ब्रेकिंग न्यूज़
  • बिहार: महिला ने अपने 4 बच्चों के साथ चलती ट्रेन के सामने लगाई छलांग, मौत
  • बाजार में लौटी रौनक, शुरुआती कारोबार में सेंसेक्‍स 37 हजार के पार
  • INX मीडिया केस: पी. चिदंबरम की अर्जी पर SC में सुनवाई आज, HC के आदेश को दी है चुनौती
  • कोलकाता: मदर टेरेसा की जयंती आज, मदर हाउस में की गईं शांति प्रार्थनाएं
  • उत्तराखंड: देहरादून, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी में भारी बारिश का अलर्ट
  • त्तरकाशी: भूस्खलन के कारण बंद किया गया यमुनोत्री हाईवे

खबरें अब तक

  • हरियाणा में 27 अगस्त से नगर निकाय और ग्रामीण सफाई कर्मचारी 3 दिन तक हड़ताल पर

    हरियाणा में 27 अगस्त से नगर निकाय और ग्रामीण सफाई कर्मचारी 3 दिन तक हड़ताल पर

     

    हरियाणा प्रदेश में 27 अगस्त से 3 दिन तक सफाई नहीं होंगी। वहीं सोमवार यानी आज से मरीजों को दवा नहीं मिलेगी। क्योंकि नगर निकाय और ग्रामीण सफाई कर्मचारी 3 दिन तक हड़ताल पर रहेंगे। जबकि सरकारी अस्पतालों में कार्यरत फार्मासिस्ट भी सोमवार को सामूहिक अवकाश पर रहेंगे।

    नगर पालिका कर्मचारी संघ का दावा है कि इस हड़ताल में प्रदेशभर के 32 हजार कर्मचारी शामिल होंगे। इसके लिए सरकार को पहले ही चेता दिया है। सरकार ने वार्ता का निमंत्रण भी दिया है, लेकिन नगर पालिका कर्मचारी संघ ने इसे ठुकरा दिया है। तर्क दिया है कि वार्ता के लिए 4 सितंबर का समय तय किया है, जो हड़ताल के बाद का है। सरकार की ओर से संघ को उनकी पूर्व में हुई बैठक में सौंपी गई मांगों का स्टेटस भी भेजा है। परंतु कर्मचारी इससे संतुष्ट नहीं है।

    हड़ताल को लेकर नगर निकाय विभाग भी तैयारी में जुट गया है। संघ का दावा है कि इस हड़ताल में सभी 10 नगर निगम, 19 नगर परिषदों और 57 नगर पालिकाओं के कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। पहले दिन सभी शहरों एवं कस्बों में मशाल जुलूस निकाले जाएंगे।

    मंत्री कविता जैन ने कहा कि कर्मचारियों की अधिकांश मांगें मानी जा चुकी है। कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने का मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। जनता को परेशान नहीं होने दिया जाएगा। ठेके पर लगी एजेंसियों से कचरा उठवाया जाएगा।

    और भी...

  • पूर्व PM मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटी, मिलेगी जेड प्लस सुरक्षा

    पूर्व PM मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटी, मिलेगी जेड प्लस सुरक्षा

     

    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटा दी गई है और अब उन्हें सिर्फ जेड प्लस सुरक्षा ही दी जाएगी। गृह मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि सुरक्षा को लेकर फैसला पूरी तरह से प्रोफेशनल आधार पर किया गया है। मंत्रालय का कहना है कि निर्धारित समय के बाद सुरक्षा व्यवस्था का रिव्यू किया जाता है। यह सामान्य प्रक्रिया है और इसके तहत ही सुरक्षा घटाने या बढ़ाने का निर्णय लिया जाता है।

    मनमोहन सिंह को जेड प्लस सुरक्षा मिलती रहेगी, लेकिन अब तक उन्हें एसपीजी सुरक्षा मिलती थी। गृह मंत्रालय ने कहा, मौजूदा सुरक्षा कवर रिव्यू तय समय पर होनेवाली नियमित व्यवस्था है। सुरक्षा एजेंसियों के द्वारा किए गए रिव्यू और खतरे की आशंका को देखते हुए यह फैसला लिया जाता है। पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह को जेड प्लस सिक्यॉरिटी मिलती रहेगी।

    एसपीजी सुरक्षा अब देश में सिर्फ 4 लोगों के ही पास है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ यह सुरक्षा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी को मिल रही है। आम तौर पर खतरे की आशंका या सुरक्षा स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री के परिवार को भी एसपीजी सुरक्षा देने का प्रावधान है।

    और भी...

