ब्रेकिंग न्यूज़
  • बिहार: महिला ने अपने 4 बच्चों के साथ चलती ट्रेन के सामने लगाई छलांग, मौत
  • बाजार में लौटी रौनक, शुरुआती कारोबार में सेंसेक्‍स 37 हजार के पार
  • INX मीडिया केस: पी. चिदंबरम की अर्जी पर SC में सुनवाई आज, HC के आदेश को दी है चुनौती
  • कोलकाता: मदर टेरेसा की जयंती आज, मदर हाउस में की गईं शांति प्रार्थनाएं
  • उत्तराखंड: देहरादून, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी में भारी बारिश का अलर्ट
  • त्तरकाशी: भूस्खलन के कारण बंद किया गया यमुनोत्री हाईवे

खेल

  • PV Sindhu ने रचा इतिहास,बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय

    PV Sindhu ने रचा इतिहास,बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय

     

    भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने रविवार को वर्ल्ड बैडमिंटन चैम्पियनशिप के फाइनल में जापान की नोजोमी ओकुहारा को हरा दिया। सिंधु ने स्विट्जरलैंड के बासेल में हुआ खिताबी मुकाबला 21-7, 21-7 से 38 मिनट में अपने नाम कर लिया। वे इस टूर्नामेंट के 42 साल के इतिहास में चैम्पियन बनने वाली पहली भारतीय बन गईं। सिंधु 2018, 2017 में रजत और 2013, 2014 में कांस्य पदक जीती थीं।

    वर्ल्ड चैम्पियनशिप के इतिहास में यह सिर्फ दूसरा मौका होगा, जब भारतीय शटलर दो पदक के साथ स्वेदश लौटेंगे। इससे पहले 2017 में साइना ने कांस्य जीता था। वहीं, सिंधु ने रजत पदक अपने नाम किया था। इस साल सिंधु के अलावा प्रणीत ने भी पदक जीतने में सफल रहे।

    सिंधु ने सेमीफाइनल में चीन की चेन यू फेई को 21-7, 21-14 से हराया। इससे पहले क्वार्टरफाइनल में दूसरी सीड ताइपे की ताई जू यिंग को हराया था। सिंधु लगातार तीसरी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचीं थी। इससे पहले 2018 में उन्हें स्पेन की कैरोलिना मरीन और 2017 में जापान की नोजोमी ओकुहारा के खिलाफ खिताबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था।

    सिंधु वर्ल्ड रैंकिंग में पांचवें और ओकुहारा चौथी स्थान पर हैं। दोनों के बीच अब तक 16 मैच खेले गए। इनमें सिंधु ने 9 बार जीत दर्ज की। ओकुहारा को सिर्फ सात मुकाबलों में सफलता मिली। सिंधु ने दोनों के बीच हुए पिछले मैच में भी जीत हासिल की थी।

    और भी...

  • INDVSWI: भारत की वेस्टइंडीज पर आसान जीत, 318 रनों से दी मात

    INDVSWI: भारत की वेस्टइंडीज पर आसान जीत, 318 रनों से दी मात

     

    भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए विंडीज को 318 रनों से मात दे दी। इस जीत के हीरो अजिंक्य रहाणे और 5 विकेट लेने वाले जसप्रीत बुमराह रहे। रहाणे ने दो साल बाद शतक जमाया। वेस्टइंडीज 419 रनों के बड़े टारगेट को चेस कर रही थी जहां उसकी पूरी टीम 100 रन पर ही ऑल आउट हो गई, भारत ने पहली पारी में 297 रन का स्कोर बनाया था और उसने वेस्टइंडीज को पहली पारी में 222 रन पर ऑलआउट कर दिया था। भारत को इस तरह पहली पारी में 75 रन की बढ़त हासिल की थी।

    भारत ने अपने कल के स्कोर तीन विकेट पर 185 रन से आगे खेलना शुरू किया. कप्तान विराट कोहली ने 51 और उपकप्तान रहाणे ने अपनी पारी को 53 रन से आगे बढ़ाया। भारत अपने कल के स्कोर में दो रन ही जोड़ पाया था कि कोहली आउट हो गए। लंच तक भारत चार विकेट पर 287 रन बना चुका था और उसे 362 रन की बढ़त थी। लंच के बाद रहाणे अपने करियर का 10वां शतक जमाने के बाद आउट हो गए। वेस्टइंडीज की ओर से रोस्टन चेज ने चार और केमार रोच, शेनन गेब्रियल तथा कप्तान जेसन होल्डर ने एक-एक विकेट लिए।

