देश

  • राजस्थान के सियासी घमासान के बीच प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभालीं कमान

    राजस्थान के सियासी घमासान के बीच प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभालीं कमान

     

    राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार के सामने खड़ा संकट ढलता हुआ नजर आ रहा है। एक तरफ सीएम ने मीडिया के सामने शक्ति प्रदर्शन दिखाया तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कमान संभाल ली है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सीएम गहलोत और सचिन पायलट से बातचीत कर रहीं हैं। माना जा रहा है कि प्रियंका गांधी दोनों की सुलह कर तनाव कम करवाएंगी । कांग्रेस ने भी सचिन पायलट से बैठक में शामिल होने के लिए कहा था।

    वहीं दूसरी तरफ सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सीएम आवास पर हुई बैठक में मीडिया के सामने सीएम अशोक गहलोत ने सभी विधायकों की परेड कराई। जिसमें उनके पास 109 विधायकों का समर्थन हासिल है। वहीं उन्हें बहुमत के लिए 101 विधायक चाहिए थे।
     

    और भी...

  • राजस्थान में ऐसे बचेगी गहलोत सरकार, ये है विधानसभा का पूरा गणित

    राजस्थान में ऐसे बचेगी गहलोत सरकार, ये है विधानसभा का पूरा गणित

     

    राजस्थान में कांग्रेस के लिए एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है। सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच तनातनी का दौर जारी है। इस बीच आज सीएम आवास पर सभी विधायकों की बैठक हुई। जिसमें अभी तक 100 विधायक पहुंच चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ डिप्टी सीएम सचिन पायलट को मनाने की कवायद कांग्रेस की तरफ से जारी है।

    कांग्रेस पार्टी ने राजस्थान संकट को लेकर अपील की है कि सभी विधायक पार्टी की बैठक में मौजूद रहे। कोई भी पार्टी से ऊपर नहीं है। जानकारी के लिए बता दें कि अशोक गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे 13 में से 3 निर्दलीय विधायकों से कांग्रेस ने अब दूरी बना ली है। जिसमें खुशवीर सिंह, सुरेश डॉक्टर और ओम प्रकाश हुडला शामिल है।

    वहीं एसओजी ने सरकार को अस्थिर करने के प्रयास के मामले में दो मोबाइल नंबर पर हुई बातचीत जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा राजस्थान विधानसभा के गणित के मुताबिक 200 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस के पास विधायक 107 हैं। जिसमें डीटीपी के दो, सीपीआईएम के दो, आरएलडी के 1 और 13 निर्दलीय विधायक हैं।

    सत्ता पक्ष के पास कुल 124 विधायक हैं। जबकि वहीं दूसरी तरफ भाजपा के पास 76 विधायक हैं जिसमें से खुद भाजपा के 72 विधायक हैं और आरएलपी के तीन विधायक शामिल हैं, एक निर्दलीय विधायक बीजेपी में शामिल है।

    ऐसे में अगर दावों के हिसाब से बात की जाए तो सचिन पायलट के खेमे में 30 विधायक शामिल है। तो कांग्रेस के पास 77 विधायक रह जाएंगे। बाकी अन्य विधायकों का समर्थन रहते हुए भी अशोक गहलोत सरकार राज्य में बनी रहेगी।

    विधानसभा कुल सीट- 200

    कांग्रेस- 107

    भाजपा- 72

    बीटीपी- 2

    सीपीआईएम- 2

    आरएलडी- 1

    आरएलपी- 3

    निर्दलीय विधायक- 13
     

    और भी...

