पंजाब

  • कोरोना के बढ़ते मामलों पर एक्शन मोड में पंजाब सरकार, सीएम बोले नहीं बनने देंगे  दिल्ली, मुंबई

    कोरोना के बढ़ते मामलों पर एक्शन मोड में पंजाब सरकार, सीएम बोले नहीं बनने देंगे दिल्ली, मुंबई

     

    पंजाब में कोरोना वायरस ने सरकार की नींद उड़ा दी है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण से राज्य में इसके बचाव के हर मुमकिन कोशिशें जारी हैं। इसी को देखते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में कुछ और सख्त कदम उठाने की तैयारी की है।

    फेसबुक लाइव सैशन 'कैप्टन से सवाल' के दौरान सोमवार को मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि कोरोना को फैलने से रोकने के लिए हमें सख्ती दिखानी होगी। उन्होंने कहा कि हम पंजाब को दिल्ली, मुंबई या तमिलनाडु नहीं बनने देंगे। जैसी स्थिति आज वहां के राज्यों में हैं हमें उससे बचना है। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि पंजाब भी दिल्ली, मुंबई या तमिलनाडु के रास्ते पर बढ़े।

    सीएम अमरिंदर ने बताया कि शनिवार को मास्क न पहनने के लिए 5100 लोगों के चालान किए गए। उन्होंने आश्वासन दिया कि राज्य सरकार जरूरतमंदों को मास्क बांटेगी। इसी के साथ-साथ बढ़ते मामलों के कारण कैप्टन सरकार सख्ती करने की रणनीति बना चुकी है जिसमें सामाजिक, सार्वजनिक और पारिवारिक समारोहों पर बंदिशों सहित कामकाज के दौरान भी मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
     

    और भी...

  • फाइनल परीक्षाओं को लेकर पंजाब के CM ने PM मोदी को लिखा पत्र, कहा- UGC के निर्देश की हो समीक्षा

    फाइनल परीक्षाओं को लेकर पंजाब के CM ने PM मोदी को लिखा पत्र, कहा- UGC के निर्देश की हो समीक्षा

     

    पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि यूजीसी के निर्देश की समीक्षा की जाए जिसमें सितंबर के अंत तक कॉलेजों एवं विश्वविद्यालयों में अंतिम परीक्षाएं कराना अनिवार्य किया गया है। दरअसल, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने छह जुलाई को घोषणा की थी कि विश्वविद्यालयों में अंतिम वर्ष की परीक्षाएं सितंबर के अंत तक आयोजित कराई जाएं। यूजीसी ने देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए जुलाई में होने वाली परीक्षाएं आगे बढ़ाकर सितंबर में कराने के निर्देश दिए हैं।

    Image

    वही, अमरिंदर सिंह ने मोदी को लिखे पत्र में कहा, 'यूजीसी से 29 अप्रैल 2020 के दिशानिर्देशों को ही लागू करने के लिए कहा जा सकता है, जिसमें इसने स्पष्ट रूप से कहा था कि दिशानिर्देश केवल परामर्श हैं और कोविड-19 महामारी को देखते हुए हर राज्य, विश्वविद्यालय अपनी योजना तैयार कर सकते हैं।'

    Image

    उन्होंने पंजाब सरकार के तीन जुलाई के निर्णय का पालन करने की अनुमति मांगी जिसमें कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की परीक्षाएं रद्द करने का निर्णय लिया गया था।

    और भी...

  • पंजाब के CM अमरिंदर सिंह बोले- विश्वविद्यालय परीक्षा रद्द करने के लिए केन्द्र को लिखेंगे पत्र

    पंजाब के CM अमरिंदर सिंह बोले- विश्वविद्यालय परीक्षा रद्द करने के लिए केन्द्र को लिखेंगे पत्र

     