  • 26 AUGUST के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

    26 AUGUST के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

     

    541: तुर्की के सुलतान सुलेमान ने बुडा और हंगरी को अपने कब्जे में किया। 

    1910: भारत रत्न से सम्मानित मदर टेरेसा का जन्म। 

    1914: बंगाल के क्रांतिकारियों ने कलकत्ता में ब्रिटिश बेड़े पर हमला कर 50 माउजर और 46 हज़ार राउंड गोलियाँ लूटी। 

    1982: नासा ने टेलीसेट-एफ का प्रक्षेपण किया। 

    1988: म्यांमार की अहिंसावादी नेता आंग सान सू ची मोर्चा लेकर रंगून पहुंचीं। 

    2002: दक्षिण अफ़्रीका के जोहानिसबर्ग शहर में दस दिवसीय पृथ्वी सम्मेलन शुरू। 

    2007: पाक-अफ़ग़ान सीमा पर अमेरिकी नेतृत्व वाली सेना ने 12 तालिबानियों को मार गिराया। 

    2015: अमेरिका के वर्जीनिया में दो पत्रकारों की गोली मारकर हत्या। 

    और भी...

  • PV Sindhu ने रचा इतिहास,बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय

    PV Sindhu ने रचा इतिहास,बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय

     

    भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने रविवार को वर्ल्ड बैडमिंटन चैम्पियनशिप के फाइनल में जापान की नोजोमी ओकुहारा को हरा दिया। सिंधु ने स्विट्जरलैंड के बासेल में हुआ खिताबी मुकाबला 21-7, 21-7 से 38 मिनट में अपने नाम कर लिया। वे इस टूर्नामेंट के 42 साल के इतिहास में चैम्पियन बनने वाली पहली भारतीय बन गईं। सिंधु 2018, 2017 में रजत और 2013, 2014 में कांस्य पदक जीती थीं।

    वर्ल्ड चैम्पियनशिप के इतिहास में यह सिर्फ दूसरा मौका होगा, जब भारतीय शटलर दो पदक के साथ स्वेदश लौटेंगे। इससे पहले 2017 में साइना ने कांस्य जीता था। वहीं, सिंधु ने रजत पदक अपने नाम किया था। इस साल सिंधु के अलावा प्रणीत ने भी पदक जीतने में सफल रहे।

    सिंधु ने सेमीफाइनल में चीन की चेन यू फेई को 21-7, 21-14 से हराया। इससे पहले क्वार्टरफाइनल में दूसरी सीड ताइपे की ताई जू यिंग को हराया था। सिंधु लगातार तीसरी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचीं थी। इससे पहले 2018 में उन्हें स्पेन की कैरोलिना मरीन और 2017 में जापान की नोजोमी ओकुहारा के खिलाफ खिताबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था।

    सिंधु वर्ल्ड रैंकिंग में पांचवें और ओकुहारा चौथी स्थान पर हैं। दोनों के बीच अब तक 16 मैच खेले गए। इनमें सिंधु ने 9 बार जीत दर्ज की। ओकुहारा को सिर्फ सात मुकाबलों में सफलता मिली। सिंधु ने दोनों के बीच हुए पिछले मैच में भी जीत हासिल की थी।

    और भी...

  • आमिर खान की बेटी एक बार फिर अपनी ड्रेस को लेकर हुई ट्रोल

    आमिर खान की बेटी एक बार फिर अपनी ड्रेस को लेकर हुई ट्रोल

    बॉलीवुड स्टार आमिर खान की बेटी इन दिनों मीडिया में जमकर सुर्खियां बटोर रही है। इरा हमेशा किसी-न-किसी वजह से चर्चा में आ जाती है। इरा जल्द ही आप को निर्देशन के क्षेत्र में दिखने वाली है। लेकिन उनका बॉलीवुड सफर शुरू होने से पहले ही उनका सोशल मीडिया पर ट्रोल होने का सफर भी शुरू हो गया है। सोशल मीडिया पर लोग उनकी ड्रेस को लेकर उनका मजाक उड़ा रहे हैं।

