पंजाब

  • पंजाब: नवजोत कौर सिद्धू ने तोड़ा कांग्रेस से नाता, कहा वो अब एक सामाजिक कार्यकर्ता

    पंजाब: नवजोत कौर सिद्धू ने तोड़ा कांग्रेस से नाता, कहा वो अब एक सामाजिक कार्यकर्ता

     

    पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कांग्रेस पार्टी से नाता तोड़ दिया है। नवजोत कौर ने कहा कि वह कांग्रेस छोड़ चुकी हैं। अब वह किसी भी राजनीतिक पार्टी के साथ नहीं हैं। वह अब सिर्फ समाजसेवी हैं और उनका लक्ष्य अपने क्षेत्र का विकास करना है। एक कार्यक्रम के उद्घाटन के लिए पहुंची नवजोत कौर ने कहा, मुझे अपने हलके के सिवाय किसी भी राजनीतिक दल से कोई लेना-देना नहीं। मेरे पास कोई राजनीतिक दल नहीं है। मैं किसी भी पार्टी से संबंध नहीं रखती। सब कुछ छोड़ दिया है। सामाजिक कार्यकर्ता हूं और इसी नाते लोगों के बीच जाऊंगी।

    नवजोत कौर ने कहा, नवजोत सिंह सिद्धू दिल के साफ इंसान हैं। सच बोलते हैं। अपने दिल की बात उसी वक्त फटाक से कह देते हैं। उन्हें चालाकी नहीं आती। सिद्धू के मन में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ कभी कोई बात नहीं थी। वह उन्हें पिता की संज्ञा देते थे। वह उनसे कहते थे कि आप मुझे अपना बच्चा बनाकर रखो। मुझे पंजाब से प्यार है। मैं सारा काम छोड़कर आया हूं। न जाने कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसकी बात सुनी और यह सोचा कि नवजोत सिंह सिद्धू उनके खिलाफ हैं।

    नवजोत कौर ने कहा कि जब किसी इन्सान की कोई बात न सुनी जाए तो वह विश्वास खो देता है। बटाला ब्लास्ट के बाद नवजोत वहां इसलिए नहीं गए, क्योंकि वह जानते थे कि वहां जाकर यदि वह सीएम से कुछ मांगेंगे तो कुछ नहीं मिलेगा। नवजोत कौर ने कहा कि अब उनका फोकस अपने हलके के विकास पर है। अमृतसर ईस्ट हलके की एक-एक सड़क बनवाएंगे। इसके लिए सिद्धू बैठकें कर रहे हैं। यदि हलके के विकास के लिए पैसा न दिया गया तो वह सरकार के खिलाफ धरना भी देंगे। नवजोत कौर ने साफ किया कि शहर में पार्षदों को विकास कार्य करवाने में परेशानी आ रही है। लोग पार्षदों के घरों का दरवाजा खटखटाते हैं। नगर निगम की ओर से विकास के लिए कुछ नहीं मिल रहा। नवजोत सिंह सिद्धू ने कई प्रोजेक्ट पास करवाए, पर जब उन्होंने मंत्री पद छोड़ा तो ये प्रोजेक्ट पूरे नहीं हो पाए।

    और भी...

  • पंजाब विस उपचुनाव: 4 विधानसभी सीटों पर मतदान जारी, 11 बजे तक हुआ इतने प्रतिशत मतदान

    पंजाब विस उपचुनाव: 4 विधानसभी सीटों पर मतदान जारी, 11 बजे तक हुआ इतने प्रतिशत मतदान

     

    हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा के लिए मतदान जारी है और इसी के साथ पंजाब में भी चार विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए सुबह 7 बजे से मतदान जारी है। लोग बढ़ चढ़कर मतदान में हिस्सा ले रहे हैं। लुधियाना की दाखा विधानसभा में सुबह 9 बजे तक 6.54 प्रतिशत मतदान हुआ।

