eid ul Fitr) का त्योहार मनाया जाएगा। चांद दिखने के बाद लोगों ने भी एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। वहीं, कोरोना वायरस के प्रसार पर नियंत्रण के लिए देश में लॉकडाउन लागू हैं और मस्जिदों समेत तमाम धार्मिक स्थल बंद हैं, इसीलिए मुस्लिम धर्मगुरुओं ने लोगों से घर पर ही ईद की नमाज अदा करने का आग्रह किया है।

    इस बीच दिल्ली के प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरुओं ने रविवार को लोगों से अपील की कि वे ईद मनाते समय सामाजिक मेलजोल से दूरी के नियम पर अमल के साथ-साथ लॉकडाउन नियमों का पालन करें। फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मुकर्रम अहमद ने कहा कि चांद दिख गया है और सोमवार (25 मई) को ईद मनाई जाएगी। उन्होंने कहा, 'हमने लोगों से एक-दूसरे को गले लगाने और हाथ मिलाने से बचने के लिए कहा है।'

    जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने लोगों से सादगी से ईद मनाने और गरीब लोगों तथा अपने पड़ोसियों की मदद करने की अपील की। उन्होंने कहा, 'कोरोना वायरस के कारण ईद की नमाज पारंपरिक तौर पर अदा नहीं की जा सकेगी, लेकिन लोगों समझना चाहिए कि केवल सावधानी बरतने से ही वायरस को हराया जा सकता है।'

    तो इसलिए मनाई जाती है ईद-उल-फितर

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि ईद-उल-फितर मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार है, जो रमजान के महीने के पूरा होने पर मनाया जाता है। ईद-उल-फितर का त्योहार रमजान के 29 या 30 रोजे रखने के बाद चांद देखकर मनाया जाता है। बता दें कि ईद-उल-फितर का चांद दिखाई देने के बाद रमजान का महीना खत्म हो जाता है और शव्वाल का महीना शरू होने के साथ ईद मनाई जाती है, इसलिए चांद के हिसाब की वजह से दुनियाभर में ईद मनाने की तारीख अलग-अलग होती है।

    और भी...

  •  भारत में कोरोना वायरस के 6663 नए मामले आए , संक्रमितों की संख्या 131423 हुई

    भारत में कोरोना वायरस के 6663 नए मामले आए , संक्रमितों की संख्या 131423 हुई

     

    भारत में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। रोजाना 6 हजार से अधिक मामले देश में आ रहे हैं। 23 मई को रिकॉर्ड 6663 मामले सामने आए हैं। इसके बाद देश में संक्रमितों का आंकड़ा 131423 पर पहुंच गया है। भारत के प्रमुख शहरों में कोरोना वायरस तीसरी स्टेज में पहुंच गया है। इसके कारण मामले बेतहाशा तरीके से बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र में 23 मई को रिकॉर्ड 2608 संक्रमित पाए गए हैं इनमें से सिर्फ मुंबई में 1566 रोगियों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा तमिलनाडु में 759, दिल्ली में 591, गुजरात में 396, उत्तर प्रदेश में 282, राजस्थान में 248, बिहार में 228, मध्यप्रदेश में 201 मामले आए हैं। दूसरी तरफ भारत में अभी तक 131423 मामले सामने आ चुके हैं।

    दूसरी तरफ भारत में अभी तक 131423 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 73162 लोगों का उपचार देश के अस्पतालों में चल रहा है। अभी तक 54385 लोग महामारी से ठीक हो चुके हैं। जबकि रिकॉर्ड 3868 लोगों की इस बीमारी से मौत हुई है।
     

    भारत में कल 142 लोगों की मौत हुई है। इनमें सबसे ज्यादा मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं। वहां पर 60 लोगों ने दम तोड़ा है। आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में अभी तक कुल 1577 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा 23 मई को गुजरात में 27, दिल्ली में 23 और मध्यप्रदेश में 9 लोगों की मौत हुई है।
     

    और भी...

  • राहुल की वीडियो को मायावती ने बताया नाटक, कहा- मजदूरों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस कसूरवार

    राहुल की वीडियो को मायावती ने बताया नाटक, कहा- मजदूरों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस कसूरवार

     

    बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रवासी श्रमिकों को लेकर जारी की गई वीडियो पर तंज कसा है। वीडियो को नाटक बताते हुए मायावती ने कहा है कि प्रवासी श्रमिकों की दुर्दशा के लिए असली कसूरवार कांग्रेस ही है। दरअसल, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने शनिवार को चार ट्वीट किए।

    अपने पहले ट्वीट में उन्होंने कहा, 'आज पूरे देश में कोरोना लॉकडाउन के कारण करोड़ों प्रवासी श्रमिकों की जो दुर्दशा दिख रही है उसकी असली कसूरवार कांग्रेस है क्योंकि आजादी के बाद इनके लंबे शासनकाल के दौरान अगर रोजी-रोटी की सही व्यवस्था गांव/शहरों में की गई होती तो इन्हें दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करना पड़ता?' 