  • क्या बीजेपी में शामिल हो गए हैं सचिन पायलट, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने किया बड़ा दावा

    क्या बीजेपी में शामिल हो गए हैं सचिन पायलट, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने किया बड़ा दावा

     

    राजस्थान कांग्रेस में सियासी घमासान शुरू हो गया है। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया ने बड़ा दावा पेश किया है। पीएल पुनिया ने कहा कि सचिन पायलट अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या सचिन पायलट बीजेपी में शामिल हो सकते हैं या फिर वह अपनी एक नई पार्टी बना सकते हैं।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस के नेता पी एल पुनिया से जब सचिन पायलट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जो अब बीजेपी में हैं। बीजेपी का कांग्रेस के प्रति क्या रुख है। सब जानते हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ उन्होंने साफ कहा कि ऐसे में हमें बीजेपी से कोई सर्टिफिकेट नहीं चाहिए। पीएल पुनिया ने कहा कि कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है। जहां पर सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सम्मान दिया जाता है।

    अब कयास लगाए जा रहे हैं कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट राजस्थान में अपनी एक नई पार्टी बना सकते हैं। इस पार्टी का नाम प्रगतिशील कांग्रेस रखा जा सकता है। इस तरह सूबे में कांग्रेस और बीजेपी के अलावा सचिन पायलट की एक नई पार्टी सत्ता में आएगी। तो क्या इस बार राजनीतिक घटनाक्रम बदलते ही सियासत का ऊंट भी करवट बदल सकता है।

    जानकारी के लिए बता दें कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच तनाव चल रहा है। ऐसे में कांग्रेस विधायक दल की सोमवार को बैठक से पहले सचिन पायलट ने विधायकों के समर्थन का दावा किया। दूसरी तरफ बैठक में सीएम अशोक गहलोत के नेतृत्व में 30 विधायक पार्टी की बैठक में पहुंचे। जिनमें से चार विधायक सचिन पायलट के समर्थन बताए जा रहे हैं। ऐसे में अभी पार्टी में सियासी दांवपेच का खेल खेला जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने रविवार को दो टूक कह दिया था कि वह कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे।


     

    और भी...

  •  पश्चिम बंगाल: फंदे पर लटका मिला BJP विधायक का शव

    पश्चिम बंगाल: फंदे पर लटका मिला BJP विधायक का शव

     

    पश्चिम बंगाल में आज सुबह हेमताबाद से भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय का शव सड़क किनारे एक दुकान के बाहर फंदे पर लटकता मिला है। भाजपा ने उनकी हत्या का आरोप तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पर लगाया है। मिली जानकारी के मुताबिक, भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय पहले माकपा (सीपीएम) की टिकट पर विधायक बने थे। इसके बाद वर्ष 2019 में उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया था।
     

    भाजपा विधायक देबेंद्र नाथ रॉय की हत्‍या के मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पर निशाना साधा है। कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्विटर एकाउंट से वीडियो ट्वीट कर लिखा 'निंदनीय और कायरतापूर्ण कृत्य!!! ममता बनर्जी के राज में भाजपा नेताओं की हत्या का दौर थम नहीं रहा। CPM छोड़ भाजपा में आये हेमताबाद के विधायक देबेंद्र नाथ रॉय की हत्या कर दी गई। उनका शव फांसी पर लटका मिला। क्या इनका गुनाह सिर्फ भाजपा में आना था ?

     

    लोकतंत्र को कैसे कुचला जाता है पश्चिम बंगाल की ममता सरकार इसका जीवंत उदाहरण है। राजनीतिक मतभेदों को हिंसक तरीके से दबाया जा रहा है। लेकिन, लोकतंत्र का ये मख़ौल ज्यादा दिन का नहीं है! आखिर ममता राज का फैसला तो जनता ही करेगी।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस पार्टी के बीच विवाद की खबरें सामने आती रहती हैं।
     

    और भी...

  •  भारत में पहली बार आये रिकॉर्ड तोड़ 29 हजार 105 नए केस, एक दिन 500 लोगों की हुई मौत

    भारत में पहली बार आये रिकॉर्ड तोड़ 29 हजार 105 नए केस, एक दिन 500 लोगों की हुई मौत

     

    भारत में कोरोना वायरस के आज रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आए हैं। देश में प्रतिदिन कोरोना वायरस के 25000 से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 29105 मामले सामने आए हैं। और 1 दिन में 500 लोगों की मौत हुई है।

    बीते 24 घंटे में कोरोना के 29105 मामले सामने आने के बाद भारत में कुल संक्रमितों की संख्या 8 लाख 79 हजार 466 हो गई है। इनमें 3,01, 468 एक्टिव मामले हैं जबकि 5,54,429 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। वहीं भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 23187 हो गई है।