    11 बजे तक पंजाब उपचुनाव का मतदान प्रतिशत

    दाखा- 23.76%

    जलालाबाद- 29%

    मुकेरियां- 23.5

    फगवाड़ा- 17.5%

    इन चारों हलकों के 7.68 लाख मतदाता अपने वोट का इस्तेमाल कर रहे हैं। 40 बूथ अतिसंवेदनशील हैं, जिनमें दाखा हलके में सबसे ज्यादा हैं। सुबह 11 बजे तक फगवाड़ा में 17.5 फीसद, दाखा में 23.76 फीसद वोटिंग हो चुकी है। जलालाबाद में 239 बूथों पर चुनाव प्रक्रिया शुरू हो गई हैं। सुबह 7 बजे वोटिंग शुरू हुई और 11 बजे तक कुल 29 प्रतिशत वोटिंग हो चुकी है। मुकेरियां में सुबह 11 बजे तक करीब 23.5 फीसद मतदान हो चुका है।

    और भी...

  • पंजाब: करतारपुर कॉरिडोर पर लगने वाली फीस पर मामला फंसा, रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइट अभी बंद

    पंजाब: करतारपुर कॉरिडोर पर लगने वाली फीस पर मामला फंसा, रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइट अभी बंद

     

    पाकिस्तान का करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने के लिए प्रत्येक श्रद्धालु से 20 डॉलर यानी करीब 1420 रुपए फीस वसूलने का पेंच फंस गया है। इस वजह से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया रविवार से शुरू नहीं हो पाई। एक अफसर ने बताया कि सोमवार को इस मुद्दे पर विदेश मंत्रालय एक बैठक करेगा। इसके बाद जल्द ही पाक अधिकारियों से भी मीटिंग करेंगे, जिसमें पाकिस्तान से कहा जाएगा कि वह पूरी फीस माफ करे, फिर भी वह नहीं माना तो फीस कम करने को कहा जाएगा।

    बैठक के बाद ही केंद्र सरकार ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को शुरू करेगा। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 8 नवंबर को कॉरिडोर के उद‌्घाटन के लिए डेरा बाबा नानक पहुंचेंगे, जबकि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 9 नवंबर को पाकिस्तान कॉरिडोर शुरू करेंगे। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन को जाने का प्रोग्राम है।

    श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन करने के लिए केंद्र की वेबसाइट तैयार है। हालांकि इसे अभी खोला नहीं गया है। पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर के लिए हर भारतीय सिख श्रद्धालु से 20 डॉलर यानी करीब 1420 रुपए लेने पर अड़ा है। भारत के कई बार कहने के बावजूद पाकिस्तान ने फीस हटाने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान ने रोजाना 5 हजार श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब में माथा टेकने की इजाजत दी है। हर साल 18 लाख सिख श्रद्धालु जाएंगे तो पाकिस्तान को 259 करोड़ रुपए मिलेंगे।

    और भी...

  • पंजाब: मौड़ मंडी ब्लास्ट मामला में हाईकोर्ट ने दिए नई एसआईटी बनाने के निर्देश

    पंजाब: मौड़ मंडी ब्लास्ट मामला में हाईकोर्ट ने दिए नई एसआईटी बनाने के निर्देश

     

    2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान मौड़ मंडी में हुए बम ब्लास्ट केस की जांच से पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट अंसतुष्ट है। इसलिए हाईकोर्ट ने इस समय जांच कर रही एसआईटी को भंग कर नए सिरे से एसआईटी गठित करने के पंजाब सरकार को आदेश दिए हैं। NIA जांच की मांग को लेकर गुरजीत सिंह पातड़ां द्वारा एडवोकेट मोहिंदर जोशी के जरिए हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी।

    याचिका में बताया गया कि 2017 में पंजाब विधानसभा के चुनाव प्रचार के दौरान मौड़ मंडी में कांग्रेसी उम्मीदवार हरमिंदर सिंह जस्सी की जनसभा के पास बम ब्लास्ट हुआ था। इसमें 6 लोगों की जान चली गई थी और कई घायल हुए थे। इस मामले को लेकर गुरजीत सिंह पातड़ां ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर मामले की जांच में कई खामियां बताई थीं। हाईकोर्ट को बताया गया था कि इस मामले की जांच के दौरान यह सामने आया था कि ब्लास्ट में इस्तेमाल होने वाली कार को डेरे में ही असेम्बल किया गया था। इस कार को किसके कहने पर बनाया गया था, इसका अभी तक खुलासा नहीं हुआ है।

