हिमाचल प्रदेश

  • होम
  • हिमाचल प्रदेश
  • हिमाचल सरकार का फैसला, चतुर्थ और तृतीय श्रेणी के पदों पर अब गैर हिमाचली नहीं कर सकेंगे नौकरी

    हिमाचल सरकार का फैसला, चतुर्थ और तृतीय श्रेणी के पदों पर अब गैर हिमाचली नहीं कर सकेंगे नौकरी

     

    हिमाचल प्रदेश के सरकारी विभागों में चतुर्थ और तृतीय श्रेणी के पदों पर अब गैर हिमाचली नौकरी नहीं कर सकेंगे। प्रदेश सरकार गुरुवार को इस संबंध में अधिसूचना जारी करेगी। पिछले दिनों सचिवालय में तृतीय श्रेणी के पदो पर बिहार, झारखंड और पंजाब के लोगों को नौकरी मिली थी, जिसका बड़े स्तर पर विरोध हुआ था।

    चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के लिए हिमाचल से 8वीं और 9वीं कक्षा पास करना अनिवार्य होगा, जबकि तृतीय श्रेणी के पदों पर नौकरी के लिए 10वीं और 12वीं कक्षा हिमाचल से पास  होना जरूरी है। अगर कोई हिमाचली है और बाहरी राज्यों से पढ़ाई की है, तो उन पर यह शर्त लागू नहीं होगी। यानी हिमाचली किसी अन्य राज्य से शिक्षा ग्रहण किए हैं तो वे इन पदों के लिए आवेदन कर सकता है।

    हिमाचल सचिवालय में कुछ समय पहले तृतीय श्रेणी पद भरे थे। इनमें लिपिकों के 16 पदों पर गैर हिमाचली बिहार, झारखंड और पंजाब के लोग तैनात कर दिए थे। इसका सचिवालय सेवाएं कर्मचारी संघ ने कड़ा विरोध कि या था। इसके बाद सरकार ने फैसला लिया था कि भविष्य में चतुर्थ और तृतीय श्रेणी पदों पर गैर हिमाचलियों की तैनाती नहीं की जाएगी।

    और भी...

  • वृद्धा से क्रूरता के मामले में मानवाधिकार आयोग में एक और शिकायत दर्ज, सीबीआई जांच की मांग

    वृद्धा से क्रूरता के मामले में मानवाधिकार आयोग में एक और शिकायत दर्ज, सीबीआई जांच की मांग

     

    हिमाचल के मंडी जिले के सरकाघाट में बुजुर्ग महिला को डायन बताकर क्रूरता करने का राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में मामला दर्ज हो गया है। यह केस हिमाचल के सेवानिवृत्त एडीएम बीआर कौंडल ने दर्ज करवाया है। उन्होंने मंडी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। डीएसपी सुंदरनगर, एसएचओ समेत मंडी के एसपी की कार्यप्रणाली भी संदिग्ध करार दी है। उन्होंने आयोग से इन अधिकारियों के खिलाफ तत्काल कड़ी कार्रवाई करने व मामले की सीबीआइ जांच की मांग उठाई है।

    कौंडल के अनुसार वृद्धा के साथ अमानवीय घटना छह नवंबर को हुई। सीआइडी को इसी दिन सूचना मिल गई थी, लेकिन नौ नवंबर तक एसपी कहते रहे कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दिए। कौंडल ने कहा है कि पुलिस ने सरकार के मुखिया को भी सही जानकारी नहीं दी।

    मानवाधिकार आयोग ने गुहार लगाई गई है कि वह हिमाचल में देवी-देवताओं के नाम पर हो रहे पाखंड का भंडाफोड़ करे। उन्होंने प्रदेश सरकार से भी मांग की है कि मामले की सीबीआइ जांच की सिफारिश करे। वहीं सीएम जयराम ठाकुर ने कहा है कि मंडी जिले के सरकाघाट क्षेत्र में डायन बताकर वृद्ध महिला से क्रूरता करने वाले दोषियों को बख्शा नहीं जाएगी। पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

    और भी...