    मायावती ने दूसरे ट्वीट में लिखा, 'वैसे ही वर्तमान में कांग्रेसी नेता द्वारा लाॅकडाउन त्रासदी के शिकार कुछ श्रमिकों के दुःख-दर्द बांटने सम्बंधी जो वीडियो दिखाया जा रहा है वह हमदर्दी वाला कम व नाटक ज्यादा लगता है। कांग्रेस अगर यह बताती कि उसने उनसे मिलते समय कितने लोगों की वास्तविक मदद की है तो यह बेहतर होता।' 

    उन्होंने आगे कहा, 'साथ ही, बीजेपी की केन्द्र व राज्य सरकारें कांग्रेस के पदचिन्हों पर ना चलकर, इन बेहाल घर वापसी कर रहे मजदूरों को उनके गांवों/शहरों में ही रोजी-रोटी की सही व्यवस्था करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की नीति पर यदि अमल करती हैं तो फिर आगे ऐसी दुर्दशा इन्हें शायद कभी नहीं झेलनी पड़ेगी।' 

    एक अन्य ट्वीट में मायावती ने कहा, 'बीएसपी के लोगों से भी पुनः अपील है कि जिन प्रवासी मजदूरों को उनके घर लौटने पर उन्हें गांवों से दूर अलग-थलग रखा गया है तथा उन्हें उचित सरकारी मदद नहीं मिल रही है, ऐसे लोगों को अपना मानकर उनकी भरसक मानवीय मदद करने का प्रयास करें। मजलूम ही मजलूम की सही मदद कर सकता है।'

    गौरतलब है कि कोरोना लॉकडाउन के कारण ट्रेन और बसों के बंद होने के बाद प्रवासी मजदूर पैदल ही अपने-अपने घरों को निकल पड़े थे। ऐस में विभिन्न जगहों पर हुए हादसों में कई मजदूरों की मौत भी हो गई। जिसके बाद राहुल गांधी ने हाल ही में प्रवासी मजदूरों से सुखदेव विहार में बातचीत की थी, जिसका वीडियो उन्होंने आज यानि शनिवार को शेयर किया।

    और भी...

  • हरदीप सिंह पुरी बोले- अगस्त से पहले इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू करने की करेंगे कोशिश

    हरदीप सिंह पुरी बोले- अगस्त से पहले इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू करने की करेंगे कोशिश

     

    25 मई से शुरू होने जा रही घरेलू उड़ान सेवा से पहले नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने शनिवार को कहा है कि जिन यात्रियों में कोविड-19 के लक्षण नहीं हैं और आरोग्य सेतु ऐप पर ग्रीन स्टेटस है, उन्हें क्वारंटाइन में भेजे जाने की जरूरत नहीं है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगस्त से पहले अंतरराष्ट्रीय यात्री विमानों को शुरू करने की कोशिश करेंगे। 

    हरदीप सिंह पुरी ने आज फेसबुक पर लाइव सेशन में कहा, 'हम साफ कर चुके हैं कि यदि किसी के पास आरोग्य सेतु ऐप है और इसका स्टेटस ग्रीन है तो यह पासपोर्ट की तरह है। कोई व्यक्ति क्यों क्वारंटाइन चाहेगा।' पुरी ने कहा कि मंत्रालय की ओर से जारी विस्तृत गाइडलाइंस जारी की गई है। उन्होंने आगे कहा कि घरेलू उड़ान सेवाओं के 25 मई से शुरू होने और भारत में 31 मई तक लॉकडाउन लागू होने के बीच कोई विरोधाभास नहीं है। 

    वही, पुरी ने कहा, 'यदि आप खाने की इजाजत देंगे तो कैटरिंग को शामिल करना पड़ेगा, खाना सर्व करते हुए समस्या हो सकती है। अभी हमने 40 मिनट से तीन घंटे तक की फ्लाइट शुरू की है। पहले घर पर खाना खा लीजिए और फिर आइए। लेकिन पानी सर्व किया जाएगा।'