    विंडीज की पहली पारी में भारत के लिए इशांत शर्मा ने 5 विकेट चटकाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी मेजबान वेस्टइंडीज ने सात के स्कोर पर क्रेग ब्रैथवेट के रूप में पहला, 10 के स्कोर जॉन कैम्पवेल के रूप में दूसरा और अपना पदार्पण टेस्ट मैच खेल रहे शामरा ब्रूक्स के रूप में तीसरा तथा 13 के स्कोर पर शिमरोन हेटमेयर के रूप में चौथा विकेट गंवा दिया। इसके बाद बुमराह ने डैरेन ब्रोवो को बोल्ड कर वेस्टइंडीज को पांचवां झटका दे दिया। भारत की ओर से जसप्रीत बुमराह ने 5, ईशांत ने 3 और शमी ने दो विकेट चटकाए।

    और भी...

  • Ashes-2019: Ben Stokes ने छीनी ऑस्ट्रेलिया के जबड़े से जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

    Ashes-2019: Ben Stokes ने छीनी ऑस्ट्रेलिया के जबड़े से जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

     

    बेन स्टोक्स के नाबाद 135 और जैक लीच के बीच आखिरी विकेट के लिए हुई 76 रनों की नाबाद मैच जिताऊ साझेदारी के दम पर इंग्लैंड ने एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया को एक विकेट से हरा दिया। इस जीत के बाद इंग्लैंड ने पांच मैचों की एशेज टेस्ट सीरीज में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली है। सीरीज का पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने 251 रनों से जीता था जबकि दूसरा मैच ड्रॉ रहा था।

    ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 179 रन का स्कोर बनाया था और फिर उसने इंग्लैंड को उसकी पहली पारी में 67 रन पर ढेर कर 112 रन की बढ़त हासिल कर ली थी। ऑस्ट्रेलिया ने इसके बाद अपनी दूसरी पारी में 246 रन का स्कोर बनाकर इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 359 रनों का लक्ष्य रखा। इंग्लैंड ने इस लक्ष्य को नौ विकेट खोकर हासिल कर लिया। मेजबान इंग्लैंड के जीत के हीरो स्टोक्स ने 219 गेंदों की पारी में 11 चौके और आठ छक्कों की मदद से 135 रन की नाबाद अविस्मरणीय शतकीय पारी खेली। उन्होंने अपने करियर का आठवां शतक लगाया।

    इससे पहले, ऑस्ट्रेलिया से मिले 359 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही इंग्लैंड ने रविवार सुबह अपने कल के स्कोर तीन विकेट पर 156 रन से आगे खेलना शुरू किया और लंच तक चार विकेट पर 238 रन बना लिए थे। लंच के बाद इंग्लैंड की टीम काफी संकट में आ गई और उसने अगले 48 रन के अंदर ही अपने पांच और विकेट गंवा दिए। मेजबान टीम 286 रन के स्कोर तक अपने नौ विकेट गंवा चुकी थी और उसे जीत के लिए अभी 73 रन और बनाने थे जबकि उसकी आखिरी जोड़ी क्रीज पर संघर्ष कर रही थी।

    इस संघर्ष में स्टोक्स और लीच ऑस्ट्रेलिया की जीत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और आखिरी विकेट के लिए 76 रन की महत्वपूर्ण तथा मैच जिताऊ साझेदारी कर इंग्लैंड को रोमांचक जीत दिला दी। ऑस्ट्रेलिया की ओर से जोश हेजलवुड ने चार, नाथन लायन ने दो और पैट कमिंस तथा जेम्स पेटिंसन ने एक-एक विकेट हासिल किए।

    और भी...

  • Ishant Sharma के पंच से टीम इंडिया की वापसी, वेस्टइंडीज की कमर टूटी

    Ishant Sharma के पंच से टीम इंडिया की वापसी, वेस्टइंडीज की कमर टूटी

     

    ईशांत शर्मा की शानदार गेंदबाजी के दम पर टीम इंडिया ने एंटीगा में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में मेजबान वेस्टइंडीज पर शिकंजा कस लिया है। दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक कैरेबियाई टीम ने 189 रन पर आठ विकेट गंवा दिए और वह अभी भी भारत से 108 रन पीछे है। ईशांत के अलावा मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और रवींद्र जडेजा को एक-एक सफलता मिली।