    एक फोटो में इरा ने लेदर की शॉर्ट ड्रेस पहनी हुई है और वे किसी थ्रिलर लड़की का लुक कैरी किए हुए लग रही हैं। इस ड्रेस के साथ इरा ने रेड लिपस्टिक और ब्लैक एवेंजर्स शूज भी कैरी किए है। वहीं उनकी ड्रेस को लेकर एक यूजर ने लिखा कि यह सच में अपने पिता आमिर खान को शर्मिंदा कर रही है' तो वहीं दूसरे यूजर ने लिखा कि  ये स्पाइडर वूमन कहां से आ गई।

     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    #irakhan snapped today in bandra for an event #viralbhayani @viralbhayani

    A post shared by Viral Bhayani (@viralbhayani) on

    आपको बता दें कि कुछ समय पहले भी इरा को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया गया था। जब उन्होंने अपना पहला फोटोशूट करवाया था। तब भी उनके होट लुक और ड्रेस को लेकर ही ट्रोलर्स उनके पिछे पड़ गए थे।

    फिलहाल, इरा थिएटर प्रोडक्‍शन से निर्देशन करने को लेकर बिजी हैं। इरा ने एक इंटरव्‍यू में अपनी इस नई पारी के बारे में कहा, थिएटर से शुरूआत करने के पीछे कोई खास वजह नहीं है। मुझे थिएटर से प्‍यार है। टेक्‍नोलॉजी की इस दुनिया में, यह बहुत रियल और प्रैक्‍ट‍िकल है। उम्मीद जताई जा रही है कि  इस साल के अंत तक ग्रीक ट्रेजेडी पर आधारित इस नाटक को चुनिंदा भारतीय शहरों में प्रदर्शित किया जाएगा।

     

     

     

     

     

    और भी...

  • INDVSWI: भारत की वेस्टइंडीज पर आसान जीत, 318 रनों से दी मात

    INDVSWI: भारत की वेस्टइंडीज पर आसान जीत, 318 रनों से दी मात

     

    भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए विंडीज को 318 रनों से मात दे दी। इस जीत के हीरो अजिंक्य रहाणे और 5 विकेट लेने वाले जसप्रीत बुमराह रहे। रहाणे ने दो साल बाद शतक जमाया। वेस्टइंडीज 419 रनों के बड़े टारगेट को चेस कर रही थी जहां उसकी पूरी टीम 100 रन पर ही ऑल आउट हो गई, भारत ने पहली पारी में 297 रन का स्कोर बनाया था और उसने वेस्टइंडीज को पहली पारी में 222 रन पर ऑलआउट कर दिया था। भारत को इस तरह पहली पारी में 75 रन की बढ़त हासिल की थी।

    भारत ने अपने कल के स्कोर तीन विकेट पर 185 रन से आगे खेलना शुरू किया. कप्तान विराट कोहली ने 51 और उपकप्तान रहाणे ने अपनी पारी को 53 रन से आगे बढ़ाया। भारत अपने कल के स्कोर में दो रन ही जोड़ पाया था कि कोहली आउट हो गए। लंच तक भारत चार विकेट पर 287 रन बना चुका था और उसे 362 रन की बढ़त थी। लंच के बाद रहाणे अपने करियर का 10वां शतक जमाने के बाद आउट हो गए। वेस्टइंडीज की ओर से रोस्टन चेज ने चार और केमार रोच, शेनन गेब्रियल तथा कप्तान जेसन होल्डर ने एक-एक विकेट लिए।

    विंडीज की पहली पारी में भारत के लिए इशांत शर्मा ने 5 विकेट चटकाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी मेजबान वेस्टइंडीज ने सात के स्कोर पर क्रेग ब्रैथवेट के रूप में पहला, 10 के स्कोर जॉन कैम्पवेल के रूप में दूसरा और अपना पदार्पण टेस्ट मैच खेल रहे शामरा ब्रूक्स के रूप में तीसरा तथा 13 के स्कोर पर शिमरोन हेटमेयर के रूप में चौथा विकेट गंवा दिया। इसके बाद बुमराह ने डैरेन ब्रोवो को बोल्ड कर वेस्टइंडीज को पांचवां झटका दे दिया। भारत की ओर से जसप्रीत बुमराह ने 5, ईशांत ने 3 और शमी ने दो विकेट चटकाए।

    और भी...