    इसके अलावा हरदीप सिंह पुरी ने कहा, 'हम अगस्त से पहले ठीक-ठाक संख्या में अंतरराष्ट्रीय यात्री विमानों को शुरू करने की कोशिश करेंगे। वंदे भारत मिशन के तहत 25 दिनों के दौरान विशेष विमानों के जरिए करीब 50,000 नागरिकों को वापस ला पाएंगे।'

    आपको बता दें कि  कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश में लागू लॉकडाउन की वजह से दो महीने से अधिक समय से देश में विमान सेवाओं पर रोक है। अब सरकार ने 25 मई के कुछ रूटों पर घरेलू विमान सेवा शुरू करने का फैसला किया है। केंद्र सरकार ने घरेलू हवाई यात्रा के दौरान सभी यात्रियों के लिए आरोग्य सेतु ऐप अनिवार्य किया है। हालांकि, 14 साल से कम आयु के बच्चों को इससे छूट दी गई है। 

    और भी...

  • राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- गोवा कोरोना मुक्त है इसलिए घरेलू पर्यटक यहां आएंगे

    राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- गोवा कोरोना मुक्त है इसलिए घरेलू पर्यटक यहां आएंगे

     

    गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शनिवार को कहा है कि गोवा अब कोरोना से मुक्त हो गया है। ऐसे में स्थानीय पर्यटक यहां आएंगे। राज्य में पर्यटन के भविष्य पर गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा, 'गोवा कोरोना मुक्त है इसलिए घरेलू पर्यटक यहां आएंगे। विदेशी पर्यटकों को लौटने में समय लगेगा लेकिन वे भी आएंगे। उद्योग के लिए दीर्घकालिक नुकसान नहीं है।'

    उन्होंने आगे कहा, 'गोवा में कोरोना वायरस से लड़ने का असली श्रेय हमारे प्रधानमंत्री को जाता है। गोवा को कामयाबी इसलिए मिली क्योंकि गोवा के मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन और प्रधानमंत्री के सभी आदेशों को लागू किया।' मलिक ने बताया कि हमने जनवरी से ही बाहर से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।

    गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, गोवा में अब तक कोरोना वायरस के 54 मामले सामने आए हैं। इसमें से 16 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं, राज्य में अभी तक किसी की कोरोना संक्रमण की वजह से मौत नहीं हुई है।

    और भी...

  • GDP वृद्धि नेगेटिव रहने की बात पर भड़के चिदंबरम, RBI गवर्नर को दी ये नसीहत

    GDP वृद्धि नेगेटिव रहने की बात पर भड़के चिदंबरम, RBI गवर्नर को दी ये नसीहत

     

    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास द्वारा मौजूदा वित्त वर्ष में विकास दर नकारात्मक रहने की संभावना जताए जाने की पृष्ठभूमि में कहा है कि उन्हें (गवर्नर को) सरकार से अपना फर्ज निभाने एवं राजकोषीय उपाय करने के लिए कहना चाहिए।

    शनिवार को चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, 'रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास का कहना है कि मांग बुरी तरह से प्रभावित है, वित्त वर्ष 2020-21 में विकास दर नकारात्मक रह सकती है। ऐसे में फिर क्यों वह अर्थव्यवस्था में और पूंजी डाल रहे हैं? उन्हें सरकार से खुलकर कह देना चाहिए कि वह अपनी ड्यूटी करे, राजकोषीय उपाय करे।'

    एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा,'रिजर्व बैंक के बयान के बाद भी प्रधानमंत्री कार्यालय और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक ऐसे पैकेज के लिए खुद की सराहना कर रहे हैं, जो जीडीपी के एक प्रतिशत से भी कम का राजकोषीय प्रोत्साहन पैकेज है।' पी चिदंबरम ने आरोप लगाया, 'आरएसएस को शर्म आनी चाहिए कि कैसे सरकार ने अर्थव्यवस्था को नकारात्मक वृद्धि दर की ओर ढकेल दिया है।' 

    आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को कोविड-19 संकट के प्रभाव को कम करने के लिए ब्याज दरों में कटौती, कर्ज अदायगी पर ऋण स्थगन को बढ़ाने और कॉरपोरेट को अधिक कर्ज देने के लिए बैंकों को इजाजत देने का फैसला किया। आरबीआई ने प्रमुख उधारी दर को 0.40 प्रतिशत घटा दिया। मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की अचानक हुई बैठक में वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए रेपो दर में कटौती का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया। इस कटौती के बाद रेपो दर घटकर चार प्रतिशत हो गई है, जबकि रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत हो गई है।

    और भी...