    लिहाजा इस मामले की जांच एनआईए को सौंपी जानी चाहिए और साथ ही मामले में डेरामुखी को भी पक्ष बनाने की मांग की गई थी। हाईकोर्ट के आदेश पर एसआईटी का गठन किया गया था। अब हाईकोर्ट ने कहा कि एसआईटी अभी तक जांच में कुछ भी हासिल नहीं कर पाई है और जांच बेहद ही धीमी गति से चल रही है। कोर्ट ने कहा कि मौजूदा एसआईटी की जांच से कुछ नतीजा निकलेगा, इसकी उम्मीद कम ही दिखाई दे रही है। यह बेहद ही महत्वपूर्ण मामला है लिहाजा बेहतर होगा कि मौजूदा एसआईटी को भंग कर नए सिरे से गठित किया जाए।

    और भी...

  • श्री करतारपुर साहिब दर्शन के लिए पाक की एक माह पहले ऑनलाइन आवेदन की शर्त गलत: CM अमरिंदर सिंह

    श्री करतारपुर साहिब दर्शन के लिए पाक की एक माह पहले ऑनलाइन आवेदन की शर्त गलत: CM अमरिंदर सिंह

     

    श्री करतारपुर साहिब दर्शन के लिए अब पाकिस्तान अड़चन डाल रहा है। पाकिस्तान की तरफ से फीस और एक माह पहले ऑनलाइन आवेदन की शर्त गलत है। यह विचार पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने व्यक्त किए। सीएम गुरुवार को हलका दाखा में कांग्रेसी प्रत्याशी कैप्टन संदीप संधू के लिए प्रचार करने पहुंचे थे।

    उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर अब केंद्र सरकार को पाकिस्तान से बात करनी होगी। एक माह पहले गांव का एक व्यक्ति कैसे ऑनलाइन आवेदन ले सकता है। उसके पास कौन सा कंप्यूटर है। उन्होंने कहा कि श्री गुरुनानक देव जी के 550वें जन्म उत्सव को लेकर होने जा रहे समारोह को लेकर जैसा श्री अकाल तख्त के जत्थेदार कहेंगे, वैसा होगा।

    समागम के दौरान पीएम और गृहमंत्री के एसजीपीसी के स्टेज पर आने की बात पर कैप्टन ने कहा कि सांसद हरसिमरत कौर कौन होती है, यह फैसला करने वाली। इसका फैसला पीएम ऑफिस की तरफ से किया जाना है। हरसिमरत को ना तो दिल्ली में और ना ही पंजाब में कोई गंभीरता से लेता है।

     

    और भी...

  • CM अमरिंदर सिंह ने सुखबीर बादल पर साधा निशाना, कहा सरहदी गांव आज भी विकास के लिए तरस रहे

    CM अमरिंदर सिंह ने सुखबीर बादल पर साधा निशाना, कहा सरहदी गांव आज भी विकास के लिए तरस रहे

     

    शिरोमणि अकाली दल प्रधान सुखबीर बादल के गढ़ जलालाबाद में बुधवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस प्रत्याशी रमिंदर आंवला के समर्थन में रोड शो किया। इस सीट पर विधायक सुखबीर बादल के सांसद चुने जाने के बाद उपचुनाव कराना पड़ रहा है।यहां ताकत दिखाने आए कैप्टन ने जनसभा में कहा कि सुखबीर यहां से तीन बार विधायक चुने गए। सांसद बने भी पांच महीने हो गए हैं, लेकिन बावजूद इसके सरहदी गांव आज भी विकास के लिए तरस रहे हैं। सुखबीर सिंह बादल ने केवल गलियां और नालियां बनाने का ही काम किया है। सरहदी गांव आज भी विकास के लिए तरस रहे हैं।