  • Ashes-2019: Ben Stokes ने छीनी ऑस्ट्रेलिया के जबड़े से जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

    Ashes-2019: Ben Stokes ने छीनी ऑस्ट्रेलिया के जबड़े से जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

     

    बेन स्टोक्स के नाबाद 135 और जैक लीच के बीच आखिरी विकेट के लिए हुई 76 रनों की नाबाद मैच जिताऊ साझेदारी के दम पर इंग्लैंड ने एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया को एक विकेट से हरा दिया। इस जीत के बाद इंग्लैंड ने पांच मैचों की एशेज टेस्ट सीरीज में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली है। सीरीज का पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने 251 रनों से जीता था जबकि दूसरा मैच ड्रॉ रहा था।

    ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 179 रन का स्कोर बनाया था और फिर उसने इंग्लैंड को उसकी पहली पारी में 67 रन पर ढेर कर 112 रन की बढ़त हासिल कर ली थी। ऑस्ट्रेलिया ने इसके बाद अपनी दूसरी पारी में 246 रन का स्कोर बनाकर इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 359 रनों का लक्ष्य रखा। इंग्लैंड ने इस लक्ष्य को नौ विकेट खोकर हासिल कर लिया। मेजबान इंग्लैंड के जीत के हीरो स्टोक्स ने 219 गेंदों की पारी में 11 चौके और आठ छक्कों की मदद से 135 रन की नाबाद अविस्मरणीय शतकीय पारी खेली। उन्होंने अपने करियर का आठवां शतक लगाया।

    इससे पहले, ऑस्ट्रेलिया से मिले 359 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही इंग्लैंड ने रविवार सुबह अपने कल के स्कोर तीन विकेट पर 156 रन से आगे खेलना शुरू किया और लंच तक चार विकेट पर 238 रन बना लिए थे। लंच के बाद इंग्लैंड की टीम काफी संकट में आ गई और उसने अगले 48 रन के अंदर ही अपने पांच और विकेट गंवा दिए। मेजबान टीम 286 रन के स्कोर तक अपने नौ विकेट गंवा चुकी थी और उसे जीत के लिए अभी 73 रन और बनाने थे जबकि उसकी आखिरी जोड़ी क्रीज पर संघर्ष कर रही थी।

    इस संघर्ष में स्टोक्स और लीच ऑस्ट्रेलिया की जीत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और आखिरी विकेट के लिए 76 रन की महत्वपूर्ण तथा मैच जिताऊ साझेदारी कर इंग्लैंड को रोमांचक जीत दिला दी। ऑस्ट्रेलिया की ओर से जोश हेजलवुड ने चार, नाथन लायन ने दो और पैट कमिंस तथा जेम्स पेटिंसन ने एक-एक विकेट हासिल किए।

    और भी...

  • 25 AUGUST के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

    25 AUGUST के दिन की ऐतिहासिक घटनाएं

    1819: स्‍ककॉटिश आविष्‍कारक जेम्‍स वॉट का निधन हुआ था।

    1867: भौतिकी विज्ञानी और रसानशास्‍त्री माइकल फैराडे का निधन हुआ था।

    1917: ब्रिटिश इंडिया आर्मी में सेवाएं दे रहे 7 भारतीयों को पहली बार किग्‍स कमीशन मिला।

    1992: ब्रिटिश अखबार ने राजकुमारी डायना की बातचीत का ब्‍योरा जारी किया, इसमें उन्‍होंने प्रिंस से शादी पर नाखुशी जाहिर की थी।

    2012: वोयेजर 1 सौरमंडल से बाहर अंत‍रिक्ष में दाखिल होने वाला पहला मानवनिर्मित यान बना था।

    2012: चांद पर कदम रखने वाले नील आर्मस्‍ट्रांग का निधन हुआ था।

    और भी...