    इससे पहले भारत ने छह विकेट पर 203 रन से अपनी पारी को आगे बढ़ाते हुए दूसरे दिन का खेल शुरू किया, लेकिन कैरे‌बियाई गेंदबाजों के आगे भारतीय बल्लेबाज भी बेबस ही नजर आए और टीम पहली पारी में 297 पर ऑल आउट हो गई। वेस्टइंडीज की ओर से कीमार रोच ने 66 रन पर चार और शेनॉन गैबरियल ने 71 रनों पर तीन विकेट लिए।

    पंत के रूप में 207 रन पर टीम इंडिया को 7वां झटका लगा, इसके बाद जडेजा का साथ दूसरे छोर से ईशांत शर्मा ने दिया और दोनों ने एक बेहतरीन साझेदारी कर पारी को 267 रनों पर पहुंचाया, लेकिन गैबरियल ने ईशांत को बोल्ड करके भारत को आठवां झटका दे दिया। 297 रन पर जडेजा का विकेट गिरते ही भारत की पहली पारी भी सिमट गई।

    ईशांत शर्मा की घातक गेंदबाजी के सामने कैरेबियाई बल्लेबाज टिक नहीं पाए और ईशांत शर्मा ने 13 ओवर में 42 रन देकर 5 विकेट लेते हुए वेस्टइंडीज टीम की कमर तोड़ दी। दिन का खेल समाप्त होने तक वेस्ट इंडीज ने 8 विकेट गंवाकर 189 रन बनाए और विंडीज भारत से फिलहाल 108 रन से पिछड़ा हुआ है।

    और भी...

  • INDvsWI: टेस्ट के पहले दिन लड़खड़ाई भारतीय पारी,अजिंक्य रहाणे ने पारी को संभाला

    INDvsWI: टेस्ट के पहले दिन लड़खड़ाई भारतीय पारी,अजिंक्य रहाणे ने पारी को संभाला

     

    भारत और वेस्टइंडीज के बीच 2 मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच एंटिगा में गुरुवार को शुरू हुआ। मेजबान वेस्टइंडीज ने टॉस जीता और तेज गेंदबाजों की मददगार पिच पर भारत को पहले बैटिंग करने का न्योता दिया। पिच पर घास और उछाल दोनों थी। वेस्टइंडीज के गेंदबाजों ने इसका पूरा फायदा उठाया और 25 रन बनते-बनते भारत के तीन विकेट झटक लिए। इनमें ओपनर मयंक अग्रवाल 5 रन, भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा 2 रन और कप्तान विराट कोहली 9 रन के विकेट शामिल थे।

    बाद में ओपनर केएल राहुल ने एक छोर संभाले रखा और 44 रन की पारी खेली। उन्हें दूसरे छोर पर अजिंक्य रहाणे 81 रन के रूप में बेहतरीन साथी मिला। इन दोनों ने टीम को 93 के स्कोर तक पहुंचाया। इस स्कोर पर राहुल ऑफ स्पिनर रोस्टन चेज का शिकार हो गए। लोकेश राहुल के आउट होने के बाद अजिंक्य रहाणे ने मोर्चा संभाला। उन्होंने हनुमा विहारी 32 रन के साथ 83 रन की साझेदारी की। इस साझेदारी ने भारत को ना सिर्फ संकट से उबारा, बल्कि टीम को लड़ने लायक स्कोर के करीब भी पहुंचा दिया। हनुमा विहारी 175 के स्कोर पर भारत के पांचवें बल्लेबाज के तौर पर आउट हुए।

    जब बारिश के कारण दिन का खेल खत्म घोषित किया गया, तब भारत ने 68.5 ओवर में छह विकेट पर 203 रन बना लिए थे। ऋषभ पंत 20 और रवींद्र जडेजा 3 रन बनाकर क्रीज पर नाबाद हैं। वेस्टइंडीज की ओर से केमार रोच ने सबसे अधिक 3 विकेट लिए। शैनन गैब्रियल के खाते में 2 और रोस्टन चेज के खाते में एक विकेट आया। विकेटकीपर शाई होप ने चार कैच लपके।

     

    और भी...