    विधानसभा उप चुनाव के लिए मतदान में पांच दिन से भी कम वक्त बचा हुआ है, जिसके चलते जलालाबाद में बाकी तीन सीटों दाखां, मुकेरियां और फगवाड़ा से कहीं ज्यादा ताकत पार्टियों ने झोंक दी है। अब कांग्रेस ने रमिंदर आंवला को प्रत्याशी बनाया है तो अकाली दल ने यहां से राज सिंह डिब्बीपुरा को। इसी तरह आम आदमी पार्टी ने महिंदर सिंह कचूरा को मैदान में उतारा है। टक्कर अकाली दल और कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच मानी जा रही है, जिसके चलते प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बुधवार को आंवला का प्रचार करने पहुंचे थे।

    कैप्टन के रोड शो का कारवां टाहलीवाला, इस्लामवाला, घटियांवाली जट्टा, घटियांवाली बोदला, अलियाना, नुकेरियां, मंडी रोड़ांवाली, हलीम वाला, मीना वाली, चक्क पाली वाला, पाली वाला, गाठगढ़, वैरोके, महालम, ढाब कड़ियाल, कटियांवाला, मन्नेवाला, पुरानी सब्जी मंडी से होते हुए दोपहर तीन बजे जलालाबाद के शहीद ऊधम सिंह चौक पर समाप्त हुआ।

    और भी...

  • पंजाब: पाक सीमा पर ड्रोन दिखने का मामला पहुंचा केंद्र सरकार, BSF ने की ये मांग

    पंजाब: पाक सीमा पर ड्रोन दिखने का मामला पहुंचा केंद्र सरकार, BSF ने की ये मांग

     

    फिरोजपुर में एक सप्ताह पहले लगातार चार रातों तक ड्रोन दिखने का मामला केंद्र सरकार तक पहुंच चुका है। BSF के उच्चाधिकारियों की तरफ से आधुनिक ड्रोन भेदी प्रणाली की मांग की गई, ताकि फिरोजपुर या पंजाब की अन्य सरहदी हदों में रात के समय पाकिस्तान से भेजे जाने वाले ड्रोन को पकड़ा जा सके या उन्हें रोका जा सके। इसके लिए BSF ने खुद को और सक्षम बनाने के लिए सरकार और रक्षा मंत्रालय से मंजूरी मांगी है।

    फिरोजपुर की सीमा सुरक्षा बल की तरफ से एप्रूवल मिलने का इंतजार किया जा रहा है। एप्रूवल मिलते उच्च स्तर के उपकरणों की खरीदारी की जाएगी। पाकिस्तान की तरफ से ड्रोन के माध्यम से हथियारों और हेरोइन सहित अन्य मादक पदार्थों की तस्करी को गंभीरता से लिया जा रहा है, क्योंकि यह देश की सुरक्षा पर बहुत बड़ा सवाल है।

    फिरोजपुर में अब तक BSF के पास रात के अंधेरे में ड्रोन आदि को पकड़ पाना या रोक पाने के लिए उचित संसाधन या उपकरण नहीं है। सरहदी इलाका होने के कारण ड्रोन  की तय दूरी को लेकर भी असमंजस बना रहा है। हालांकि BSF की तरफ से कड़े प्रयास करके फिरोजपुर के गांव हजारा सिंह वाला, टेंडीवाला और चांदीवाला में फायरिंग करके भी ड्रोन को गिराने के प्रयास किए जा चुके हैं, लेकिन सफलता नहीं मिली।

    फिरोजपुर के गांव हजारा सिंह वाला, चांदीवाला और टेंडीवाला के आसपास सरहदी इलाकों में 7 अक्टूबर से लेकर 10 अक्टूबर तक रोजाना रात के समय ड्रोन देखे गए थे, जिसके बाद ग्रामीणों ने BSF को बताया तो लगातार 7 अक्टूबर से 10 अक्टूबर जब-जब सूचना मिली, BSF रात एक बजे से लेकर अगले दिनों तक पंजाब पुलिस के साथ सर्च आपरेशन करती रही, लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा।

    और भी...