  • हिमाचल: महिला को डायन बताने और क्रूरता का मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग पहुंचा

    हिमाचल: महिला को डायन बताने और क्रूरता का मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग पहुंचा

     

    हिमाचल के मंडी जिले की गाहर पंचायत में देव आस्था के नाम पर वृद्ध महिला को डायन बताकर मुंह पर कालिख पोतकर गांव में घुमाने का मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग पहुंच गया है। शिमला में वकालत की पढ़ाई कर रहीं प्रज्वल बस्टा ने इस संबंध में आयोग को शिकायत भेजी है। उन्होंने वृद्धा क्रूरता मामले पर राष्ट्रीय महिला आयोग सहित राज्य महिला आयोग को भी शिकायत भेजी है।

    प्रज्वल बस्टा ने कहा कि सरकाघाट की घटना अत्यंत निंदनीय है। इसने मानवता को शर्मसार किया है और मानव अधिकारों के घोर उल्लंघन का उदाहरण है। उन्होंने कहा कि घटना और मामले में अधिकारियों की देरी से की कार्रवाई पर संज्ञान लेने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग सहित महिला आयोग को शिकायतें भेजी गई हैं। शिकायत में उन्होंने इस मामले की निष्पक्ष जांच और दोषियों को सजा दिलाने की मांग की है।

    पुलिस ने अब तक 21 लोगों को गिरफ्तार किया है। इंसानियत को शर्मसार करने वाले इस मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों में 14 पुरुष और 7 महिलाए हैं। गिरफ्तार 17 लोगों को रविवार को एसडीएम कोर्ट सरकाघाट कोर्ट में पेश किया गया, जिन्हें तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया। इसके अलावा रविवार को गिरफ्तार चार आरोपी सोमवार को कोर्ट में पेश गए। आरोपियों पर अभी तक धारा 147, 149,  452, 435, 355 और 427 लगाई गई हैं।

     

    और भी...

  • हिमाचल सरकार का फैसला, अब केवल इतनी जगह पर लगा सकते है लघु उद्योग

    हिमाचल सरकार का फैसला, अब केवल इतनी जगह पर लगा सकते है लघु उद्योग

     

    हिमाचल में उद्योगपति अब 150 से 500 वर्ग मीटर जगह पर भी लघु उद्योग लगा सकेंगे। उद्योगपतियों को राहत देने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है। हिमाचल में कारोबारी ज्यादा से ज्यादा निवेश कर सकें, इसको लेकर यह पहल की जा रही है। टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग इन उद्योगों के आधारभूत ढांचे के निर्माण को मंजूरी देगा। हिमाचल में अभी छोटे उद्योग स्थापित नहीं किए जा रहे हैं।

    सरकार का मानना है कि लघु उद्योग स्थापित किए जाने से जगह कम उपयोग में लाई जा सकेगी। दूसरे हिमाचल के लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा। उद्योग विभाग की मानें तो पहले भी छोटे-छोटे उद्योगों को लगाने की मंजूरियां दी गई हैं। बद्दी, नालागढ़, कालाअंब, शोघी जैसे औद्योगिक क्षेत्रों में लोगों ने उद्योग स्थापित कर रखे हैं। इनमें ब्लेड, सूई, धागा तैयार किए जा रहे हैं।

    उद्योग स्थापित करने के लिए लोगों को आधारभूत ढांचा स्वीकृत कराने के लिए एक बार कार्यालय में आवेदन करना होगा। टीसीपी के कर्मचारी एक बार मौके का निरीक्षण करेंगे। भवन निर्माण के साथ-साथ लोगों को व्यवसायिक बिजली और पानी मुहैया कराया जाएगा। 

    और भी...