    देशभर में फैले कोरोना वायरस के चलते सभी राज्यों में स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालयों को बंद किया हुआ है। साथ ही, स्कूल और कॉलेजों में होने वाली परीक्षाओं को भी रद्द कर दिया गया है। इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कोरोना वायरस के कारण कॉलेज और विश्वविद्यालयों की परीक्षा कराना संभव नहीं होगा, यह रूख बनाए रखते हुए कहा कि वह परीक्षाएं रद्द करने के लिए केन्द्र को पत्र लिखेंगे। 

    बता दें कि केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने छह जुलाई के अपने आदेश में कहा है कि परीक्षाएं सितंबर के अंत में कराई जाएंगी। गृह मंत्रालय की हरी झंडी मिलने के बाद मंत्रालय ने परीक्षाओं के संबंध में यह फैसला लिया। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सीएम अमरिंदर सिंह ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि पंजाब में कोविड-19 के मामले रोजाना बढ़ रहे हैं और सितंबर में उनके चरम पर पहुंचने का अनुमान है, ऐसे में वह इन परिस्थितियों में छात्रों के जीवन के साथ खतरा मोल लेने को तैयार नहीं हैं।

    उन्होंने आगे कहा, 'ऐसे हालात में हम छात्रों को एकत्र करके उन्हें संक्रमित होने के खतरे में कैसे घसीट सकते हैं।' अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर छह जुलाई का आदेश वापस लेने का अनुरोध करेंगे।

    और भी...

  • पंजाब में फेरबदल, 6 आईएएस व 26 पीसीए अफसरों के तबादले

    पंजाब में फेरबदल, 6 आईएएस व 26 पीसीए अफसरों के तबादले

     

    पंजाब सरकार ने बृहस्पतिवार को एक आदेश जारी कर 6 आईएएस और 26 पीसीएस अफसरों के तबादले कर दिए हैं। यह आदेश तुरंत प्रभाव से लागू किया जाएगा। यूं भी कह सकते हैं कि पंजाब सरकार ने इनके कामकाज का विस्तार किया है। इन्हें अलग अलग विभाग दिए गए हैं।
     

    सिंचाई विभाग की विशेष सचिव परमपाल कौर सिद्धू को उनके इस विभाग के अलावा अतिरिक्त निदेशक प्रशासन खेतीबाड़ी विभाग और महिला आयोग की सचिव का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। विनीत कुमार के पास अब केवल एडिश्नल सेक्रेटरी पर्सोनल का ही कार्यभार रहेगा। उनसे शेष विभाग ले लिए गए हैं।

    हरगुणजीत कौर को एडिशनल सेक्रेटरी कॉओप्रेशन के अलावा एमडी पंजाब स्टेट कोऑप्रेटिव बैंक लगाया गया है। अमृत सिंह को एएमडी मार्कफैड लगाया गया है, जबकि संदीप कुमार को एडीसी डेवलपमेँट लुधियाना लगाया गया है।

    पीसीएस अफसरों में करनैल सिंह को उनके पुराने विभाग के साथ साथ राज्य चुनाव आयोग का सचिव लगाया गया है। राहुल गुप्ता को संयुक्त सचिव कृषि व मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च विभाग में लगाया गया है। रविंदर सिंह को एडिश्नल सेक्रेटरी वन विभाग, अनुपम कलेर को अतिरिक्त मुख्य प्रशासक जालंधर डेवलपमेंट अथॉरिटी नियुक्त किया गया है।


    पीसीएस दलजीत कौर मंडल आयुक्त जालंधर के दफ्तर में एडिश्नल कमिश्नर ,परमदीप सिंह सेक्रेटरी रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी फरीदकोट,राजदीप कौर को एडीसी जनरल फिरोजपुर, ज्योति बाला सेक्रेटरी रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी अमृतसर,चंदरदीप सिंह एडीसी जनरल मुक्तसर साहिब ,दरबारा सिंह डिप्टी डायरेक्टर अर्बन लोकल बॉडीज जालंधर, नरेंद्र पाल सिंह एसडीमए धर्मकोट, उनके पास सहायक आयुक्‍त जनरल मोगा का चार्ज भी रहेगा। नवराज सिंह बराड़ को भूमि अधिग्रहण कलेक्टर नगर सुधार ट्रस्ट लुधियाना लगाया गया है। नितिश सिंगला को एएमडी पीआरटीसी, पूनम सिंह एसडीम फरीदकोट, राजेश कुमार शर्मा एसडीएम खडूर साहिब, रोहित गुप्ता संयुक्त आयुक्त नगर निगम अमृतसर, जीवन जोत कौर एसडीएम मूणक, अल्का कालिया एसडीमए मजीठा, अंकुर मोहिद्रू डिप्टी डायरेक्टर लोक निर्माण विभाग प्रशासन, सूबा सिंह सहायक आयुक्त जनरल संगरूर तैनात किया गया है।