  • पंजाब सरकार का निर्देश, ठेके पर जमीन देने वाले मालिक अपने खेतों में ना जलने दे पराली

    पंजाब सरकार का निर्देश, ठेके पर जमीन देने वाले मालिक अपने खेतों में ना जलने दे पराली

     

    पंजाब सरकार ने ठेके पर जमीन देने वाले लोगों से अपनी जिम्मेदारी निभाने को कहा और उन्हें निर्देश दिया कि वे उनके खेत में पराली न जलने दें। खेतीबाड़ी सचिव काहन सिंह पन्नू ने बताया कि सूबे में खेतीबाड़ी जमीन का करीब 25 फीसदी हिस्सा एनआरआई या शहरों में रहने वाले लोगों का है। ये लोग प्रति एकड़ 40-55 हजार रुपये ठेका ले रहे हैं। इसलिए यह इनकी जिम्मेदारी है कि इनके खेतों में पराली न जले। अगर ऐसा हुआ तो सरकारी आदेश का उल्लंघन मानते हुए सीधे जमीन मालिकों पर कार्रवाई की जाएगी।

    उन्होंने जमीन मालिकों से अपील की कि ठेके की रकम कुछ कम करें और काश्तकारों को पराली का प्रबंधन खेत में करने को प्रेरित करें। गौरतलब है कि राज्य भर में पराली जलाने पर पाबंदी है। जिला मजिस्ट्रेट ने भी सीआरपीसी 144 के तहत प्रतिबंध लगाया हुआ है। पन्नू ने बताया कि सभी डिप्टी कमिश्नरों से कहा गया है कि गांव स्तर पर तैनात नोडल अफसरों को जमीन मालिकों की सूची तैयार बनाने और उनसे संपर्क करने के निर्देश दें। सभी पटवारियों को हिदायत दी गई है कि जिस जमीन में पराली जलने की घटना सामने आती है, वहां गिरदावरी में रेड एंट्री करें।

    काबिले जिक्र है कि धान की पराली जलने से मिट्टी, वातावरण और मानवीय सेहत पर पड़ते नुकसान को देखते हुए कैबिनेट ने सर्व सम्मति से प्रस्ताव पास किया था। जिसके तहत किसानों को कुदरती संसाधनों के संरक्षण के संबंध में श्री गुरु नानक देव जी के फलसफे को अपनाते हुए पराली न जलाने की अपील की गई है।

    और भी...

  • सन्नी देओल ने लिखा गृह मंत्रालय को पत्र, इस मामले पर करेंगे अमित शाह से मुलाकात

    सन्नी देओल ने लिखा गृह मंत्रालय को पत्र, इस मामले पर करेंगे अमित शाह से मुलाकात

     

    आतंकी हमलों का इनपुट मिलने और खासकर पंजाब में बढ़ रही आतंकियों की गतिविधियों के बाद गृह मंत्रालय ने पठानकोट में NSG का रीजनल सेंटर बनाने का फैसला लिया है। सेंटर के लिए 25 एकड़ जमीन मुहैया करवाने के लिए पठानकोट और अमृतसर जिला प्रशासन को पत्र लिखा है, लेकिन पठानकोट जिला प्रशासन और नगर निगम जमीन को लेकर आमने-सामने हो गए हैं।

    दोनों एक-दूसरे को जिम्मेदार बता रहे हैं। जमीन उपलब्ध न करवाने पर यह सेंटर अमृतसर भी शिफ्ट किया जा सकता है। अब यह मामला गुरदासपुर के सांसद सनी देओल के पास पहुंच गया है। नगर निगम के मेयर अनिल वासुदेवा ने जमीन मुहैया न करवाने के मामले में जिला प्रशासन की ओर से राजनीति करने की शिकायत सनी देओल से की है। सनी देओल ने गृह मंत्रालय को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने बताया कि पाकिस्तान की सीमा के साथ लगने वाला पठानकोट अतिसंवेदनशील क्षेत्र है। NSG का सेंटर पठानकोट से किसी दूसरी जगह शिफ्ट नहीं किया जाना चाहिए।

    मेयर अनिल वासुदेवा का कहना है कि सांसद सनी देओल दिल्ली में ही हैं। वे गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर खुद इस मामले को उठाएंगे। उन्होंने कहा कि इतने बड़े प्रोजेक्ट पर राजनीति की जा रही है, लेकिन इस सेंटर को पठानकोट से कहीं दूसरी जगह शिफ्ट नहीं होने दिया जाएगा।

    और भी...

