JK: बिजबेहरा एनकाउंटर में 2 आतंकियों के शव बरामद, घटनास्थल से AK 47 राइफल मिला          गजियाबादः एलिवेटेड रोड पर इंदिरापुरम के पास बड़ा सड़क हादसा, दो की मौत          गाजियाबादः शादी में हर्ष फायरिंग में एक शख्स को लगी गोली, आरोपी दीपक गिरफ्तार          
होम | बिजनेस | बैग के तीन रुपय मांगना पड़ा महंगा, BATA को भरना होगा 9000 रुपये का जुर्माना

बैग के तीन रुपय मांगना पड़ा महंगा, BATA को भरना होगा 9000 रुपये का जुर्माना

 

Edited by: रक्षित कुमार

नई दिल्ली. उपभोक्ता फोरम ने फुटवियर कंपनी बाटा इंडिया लिमिटेड पर सर्विस में कमी के लिए 9 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है. साथ ही सेवाओं में कमी और पेपर बैग के भुगतान को लेकर चंडीगढ़ उपभोक्ता फोरम ने फटकार भी लगाई। फोरम ने कंपनी को निर्देश दिए हैं कि वह सामान खरीदने वाले अपने सभी ग्राहकों को फ्री कैरी बैग दे.

सेक्टर 23-बी निवासी दिनेश प्रसाद ने अप्रैल में सेक्टर-22 डी स्थित बाटा शो रूम से एक जोड़ी जूते खरीदे थे. जूते के लिए दिनेश ने स्टोर को 402 रुपए का भुगतान किया, बिल में पेपर बैग भी शामिल था. उन्होंने पेपर बैग के 3 रुपए के रिफंड को लेकर चंडीगढ़ उपभोक्ता फोरम में शिकायत की थी. पहले कंपनी ने ग्राहक के आरोपों का खंडन किया था. हालांकि फोरम ने कंपनी को सेवा में कोताही का दोषी करार देते हुए उस पर जुर्माना लगाया है.

दिनेश के मुताबिक, उन्होंने पेपर बैग के 3 रुपए रिफंड मांगे थे और कंपनी के सर्विस पर सवाल उठाए थे. उपभोक्ता फोरम ने कहा कि ग्राहक को पेपर बैग के भुगतान के लिए मजबूर करना गलत है. ये कंपनी के खराब सर्विस को दर्शाता है. पेपर बैंग कंपनी को मुफ्त देना चाहिए. पेपर बैग के पैसे ग्राहक से नहीं लिए जाने चाहिए बल्कि सुविधा के लिए लिहाज से उसे बैग मुहैया कराना चाहिए.

फोरम ने कहा कि अगर कंपनियां सच में पर्यावरण के बारे में चिंतित हैं तो उन्हें अपने ग्राहकों को पर्यावरण के अनुकूल बैग देना चाहिए. फोरम ने अपने फैसले में बाटा लिमिटेड को पेपर बैग के पैसे लौटाने को कहा है. साथ ही 1000 हजार रुपए के अलावा मानिसक पीड़ा के लिए ग्राहक को 3 हजार रुपए के भुगतान के आदेश दिए है. इसके अलावा उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के लीगल एड अकाउंट में 5000 रुपये जमा करने का भी आदेश दिया है.


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.