    बता दें कि महाराष्ट्र में एक बार फिर रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र में आज कोरोना वायरस के 7 हजार 827 मामले सामने आए हैं। इसी के साथ राज्य में संक्रमितों की संख्या 2,54,427 हो गई है। जिनमें 1,03,516 मामले एक्टिव हैं। जबकि, 1,40,325 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं 10,289 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है।

    वहीं तमिलनाडु में 3617, दिल्ली में 2276, गुजरात में 513, तेलंगाना में 1563, उत्तर प्रदेश में 645, आंध्र प्रदेश में 1019, पश्चिमी बंगाल में 622 नए मामले दर्ज किए गए हैं। जानकरी के लिए आपको बता दें कि भारत में हर रोज बीतें कुछ दिनों से कोरोना वायरस के 25 हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं।
     

    और भी...

  • जब बैंक में नहीं लगी नौकरी तो कोरोना काल में खोल डाली SBI की नकली ब्रांच

    जब बैंक में नहीं लगी नौकरी तो कोरोना काल में खोल डाली SBI की नकली ब्रांच

     

    यहां पनरुति के निकट स्टेट बैंक आफ इंडिया (SBI) की एक ब्रांच खोलने के कथित प्रयास में एक 19 वर्षीय युवक को गिरफ्तार कर लिया गया।

    पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि युवक एसबीआई के एक पूर्व कर्मी का पुत्र है। उसने देश के सबसे बड़े बैंक के नाम से मुहर, चालान फार्म तथा अन्य कागजात तैयार करा लिए। उसने ब्रांच में नोट गिनने की मशीन से मिलती-जुलती एक मशीन भी रख ली ताकि लोगों को बैंक की असली ब्रांच जैसी लगे। उसने यह काम अपने घर के ऊपर किया। उसने हालांकि अपने घर के बाहर कोई साइनबोर्ड नहीं लगाया।

    एसबीआई की पनरुति ब्रांच के प्रबंधक ने एक ग्राहक से मिली सूचना के बाद पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया और उसके पास से सारी जाली सामग्री जब्त कर ली। उसके लिए जाली कागजात और बैंक के चालान छापने वाले मुद्रक को भी गिरफ्तार कर लिया गया। यह पूछने पर कि उसने पैसे जमा कराने के नाम पर क्या लोगों को ठगा है तो पनरुति पुलिस निरीक्षक ने कहा कि हमें इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिली।

    युवक के पिता एसबीआई के पूर्व कर्मचारी थे जिनका निधन हो गया है। उसकी मां भी उसी बैंक में काम कर चुकी हैं और कुछ समय पहले ही रिटायर हुई हैं। पुलिस ने कहा कि उसे बैंक के कामकाज की जानकारी थी और वह उसमें काम करना चाहता था। पुलिस ने कहा कि पूछताछ में उसने बचकानी व नासमझवाली बातें कीं। उसने कहा कि वह मुंबई से बैंक की शाखा खोलने की अनुमति की प्रतीक्षा कर रहा था। उसके बाद उसकी योजना साइनबोर्ड टांगने की थी। उसने अपने पिता की मृत्यु के बाद अनुकंपा के आधार पर बैंक में नौकरी पाने का भी प्रयास किया था, लेकिन वह नौकरी पाने में विफल रहा था, जिसके बाद उसने यह कदम उठाया।

     

    और भी...

  • J&K: अनंतनाग में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़

    J&K: अनंतनाग में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़

     

    जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग जिले के श्रीगुफावाड़ा इलाके में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। सीआरपीएफ की क्विक एक्शन टीम के साथ ही पुलिस और सेना की 3 राष्ट्रीय राइफल्स की संयुक्त टीम इस ऑपरेशन को अंजाम दे रही है। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार, किसी के हताहत होने की ख़बफ सामने नहीं आयी है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीते रविवार को उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के सोपोर में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। मारे गए आतंकियों से तीन एके 47 राइफल और विस्फोटक सामग्री बरामद की गई।