  • पंजाब विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची, सिद्धू को मिला ये स्थान

    पंजाब विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची, सिद्धू को मिला ये स्थान

     

    पंजाब की चार विधानसभा सीटों पर उपचुनाव को लेकर कांग्रेस हाईकमान ने अपने स्टार प्रचारकों को जो सूची जारी की है, उसने पंजाब में कैप्टन और नवजोत सिद्धू प्रकरण को फिर से चर्चा में ला दिया है। केवल पंजाब की चार सीटों पर चुनाव प्रचार के लिए तैयार की गई इस सूची में कैप्टन अमरिंदर सिंह का नाम जहां दूसरे स्थान पर है, वहीं नवजोत सिंह सिद्धू को 29वें स्थान पर रखा गया है।

    बीते लोकसभा चुनाव के दौरान नवजोत सिंह सिद्धू पार्टी के स्टार प्रचारकों की अग्रिम पंक्ति में थे, जबकि इस बार उन्हें प्रदेश के सभी मंत्रियों और सीनियर नेताओं के बाद स्थान दिया गया है। यानि चुनाव प्रचार के लिए कैप्टन की कैबिनेट ने मोर्चा संभाला है। खास बात यह भी है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के धुर विरोधी रहे प्रताप सिंह बाजवा को भी पार्टी ने नौवें स्थान पर रखा है।

    40 नेताओं की इस सूची में सिद्धू के बाद केवल उन्हीं कांग्रेस विधायकों के नाम हैं, जो प्रदेश सरकार में मंत्री पद पाने की होड़ में सबसे आगे रहे, लेकिन अब तक कामयाब नहीं हो सके। कांग्रेस हाईकमान ने पंजाब में अपने स्टार प्रचारकों की उक्त सूची को चुनाव आयोग के पास भेज दिया है। इसमें पहले नंबर पर पार्टी की पंजाब मामलों की प्रभारी आशा कुमारी हैं जबकि तीसरे नंबर पर अंबिका सोनी और चौथे नंबर पर प्रदेशाध्यक्ष सुनील जाखड़ हैं। पूर्व मुख्यमंत्री राजिंदर कौर भट्ठल को भी सूची में पांचवें स्थान पर रखा गया है।

    और भी...

  • पंजाब: फिरोजपुर के हुसैनीवाला बॉर्डर के पास रात को देखें पाक की तरफ से आये दो ड्रोन

    पंजाब: फिरोजपुर के हुसैनीवाला बॉर्डर के पास रात को देखें पाक की तरफ से आये दो ड्रोन

     

    पंजाब में भारत पाक जीरो लाइन के नजदीक फिरोजपुर के हुसैनीवाला बॉर्डर के नजदीक बीती रात को लगातार तीसरे दिन पाकिस्तान की तरफ से आये दो ड्रोन देखे गए। यह दोनों ड्रोन सरहदी गांव हज़ारा सिंह वाला के ऊपर उडते दिखाई दिये।

    पाक की तरफ से लगातार आ रहे ड्रोन जहां एक तरफ सुरक्षा बलों में चिंता का विषय बने हुए हैं वहीं गांव के लोगों में भी सहम का माहौल बना हुआ है। उधर गांव वासियों का कहना है कि यह ड्रोन उन्हें गांव के उपर तक दिखाई दिया। जबकि बाद में फिरोजपुर की तरफ़ जाता हुआ आंखों से दूर हो गया।

    वैसे सीमा पार से आ रहे इन ड्रोनों को लेकर बीएसएफ और सेना व पुलिस द्वारा सर्च अभियान पिछले दो दिनों से जारी है यह अलग बात है अभी सुरक्षा बलों को कोई सफलता नही मिल रही है।

    और भी...