  • हिमाचल: ग्लोबल इन्वेस्टर मीट समारोह का आज गृहमंत्री अमित शाह करेंगे समापन

    हिमाचल: ग्लोबल इन्वेस्टर मीट समारोह का आज गृहमंत्री अमित शाह करेंगे समापन

     

    दो दिवसीय ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का शुक्रवार को देश के गृहमंत्री अमित शाह समापन करेंगे। अमित शाह शाम को 4 बजे धर्मशाला पहुंचेंगे। शाम 6 बजे गृहमंत्री निवेशकों को संबोधित करेंगे। इससे पहले अमित शाह प्रदर्शनी भी देखेंगे। रात को अमित शाह धर्मशाला से सड़क मार्ग से पठानकोट जाएंगे। सुबह के सत्र में ऊर्जा क्षेत्र में संभावनाओं को लेकर चर्चा होगी। शाम को 5 उद्योगपति अपने निवेश का खुलासा करेंगे।

    इन्वेस्टर मीट के दूसरे दिन की शुरुआत प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना के संबोधन से होगी। इस दौरान ऊर्जा उत्पादन को लेकर निवेशकों से विस्तार से चर्चा की जाएगी। इसमें जेएसडब्ल्यू के सीईओ प्रशांत जैन, स्टेट क्राफ्ट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के एमडी ब्रैडो इरिजसन, एसजेवीएनएल के सीईओ नंदलाल शर्मा, एनटीपीसी के चेयरमैन गुरदीप सिंह, ऊर्जा मंत्रालय के संयुक्त सचिव अनिरूद्धा कुमार, ट्रांसमिशन मंत्रालय ऊर्जा के अतिरिक्त सचिव एसकेजी रहाते, एसईसीआई के एमडी जतिंद्र नाथ और डायरेक्टर जनरल ऑफ फारेस्ट सिद्धांता दास अपने निवेश की जानकारी देंगे।

    इसके बाद वन मंत्री गोविंद ठाकुर का समापन होगा। दोपहर बाद का सत्र साढ़े चार बजे शुरू होगा। इस दौरान गृहमंत्री भी मौजूद रहेंगे। उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह उनके स्वागत में भाषण देंगे। इसके बाद मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी हिमाचल में निवेश की संभावनाओं पर प्रस्तुति देंगे। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल, वित्त एवं कारपोरेट राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का संबोधन होगा। शाम को करीब 7 बजे इन्वेस्टर मीट का समापन होगा।

    और भी...

  • HIMACHAL GLOBAL INVESTORS’ MEET का का आगाज़, CM जयराम ने पावर सेक्टर में हिमाचल को बताया अव्वल

    HIMACHAL GLOBAL INVESTORS’ MEET का का आगाज़, CM जयराम ने पावर सेक्टर में हिमाचल को बताया अव्वल

    विकास शर्मा और राजेश कुमार

    लंबे समय के इंतज़ार के बाद इन्वेस्टर्स का आगाज़ हुआ, जिसमें देश-विदेश से निवेशकों ने भाग लिया। इस दौरान प्रदेश के मुखिया जयराम ठाकुर ने कहा, “HIMACHAL GLOBAL INVESTORS’ MEET” इन चार शब्दों के पीछे छिपा है, हिमाचल का विकास ये चार शब्द छोड़ रहे हैं हिमाचल की छाप और यही चार शब्द तैयार ले जाएंगे पहड़ों में बसे हिमाचल को विकास के पहाड़ पर, क्योंकि इस मीट के लिए यहां पहुंचे थे 100 से ज्यादा देशों को DELEGATES। जिन्होंने लगाई है करीब 82 हजार करोड़ के निवेश प्रस्तावों पर अपनी मुहर। देश के सबसे बड़े व्यक्तित्व खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यहां मौजूद थे। चप्पे चप्पे पर सुरक्षा के इंतजाम किए गए थे। हिमाचल के धर्मशाला में वादियों की खूबसूरती के साथ-साथ एक खूबसूरत मंच भी तैयार था। सभी DELEGATES लाइन से बैठे थे और सुन रहे थे सूबे के मुखिया जयराम ठाकुर को। जयराम ठाकुर जब इन्वेस्टर्स मीट को संबोधित कर थे, तो उन्होंने कहा की देवभूमि को अपनी कर्मभूमि बनाएं।

    सीएम ने हिमाचल की बुलंदियों को बुलंद आवास से इन्वेस्टर्स के सामने रखा, कहा पावर सेक्टर में हिमाचल सबसे आगे है और यहां निवेश के लिए बहुत लोगों ने इच्छा जताई है। देवभूमी को कर्मभूमि बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने सभी एंबेसडर को धन्यवाद कहा,

    बतादें इन्वेस्टर्स मीट के बोर्ड पर लिखा था। शिखर की ओर हिमाचल और इस शिखर को 7वें आसमान पर विराजमान करने के लिए ही 100 से ज्यादा देशों से निवेशक यहां पहुंचे थे।

    और भी...

  • ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में पीएम मोदी बोले, निवेशक राज्यों को देखकर करते हैं निवेश

    ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में पीएम मोदी बोले, निवेशक राज्यों को देखकर करते हैं निवेश

     

    हिमाचल प्रदेश की पहली ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का आगाज गुरुवार से धर्मशाला में हो गया। पीएम नरेंद्र मोदी ने मीट का उद्घाटन किया है। धर्मशाला में हो रहे इस ऐतिहासिक इवेंट के लिए गुरुवार 10 बजकर 50 मिनट पर प्रधानमंत्री यहां पहुंचे। प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने के बाद प्रदर्शनियों का अवलोकन किया।

    पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा, हिमाचल ने यहां के माहौल को बिजनेस फ्रेंडली बना दिया है। पीएम ने कहा कि राज्य अच्छे फैसले लेता है तो देश तरक्की करता है। निवेशक राज्यों को देखकर निवेश करते हैं कि किस राज्य में कितनी छूट मिल रही है। आज भारत में विकास की गाड़ी नई सोच, नई अप्रोच के साथ 4 वील्स पर चल रही है।

    प्रधानमंत्री ने कहा कि बेवजह के नियम कायदे, सरकार का बहुत ज्यादा दखल कहीं न कहीं उद्योगों के बढ़ने की रफ्तार को रोकता है। मुझे खुशी है कि इसी सोच के साथ हिमाचल प्रदेश सरकार भी काम कर रही है। अब राज्य सरकारें समझने लगी हैं कि रियायतों की स्पर्धा न राज्य का भला करती हैं और न ही उद्योंगों को आकर्षित कर पाती हैं।

    इससे पहले अभिनेत्री यामी गौतम ने पीएम का शाल और टोपी पहनाकर स्वागत किया। पीएम मोदी ने मंच पर इन्वेस्टर हेवन राइजिंग हिमाचल कॉफी टेबल बुक का लोकापर्ण किया। हिमाचल में औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिए पहली बार देवभूमि में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट शुरू हुआ है। दो दिवसीय इन्वेस्टर मीट में देश-विदेश के नामी उद्योग घरानों के उद्योगपतियों सहित 1,720 प्रतिनिधि शरीक हो रहे हैं।

    और भी...

  • हिमाचल: धर्मशाला में आज पीएम मोदी करेंगे ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का शुभारंभ

    हिमाचल: धर्मशाला में आज पीएम मोदी करेंगे ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का शुभारंभ

     

    हिमाचल में औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिए पहली बार देवभूमि में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट गुरुवार से शुरू होगा। दो दिवसीय इन्वेस्टर मीट में देश-विदेश के नामी उद्योग घरानों के उद्योगपतियों सहित 1,720 प्रतिनिधि शरीक होंगे। जयराम सरकार ने इन्वेस्टर मीट में आने वाले निवेशकों और मेहमानों के स्वागत की तैयारियां पूरी कर ली हैं।

    धर्मशाला के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार सुबह 11 बजे ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का शुभारंभ करेंगे। इस दौरान पीएम प्रदर्शनी पंडाल में हिमाचल के उत्पादों का अवलोकन भी करेंगे। इन्वेस्टर मीट के उद्घाटन सत्र में पीएम के अलावा उनके मंत्रिमंडल के पर्यटन राज्य मंत्री प्रह्लाद एस पटेल, वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर, सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह थमांग, बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे, नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार और केंद्रीय मंत्रालय के अधिकारी भी आएंगे।

    इसके साथ ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री, सांसद और विधायक अतिथियों की अगवानी करेंगे। पहले दिन इन्वेस्टर मीट में देश-विदेश के 200 डेलीगेट्स सहित 1700 से अधिक प्रतिनिधि सभागार में मौजूद रहेंगे।

    और भी...