    बता दें कि सुरक्षबलों को सोपोर के रेबान गांव में आतंकियों की मौजूदगी की जानकारी मिली थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने पर रविवार तड़के चार बजे सर्च ऑपरेशन चलाया था। इस दौरान एक घर में छिपे आतंकियों को सुरक्षा बलों ने घेरा लिया। आतंकियों ने खुद को घिरता देख सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी। पहले तो सुरक्षा बलों ने उन्हें समर्पण का भरपूर मौका दिया। इसके बाद भी उन्होंने गोलीबारी जारी रखी तो जवाबी कार्रवाई से मुठभेड़ शुरू हो गई। इसमें तीन आतंकी मार गिराए गए। आईजीपी विजय कुमार ने कहा था कि मारे गए आतंकियों में से एक आतंकी उस्मान पाकिस्तानी आतंकी संगठन तश्कर-ए-तैयबा का है। उस्मान हाल ही में हुए सोपोर हमले में भी शामिल था। उस हमले में एक सीआरपीएफ का जवान शहीद हुआ था और एक नागरिक भी मारा गया था।
     

    और भी...

  • पायलट को नहीं मनाएगी कांग्रेस, मीटिंग में नहीं आए तो होंगे पार्टी से बाहर !

    पायलट को नहीं मनाएगी कांग्रेस, मीटिंग में नहीं आए तो होंगे पार्टी से बाहर !

     

    राजस्थान में अशोक गहलोत की कांग्रेस सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बागी तेवर अख्तियार कर लिए हैं और उनके बीजेपी में जाने की अटकलें तेज हैं. इस बीच कांग्रेस ने अपने तेवर सख्त कर लिए हैं और सोमवार सुबह होने वाली बैठक के लिए विधायकों को व्हिप जारी किया है.

    सोमवार सुबह विधायक दल की बैठक होने वाली है जिसके लिए कांग्रेस पार्टी ने व्हिप जारी किया है. इसमें कहा गया है कि अगर कोई भी कांग्रेस का विधायक बैठक में नहीं आता है तो उसकी सदस्यता रद्द कर जाएगी. कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने कहा है कि 109 विधायकों का समर्थन पत्र मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास पहुंच गया है और वे सोमवार सुबह मीटिंग में आएंगे. बाकी लोग अगर नहीं आते हैं तो उनकी सदस्यता चली जाएगी. इस पूरे मामले पर बोलते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि हम किसी व्यक्ति की बात नहीं कर रहे हैं, हमें नहीं लगता है कि कोई नहीं आएगा. हालांकि नेताओं का इशारा साफ तौर पर सचिन पायलट की तरफ माना जा रहा है.

    इससे पहले जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस की प्रेस वार्ता हुई. अविनाश पांडे, रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन ने इसमें हिस्सा लिया. अविनाश पांडे ने कहा कि हम सोनिया गांधी के निर्देशों पर जयपुर आए हैं. 109 विधायक के समर्थन पत्र की चिट्ठी मुख्यमंत्री को दे चुके हैं. कुछ अन्य विधायक भी संपर्क में हैं. सुबह 10 बजे कांग्रेस विधयाक दल की बैठक है. बैठक को लेकर व्हिप जारी किया गया है. जो बैठक में मौजूद नहीं होंगे, उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी. व्हिप का उल्लंघन करने पर पार्टी की सदस्यता समाप्त हो सकती है.

    और भी...

  • कोरोना से निपटने के लिए UP सरकार का लॉकडाउन पर नया फॉर्मूला, अब से हर शनिवार-रविवार बंद रहेंगे बाजार

    कोरोना से निपटने के लिए UP सरकार का लॉकडाउन पर नया फॉर्मूला, अब से हर शनिवार-रविवार बंद रहेंगे बाजार

     

    उत्तर प्रदेश में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रभावी नियंत्रण के लिए सप्ताह के अंतिम दो दिन यानी हर शनिवार और रविवार को लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने रविवार को बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के मकसद से सप्ताहांत में लॉकडाउन लागू किया जाएगा। यह आगामी सप्ताह शनिवार और रविवार से लागू होगा।