  • पंजाब पुलिस और ग्रामीणों में फायरिंग-पत्थरबाजी, नशा तस्कर की मौत, 7 कर्मी घायल

    पंजाब पुलिस और ग्रामीणों में फायरिंग-पत्थरबाजी, नशा तस्कर की मौत, 7 कर्मी घायल

     

    बठिंडा जिले की पुलिस टीम पर बुधवार को हमले की वारदात सामने आई है। पुलिस के मुताबिक प्रदेश की सीमा से सटे हरियाणा के सिरसा जिले में गांव देसुजोधा में ड्रग तस्करों को पकड़ने के लिए गई थी। वहां ग्रामीण पुलिस कार्रवाई के विरोध में उतर आए। बावजूद इसके पुलिस टीम नहीं रुकी तो लोगों ने पुलिस वालों हमला कर दिया।

    टीम को महिला-पुरुषों ने लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा और यहां तक कि गोली भी चलाई, पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में फायरिंग की। एक पुलिस वाले और एक ग्रामीण को गोली लगी, जिनमें से ग्रामीण की मौत हो गई। साथ ही 6 पुलिस वाले और भी घायल हुए हैं। घटना के बाद गांव में भारी तनाव बना हुआ है।

    6 अक्टूबर को बठिंडा की क्राइम ब्रांच ने दो लोगों को लगभग 6 हजार प्रतिबंधित गोलियों के साथ पकड़ा था। 7 अक्टूबर को थाना रामा में केस दर्ज करने के बाद जब आरोपियों से पूछताछ की गई तो उसमें देसुजोधा के एक युवक का नाम आया। इसी आधार पर पुलिस बुधवार सुबह उसे गिरफ्तार करने के लिए गांव में पहुंची थी। इस दौरान आरोपी तो भाग गया, मगर वहां ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। तनाव इतना बढ़ गया कि पुलिस पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया। इसके बाद पुलिस भी हरकत में आई और दोनों ओर से गोलियां चल पड़ी।

    इस वारदात में गांव के जग्गा सिंह नामक एक एक व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई, छाती में गोली लगने के बाद गंभीर जख्मी कॉन्स्टेबल कमलजीत सिंह को मैक्स अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। इसके अलावा एसआई जसकरण सिंह, हरजीवन, एएसआई गुरतेज सिंह, सुखदेव सिंह, कॉन्स्टेबल हरमीत सिंह और एक महिला पुलिस कर्मी भी घायल हो गए हैं।

    और भी...

  • पंजाब: श्वेत मलिक का SAD-BJP गठबंधन पर बयान, कहा दोनों पार्टियों के संबंध मधुर लेकिन...

    पंजाब: श्वेत मलिक का SAD-BJP गठबंधन पर बयान, कहा दोनों पार्टियों के संबंध मधुर लेकिन...

     

    पंजाब बीजेपी के प्रधान श्वेत मलिक ने 2022 के विधानसभा चुनाव में अकाली दल और बीजेपी के बीच गठबंधन के सवाल का जवाब देने से मना कर दिया। मलिक सोमवार को श्री आनंदपुर साहिब में पावरकॉम के विश्राम घर में पत्रकारों से बात कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि पंजाब कांग्रेस के कई नेता आज बीजेपी में आने के लिए उतावले हैं और लगातार हमारे संपर्क में हैं।

    अकाली-बीजेपी के रिश्तों के बीच आई खटास के बारे मलिक ने कहा कि दोनों पार्टियों के संबंध मधुर हैं और यदि मेरे या सुखबीर सिंह बादल के बयान को देखा जाए तो यह स्पष्ट है कि दोनों धड़ों का आपस में नाखून और मांस का रिश्ता है। उपचुनाव में चारों सीटों जीतने का दावा करते हुए मलिक ने कहा कि सूबा सरकार के पास कोई एजेंडा नहीं है।

    भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बनने के बाद जय प्रकाश नड्डा ने पंजाब और हिमाचल प्रदेश के दौरे की शुरुआत श्री आनंदपुर साहिब में तख्त श्री केसगढ़ साहिब पर नतमस्तक होकर की। इस दौरान उन्होंने मानवता के भले, सुख शांति, देश की एकता और अखंडता व भाईचारक सांझ की अरदास की। कार्यक्रम के अनुसार जय प्रकाश नड्डा सुबह तख्त श्री केसगढ़ साहिब पहुंचे।

    और भी...