     

     

    और भी...

  • शिअद ने CM अमरिंदर सिंह से कहा- कृषि क्षेत्र के अध्यादेश पर झूठ बोलना बंद करें

    शिअद ने CM अमरिंदर सिंह से कहा- कृषि क्षेत्र के अध्यादेश पर झूठ बोलना बंद करें

     

    शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से कहा कि वह विभाजनकारी नीतियां अपनाना बंद करें और झूठ बोलने के बजाए लोगों को अपनी असफलताओं के बारे में बताएं। बता दें कि हाल ही में केन्द्र ने तीन अध्यादेश... कृषि उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) अध्यादेश, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य बीमा समझौता और कृषि सेवा अध्यादेश पारित किए हैं।

    शिअद की टिप्पणी आने से एक दिन पहले मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर आरोप लगाया था कि वह कृषि विरोधी अध्यादेशों का साथ देकर राज्य के हितों को बेच रही है और किसान समुदाय को बर्बाद कर रही है। इस बीच शिअद के वरिष्ठ नेता दलजीत सिंह चीमा ने रविवार को अमरिंदर सिंह से अपील की कि पंजाबियों के हित में अध्यादेशों पर राजनीति बंद करें।

    मुख्यमंत्री से किसानों और किसान यूनियनों को पूरी सच्चाई बताने को कहते हुए चीमा ने कहा, 'क्या यह तथ्य सही नहीं है कि आपने एपीएमसी (कृषि उत्पाद विपणन समितियां) कानून में 2017 में संशोधन किया, ताकि इन अध्यादेशों में कही गई बातों जैसे निजी यार्ड, प्रत्यक्ष विपणन और ई-व्यापार को उसमें शामिल किया जा सके।'

    उन्होंने कहा कि राज्य ने ना सिर्फ एपीएमसी में संशोधन किया है बल्कि कृषि पर आए अध्यादेशों की सलाह प्रक्रिया में भाग भी लिया है। वही, चीमा ने आरोप लगाया, 'अब ये सब करके मुख्यमंत्री आम आदमी पार्टी के साथ मिलकर तुच्छ राजनीतिक लाभ के लिए किसानों और किसान यूनियनों को भ्रमित कर रहे हैं।' शिअद नेता ने आगे कहा कि ऐसे हालात में अमरिंदर सिंह द्वारा किसानों को भड़काने की कोशिश गलत है।

    और भी...

  • पंजाब में बसों में यात्री संख्या पर लागू प्रतिबंध हटा, लेकिन सभी के लिए मास्क पहनना अनिवार्य

    पंजाब में बसों में यात्री संख्या पर लागू प्रतिबंध हटा, लेकिन सभी के लिए मास्क पहनना अनिवार्य

     

    पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बसों में यात्रियों संख्या को लेकर लागू प्रतिबंध हटाने की घोषणा कर दी है। दरअसल, बस परिचालकों ने तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण इतनी कम संख्या में यात्रियों के साथ बस चलाने से इनकार किया था। शनिवार को जारी एक सरकारी बयान के मुताबिक, फेसबुक लाइव सत्र 'आस्ककैप्टन' के दौरान मुख्यमंत्री ने यह घोषणा की।

    अमरिंदर सिंह ने कहा कि बसों में यात्रा करने वाले सभी लोगों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि उन्हें पता चला है कि परिचालक बसें चलाने से इंकार कर रहे थे क्योंकि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में प्रतिदिन हो रही वृद्धि के चलते और कम यात्रियों को लेकर बसें चलाने के कारण उन्हें आर्थिक नुकसान हो रहा था।

    बता दें कि इससे पहले, पंजाब सरकार ने कोविड-19 महामारी के बीच सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करने के मद्देनजर सीटों की संख्या के मुताबिक 50 फीसदी यात्रियों के साथ बसें चलाने की अनुमति दी थी।

    और भी...