    उन्होंने बताया कि सप्ताहांत के लॉकडाउन वाले दिनों में बाजार और कार्यालय बंद रहेंगे हालांकि बैंक खुले रहेंगे। अवस्थी ने बताया कि लॉकडाउन प्रदेश के शहरी और ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों में लागू किया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि यह सावधानी कोरोना वायरस संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए बरती जा रही है। उन्होंने कहा कि शनिवार और रविवार को होने वाली बंदी से आर्थिक गतिविधियों को पूरी तरह मुक्त रखा जाएगा।

    और भी...

  • देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 8 लाख 49 हजार के पार, अब तक 22,674 लोगों की मौत

    देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 8 लाख 49 हजार के पार, अब तक 22,674 लोगों की मौत

     

    देश में कोरोना वायरस का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 28,637 मामले सामने आए हैं। वही, इस महामारी से एक दिन में कुल 551 मरीजों की मौत हो चुकी है। 

    स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोरोना वायरस के कुल मामले बढ़कर 8,49,553 हो गए है। वही, कुल मामलो में से 2,92,258 सक्रिय मामले हैं और 5,34,621 ठीक हो चुके हैं। इसके अलावा कोरोना के चलते देश में अब तक 22,674 लोगों की मौत हो चुकी है।

    और भी...

  • राहुल का ट्वीट- ऐसा क्या हुआ कि मोदी के रहते भारत माता की पवित्र जमीन को चीन ने छीन लिया

    राहुल का ट्वीट- ऐसा क्या हुआ कि मोदी के रहते भारत माता की पवित्र जमीन को चीन ने छीन लिया

     

    पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प और सीमा विवाद को लेकर लगातार मोदी सरकार पर हमलावर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने पीएम पर तंज कसतेहुए कहा है कि उनके होते चीन ने भारत भूमि पर कैसे कब्जा किया है। रविवार को एक खबर का हवाला देते हुए राहुल ने सवाल किया, 'ऐसा क्या हुआ कि मोदी जी के रहते भारत माता की पवित्र जमीन को चीन ने छीन लिया?'

    बता दें कि राहुल ने लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान को ‘चकित और हतप्रभ’ करने वाला करार देते हुए आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने चीनी आक्रामकता के आगे भारतीय क्षेत्र उसे सौंप दिया। यही नहीं उन्होंने प्रधानमंत्री को 'सरेंडर मोदी' भी कहा। इस आरोप के अलावा उन्होंने यह सवाल भी उठाया कि क्या निहत्थे भारतीय सैनिकों को चीनी सेना से लड़ने भेजा गया था।

    और भी...

  • Encounter के बाद अब Vikas Dubey के 'आर्थिक साम्राज्य’ की बारी, ED ने शुरू की संपत्ति की जांच

    Encounter के बाद अब Vikas Dubey के 'आर्थिक साम्राज्य’ की बारी, ED ने शुरू की संपत्ति की जांच

     

    एनकाउंटर में मारे गए हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की संपत्ति की जांच प्रवर्तन निदेशालय ने शुरू कर दी हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस से ईडी ने इससे जुड़ी जानकारी मांगी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इसके अलावा ईडी ने पुलिस से गैंगस्टर विकास दुबे, उसके परिवार के सदस्यों और सहयोगियों के अलावा आपराधिक गतिविधियों में उसका साथ देने वालों की भी जानकारी मांगी है। ईडी ने साथ ही पुलिस से इन सभी के खिलाफ क्राइम मामलों की वर्तमान स्थिति की जानकारी भी मांगी है।

    गैंगस्टर विकास दुबे ने तीन साल में 15 देशों का दौरा किया हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार, विकास की थाईलैंड और दुबई में संपति हैं। विकास ने दुबई और थाईलैंड में पेंटहाउस खरीदा हैं। साथ ही उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ करीब 20 करोड़ की ज़मीन खरीदी थी। प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों की मानें तो विकास दुबे पर करीब 5 हजार 200 करोड़ की प्रॉपर्टी हो सकती है।