  • पंजाब सरकार का फैसला चंडीगढ़ में बनेगा जीएसटी ट्रिब्यूनल

    पंजाब सरकार का फैसला चंडीगढ़ में बनेगा जीएसटी ट्रिब्यूनल

     

    पंजाब सरकार ने राज्‍य के उद्यमियों की जीएसटी ट्रिब्यूनल पर मांग को ठुकरा दिया है। अब सरकार ने यह टिब्‍यूनल चंडीगढ़ में ही बनाने का फैसला किया है। राज्य भर के उद्यमी मांग कर रहे थे कि इसे लुधियाना में बनाया जाए। वैट ट्रिब्यूनल भी चंडीगढ़ में ही था, इसलिए पंजाब सरकार ने जीएसटी ट्रिब्यूनल भी चंडीगढ़ में ही रखने का फैसला किया है।

    बता दें कि केंद्र सरकार ने राज्य स्तर पर जीएसटी के विवादों का समाधान करने के लिए राज्यों में जीएसटी ट्रिब्यूनल बनाने का फैसला किया था। वेल्यू एडिड टैक्स सिस्टम के दौरान भी ट्रिब्यूनल बनाए गए थे। उसी तर्ज पर जीएसटी ट्रिब्यूनल बनाए जाने हैं। केंद्र सरकार ने ट्रिब्यूनल के नियमों को भी नोटीफाई कर दिया है। हरियाणा सरकार ने जहां हिसार में ट्रिब्यूनल बनाने का फैसला किया है वहीं, पंजाब सरकार ने इसे चंडीगढ़ में ही स्थापित करने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी ने भी इस बात की पुष्टि की है।

    उद्यमियों द्वारा जीएसटी ट्रिब्यूनल लुधियाना में बनाने की मांग के पीछे कई वजहें थीं। सबसे बड़ी वजह थी कि लुधियाना पंजाब का मैनचेस्टर है। यहीं पर सबसे ज्यादा कारोबार है। लुधियाना पंजाब का करीब-करीब सेंटर प्वाइंट भी है। इस वजह से लोगों को लुधियाना तक पहुंचना आसान हो जाता है।

    और भी...

  • पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन से सदमें में Bollywood, इन सेलेब्रिटीज ने दी श्रद्धांजलि

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन से सदमें में Bollywood, इन सेलेब्रिटीज ने दी श्रद्धांजलि

     

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 66 साल की उम्र में निधन हो गया है। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन से जहां एक तरफ पूरा देश गमगीन है वहीं, बॉलीवुड भी देश के लिए किए गए उनके कामों को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। बॉलीवुड के कई सेलेब्रिटीज ने अरुण जेटली के निधन के बाद सोशल मीडिया के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

    और भी...

  • अमेजन और अलीबाबा को धूल चटाएगा भारतक्राफ्ट, MSME कंपनियों को होगा फायदा

    अमेजन और अलीबाबा को धूल चटाएगा भारतक्राफ्ट, MSME कंपनियों को होगा फायदा

     

    सरकार की योजना 'अलीबाबा' और 'अमेजन' की तर्ज पर 'भारतक्राफ्ट' पोर्टल पेश करने की है। यह एक ई-कॉमर्स मार्केटिंग मंच है। इस मंच से दो-तीन साल में करीब 10 लाख करोड़ रुपये का राजस्व आने की उम्मीद है। केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम (एमएसएमई) मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। गडकरी ने कहा कि भारतक्राफ्ट पोर्टल एमएसएमई कंपनियों को बाजार उपलब्ध कराएगा और अपने उत्पादों को बेचने में मदद करेगा। 

    नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के 'इमर्ज' मंच पर 200वीं एमएसएमई कंपनी 'वंडर फाइबरोमेट्स' के सूचीबद्ध होने के अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'हम एमएसएमई क्षेत्र को बढ़ावा देना चाहते हैं। यह क्षेत्र वर्तमान में विनिर्माण में करीब 29 प्रतिशत और निर्यात में 40 प्रतिशत का योगदान करता है।' गडकरी ने कहा कि एमएसएमई क्षेत्र में अगले पांच साल में 5 करोड़ अतिरिक्त रोजगार सृजित करने की क्षमता है। सरकार ने अगले पांच साल में विनिर्माण क्षेत्र में एमएसएमई के योगदान को 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा है।  

    गडकरी ने कहा कि एमएसएमई के लिए भुगतान हमेशा से एक समस्या रही है क्योंकि सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों छोटी एवं मझोली कंपनियों का बकाया चुकाने में देरी करती हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस पहलू का अध्ययन करने के लिए एक समिति गठित की गई है और हमें उम्मीद है कि अगले कुछ दिन में उसकी रिपोर्ट आ जाएगी। सरकार एमएसएमई क्षेत्र के भुगतान में तेजी लाने के लिए कानून ढांचा बनाने पर विचार कर रही है। बिलों के भुगतान में देरी होने पर कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा। गडकरी ने कहा कि सरकार एमएसएमई को निर्यात की दिशा में अधिक योगदान करने, आर्थिक वृद्धि में योगदान बढ़ाने और रोजगार की क्षमता बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करेगी। एमएसएमई क्षेत्र को मुख्यधारा में आने और पूंजी जुटाने के लिए एनएसई मंच का लाभ उठाने की जरूरत है।