  • PAYTM फिर 5 साल के लिए बना भारतीय क्रिकेट टीम का स्पॉन्सर, लगाई इतने करोड़ की बोली

    PAYTM फिर 5 साल के लिए बना भारतीय क्रिकेट टीम का स्पॉन्सर, लगाई इतने करोड़ की बोली

     

    BCCI ने अंतरराष्ट्रीय और घरेलू मैचों के लिये एक बार फिर से पेटीएम को स्पॉन्सरशिप देने का एलान किया है। स्पॉन्सर अधिकार बरकरार रखने के लिए पेटीएम ने प्रत्येक मैच के लिए 3.80 करोड़ रूपये की बोली लगाई। पेटीएम को इसके तहत पांच साल के लिए स्पॉन्सरशिप का अधिकार मिला है।

    भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने बुधवार को पेटीएम के साथ इस करार की घोषणा की जिसने 2015 में चार साल के लिये ये अधिकार हासिल किये थे। बीसीसीआई ने बयान में कहा, बोली 326.80 करोड़ रूपये की थी जो 2019-23 घरेलू सत्र के लिये दी जानी थी। विजयी बोली 3.80 करोड़ रूपये के लिये रही जिससे पिछले मैच की तुलना में 58 प्रतिशत का इजाफा हुआ।

    बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने बयान में कहा, मुझे यह घोषणा करके खुशी हो रही है कि पेटीएम बीसीसीआई की घरेलू सीरीज का टाइटल प्रायोजक होगा। पेटीएम भारत की नयी पीढ़ी की कंपनियों में से एक है। हमें गर्व है कि पेटीएम भारतीय क्रिकेट के साथ प्रतिबद्धता जारी रख रहा है।

    पेटीएम के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी विजय शेखर वर्मा ने कहा, हम बीसीसीआई और भारतीय क्रिकेट टीम के साथ अपने लंबे जुड़ाव को जारी रखकर काफी रोमांचित हैं। भारतीय क्रिकेट के साथ हमारी प्रतिबद्धता हर सत्र मजबूत हो रही है।

    और भी...

  • भारतीय हॉकी टीम ने ओलंपिक टेस्ट टूर्नामेंट में न्यूजीलैंड को 5-0 से हराया

    भारतीय हॉकी टीम ने ओलंपिक टेस्ट टूर्नामेंट में न्यूजीलैंड को 5-0 से हराया

     

    भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ओलंपिक टेस्ट टूर्नामेंट के फाइनल में न्यूजीलैंड को 5-0 से हरा दिया। टीम इंडिया ने इस जीत के साथ राउंड रॉबिन स्टेज में न्यूजीलैंड से मिली हार का बदला भी ले लिया। तब किवी टीम 2-1 से जीती थी। टोक्यो के ओई हॉकी स्टेडियम में बुधवार को खेले गए फाइनल मुकाबले में भारत के लिए कप्तान हरमनप्रीत सिंह, शमशेर सिंह, नीलाकांता शर्मा, गुरसाहिबजीत सिंह और मंदीप सिंह ने गोल किए।

    इस जीत के बाद कप्तान हरमनप्रीत ने कहा, हम बहुत ही अच्छा खेले। विपक्षी के खिलाफ शुरुआत से ही गोल करने में सफल रहे। मुझे लगता है कि फाइनल हमेशा ही मुश्किल होता है। हम न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले मैच में हारे थे, लेकिन उसके बाद हमने प्रैक्टिस सेशन में कमियों पर काम किया।’

    भारत को मैच के शुरुआत में सातवें मिनट में ही पेनल्टी कार्नर मिल गया, लेकिन उस पर गोल नहीं हो सका। उसी मिनट टीम को दूसरा पेनल्टी कॉर्नर मिला, जिस पर हरमनप्रीत ने ड्रैगफ्लिक से गोल कर दिया। दूसरे हाफ की शुरुआत में भी भारत को एक पेनल्टी कॉर्नर मिला। 18वें मिनट में शमशेर ने गोल दाग दिया।

    नीलकांता ने 22वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर 3-0 कर दिया। इसके चार मिनट बाद गुरसाहिबजीत ने विवेक प्रसाद के असिस्ट पर बेहतरीन गोल किया। भारत को 27वें मिनट में एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला। इस पर मंदीप ने गोल करते हुए स्कोर 5-0 कर दिया। न्यूजीलैंड ने गोल के कई प्रयास किए, लेकिन भारतीय डिफेंडर्स ने उन्हें स्कोर नहीं करने दिया।

    और भी...