    जानकरी के लिए आपको बता दें कि शुक्रवार को उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम ने कानपुर पुलिस हत्याकांड के आरोपी विकास को एनकाउंटर में मार गिराया है। पुलिस ने उसे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया था। इसके बाद उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम उसे उज्जैन से कानपुर लेकर आ रही थी। इसी दौरान पुलिस की कार पलट गई। तभी विकास दुबे फरार होने के इरादे से घायल सिपाही की पिस्तौल लेकर भागने लगा। इसके बाद पुलिस ने उसे सरेंडर करने को कहा, लेकिन उसने पुलिस पर फायरिंग कर दी। पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए उसे एनकाउंटर में ढेर कर दिया।

     

    और भी...

  • मध्यप्रदेश के भाजपा सांसद ने पीएम मोदी और सीएम योगी को बताया देश के लिए कलंक

    मध्यप्रदेश के भाजपा सांसद ने पीएम मोदी और सीएम योगी को बताया देश के लिए कलंक

     

    इंदौर में मीडिया से चर्चा के दौरान मप्र सरकार के मंत्री तुलसी सिलावट की जुबान ऐसी फिसली कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देश के लिए कलंक बता दिया। इंदौर में ही सांसद शंकर लालवानी की भी जुबान फिसल गई, लालवानी ने खूंखार अपराधी और एनकाउंटर में ढेर हुए विकास दुबे को विकास जी कहकर सम्मान देते हुए बयान दिया। उधर, भाजपा के ही एक विधायक धर्मेन्द्र लोधी ने अपनी विधायकी का रौब दिखाते हुए एक रेंजर को इसलिए धमकाया कि रेंजर ने शिकारी को गिरफ्तार कर लिया, और विधायक के कहने पर उसे छोड़ने से मना कर दिया।
     

    शुक्रवार का दिन भाजपा के लिए शर्मसार करने वाला रहा। एक तरफ जहां विकास दुबे को मप्र में संरक्षण देने को लेकर पार्टी के अंदर और बाहर से ही नेता भाजपा सरकार से सवाल कर रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर भाजपा के दो बड़े नेताओं की ऐसी जुबान फिसली, जिसकी भरपाई करने में सालों साल लग जाएंगे। इंदौर में मीडिया से चर्चा के दौरान केबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट ने विकास दुबे एनकाउंटर मामले में प्रतिक्रिया देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को देश व समाज के लिए कलंक बता दिया।
     

    उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री, मप्र के मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देश के लिए कलंक हैं। दरअसल मंत्री बोलना कुछ चाह रहे थे और उनकी जुबान से कुछ और निकल गया। लेकिन इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि तुलसी सिलावट चाहे भाजपा में शामिल हो गए हों लेकिन उनके मन में कांग्रेस में रहते हुए भाजपा के लिए सालों तक जो नफरत रही है, वो आज जुबान से सामने आ गई।

    उपचुनाव में साँवेर सीट हॉट बनी हुई है और मंत्री सिलावट का यह बयान उनके लिए कहीं गले की हड्डी ना बन जाए। बाद में जब उनका वीडियो वायरल हुआ तो अपनी गलती के लिए माफी मांगने के बजाय वे मीडिया को ही धमकाने लगे। सिलावट ने कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है, कार्रवाई करेंगे। बाद में सिलावट ने कहा मैने गैंगस्टर विकास दुबे को कलंक बताया है।

    इंदौर से भाजपा के सांसद शंकर लालवानी की भी जबान फिसल गई। उत्तर प्रदेश के कुख्यात बदमाश और मृतक विकास दुबे के बारे में जब मीडिया ने उनसे सवाल किया तो सांसद ने विकास को संतोष दुबे जी कहकर सम्मान दिया। जब सांसद को बताया गया कि उसका नाम संतोष नहीं विकास है तो लालवानी ने विकास जी कहकर नाम तो सुधार लिया, लेकिन उसके नाम के आगे जी लगाकर सम्मान बरकरार रखा।



     

    और भी...