  • कोरोना संकट के बीच CM अमरिंदर सिंह का बड़ा बयान, बोले- हालात पर निर्भर करेगा लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला

    कोरोना संकट के बीच CM अमरिंदर सिंह का बड़ा बयान, बोले- हालात पर निर्भर करेगा लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला

     

    देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के बीच पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि राज्य में 30 जून के बाद लॉकडाउन को आगे बढ़ाने का फैसला हालात पर निर्भर करेगा। साथ ही, उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि वह वायरस के प्रसार को काबू करने के लिए कोई भी जरूरी कदम उठाने को तैयार हैं।

    कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को 'फेसबुक लाइव' के दौरान कहा, 'अगर हम महामारी को काबू करने में समर्थ हैं ,तो लॉकडाउन की आवश्यकता नहीं होगी। लेकिन अगर यह नियंत्रण से बाहर जाता है तो हमारे पास कोई अन्य विकल्प नहीं होगा।' सिंह ने लुधियाना के निवासियों से कहा, 'यह आपके हाथों में है।' 

    इसके अलावा एक आधिकारिक बयान में मुख्यमंत्री के हवाले से कहा गया कि लोगों की सुरक्षा के लिए लॉकडाउन लागू किया गया था। साथ ही, उन्होंने पंजाब के लोगों से सुरक्षा नियमों का उल्लंघन नहीं करने की अपील भी की। अमरिंदर सिंह ने बताया कि मास्क नहीं पहनने के कारण 4,024 लोगों का चालान किया गया और सार्वजनिक स्थान पर थूकने के चलते 45 चालान किए गए। उन्होंने राज्य में चार और प्रयोगशालाओं को मंजूरी दिए जाने के साथ ही आने वाले कुछ दिनों में कोविड-19 की जांच में तेजी लाने की बात भी कही।

    और भी...

  • डीजीपी पत्नी के अंडर करेंगे काम, बनी राज्य की चीफ सेक्रेटरी, पंजाब में बना ये अनूठा संयोग

    डीजीपी पत्नी के अंडर करेंगे काम, बनी राज्य की चीफ सेक्रेटरी, पंजाब में बना ये अनूठा संयोग

     

    पंजाब सरकार ने राज्य की सीनियर आईएएस अधिकारी विनी महाजन को पंजाब की नई चीफ सेक्रेटरी बनाया है। सरकार के इस फैसले के साथ विनी महाजन पंजाब राज्य की पहली महिला चीफ सेक्रेटरी बन गई हैं। चीफ सेक्रेटरी बनते ही महाजन ने एक और रिकॉर्ड बना दिया।

    दरअसल, आईएएस अधिकारी विनी महाजन के पति आईपीएस दिनकर गुप्ता पंजाब के डीजीपी हैं। अब डीजीपी दिनकर गुप्ता अपनी पत्नी के अंडर काम करेंगे। क्योंकि नौकरशाही के ढ़ांचे को देखें तो चीफ सेक्रेटरी के अंडर में राज्य का डीजीपी कार्य करता है। बता दें कि नौकरशाही में इन दोनों पति पत्नी का कारनामा वर्षों तक याद रखा जाएगा।

    नौकरशाही में यह पहला और अनूठा मामला है। राज्य में पत्नी चीफ सेक्रेटरी और पति डीजीपी है। खबरों के मुताबिक, विनी महाजन ने मौजूदा चीफ सेक्रेटरी 1984 बैच के आईएएस अधिकारी करण अवतार सिंह की जगह ली है। विनी महाजन 1987 बैच की आईएएस अधिकारी हैं। उन्हें पर्सनल एंड विजिलेंस विभाग में प्रिंसिपल सेक्रेटरी नियुक्त किया गया है।

     

    और भी...