  • बंगाल के मुख्य सचिव ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को लिखा पत्र,कहा- 26 मई तक न भेजें श्रमिक स्पेशल ट्रेन

    बंगाल के मुख्य सचिव ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को लिखा पत्र,कहा- 26 मई तक न भेजें श्रमिक स्पेशल ट्रेन

     

    कोरोना संकट के बीच बुधवार को पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान 'अम्फान' आया जिसने राज्य को जन-जीवन को बुरी तरह से प्रभावित किया है। इस बीच पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने आज रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को पत्र लिखा है। सचिव ने पत्र में लिखा है कि जिला प्रशासन इस वक्त चक्रवात तूफान अम्फान के कारण हुई तबाही से राहत और पुनर्वास के कार्यों में व्यस्त है। यही वजह है कि अगले कुछ दिनों तक स्पेशल ट्रेनों को रिसीव करना संभव नहीं होगा। इसलिए आपसे अनुरोध है कि 26 मई तक पश्चिम बंगाल में कोई भी श्रमिक ट्रेन न भेजी जाए।

    आपको बता दें कि हाल ही में पश्चिम बंगाल में आए चक्रवाती तूफान अम्फान से करीब 80 लोगों की जान चली गई है। जिसके बाद शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य का हवाई सर्वेक्षण किया और बैठक के जरिए स्थिति का जायजा लिया। हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम मोदी ने राज्य सरकार को एक हजार करोड़ रुपये देने का ऐलान किया। साथ ही पीएम मोदी ने तूफान से निपटने में ममता सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की। 

    अमित शाह ने ममता सरकार पर लगाए थे ये आरोप 

    दरअसल, गृह मंत्री अमित शाह ने एक पत्र में आरोप लगाया था कि बंगाल अपने प्रवासियों को लौटने की अनुमति नहीं दे रहा है। बाद में यह तय किया गया कि इन ट्रेनों के परिचालन के लिए गंतव्य राज्य की सहमति लेना जरूरी नहीं है। कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए श्रमिक विशेष रेलगाड़ी सेवा शुरू करने के बाद सबसे कम रेलगाड़ियां पश्चिम बंगाल में ही भेजी गई हैं। एक मई से अब तक करीब 2,000 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गई हैं जिनमें 31 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाया गया। बंगाल में अब तक करीब 25 रेलगाड़ियां आई हैं।

    और भी...

  • 1200 किमी साइकिल चलाकर बीमार पिता को लेकर घर पहुंची ज्योति की इवांका ट्रंप ने की तारीफ, कही ये बात

    1200 किमी साइकिल चलाकर बीमार पिता को लेकर घर पहुंची ज्योति की इवांका ट्रंप ने की तारीफ, कही ये बात

     

    कोरोना वायरस के कारण देशभर में लॉकडाउन लागू है। इस बीच अपने-अपने घर जाने के लिए अलग-अलग साधनों का प्रयोग कर रहे है। ऐसे में ज्योति नाम की एक लड़की गुरुग्राम से पिता को साइकिल पर बैठाकर 1200 किमी की दूरी तय कर दरभंगा (बिहार) पहुंची। जिसके बाद वह काफी सुर्खियों में है। यही नहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी ट्वीट कर ज्योति की तारीफ की है।

    दरअसल, इवांका ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि 15 साल की ज्योति कुमारी ने अपने जख्मी पिता को साइकिल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई। इवांका ने आगे लिखा कि सहनशक्ति और प्यार की इस वीरगाथा ने भारतीय लोगों और साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि दरभंगा की 15 साल की ज्योति जनवरी में अपने बीमार पिता की सेवा के लिए गुड़गांव गई थी। इसी बीच मार्च में लॉकडाउन हो गया और वह गुड़गांव में ही फंस गई। बीमार पिता की जेब खाली थी। पिता और बेटी के समक्ष भूखों मरने की नौबत आ गई।

    वही, प्रधानमंत्री राहत कोष से एक हजार रुपये खाते में आए। ज्येाति ने कुछ और पैसे मिलाकर पुरानी साइकिल खरीदी और पिता को उस पर बिठाकर गांव लाने की ठानी। पिता पहले नहीं माने पर बेटी के हौसेले के आगे हां कर दी। ज्योति आठ दिनों की कड़ी मेहनत के बाद 12 सौ किलोमीटर साइकिल चलाकर पिता को लेकर गुड़गांव से दरभंगा के सिरहुल्ली पहुंच गई।

    और भी...