खेल

  • 2050 में ऐसे दिखेगी भारतीय क्रिकेट टीम, देखकर आप भी चौक जाएंगे

    2050 में ऐसे दिखेगी भारतीय क्रिकेट टीम, देखकर आप भी चौक जाएंगे

     

    वर्ल्ड कप 2019 खत्म हो चुका है और भारतीय टीम भी अब जहां वेस्टइंडीड दौरे की तैयारी कर रही है तो वहीं कुछ सीनियर खिलाड़ियों को इस दौरान आराम दिया जा रहा है। भारतीय टीम को इस दौरान करारा झटका लगा था जब टीम सेमीफाइनल में हार गई। इसके बाद इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच फाइनल मुकाबला खेला गया और इंग्लैंड ने 27 बाद इतिहास रचते हुए सुपर ओवर में वर्ल्ड कप पर कब्जा कर लिया।

    लेकिन इन सबसे अलग फिलहाल पूरी दुनिया में एक ऐसा एप वायरल हो रहा है जो लोगों को जवान से बूढ़ा बना दे रहा है। जी हां इस एप का नाम फेस एप है। इसमें कई ऐसे फीचर्स हैं जिससे लोग एक ही क्लिक में 30 साल आगे चले जा रहे हैं। इसी को देखते हुए जहां कई सेलेब्रिट्री के फोटो वायरल हो रहे हैं तो वहीं कई स्पोर्ट्स स्टार भी अब अपने आप को ट्राई करने लगे हैं।

    लेकिन अब भारतीय टीम के सभी क्रिकेटर्स की एक फोटो वायरल हो रही है जिसमें फेस एप की मदद से उन्हे बूढ़ा बना दिया गया है। इस लिस्ट में धोनी, कोहली, चहल, रोहित शर्मा और दूसरे खिलाड़ी शामिल हैं. ये फोटो अब सब जगह वायरल हो रही है जहां लोग इसे शेयर कर इसके मीम बना रहे हैं तो वहीं कई लोग इसे 2050 के सदी वाली भारतीय टीम बता रहे हैं।

    और भी...

  • BCCI ने टीम इंडिया के कोच और सहयोगी स्टाफ पद के लिए मांगे आवेदन, शास्त्री का नहीं बढ़ेगा कार्यकाल

    BCCI ने टीम इंडिया के कोच और सहयोगी स्टाफ पद के लिए मांगे आवेदन, शास्त्री का नहीं बढ़ेगा कार्यकाल

     

    BCCI ने टीम इंडिया के मुख्य कोच और सहयोगी स्टाफ पद के लिए आवेदन मांगे हैं। मौजूदा कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल वर्ल्ड कप के बाद समाप्त हो चुका है, लेकिन वेस्टइंडीज दौरे को देखते हुए इसे 45 दिन के लिए बढ़ाया गया था। अब शास्त्री को भी फिर से आवेदन करना होगा। मुख्य कोच के अलावा बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच के लिए भी एप्लीकेशन मंगवाई गई हैं।

    टीम इंडिया का वेस्टइंडीज दौरा 3 अगस्त से 3 सितंबर तक है। इसके बाद गेंदबाजी कोच भरत अरुण, बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ और फील्डिंग कोच आर. श्रीधर का भी कार्यकाल खत्म हो जाएगा। ये सभी फिर से आवेदन कर सकते हैं। दूसरी ओर टीम इंडिया के ट्रेनर शंकर बसु और फीजियो पैट्रिक फरहार्ट वर्ल्ड कप के बाद अपना पद छोड़ चुके हैं। उनकी जगह नए ट्रेनर और फीजियो का भी चयन होना है।

    भारतीय टीम वेस्टइंडीज दौरे के बाद घरेलू सीरीज में 15 सितंबर से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलेगी। इससे पहले नए कोच और सहयोगी स्टाफ का चयन होने की उम्मीद है। शास्त्री 2017 में अनिल कुंबले की जगह कोच बने थे। BCCI में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त की गई कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (COA) टीम के विश्व कप में प्रदर्शन की समीक्षा करेगी। टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री के देश लौटने पर समीक्षा के साथ-साथ इस बड़े टूर्नामेंट के लिए टीम के सेलेक्शन को लेकर भी बातचीत होगी।

    और भी...