  • Ashes Series 2019: ऑस्ट्रेलिया टीम को लगा बड़ा झटका, तीसरे टेस्ट से स्टीव स्मिथ हुए बाहर

    Ashes Series 2019: ऑस्ट्रेलिया टीम को लगा बड़ा झटका, तीसरे टेस्ट से स्टीव स्मिथ हुए बाहर

     

    मेजबान इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही एशेज टेस्ट सीरीज के तीसरे मुकाबले से पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम को बड़ा झटका लगा है। कंगारू टीम के दिग्गज खिलाड़ी स्टीव स्मिथ हेडिंग्ले टेस्ट से बाहर हो गए हैं। स्टीव स्मिथ को लॉर्ड्स टेस्ट मैच में सिर में चोट लगी थी।  

    एशेज सीरीज के अब तक दो मुकाबले खेले जा चुके हैं। इसमें से एक टेस्ट मैच ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जीता, जबकि दूसरा टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया था। इस तरह कंगारू टीम पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से आगे चल रही है। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच लीड्स के हेडिंग्ले मैदान पर 22 अगस्त से 26 अगस्त के बीच खेला जाएगा।

    गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान और मौजूदा मिडिल ऑर्डर बैट्समैन स्टीव स्मिथ को लॉर्ड्स टेस्ट मैच के चौथे दिन इंग्लैंड के पेसर जोफ्रा आर्चर की एक खतरनाक बाउंसर का शिकार हुए थे। इसके बाद उनका कनकेशन टेस्ट हुआ जिसमें उनको दिक्कत पाई गई। इस तरह उनकी जगह दूसरी पारी में मार्नस लाबुशाने को मौका मिला, जिन्होंने टेस्ट मैच को ड्रॉ कराने में अहम भूमिका निभाई। 

    स्टीव स्मिथ के सिर के पीछे जब गेंद लगी थी तो वे जमीन पर गिर पड़े थे। बाद में मैदान में फीजियो आए और उन्हें मैदान से वापस ले जाया गया। उस समय स्टीव स्मिथ 80 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे। बाद में वे बल्लेबाजी करने के लिए आए भी लेकिन 92 रन के निजी स्कोर पर आउट हो गए। इससे पहले मैच की दोनों पारियों में स्टीव स्मिथ ने शतक जड़ा था।

    और भी...

  • BCCI ने श्रीसंत पर लगे आजीवन प्रतिबंध को घटाकर किया 7 साल, इस दिन खत्म होगा बैन

    BCCI ने श्रीसंत पर लगे आजीवन प्रतिबंध को घटाकर किया 7 साल, इस दिन खत्म होगा बैन

     

    BCCI ने 36 साल के क्रिकेटर एस. श्रीसंत पर लगे आजीवन प्रतिबंध को घटाकर 7 साल कर दिया है। अब 13 सितंबर 2020 को श्रीसंत पर लगा बैन खत्म होगा। BCCI लोकपाल की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि श्रीसंत पर लगे प्रतिबंध को घटाकर सात साल करने का फैसला किया गया है। बता दें कि 13 सितंबर 2013 को श्रीसंत पर आजीवन बैन लगाया था।

    इससे पहले मार्च 2019 को श्रीसंत पर सुप्रीम कोर्ट ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में आजीवन प्रतिबंध हटा दिया था। सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि बीसीसीआई के पास अनुशासनात्मक कार्रवाई का अधिकार है। कोर्ट ने बीसीसीआई से श्रीसंत को सुनवाई का मौका देने और 3 महीने में सजा तय का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि बीसीसीआई श्रीसंत पर अपने लगाए प्रतिबंध पर फिर से विचार करे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि लाइफटाइम बैन ज्यादा है।

    गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद श्रीसंत ने कहा था, मैं लिएंडर पेस को आदर्श मानता हूं। जब वो 45 साल की उम्र में ग्रैंड स्लैम खेल सकते हैं, नेहरा 38 साल की उम्र में वर्ल्ड कप खेल सकते हैं तो मैं क्यों नहीं..? मैं तो केवल 36 साल का हूं। मेरी ट्रेनिंग जारी है।

    जुलाई 2015 में श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला सहित स्पॉट फिक्सिंग मामले में सभी 36 आरोपरियों को पटियाला हाउस कोर्ट ने आपराधिक मामले से बरी कर दिया था। श्रीसंत ने 2005 में श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में वनडे मैच के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था। उन्होंने 2006 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट पदार्पण किया. श्रीसंत ने 27 टेस्ट में 37.59 की औसत से 87 विकेट, जबकि वनडे में 53 मैचों में 33.44 की औसत से 75 विकेट चटकाए।

    और भी...