  • CM अमरिंदर बोले- गलवान घाटी घटना को गश्ती-टकराव मानकर खारिज करने की गलती न करे भारत

    CM अमरिंदर बोले- गलवान घाटी घटना को गश्ती-टकराव मानकर खारिज करने की गलती न करे भारत

     

    पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि भारत को गलवान घाटी की घटना को गश्ती-टकराव मानकर खारिज करने की गलती नहीं करनी चाहिए और भारतीय क्षेत्र में किसी भी चीनी घुसपैठ के खिलाफ कड़ा रुख अपनाना चाहिए। बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक मारे गए थे, जिनमें से चार पंजाब से थे।

    मुख्यमंत्री ने मंगलवार को कहा कि गलवान घाटी हिंसा चीन की बड़ी योजना का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि घाटी में चीन द्वारा किया गया निर्माण यह दर्शाता है कि चीनी एक योजना पर काम कर रहे थे। वही, अमरिंदर सिंह ने कहा, 'भारत क्षेत्र में अपनी एक इंच जमीन भी गंवाना बर्दाश्त नहीं कर सकता, जिसका दोनो पक्षों के लिए बड़ा रणनीतिक महत्व है। हम सभी ने अपने समय में पाकिस्तान और चीन के साथ भी टकराव देखा है और वास्तव में यह गश्ती-टकराव तो बिल्कुल नहीं है।'

    इसके अलावा कांग्रेस कार्यसमिति की वीडियो कांफ्रेंस के जरिए हुई बैठक के दौरान सीएम ने कहा, 'हमें एक मजबूत रुख अख्तियार करना पड़ेगा और हमें यह बिल्कुल स्पष्ट होना चाहिए कि यदि हम एक इंच भी जमीन गंवाते हैं तो हमें उन्हें जिम्मेदार ठहराना होगा।'

    और भी...

  • पंजाब में होटल, रेस्त्रां और बारातघरों को दोबारा संचालन की मिली अनुमति, इन नियमों का करना होगा पालन

    पंजाब में होटल, रेस्त्रां और बारातघरों को दोबारा संचालन की मिली अनुमति, इन नियमों का करना होगा पालन

     

    आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के तहत पंजाब सरकार ने होटल, रेस्त्रां और बारातघरों को 50 फीसदी क्षमता के साथ दोबारा संचालन की अनुमति दे दी है। हालांकि, इस दौरान सामाजिक दूरी के नियमों और अन्य स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। मंगलवार को जारी ताजा दिशा-निर्देशों के मुताबिक, राज्य के रेस्त्रां में रात आठ बजे तक बैठकर खाना खाने की अनुमति दी गई है। हालांकि, 50 फीसदी क्षमता अथवा 50 मेहमान के साथ ही यह मंजूरी दी गई है।

    दरअसल, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, 'उद्योगों की चिंता और गृह मंत्रालय के निर्देशों को ध्यान में रखते हुए हमने होटल, रेस्त्रां, बारातघर और अन्य आतिथ्य सेवाओं को 50 फीसदी क्षमता के साथ दोबारा खोलने का फैसला किया है। हालांकि, प्रतिष्ठानों को सभी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) और सावधानियों का पालन करना होगा।'

    आपको बता दें कि राज्य ने लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील देते हुए एक जून से इन गतिविधियों को बेहद सीमित क्षमता के साथ संचालन की अनुमति दी थी। वही, दिशा-निर्देशों के मुताबिक, होटल में स्थित रेस्त्रां में 50 फीसदी क्षमता अथवा 50 मेहमानों को भोजन उपलब्ध कराने की अनुमति रहेगी।

    इसके मुताबिक, होटल के मेहमानों के अलावा रेस्त्रां बाहरी लोगों के लिए भी रात आठ बजे तक खोला जा सकेगा। हालांकि, बार बंद रहेंगे लेकिन राज्य की आबकारी नीति के तहत रेस्त्रां और कमरों में शराब उपलब्ध कराई जा सकेगी।

    और भी...