  • Cricket world cup 2023 : पहली बार अकेले मेजबानी करेगा भारत, इस दिन होगा फाइनल मैच

    Cricket world cup 2023 : पहली बार अकेले मेजबानी करेगा भारत, इस दिन होगा फाइनल मैच

     

    वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल मुकाबले में जैसा रोमांच देखने को मिला, उसका इंतजार हर क्रिकेट फैन को होता है। 2019 विश्व कप का नया विजेता इंग्लैंड बना और 44 साल के विश्व कप इतिहास में पहली बार ये कप जीता। अब बात करते है अगले विश्व कप की जो कि 2023 में होगा। 2023 का विश्व कप भारत में होगा और ये पहली बार होगा कि विश्व कप भारत अकेला होस्ट करेगा।

    इससे पहले भी भारत ने विश्व कप की मेजबानी की है लेकिन तब भारत ने अकेले मेजबानी ना कर के सह-मेजबानी की थी। 1987, 1996 और 2011 में भारत ने श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ वर्ल्ड कप की सह-मेजबानी की थी। लेकिन बाद में अधिकारियों ने सह-मेजबानी से पाकिस्तान को हटा दिया गया था। यह फैसला 2009 में लाहौर के लिबर्टी चौक पर श्रीलंकाई टीम की बस पर एक हमले के बाद लिया गया था।

    2023 के विश्व कप का आगाज 9 फरवरी से होगा और फाइनल मुकाबला 26 मार्च को खेला जाएगा। सबसे ज्यादा मेजबानी की बात की जाए तो अब तक इस बार के विश्व विजेता इंग्लैंड 5 बार विश्व कप की मेजबानी कर चुका है। इंग्लैंड ने 1975, 1979, 1983, 1999 और 2019 में मेजबानी की है। इंग्लैंड ने 1975 और 1979 में अकेले टूर्नामेंट की मेजबानी की हैं, जबकि 1983, 1999 और 2019 में आयरलैंड, नीदरलैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स के साथ संयुक्त रूप से मेजबानी की है।

    और भी...

  • wimbledon 2019: मैराथन मुकाबले में फेडरर को हराकर लगातार दूसरी बार चैंपियन बने जोकोविच

    wimbledon 2019: मैराथन मुकाबले में फेडरर को हराकर लगातार दूसरी बार चैंपियन बने जोकोविच

     

    वर्ल्ड के नंबर-1 सर्बियाई स्टार नोवाक जोकोविच ने विंबलडन का खिताब जीत लिया है। रविवार को फाइनल में उन्होंने स्विस दिग्गज रोजर फेडरर को 5 सेटों तक चली मैराथन टक्कर में 7(7)-6(5), 1-6, 7(7)-6(4), 4-6, 13(7)-12(3) से मात दी। जोकोविच ने लगातार दूसरे साल विंबलडन सिंगल्स का खिताब जीता।

    जोकोविच के खाते में अब 5 विंबलडन टाइटल आ चुके हैं। साथ ही जोकोविच का यह 16वां ग्रैंड स्लैम सिंगल्स खिताब है। इसके साथ ही 21वें ग्रैंड स्लैम पर कब्जा कर अपने ही रिकॉर्ड को और पुख्ता करने का मौका 37 साल के फेडरर के हाथ से निकल गया। वह 9वां विंबलडन टाइटल हासिल करने से चूक गए।

    वर्ल्ड नंबर-3 फेडरर के खिलाफ पांचवीं बार किसी ग्रैंड स्लैम फाइनल में उतरे 32 साल के जोकोविच को जीत हासिल करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। इस मुकाबले को देखकर ऐसा लग रहा था कि दोनों प्रतिद्वंद्वी एक-दूसरे से हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं। विंबलडन की हरी घास पर यह मुकाबला 4 घंटे 55 मिनट तक चला।

    और भी...