  • फर्जी धमकी मिलने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम की सुरक्षा बढाई गई, PCB को आया था धमकी भरा मेल

    फर्जी धमकी मिलने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम की सुरक्षा बढाई गई, PCB को आया था धमकी भरा मेल

     

    वेस्टइंडीज दौरे पर सीरीज खेल रही भारतीय क्रिकेट टीम को फर्जी धमकी मिलने के बाद पूरी टीम की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। BCCI को फर्जी खबर मिली थी कि वेस्टइंडीज दौरे पर टीम को खतरा है। BCCI के सीनियर कार्यकारी ने कहा कि फर्जी धमकी मिलने की खबर मिली थी, लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं है। हालांकि इसके बावजूद भारतीय टीम को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराया गया है।

    उन्होंने कहा, यह एक फर्जी था और सभी चीजें सही है। भारतीय टीम को एक अतिरिक्त वाहन चालक मुहैया कराया गया है। साथ ही भारतीय उच्चायोग ने एहतियात के तौर पर एंटीगा सरकार को भी सूचित कर दिया है। इससे पहले, ऐसी खबरें आ रही थी कि टीम पर हमला होने की धमकी मिली है। यह धमकी सीधे भारतीय टीम को न मिलकर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को मिली है। खबरों के अनुसार, पीसीबी को एक धमकी भरा ईमेल मिला है, जिसमें भारतीय टीम के ऊपर हमला होने की आशंका जताई गई है।

    पीसीबी ने इस ईमेल को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद को भेजा है। बीसीसीआई ने इसकी सूचना गृह मंत्रालय को दे दी है। हालांकि, आईसीसी और वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने इस तरह की खबर को अफवाह बताया। वेस्टइंडीज दौरे पर भारतीय टीम तीन अगस्त को गई और तीन सिंतबर तक रहेगी। भारतीय टीम पहले ही टी-20 और वनडे सीरीज जीत चुकी है। दोनों टीमों के बीच 22 अगस्त से दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जाएगी. दूसरा टेस्ट मैच 30 अगस्त से शुरू होगा।

    और भी...

  • भारतीय कुश्ती संघ की बड़ी कार्रवाई, साक्षी मलिक समेत 25 पहलवान नेशनल कैंप से बाहर

    भारतीय कुश्ती संघ की बड़ी कार्रवाई, साक्षी मलिक समेत 25 पहलवान नेशनल कैंप से बाहर

     

    साक्षी मलिक समेत 25 पहलवानों को नेशनल कैंप से निकाल दिया गया है। भारतीय कुश्ती संघ ने महिला पहलवानों के खिलाफ पहली बार बड़ी कार्रवाई की है। मामला बिना बताए नेशनल कैंप से गायब रहने का है। कैंप से ओलंपिक गोल्डमेडलिस्ट साक्षी मलिक, किरण गोदारा, सीमा, रितु मलिक समेत 25 महिला पहलवानों को निष्कासित किया है।

    इसके साथ ही साक्षी, किरण और सीमा के वर्ल्ड चैंपियनशिप में खेलने पर खतरा भी मंडराने लगा है। तीनों को नोटिस जारी किया गया है। यदि इन्हें वर्ल्ड चैंपियनशिप से हटाया जाता है तो ट्रायल में दूसरे स्थान पर रहने वाली पहलवानों को मौका दिया जाएगा। वहीं अन्य पहलवानों पर ट्रायल में शामिल होने पर रोक लगा दी गई है।

    लखनऊ में 16 जुलाई से 24 अगस्त को सीनियर महिला पहलवानों का नेशनल कैंप शुरू हुआ था। इसमें 36 महिला पहलवानों को शामिल किया गया था। इस बीच 28 जुलाई को वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए छह भार वर्ग के ट्रायल करा दिए गए। ट्रायल होने के बाद अधिकतर महिला पहलवान कैंप से बिना बताए गायब हो गईं तो विदेश में खेलने गईं महिला पहलवान भी लौटने के बाद कैंप नहीं पहुंचीं। इस कारण ही भारतीय कुश्ती संघ ने बड़ी कार्रवाई की है।

    वहीं भारतीय कुश्ती संघ के जनरल सेक्रेटरी ने कहा कि इस समय ओलंपिक का सफर शुरू हो गया है और उसके बाद भी पहलवान इस तरह से लापरवाही करेंगी तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस कारण ही पहली बार यह बड़ी कार्रवाई की गई है। साक्षी, किरण व सीमा कोई संतुष्ट जवाब नहीं देतीं हैं तो उनको वर्ल्ड चैंपियनशिप से रोक दिया जाएगा।

    और भी...