  • विकास दुबे के अंतिम संस्कार के बाद भड़की पत्नी रिचा, कही ये बात

    विकास दुबे के अंतिम संस्कार के बाद भड़की पत्नी रिचा, कही ये बात

     

    कानपुर में विकास दुबे का पोस्टमॉर्टम होने के बाद शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. इस मौके पर भैरव घाट पर उसकी पत्नी रिचा दुबे, छोटा बेटा और बहनोई दिनेश तिवारी मौजूद थे. लेकिन घाट पर रिचा मीडियाकर्मियों के सवालों पर भड़क गईं. रि‍चा ने आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल भी किया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 'भाग जाओ, जिसने जैसा सलूक किया है, उसको वैसा ही सबक सिखाऊंगी. अगर जरूरत पड़ी तो बंदूक भी उठाऊंगी'.

    गौरतलब है कि कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी और गैंग्सटर विकास दूबे का शुक्रवार सुबह कानपुर से 17 किमी पहले ही एनकाउंटर कर दिया गया था. विकास के सीने में तीन, जबकि एक गोली कमर में लगी थी. पोस्टमॉर्टम पूरा होने के बाद विकास का शव उसके बहनोई दिनेश तिवारी को सौंपा दिया गया था. अंतिम संस्कार में कुख्यात बदमाश विकास के कुछ करीबी रिश्तेदार मौजूद थे. इस दौरान कई थानों की फोर्स भी मौजूद रही.

    बता दें कि कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस की तीन गाड़ियों के साथ विकास को सड़क मार्ग से उज्जैन से कानुपर लाया जा रहा था. विकास को पुलिस जिस गाड़ी में ला रही थी उसके आगे पीछे पुलिस की दो अन्य गाड़ियां भी साथ चल रही थीं.

     

    और भी...

  •  55 घंटे के लिए उत्तर प्रदेश हुआ लॉक, जानें क्या  खुलेगा और क्या  रहेगा बंद

    55 घंटे के लिए उत्तर प्रदेश हुआ लॉक, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

     

    कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच उत्तर प्रदेश में शुक्रवार रात 10 बजे से एक बार फिर लॉकडाउन लागू हो गया है. लॉकडाउन 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा. हालांकि इस दौरान धार्मिक स्थल, अस्पताल और जरूरी सामान की दुकानें खुली रहेंगी.

    बता दें कि यूपी में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. शुक्रवार को ही प्रदेश में कोरोना के रिकॉर्ड 1347 नए केस सामने आए हैं. जबकि 27 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ ही मृतकों की संख्या बढ़कर 889 हो गई है. सूबे में कोरोना के 11024 एक्टिव केस हैं. कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए योगी सरकार ने वीकेंड पर प्रदेश में लॉकडाउन का ऐलान किया है.

    लॉकडाउन के दौरान मालवाहक वाहनों के आवागमन पर कोई रोक नहीं होगी. नेशनल और स्टेट हाइवे पर वाहनों की आवाजाही जारी रहेगी. रेलवे का आवागमन पहले की तरह जारी रहेगा. यूपी राज्य सड़क परिवहन की बसें चलना जारी रहेंगी. घरेलू हवाई सेवाएं पहले की तरह जारी रहेंगी. अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर अब भी रोक जारी है.

    एक्सप्रेस वे, पुल और सड़कों से जुड़े सभी निर्माण कार्य जारी रहेंगे. आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं होगी. आवश्यक सेवाएं जैसे स्वास्थ्य और चिकित्सीय सेवा से जुड़ी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति पहले की तरह होती रहेगी.

    इन सेवाओं से जुड़े लोगों के आने-जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा. डोर-स्टेप डिलिवरी से जुड़े लोगों के आने-जाने पर कोई पाबंदी नहीं होगी. राष्ट्रीय और राज्यमार्गों पर वाहनों की आवाजाही जारी रहेगी. साथ ही इनके किनारे स्थित पेट्रोल पंप और ढाबे भी खुले रहेंगे. लेकिन लॉकडाउन के दौरान प्रदेश के सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बाजार, हाट, गल्ला मंडी और कार्यालय सब बंद रहेंगे.

     

    और भी...