    इस अवसर पर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी विक्रम लिमये ने कहा कि एनएसई छोटे और मझोले उद्यमों को मजबूत करने और समर्थन देने में हमेशा से सबसे आगे रहा है। हमारा मानना है कि एसएमई न केवल आर्थिक वृद्धि के लिए बल्कि रोजगार और समावेशी वृद्धि के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। 

    और भी...

  • Twitter india ने किया वर्ल्ड हैशटैग डे सेलिब्रेट, ये है India में Top 5 Trending HasTags

    Twitter india ने किया वर्ल्ड हैशटैग डे सेलिब्रेट, ये है India में Top 5 Trending HasTags

     

    ट्विटर इंडिया ने 23 अगस्त को वर्ल्ड हैशटैग डे के रूप में सेलिब्रेट किया। इस दौरान ट्विटर इंटरनेट डाटा ने 1 जनवरी 2019 से लेकर 30 जून 2019 के बीच टॉप 5 हैशटैग्स की लिस्ट जारी की। जिसमें साउथ इंडियन स्टार अजीत की फिल्म विश्वासम पहले नंबर पर रही। जबकि महेश बाबू की फिल्म महर्षि चौथे नंबर पर रही।

    ट्विटर इंडिया ने 2019 की पहली छमाही में यूज किए गए सबसे ज्यादा हैशटैग्स की लिस्ट जारी की है। इसमें विश्वासम, लोक सभा इलेक्शन 2019 दूसरे नंबर पर, तीसरे नंबर पर CWC19 रहा। चौथे नंबर पर महर्षि और पांचवे नंबर पर न्यू प्रोफाइल पिक शब्द को सबसे ज्यादा यूज किया गया था।

    ट्विटर इंडिया ने अपने हैंडल पर इस डे को सेलिब्रेट करने की वजह भी साझा की। हैश टैग के इन्वेंटर क्रिस मेसिना हैं। क्रिस ने अगस्त 2007 में सबसे पहले हैशटैग के बारे में जानकारी दी थी।

    और भी...

  • शिल्पा शिंदे ने कहा- मैं करूंगी पाकिस्तान में परफॉर्म, कोई रोक के दिखाए

    शिल्पा शिंदे ने कहा- मैं करूंगी पाकिस्तान में परफॉर्म, कोई रोक के दिखाए

     

    पाकिस्तान में परफॉर्मेंस के बाद मीका सिंह बुरे फंसे हैं। उन पर ऑल इंडिया सिने वर्कर एसोसिएशन (AICWA) और फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉई (FWICE) ने बैन लगा दिया था हालांकि मीका के माफी मांगने के बाद बैन हटा लिया गया। अब एक मशहूर अभिनेत्री ने इस पूरे मामले में मीका सिंह का समर्थन किया है।

    मशहूर टीवी शो 'भाबी जी घर पर हैं' में 'अंगूरी भाभी' का किरदार निभाकर पहचान बनाने वाली एक्ट्रेस शिल्पा शिंदे ने मीका सिंह को सपोर्ट किया है. स्पॉट बॉय डॉट कॉम की खबर के मुताबिक, शिल्पा कहती हैं कि 'अगर मेरा देश मुझे वीजा देता है और उनका देश मेरा स्वागत करता है तो मैं जरूर पाकिस्तान जाऊंगी. एक कलाकार होने के नाते मैं परफॉर्म करूंगी. ये मेरा हक है. मुझे कोई रोक नहीं सकता. किसी कलाकार को आप ऐसे बैन नहीं कर सकते. मुझे रोजी रोटी कमाने के लिए किसी माध्यम की जरूरत नहीं है. मैं चाहूं तो सड़क पर स्टेज लगाकर भी परफॉर्म कर सकती हूं. मिका पाजी से जबरदस्ती सॉरी बुलवाया गया है जो बहुत गलत है'.