  • पंजाब: नशा तस्करी रोकने के लिए पंजाब पुलिस करेगी अब ये काम

    पंजाब: नशा तस्करी रोकने के लिए पंजाब पुलिस करेगी अब ये काम

     

    पंजाब में नशा एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिए तस्कर एक से बढ़कर एक तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। पुलिस के सामने ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिसमें नशा तस्करों ने दूसरे राज्यों से ही नहीं बल्कि विदेशों से भी नशा मंगवाने के लिए कोरियर कंपनियों का सहारा लेना शुरू कर दिया था। पुलिस ने इन कोरियर कंपनियों पर शिकंजा भी कसा, लेकिन बावजूद कोरियर के जरिए नशे की होम डिलीवरी करवाई जा रही है। इसका खुलासा पुलिस द्वारा पकड़े गए कई तस्करों से हो चुका है। पुलिस भी अलर्ट हो गई है।

    अब पुलिस कोरियर कंपनियों को अपनी कंपनी में नारको डिटेक्शन किट लगाने के लिए कहेगी। इससे कोरियर कंपनियों के माध्यम से नशे की होम डिलीवरी एवं सप्लाई चेन पर नजर रहेगी। जल्द पुलिस महकमा हर जिले के एसएसपी की अगुवाई में उनके क्षेत्र में आने वाली कोरियर कंपनियों के एमडी और डायरेक्टरों से अपनी कोरियर कंपनी के ऑफिसों में नारको डिटेक्शन किट लगाने के लिए कहेगी, ताकि अगर किसी कोरियर में कोई नशे की सप्लाई की जा रही है तो इसे पकड़ने में आसानी होगी। इसके लिए पुलिस मुख्यालय की ओर से आदेश जारी किए जाएंगे।

    इस किट में सेंसर लगे होते हैं। किसी भी सामान को स्कैन करने के दौरान सेंसर संदिग्ध सामान की पहचान कर लेते हैं। इसकी सूचना एक बीप के माध्यम से अधिकारी को मिल जाती है। इसके अलावा दूसरी किट में संदिग्ध सामान में नशे की जांच करने के लिए केमिकल लगी स्टिक होती है। इसके जरिये यह जांच की जा सकती है कि संदिग्ध सामान ड्रग्स है या नहीं।

    और भी...

  • पंजाब: राज्यसभा सांसद संजय सिंह के खिलाफ दायर मानहानि मामले में ट्रायल पर कोर्ट की रोक

    पंजाब: राज्यसभा सांसद संजय सिंह के खिलाफ दायर मानहानि मामले में ट्रायल पर कोर्ट की रोक

     

    पंजाब के पूर्व राजस्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया द्वारा आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह के खिलाफ लुधियाना कोर्ट में दायर मानहानि मामले के ट्रायल पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने रोक लगा दी है। जस्टिस महाबीर सिंह ने मजीठिया को नोटिस जारी कर 17 जनवरी, 2020 तक जवाब दायर करने को कहा है।

    मजीठिया ने शिकायत की थी कि संजय सिंह ने उन पर ड्रग्स तस्करों से मिले होने के झूठे आरोप लगाए हैं। मजीठिया का आरोप है कि संजय ने मोगा में हुई रैली में कहा था कि पंजाब में सत्ता में आने पर आम आदमी पार्टी मजीठिया को नशीले पदार्थ बेचने में शामिल होने पर जेल भेजेगी।

    मीडिया में प्रकाशित समाचारों को मजीठिया ने अपनी प्रतिष्ठा पर हमला बताया था। इस मामले में लुधियाना अदालत द्वारा भेजे गए समन के खिलाफ संजय सिंह ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। उन्होंने कहा है कि वे दिल्ली में रहते हैं और ट्रायल कोर्ट ने आवश्यक नियमों को अनदेखा करते हुए उनके खिलाफ समन जारी किए हैं।

    और भी...