  • हिमाचल में बीएड कर रहे छात्रों को फीस का लगा करंट, 13 हजार रुपये की हुई बढ़ोतरी

    हिमाचल में बीएड कर रहे छात्रों को फीस का लगा करंट, 13 हजार रुपये की हुई बढ़ोतरी

     

    हिमाचल के 72 निजी बीएड कॉलेजों की फीस में 13 हजार रुपये की बढ़ोतरी हो गई है। नए फीस स्ट्रक्चर को मंजूर करते हुए दो साल की बीएड फीस 85 हजार रुपये से बढ़कर 98 हजार हो गई है। उच्च शिक्षा निदेशालय से इस बाबत अधिसूचना जारी होते ही फीस की नई दरें शैक्षणिक सत्र 2019-20 से लागू हो जाएंगी।

    वर्तमान में प्रदेश के बीएड कॉलेजों में दो साल की डिग्री के लिए 85 हजार रुपये की फीस वसूली जा रही है। हिमाचल में स्थित 72 बीएड कॉलेजों में हर साल करीब आठ हजार विद्यार्थी प्रवेश लेते हैं। फीस बढ़ाने की मांग को लेकर कॉलेज प्रबंधक हाईकोर्ट पहुंच गए थे। हाईकोर्ट ने फैसला लेने के लिए सरकार को निर्देश दिए थे।

    इसी कड़ी में हाईकोर्ट के आदेशानुसार नया फीस स्ट्रक्चर तैयार किया गया है। 98 हजार की फीस दो किस्तों में वसूली जाएगी। पहले साल 49510 रुपये और दूसरे साल में 48490 रुपये चुकाने पड़ेंगे। इसके अलावा 1400 रुपये प्रति सेमेस्टर की परीक्षा फीस अलग से देनी होगी। लाइब्रेरी सिक्योरिटी फंड के एक हजार रुपये डिग्री पूरी होने पर वापस मिल जाएंगे।

     

    और भी...

  • हिमाचल ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी तो समापन गृहमंत्री अमित शाह

    हिमाचल ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी तो समापन गृहमंत्री अमित शाह

     

    हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 7 नवंबर को धर्मशाला में वैश्विक निवेशकों की दो दिवसीय बैठक का उद्घाटन करेंगे। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 8 नवंबर को समापन के दिन मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित होंगे।

    सीएम ठाकुर ने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात सहित 16 देशों के राजदूतों और विभिन्न बड़े व्यापारिक घरानों के प्रतिनिधियों ने पहाड़ी राज्य में निवेश को बढ़ाने के लिए आयोजित इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए अपनी सहमति दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने पहले ही राज्य में निवेश के लिए 83,000 करोड़ रुपए के 566 समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। ठाकुर ने उम्मीद जताई कि राज्य में इस बैठक के सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

    इससे पहले केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट अफेयर्स राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने प्रदेश में होने जा रहे इन्वेस्टर मीट के बारे में शनिवार को धर्मशाला में कहा था कि यह एक अच्छा फैसला है। उन्होंने कहा था कि इस मीट के माध्यम से नया निवेश आएगा। उद्योगपति कागज साइन करेंगे और यहां नया निवेश करेंगे। उन्होंने कहा कि मीट में यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि उनका शत प्रतिशत पैसा हिमाचल में ही निवेश हो, उसके लिए जो भी हमें करना पड़े, हमें करना चाहिए ताकि हिमाचल के लोगों को रोजगार मिले।

    और भी...

  • हिमाचल में पंचायती राज संस्थाओं में उपचुनाव के लिए नामांकन शुरू, 17 नवंबर को चुनाव

    हिमाचल में पंचायती राज संस्थाओं में उपचुनाव के लिए नामांकन शुरू, 17 नवंबर को चुनाव

     

    हिमाचल में पंचायती राज संस्थाओं में उपचुनाव के लिए नामांकन शुक्रवार से भरे जा रहे हैं। प्रधानों, उपप्रधानों और वार्ड सदस्यों की 247 रिक्त सीटों के लिए 17 नवंबर को चुनाव हो रहे हैं। इनमें प्रधानों की 20, उपप्रधानों की 22 और वार्ड सदस्यों की 196 सीटें हैं।