    शिल्पा ने आगे कहा 'मैं कलाकार हूं. जहां मौका मिलेगा परफॉर्म करूंगी. किसी की हिम्मत नहीं है कि मुझे रोके. इन लोगों से मैं बिल्कुल नहीं डरती हूं'. उन्होंने कहा 'मीका सिंह पर बैन लगाने वाली फेडरेशन जो है उसके जैसे 50 तरह के फेडरेशन बने हुए हैं. सभी को पैसे खाने हैं. शिल्पा ने अपने पाकिस्तानी फैंस के बारे में भी बताया. उन्होंने कहा 'मेरे बहुत से पाकिस्तानी फैंस हैं जिन्होंने मुझे बिग बॉस जीतने में मदद की. मुझे वहां के कपड़े कुरियर से भेजे जाते हैं. मैं वहां भेजती हूं, इसमें गलत क्या है?'

    बता दें कि शिल्पा 'बिग बॉस 11' की विनर रह चुकी हैं. उन्होंने टीवी सीरियल्स के अलावा कुछ फिल्मों में भी काम किया है. शिल्पा शिंदे 'भाबी जी घर पर हैं' छोड़ने के बाद जबरदस्त सुर्खियों में आई थीं. उन्होंने मेकर्स पर आरोप लगाया था कि वो काम ज्यादा करवा रहे हैं लेकिन उसके मुताबिक पैसे देने के लिए तैयार नहीं हैं. ये मामला जबरदस्त खबरों में रहा था. इसके बाद शिल्पा को 'बिग बॉस' का ऑफर मिला था.

    और भी...

  • वकील से राजनीति तक का सफर तय करने वाले अरुण जेटली

    वकील से राजनीति तक का सफर तय करने वाले अरुण जेटली

     

    देश के पूर्व वित्‍त मंत्री और बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली का शनिवार को 66 साल की उम्र में निधन हो गया है। देश में GST के रूप में एक देश, एक कर देने में उनकी भूमिका महत्‍वपूर्ण थी। अरुण जेटली अटल बिहारी वाजेपयी की सरकार में भी मंत्री रहे। पेशे से सफल वकील अरुण जेटली ने राजनीतिक जीवन में भी खूब नाम कमाया। अरुण जेटली का जन्‍म 28 दिसंबर, 1952 को दिल्‍ली में हुआ था। उनके पिता पेशे से वकील थे।

    अरुण जेटली ने नई दिल्ली के सेंट जेवियर्स स्कूल से 1957-69 तक पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम किया। उन्‍होंने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से 1977 में लॉ की पढ़ाई पूरी की। अरुण जेटली लॉ की पढ़ाई के दौर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के छात्र नेता भी थे। डीयू में पढ़ाई के दौरान ही वह 1974 में डीयू स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष बने।

    1975 में देश में लगे आपातकाल का विरोध करने के पर उन्‍हें 19 महीनों तक नजरबंद रखा गया था। 1973 में वह जयप्रकाश नारायण और राजनारायण द्वारा चलाए जा रहे भ्रष्‍टाचार विरोधी आंदोलन में भी सक्रिय रहे। नजरबंदी खत्‍म होने के बाद उन्‍होंने जन संघ पार्टी ज्‍वाइन की। 1977 में उन्‍हें दिल्‍ली ABVP का अध्यक्ष और ऑल इंडिया सेक्रेटरी बनाया गया। उन्‍हें 1980 में बीजेपी युवा मोर्चा का अध्‍यक्ष और दिल्‍ली ईकाई का सेक्रेटरी बनाया गया था।

    1982 में अरुण जेटली की शादी संगीता जेटली से हुई। इनके दो बच्चे हैं, रोहन और सोनाली, उनके दोनों बच्‍चे वकील हैं। अरुण जेटली ने 1987 में वकालत शुरू की, उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट से लेकर विभिन्‍न हाईकोर्ट में प्रैक्टिस की। 1990 में दिल्‍ली हाईकोर्ट ने उन्‍हें वरिष्‍ठ वकील घोषित किया। 1989 में जेटली वीपी सिंह की सरकार में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल नियुक्‍त किए गए। उन्‍होंने बोफोर्स घोटाले की जांच की दस्‍तावेजी प्रक्रिया पूरी की थी। अरुण जेटली 1991 से बीजेपी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्‍य रहे।