  • पटियाला में बढ़ते कोरोना मामलों पर पूर्व सांसद डॉ. धर्मवीर गांधी ने पंजाब सरकार को घेरा, कही ये बात

    पटियाला में बढ़ते कोरोना मामलों पर पूर्व सांसद डॉ. धर्मवीर गांधी ने पंजाब सरकार को घेरा, कही ये बात

     

    कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के बीच पूर्व सांसद डॉ. धर्मवीर गांधी ने कांग्रेस सरकार को एक बार फिर घेरा है। उन्होंने बताया कि करोना के केस जितने भी पटियाला में आ रहे हैं वह सब पंजाब सरकार की वजह से आ रहे है। धर्मवीर गांधी ने बताया कि पहले जब इतने केस नहीं थे तब इन्होंने कर्फ्यू और लॉकडाउन लगा दिया लेकिन अब जब लाखों की संख्या मैं केस बढ़ चुके हैं तब इन्होंने लॉकडाउन हटा दिया। सरकार की यह बहुत ही बड़ी गलती है।

    वहीं, शराब के कारोबार पर बोलते हुए डॉ. धर्मवीर गांधी ने बताया कि जितना भी शराब का कारोबार पटियाला में चल रहा है वह सब कांग्रेस सरकार के शह के नीचे चल रहा है। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस सरकार के एमएलए ही इन को बढ़ावा देते हैं ओर शराब बेचने के लिए शराब माफिया भी यह सरकारें ही बनाते हैं। चाहे वह अकाली दल की हो चाहे वह कांग्रेस की हो। इनकी मर्जी के बिना यह है शराब नहीं भेज सकते। इसके अलावा उन्होंने अन्य सवालों के जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार अक्सर ही अलग-अलग चीजों के रेट बढ़ाती रहती है और आम जनता पर कर्जे का भोज चिढ़ाती रहती है।

    और भी...

  • CM अमरिंदर सिंह बोले- गलवान घाटी क्षेत्र खाली करने के लिए केंद्र चीन को दे अल्टीमेटम

    CM अमरिंदर सिंह बोले- गलवान घाटी क्षेत्र खाली करने के लिए केंद्र चीन को दे अल्टीमेटम

     

    पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गलवान घाटी क्षेत्र को वापस लेने के लिए आक्रामक रूख अख्तियार करने की वकालत करते हुए केंद्र से अपील की कि कब्जे वाले क्षेत्र को तत्काल खाली करने के लिए चीन को अल्टीमेटम जारी किया जाए। सीएम का यह बयान ऐसे समय में आया है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक में यह कहा कि न तो कोई भारतीय क्षेत्र में घुसा और न ही किसी ने हमारी चौकी पर कब्जा किया है।

    इसके अलावा एक सरकारी बयान में कहा गया है, 'चीन के कब्जे से गलवान घाटी क्षेत्र को वापस लेने के लिए आक्रामक कदम उठाने की वकालत करते हुए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भारत सरकार से आग्रह किया है कि कब्जे वाले क्षेत्र को वापस लेने के लिए चीन को अल्टीमेटम जारी करें और उसमें यह स्पष्ट चेतावनी हो कि अगर वह ऐसा करने में विफल होते हैं तो इसका गंभीर परिणाम भुगतना होगा ।'

    उन्होंने कहा कि ऐसी कार्रवाईयों का असर भारत पर भी होगा। अमरिंदर सिंह ने आगे कहा कि अतीत का हमारा अनुभव है कि जब भी हमने आक्रामक रूख अपनाया है, चीन हमेशा पीछे हटा है।

    और भी...