    जिला परिषद की एक और पंचायत समिति की आठ सीटें हैं। इन उपचुनाव के चलते प्रदेश की छह सौ से अधिक पंचायतों में आचार संहिता लगी है। नामांकन पत्र एक, दो या चार नवंबर को 11 से तीन बजे के बीच तय स्थानों पर भरे जा सकेंगे। नामांकन पत्रों की पांच नवंबर को स्क्रूटिनी होगी।

    नामांकन वापसी सात नवंबर को 10 से 3 बजे के बीच होगी। चुनाव चिह्न भी सात नवंबर को मिलेंगे। पंचायत प्रधान, उपप्रधान और वार्ड मेंबर के चुनाव के लिए मतगणना चुनाव के तत्काल बाद होगी। उसी दिन नतीजे भी आ जाएंगे। जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव की मतगणना 18 नवंबर को नौ बजे से शुरू होगी।

    और भी...

  • यामी गौतम को हिमाचल सरकार ने बनाया ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का ब्रांड एंबेसडर

    यामी गौतम को हिमाचल सरकार ने बनाया ग्लोबल इन्वेस्टर मीट का ब्रांड एंबेसडर

     

    फिल्म अभिनेत्री यामी गौतम को हिमाचल की जयराम सरकार ने पहली ग्लोबल इन्वेस्टर मीट की ब्रांड एंबेसडर बनाया है। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार ने यह निर्णय लिया है और यामी गौतम को भी इस बारे में सूचित कर दिया है। बता दे हिमाचल की इन्वेस्टर मीट 7 और 8 नवंबर को धर्मशाला में होने जा रही है।

    सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि यामी गौतम का हिमाचल की धरती से संबंध है। ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में इसका फायदा मिलेगा। इन्वेस्टर मीट को प्रोमोट करने में सरकार को मदद मिलेगी। ग्लोबल इन्वेस्टर के लिए कम ही समय बचा है। ऐसे में सरकार ने पूरा फोकस इन्वेस्टर मीट पर किया है। राज्य सचिवालय में सीएम जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक भी हुई और अगली बैठक 4 नवंबर के बाद धर्मशाला में ही होगी।

    ग्लोबल इन्वेस्टर मीट को लेकर राज्य सरकार डे टू डे मॉनिटरिंग कर रही है। सीएम जयराम ठाकुर भी 31 अक्तूबर से 3 नवंबर तक हिमाचल से बाहर दौरे पर रहेंगे, जिसमें 31 अक्तूबर में दिल्ली में केंद्रीय मंत्रियों से भी मुलाकात कर सकते हैं। 1 और 2 नवंबर को सीएम मध्य प्रदेश में एक कार्यक्रम में शिकरत करेंगे।

    और भी...

  • हिमाचल: उपचुनाव में बीजेपी ने किया क्लीन स्वीप, दोनों सीटों पर जीत दर्ज

    हिमाचल: उपचुनाव में बीजेपी ने किया क्लीन स्वीप, दोनों सीटों पर जीत दर्ज

     

    मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के दो साल से भी कम समय के कार्यकाल में भाजपा ने लगातार दूसरी बार हिमाचल में क्लीन स्वीप किया है। विधानसभा उपचुनावों के आए नतीजों से जयराम का कद और बढ़ गया है। लोकसभा चुनाव में चारों सीटें रिकॉर्ड मतों से जीतने के बाद भाजपा ने हिमाचल में उपचुनाव में भी दोनों सीटें झटक लीं।

    धर्मशाला और पच्छाद में भाजपा ने जीत का परचम लहराया, जबकि दोनों ही सीटों पर भाजपा का टिकट चाह रहे दो प्रभावशाली नेता बागी हो गए। पच्छाद में भाजपा प्रत्याशी रीना कश्यप को टिकट मिला तो यहां जिला परिषद सदस्य दयाल प्यारी ने बगावत कर दी।

    धर्मशाला में भी भाजपा प्रत्याशी विशाल नैहरिया के खिलाफ युवा नेता राकेश चौधरी जातीय और अन्य समीकरणों की ढाल लेकर बागी बन गए। फिर भी भाजपा के दोनों युवा प्रत्याशियों ने कांग्रेस को करारा झटका दिया। इन उपचुनावों में हिमाचल भाजपा केवल मोदी लहर के आसरे ही नहीं रही। इन उपचुनाव के स्टार प्रचारकों में केवल जयराम ठाकुर पर ही सारा दारोमदार था।

    और भी...

