JK: बिजबेहरा एनकाउंटर में 2 आतंकियों के शव बरामद, घटनास्थल से AK 47 राइफल मिला          गजियाबादः एलिवेटेड रोड पर इंदिरापुरम के पास बड़ा सड़क हादसा, दो की मौत          गाजियाबादः शादी में हर्ष फायरिंग में एक शख्स को लगी गोली, आरोपी दीपक गिरफ्तार          
होम | बिजनेस | दिवालिया घोषित होगी वीडियोकॉन, बैंकों के डूब सकते हैं 90,000 करोड़ रुपये: रिपोर्ट

दिवालिया घोषित होगी वीडियोकॉन, बैंकों के डूब सकते हैं 90,000 करोड़ रुपये: रिपोर्ट

 

मुंबई. वीडियोकॉन ग्रुप पर बैंकों और दूसरे कर्जदाताओं के 90,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। भारतीय बैंकिंग के इतिहास में यह कॉरपोरेट बैंकरप्सी (दिवालिया) का सबसे बड़ा मामला हो सकता है। न्यूज एजेंसी ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से गुरुवार को यह जानकारी दी।

समूह की दो कंपनियों, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (वीआईएल) और वीडियोकॉन टेलीकम्युनिकेशंस लिमिटेड (वीटीएल) पर क्रमश: 59,451.87 और 26,673.81 करोड़ रुपये बकाया हैं। कुल कर्ज की रकम 86,125.68 करोड़ रुपये बनती है, जिसमें एसबीआई समेत अन्य बैंकों का कर्ज शामिल है।

सूत्रों के मुताबिक, इसके अलावा 731 अन्य कर्जदाताओं ने वीआईएल पर 3,111.80 और वीटीएल पर 1,267 करोड़ रुपये का दावा ठोका है, जिसके बाद कर्ज की कुल रकम 90,000 करोड़ रुपये हो जाती है।

इसके साथ ही ग्रुप के प्रोमोटर्स वेणुगोपाल धूत, प्रदीप कुमार धूत और राजकमल धूत ने भी मुहैया कराई गई निजी गारंटी के आधार पर 57,823.24 करोड़ रुपये का दावा किया है, जिस पर विचार किया जा रहा है। वीडियोकॉन टेलीकम्युनिकेशन ने भी वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज से 1,786.95 करोड़ रुपये की रकम का दावा किया है, जिसे पर कोई विवाद नहीं है।

कंपनी रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल ने इन सभी आंकड़ों को आज सार्वजनिक कर दिया है। इंडस्ट्री के सूत्रों के मुताबिक यह 2016 में इंसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कानून आने के बाद से यह अब तक का सबसे बड़ा दीवालिया मामला है।

पिछले साल एसबीआई ने डिफॉल्ट के बाद इस समूह को नैशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल को भेज दिया था।

वीआईएल ने करीब 54 भारतीय और विदेशी बैंकों के साथ एक को-ऑपरेटिव बैंक का जिक्र किया है, जिससे उन्होंने 59,451.87 करोड़ रुपये की कर्ज ले रखी है। इसमें से 57,443.62 करोड़ रुपये का दावा स्वीकार किया जा चुका है, जबकि 1,149.57 करोड़ रुपये के दावे को खारिज किया जा चुका है। वहीं 782.24 करोड़ रुपये के दावे की समीक्षा की जा रही है। आईसीआईसीआई बैंक ने वीआईएल पर 3,318.08 करोड़ रुपये का दावा किया है, जबकि वीटीएल पर 1,439 करोड़ रुपये का दावा किया गया है।

वीआईएल पर जिन 54 कर्जदाताओं ने दावा किया है, उसमें 34 बैंक हैं। 11,175.25 करोड़ रुपये की रकम के साथ इनमें सबसे बड़ा दावा एसबीआई का है। वहीं वीटीएल के मामले में 34 कर्जदाताओं ने दावा किया है, जिसमें 4,605.15 करोड़ रुपये की रकम के साथ एसबीआई सबसे ऊपर है। वीआईएल में दूसरा सबसे बड़ा दावा आईडीबीआई (9,561.67 करोड़ रुपये) का है। वहीं, वीटीएल पर दूसरा बड़ा दावा सेंट्रल बैंक (3,073.16 करोड़ रुपये) का है।  


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.