    1999 के आम चुनाव में बीजेपी ने उन्‍हें पार्टी प्रवक्‍ता बनाया। जेटली ने जून 2009 को वकालत रोक दी। उन्‍हें राज्‍यसभा में 2009 से 2014 तक नेता विपक्ष बनाया गया था। 2009 में राज्‍यसभा में नेता विपक्ष बनने पर उन्‍होंने पार्टी महासचिव के पद से इस्‍तीफा दे दिया।

    1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वह सूचना एवं प्रसारण राज्‍यमंत्री बनाए गए। इस सरकार में वह कानून मंत्री भी रहे। उन्‍हें विनिवेश का स्‍वतंत्र राज्‍यमंत्री भी बनाया गया। 2000 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद उन्‍हें कानून, न्‍याय, कंपनी अफेयर तथा शिपिंग मंत्रालय का मंत्री बनाया गया था।

    2014 में अरुण जेटली ने बीजेपी की टिकट पर अमृतसर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा। लेकिन उन्‍हें कांग्रेस के उम्‍मीदवार कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से हार मिली। अरुण जेटली गुजरात से राज्‍यसभा सदस्‍य रहे। मार्च 2018 में उन्‍हें उत्‍तर प्रदेश से राज्‍यसभा सदस्‍य चुना गया। 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद उन्‍होंने इस सरकार में वित्‍त मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय जैसे अहम मंत्रालय संभाले। अरुण जेटली के बतौर वित्‍त मंत्री के कार्यकाल में ही सरकार ने भ्रष्‍टाचार और काले धन पर वार करते हुए 2016 में नोटबंदी की थी। सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिए थे।

    2018 में अरुण जेटली का दिल्‍ली स्थित एम्‍स में किडनी ट्रांसप्‍लांट हुआ। जनवरी, 2019 में डॉक्‍टरों को अरुण जेटली को सॉफ्ट टिशू सर्कोमा होने का पता चला। इसके बाद न्‍यूयॉर्क में उनकी सफल सर्जरी हुई।  अरुण जेटली ने 29 मई, 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर खराब स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला दिया और कहा कि उन्‍हें नई सरकार में किसी भी तरह की अहम जानकारी न दी जाए। अरूण जेटली बीजेपी सरकार के उन अमूल्य रत्नों में शुमार रहे जिन्होंने भले ही कभी लोकसभा का चुनाव न जीता हो पर हमेशा बीजेपी की बेजोड़ ताकत और राज़दार रहे।

    और भी...

  • पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन

     

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 66 साल की उम्र में निधन हो गया है। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। एम्स ने एक बयान जारी कर कहा है कि वे बेहद दुख के साथ सूचित कर रहे हैं कि 24 अगस्त को 12 बजकर 7 मिनट पर माननीय सांसद अरुण जेटली अब हमारे बीच में नहीं रहे। अरुण जेटली को 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था। एम्स के वरिष्ठ डॉक्टर उनका इलाज कर रहे थे।

    एम्स में जेटली का सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था। वे इस बीमारी के इलाज के लिए 13 जनवरी को न्यूयॉर्क चले गए थे और फरवरी में वापस लौटे थे। जेटली ने अमेरिका से इलाज कराकर लौटने के बाद ट्वीट किया था, घर आकर खुश हूं। जेटली ने अप्रैल 2018 में भी दफ्तर जाना बंद कर दिया था। 14 मई 2018 को एम्स में ही जेटली का गुर्दा प्रत्यारोपण भी हुआ था, वे शुगर से भी पीड़ित हैं। सितंबर 2014 में वजन बढ़ने की वजह से जेटली की बैरियाट्रिक सर्जरी भी कराई गई थी।

    जेटली को छह महीने पहले भी जांच के लिए एम्स में भर्ती किया गया था। डॉक्टरों ने उन्हें इलाज के लिए यूके और यूएस जाने की सलाह दी थी। लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत के बाद भाजपा कार्यालय में हुए कार्यक्रम में भी वो नजर नहीं आए थे। उन्होंने कैबिनेट की बैठक में भी हिस्सा नहीं लिया था। मई 2019 में उन्होंने मोदी से कह दिया था कि नई सरकार में वे शामिल नहीं हो पाएंगे। इसके बाद मोदी उनसे मिलने घर पहुंचे थे।

    और भी...