  • हिमाचल उपचुनाव: धर्मशाला में बीजेपी के विशाल नैहरिया की जीत

    हिमाचल उपचुनाव: धर्मशाला में बीजेपी के विशाल नैहरिया की जीत

     

    हिमाचल उपचुनाव में धर्मशाला में बीजेपी ने जीत का परचम लहरा दिया है। भाजपा के विशाल नैहरिया 6758 मतों से जीते हैं। कुल 82137 मतदाता थे जिनमें से 52485 वोट डाले गए। 430 लोगों ने नोटा दबाया। 24 मत रिजेक्ट हुए। धर्मशाला में बीजेपी कार्यकर्ता जश्न में डूब गए हैं। बीजेपी कार्यकर्ता जीत की खुशी में लोगों को लड्डू बांट रहे हैं।

    धर्मशाला चुनाव परिणाम

    भाजपा प्रत्याशी विशाल नैहरिया 23498

    आजाद प्रत्याशी राकेश कुमार 16740

    कांग्रेस प्रत्याशी विजय इंद्र करण 8212

    आजाद प्रत्याशी निषा कटोच 435

    आजाद प्रत्याशी पुनीष शर्मा 2345

    आजाद प्रत्याशी डॉ. मनोहर लाल धीमान 887

    आजाद प्रत्याशी सुभाष चंद शुक्ला 368

    और भी...

  • हिमाचल बिजली बोर्ड को मिला ए ग्रेड का दर्जा, इन योजनाओं में मिलेगी प्राथमिकता

    हिमाचल बिजली बोर्ड को मिला ए ग्रेड का दर्जा, इन योजनाओं में मिलेगी प्राथमिकता

     

    केंद्र सरकार के विद्युत मंत्रालय ने हिमाचल राज्य बिजली बोर्ड को ए ग्रेड का दर्जा दे दिया है। बीते कई वर्षों से बिजली बोर्ड के पास बी ग्रेड का दर्जा था। ग्रेडिंग में सुधार होने से अब राज्य बिजली बोर्ड को केंद्र सरकार की योजनाओं में प्राथमिकता मिलेगी। इसके अलावा कम ब्याज दरों पर बोर्ड को ऋण भी मिल सकेगा।

    बोर्ड के संयुक्त निदेशक लोक संपर्क अनुराग पराशर ने बताया कि बीते दो वर्षों में दीनदयाल उपाध्याय और आईपीडीएस योजनाओं के तहत रिकॉर्ड कार्य कर बोर्ड ने अपनी क्षमता बढ़ाई है। मुख्यमंत्री रोशनी योजना के तहत गरीब परिवारों को निशुल्क कनेक्शन देने की योजना पहली बार राज्य सरकार की सहायता से शुरू की गई है। 25 मेगावाट तक की क्षमता वाली जल विद्युत परियोजनाओं से पैदा विद्युत उत्पादन को बोर्ड के लिए क्रय करना अनिवार्य बनाया गया है।

    उन्होंने बताया कि बोर्ड द्वारा 90 फीसदी विद्युत आपूर्ति हरित ऊर्जा से की जा रही है। औद्योगिक इकाइयों को 15 फीसदी बिजली दरों में छूट देकर गत 2 वर्षों के इतिहास में बोर्ड ने देश में कम मूल्य की दरों को संभव बनाया है। विद्युत दरों का इस तरह प्रबंधन किया गया है कि प्रदेश के किसी भी उपभोक्ता को दिक्कत न हो। औद्योगिक क्षेत्र को बिजली दरों में 15 फीसदी छूट देकर प्रदेश में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा दिया गया है।

    संचार और वितरण हानियों को कम कर 11 फीसदी तक नीचे पहुंचाया है, जो देश के अन्य राज्यों के मुकाबले काफी कम है। वर्ष 2018-19 में 12300 गले-सड़े खंभों को बदला गया। इन कार्यों को देखते हुए भारत सरकार ने बोर्ड की ग्रेडिंग में सुधार किया है।

    और भी...