  • कोरोना संक्रमित मरीज ने अस्पताल के शौचालय में लगाई फांसी, परिवार को दिया भावुक संदेश

    कोरोना संक्रमित मरीज ने अस्पताल के शौचालय में लगाई फांसी, परिवार को दिया भावुक संदेश

     

    देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच इस महामारी से मरने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हो रही है। पंजाब के अंबाला में एक 55 वर्षीय कोरोना मरीज ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

    मिली जानकारी के अनुसार, कोरोना संक्रमित मरीज ने अस्पताल के शौचालय फांसी लगाकर आत्महत्या की है। इससे पहले मृतक ने अपने परिवार को संदेश भेजा था कि उसका अंतिम संस्कार करते समय 10 फीट की दूरी बनाकर रखी जाए। इस बात की जानकारी मुलाना पुलिस स्टेशन के एसएचओ ने दी है।

    जानकारी के लिए आपको बता दें कि कोरोना संक्रमित मरीज की खुदकुशी का यह पहला मामला नहीं है। देश में इससे पहल कई कोरोना संक्रमित मरीज आत्महत्या कर चुके हैं।
     

    और भी...

  • CM अमरिंदर बोले- हमारी तरफ से कमजोरी का हर संकेत चीन की प्रतिक्रिया को और अधिक आक्रामक बनाता है

    CM अमरिंदर बोले- हमारी तरफ से कमजोरी का हर संकेत चीन की प्रतिक्रिया को और अधिक आक्रामक बनाता है

     

    लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि समय आ गया है जब केंद्र चीन के मामले में कड़े कदम उठाए क्योंकि हमारी कमजोरी का हर संकेत चीन की प्रतिक्रिया को और आक्रामक बनाता है।

    अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, 'गलवान घाटी में जो हो रहा है, वह चीन के उल्लंघनों का विस्तार है। अब समय आ गया है कि देश इन अतिक्रमणों के खिलाफ खड़ा हो। हमारे जवान खेल का हिस्सा नहीं हैं कि हर कुछ दिन में सीमाओं की रक्षा करते हुए हमारे अधिकारी और जवान हताहत हो रहे हैं।'

    उन्होंने आगे कहा, 'समय आ गया है कि भारत सरकार कुछ कड़े कदम उठाये। हमारी तरफ से कमजोरी का हर संकेत चीन की प्रतिक्रिया को और आक्रामक बनाता है। मैं बहादुर शहीदों को देशवासियों के साथ श्रद्धांजलि देता हूं। देश दुख की इस घड़ी में आपके साथ खड़ा है।' बता दें कि इस हिंसक झड़प में भारत ने अपने एक अधिकारी और दो जवानों को खो दिया। वहीं चीन की तरफ भी लोग हताहत हुए हैं।

    और भी...

  • पंजाब में 1 जून से Corona संक्रमण से 21 की मौत

    पंजाब में 1 जून से Corona संक्रमण से 21 की मौत

     

    एक जून से पंजाब में कोविड-19 संक्रमण के कारण 21 मरीजों की मौत हुई है जबकि अमृतसर, लुधियाना और जालंधर राज्य के सर्वाधिक प्रभावित जिलों में शामिल हैं। उपलब्ध आंकड़ों से यह सामने आया है। प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, 21 मौत के मामलों में से 11 मरीजों की मौत अमृतसर में हुई जबकि बाकी मामले लुधियाना, जालंधर, पठानकोट, पटियाला, तरन तारन और संगरुर में सामने आए।

    पंजाब के स्वास्थ्य सूत्रों ने बताया है कि जिन लोगों की मौत हुई है वे पहले ही मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों से ग्रसित थे। वही, राज्य स्वास्थ्य विभाग की ओर से उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, पंजाब में शनिवार तक कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले मरीजों की संख्या 65 थी। इसके अलावा शनिवार शाम तक राज्य के कुल 3,063 संक्रमण के मामलों में से करीब 40 फीसदी मामले अमृतसर, जालंधर और लुधियाना से थे।

    आंकड़ों के मुताबिक, अमृतसर में संक्रमण के सबसे अधिक 601 मामले सामने आए हैं, जबकि जालंधर में 323 मामले सामने आए हैं। लुधियाना में एक जून को 197 मामले थे जोकि 13 जून तक बढ़कर 333 तक पहुंच गए।

    और पढ़े  Haryana News | Chhattisgarh News | Aaj Ka Rashifal | Jokes

    और भी...