  • रेसलर बजरंग पूनिया को मिलेगा इस साल का राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार

    रेसलर बजरंग पूनिया को मिलेगा इस साल का राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार

     

    कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीत चुके रेसलर बजरंग पूनिया को इस साल राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दिया जाएगा। यह अवॉर्ड खेलों में दिया जाने वाला भारत का सर्वोच्च सम्मान है। पिछले साल विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को यह अवॉर्ड मिला था। 12 सदस्यीय चयन समिति ने दो दिन की बैठक के पहले दिन शुक्रवार को बजरंग के नाम पर मुहर लगाई। चयन समिति में पूर्व फुटबॉलर बाईचुंग भूटिया और बॉक्सर मैरीकॉम शामिल हैं।

    ऐसा माना जा रहा है कि चयन समिति शनिवार को किसी अन्य खिलाड़ी के नाम भी घोषणा इस अवॉर्ड के लिए कर सकती है। अर्जुन अवॉर्ड और द्रोणाचार्य अवॉर्ड विजेताओं के नाम का भी चयन हो सकता है। भारतीय कुश्ती महासंघ ने अवॉर्ड के लिए बजरंग के साथ महिला रेसलर विनेश फोगाट के नाम की भी सिफारिश की थी।

    बजरंग ने न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कहा, ‘मेरे पास इस पुरस्कार के लिए उपलब्धियां थीं। मैंने हमेशा कहा है कि पुरस्कार सबसे योग्य लोगों को दिया जाना चाहिए। मैं बहुत खुश हूं कि मुझे खेल रत्न के लिए चुना गया। मैं देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि वर्ल्ड चैम्पियनशिप और टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीतकर आऊंगा।

    बजरंग ने पिछले साल जकार्ता में खेले गए एशियन गेम्स में 65 किलोग्राम भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था। 2014 इंचियोन एशियन गेम्स में उन्हें रजत पदक मिला था। पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। उससे पहले 2014 ग्लास्गो में रजत पदक जीते थे। बजरंग 2013 वर्ल्ड चैम्पियशिप में कांस्य और 2018 में रजत पदक जीते थे। एशियन चैम्पियनशिप में उनके नाम दो स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक हैं।

    और भी...

  • टीम इंडिया के हेड कोच बने रहेंगे रवि शास्त्री, 5 उम्मीदवारों को पछाड़ हासिल किया पद

    टीम इंडिया के हेड कोच बने रहेंगे रवि शास्त्री, 5 उम्मीदवारों को पछाड़ हासिल किया पद

     

    कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति ने शुक्रवार को टीम इंडिया के नए हेड कोच के नाम की घोषणा कर दी। वर्तमान हेड कोच रवि शास्त्री को एक बार फिर यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। शास्त्री का नया कार्यकाल 2021 टी20 विश्व कप तक रहेगा। बीसीसीआई के मुंबई स्थित हेडक्वार्टर में सीएसी के अध्यक्ष कपिल देव और अन्य सदस्यों, पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड तथा शांथा रंगासामी ने शॉर्ट लिस्ट किए गए सभी 6 उम्मीदवारों का साक्षात्कार लेने के बाद रवि शास्त्री के नाम पर मुहर लगाई। इंटरव्यू देने वाले उम्मीदवारों में रवि शास्त्री के अलावा रॉबिन सिंह, लालचंद राजपूत, माइक हेसन, टॉम मूडी और फिल सिमंस शामिल थे।

    टीम इंडिया के हेड कोच पद के लिए बीसीसीआई ने जो पैमाना निर्धारित किया था उसके मुताबिक आवेदन करने वाले उम्मीवार को कम से कम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 30 टेस्ट और 50 वनडे मैचों का अनुभव होना जरूरी था। लेकिन माइक हेसन के मामले में इस नियम को नजरंदाज किया गया। हेसन ने कभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला है, लेकिन उन्होंने न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम को अपनी कोचिंग में कई अहम सफलताएं दिलाईं। इस बारे में बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि हेड कोच पद के लिए निर्धारित पैमाने को इसलिए नजरअंदाज किया गया क्योंकि हमने कोचिंग अनुभव को ज्यादा तरजीह दी।

    रवि शास्त्री ने भारत के लिए 80 टेस्ट और 150 वनडे खेले हैंं। इसके अलावा वह पिछले तीन वर्षों से टीम इंडिया के हेड कोच हैं। इसके पहले भी वह करीब दो वर्षों तक टीम इंडिया के डायरेक्टर के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। रवि शास्त्री की निगरानी में भारतीय टीम को आईसीसी टूर्नामेंट्स के नॉक आउट मुकाबलों में कई बार हार का सामना करना पड़ा। जिसमें 2017 के आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान के हाथों हार, 2016 के टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में वेस्ट इंडीज के हाथों हार और 2019 के वनडे विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार प्रमुख हैं। लेकिन उनकी निगरानी में ही भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का कारनामा किया। इसके अलावा कप्तान विराट कोहली ने भी रवि शास्त्री को कोच बनाए रखने का पुरजोर समर्थन किया था।

     

    और भी...

