पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि पर PM नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि          मनमोहन, सोनिया और राहुल ने देश के पहले PM जवाहरलाल नेहरू को श्रद्धांजलि दी           राम का काम करना है तो राम का काम हो कर रहेगा: राम मंदिर पर मोहन भागवत          
होम | दुनिया | दिल्ली में WTO की 2 दिवसीय बैठक, 16 विकासशील देशों के मंत्री और अधि‍कारी ले रहे हिस्सा

दिल्ली में WTO की 2 दिवसीय बैठक, 16 विकासशील देशों के मंत्री और अधि‍कारी ले रहे हिस्सा

 

विश्व व्यापार संगठन (WTO) की एक महत्वपूर्ण बैठक इस बार 13 मई यानी आज से नई दिल्ली में होने जा रही है। इस 2 दिवसीय बैठक में 16 विकासशील देशों के मंत्री और अधि‍कारी विभिन्न जरूरी मसलों पर चर्चा करेंगे। यह बैठक ऐसे समय में हो रही है, जब नियम आधारित बहुपक्षीय व्यापार को चुनौती मिल रही है। अमेरिका और चीन के बची ट्रेड वॉर तो जारी है ही, भारत-अमेरिका और कई अन्य देशों में टैरिफ को लेकर उलझन बनी हुई है।

इस बैठक में चीन, मिस्र, इंडोनेशिया, मलेशिया, टर्की सहित 16 विकासशील देशों और 6 सबसे कम विकसित देशों के मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे और WTO की व्यवस्था से जुड़ी अपनी चिंताओं को साझा करेंगे।

विश्व स्तर पर बीते कुछ सालों में तमाम देश एक-दूसरे से आयातित वस्तुओं पर टैरिफ को लेकर उलझ रहे हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर है। जिससे पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था को समस्या हो रही है। अंतरराष्ट्रीय वित्तीय एजेंसियां विश्व बैंक और आईएमएफ ने पिछले साल अक्टूबर में बाली में जारी एक महत्वपूर्ण बैठक के दौरान अमेरिका और चीन को सलाह दी थी कि वह डब्ल्यूटीओ नियमों के मुताबिक व्यापार करें क्योंकि इसी में दुनिया का भला है। विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के प्रमुखों ने अमेरिका और चीन को सलाह दी कि वे वैश्विक बाजार में नियमों के मुताबिक व्यापार करें।

गौरतलब है कि जून 2020 में कजाकिस्तान में WTO का 12वां मंत्रिस्तरीय सम्मेलन हो रहा है। इसलिए यह बैठक इसकी एक तरह से पूर्व तैयारी है कि कजाकिस्तान सम्मेलन में विभिन्न मसलों पर किस तरह से रचनात्मक तरीके से संवाद कायम किया जाए।

 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.