  • PCB ने मिस्बाह उल हक को दी नई जिम्मेदारी, टीम के लिए तैयार करेंगे ट्रेनिंग प्रोग्राम

    PCB ने मिस्बाह उल हक को दी नई जिम्मेदारी, टीम के लिए तैयार करेंगे ट्रेनिंग प्रोग्राम

     

    पाकिस्तान के सबसे सफल टेस्ट कप्तान मिस्बाह उल हक को बोर्ड ने अहम जिम्मेदारी दी है। मिस्बाह उल हक को पाकिस्तान क्रिकेट टीम के 17 दिनों के शिविर के लिए कैम्प कमांडेंट बनाया गया है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कहा, सीजन से पहले यह शिविर आने वाले घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय लेवल पर होने वाले टूर्नामेंट्स की चुनौती की तैयारी के लिए आयोजित किया गया है।

    पाकिस्तान का घरेलू सीजन 12 सितंबर से कैद-ए-आजम ट्रॉफी से शुरू होगा। इस शिविर के लिए 14 केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ी और छह अतिरिक्त खिलाड़ी बुलाए गए हैं जो लाहौर स्थित राष्ट्रीय खेल अकादमी में 19 अगस्त को पहुंचेगे। दो दिन के फिटनेस टेस्ट के बाद शिविर 22 अगस्त से शुरू होगा और सात सितंबर तक चलेगा।

    मिस्बाह इस शिविर का ट्रेनिंग प्रोग्राम बनाएंगे। पीसीबी ने फैसला किया है कि वह कोच मिकी आर्थर और पूरे कोचिंग स्टाफ का कार्यकाल नहीं बढ़ाएगी। पीसीबी के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट निदेशक जकीर खान ने कहा, पाकिस्तान के सबसे सफल कप्तान मिस्बाह उल हक इन दिनों में हर प्रारूप की जरूरतों को समझते हैं। टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत के कारण पीसीबी चाहती है कि पाकिस्तान दो मैचों की टेस्ट सीरीज में श्रीलंका के सामने अपनी सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम के साथ उतरे।

    और भी...

  • भारत ने वेस्टइंडीज को डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर 6 विकेट से हराया, सीरीज जीती

    भारत ने वेस्टइंडीज को डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर 6 विकेट से हराया, सीरीज जीती

     

    भारत ने बुधवार को त्रिनिदाद में खेले गए तीसरे वनडे में डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर वेस्टइंडीज को 6 विकेट से हराया। इस जीत के साथ ही उसने तीन वनडे की सीरीज को 2-0 से अपने नाम कर ली। भारतीय टीम वेस्टइंडीज में लगातार चौथी सीरीज जीती।

    वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 35 ओवर में 7 विकेट पर 240 रन बनाए। डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर भारत को 255 रन का लक्ष्य मिला। बारिश के कारण मैच को 35 ओवर का किया गया था। भारत ने 32.3 ओवर में 4 विकेट पर 256 रन बना लिए। कप्तान विराट कोहली ने लगातार दूसरे मैच में शतक लगाते हुए 114 रन बनाए। यह उनके करियर का 43वां शतक है। श्रेयस अय्यर ने लगातार दूसरे मैच में अर्धशतक लगाते हुए 65 रन की पारी खेली। कोहली को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज अवॉर्ड मिला।

    सीरीज का पहला मैच गुयाना में बारिश के कारण रद्द हो गया था। दूसरे मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर 59 रन हराया था। वेस्टइंडीज के लिए क्रिस गेल ने 41 गेंद पर 72 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में 8 चौके और 5 छक्के लगाए। इविन लुईस ने 43 रन का योगदान दिया। गेल-लुईस ने 10.5 ओवर में 115 रन की साझेदारी की। गेल ने करियर का 54वां अर्धशतक लगाया। भारत के लिए खलील अहमद ने तीन और मोहम्मद शमी ने दो विकेट लिए।

    और भी...