  • WORLD CUP 2019: ‘SUPER OVER’ के रोमांचक मुकाबले से इंग्लैंड बना नया विश्व विजेता

    WORLD CUP 2019: ‘SUPER OVER’ के रोमांचक मुकाबले से इंग्लैंड बना नया विश्व विजेता

     

    इंग्लैंड क्रिकेट टीम का विश्व विजेता बनने का सपना आखिरकार लॉडर्स मैदान पर 44 साल बाद पूरा हो गया। इंग्लैंड आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 के फाइनल में न्यूजीलैंड को सुपर ओवर से मात दे पहली बार विश्व विजेता बना है। विश्व कप का ये मैच हर मायने में ऐतिहासिक रहा। इंग्लैंड को जीतने के लिए न्यूजीलैंड से 242 रनों की चुनौती मिली थी, लेकिन बेन स्टोक्स की नाबाद 84 और जोस बटलर की 59 रनों की पारियों के बाद भी इंग्लैंड 50 ओवरों में 241 रनों पर ऑल आउट हो गई और दोनों टीमों का स्कोर टाई रहा।

    फिर मैच सुपर ओवर में गया। यह वर्ल्ड कप का पहला फाइनल था जो सुपर ओवर में गया और यहीं मैच का असल रोमांच और नाटक शुरू हुआ। इंग्लैंड ने सुपर ओवर में 15 रन बनाए और कीवी टीम के सामने 16 रनों का लक्ष्य रखा। सुपर ओवर में न्यूजीलैंड जीतती दिख रही थी। उसे आखिरी गेंद पर दो रन चाहिए थे लेकिन बना एक रन और स्कोर बराबर हो गया। ऐसे में इंग्लैंड को इस मैच में न्यूजीलैंड से ज्यादा बाउंड्रीज लगाने के कारण जीत मिली। कीवी टीम दूसरी बार फाइनल में पहुंची थी। 2015 में आस्ट्रेलिया ने उसके वर्ल्ड कप विजेता बनने के सपने को तोड़ा था तो आज मेजबान इंग्लैंड ने उसकी मेहनत पर पानी फेर दिया।

    इंग्लैंड चौथी बार फाइनल में पहुंची थी और इस बार विश्व ट्रॉफी उठाने में सफल रही। इससे पहले वो 1979, 1987 और 1992 में फाइनल में पहुंचने के बाद भी विश्व विजेता नहीं बन पाई थी। इंग्लैंड ने लक्ष्य का पीछा करते हुए अपने चार विकेट महज 86 रनों पर ही खो दिए थे। लगा कीवी टीम जीत जाएगी, लेकिन इंग्लैंड के इस मैच के असल हीरो मैन ऑफ द मैच स्टोक्स और जोस बटलर ने पांचवें विकेट के लिए 110 रनों की साझेदारी कर इंग्लैंड को मैच में ला दिया। आखिरी ओवर में इंग्लैंड को 15 रन चाहिए थे। दो गेंद खाली गईं और फिर स्टोक्स के बल्ले से छक्का निकला। अगली गेंद पर स्टोक्स ने दो रन लिए और दूसरा रन लेते हुए मार्टिन गुप्टिल की थ्रो स्टोक्स से टकरा पर चौके को चली गई और इंग्लैंड को छह रन मिले। आखिरी गेंद पर इंग्लैंड को जीतने के लिए दो रनों की जरूरत थी। ट्रेंट बाउल्ट की गेंद को स्टोक्स ने लोंग ऑन पर खेल दो रन लेना चाहे लेकिन दूसरा रन लेते हुए मार्क वुड रन आउट हो गए और मैच सुपर ओवर में चला गया। जहां भी स्कोर टाई रहा लेकिन ज्यादा बाउंड्रीज ने इंग्लैंड को अपना पहला खिताब दिला दिया।

    इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड के लिए हेनरी निकोलस ने 55 और टॉम लाथम ने 47 रन बनाए। इंग्लैंड के लिए क्रिस वोक्स और लियाम प्लंकट ने तीन-तीन विकेट अपने नाम किए। इंग्लैंड की बेहतरीन गेंदबाजी के सामने कीवी टीम के बल्लेबाज सस्ते में आउट होते चले गए और टीम 50 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 241 रन ही बना सकी।

     

     

     

     

     

    और भी...

  • अफगान क्रिकेट बोर्ड का फैसला, राशिद खान होंगे क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के कप्तान

    अफगान क्रिकेट बोर्ड का फैसला, राशिद खान होंगे क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के कप्तान

     

    इंग्लैंड में खेल जा रहे विश्व कप में अफगान टीम ने बेहद ही निराशाजनक प्रदर्शन किया और अपने सभी 9 मैचों में हार का सामना करना पड़ा। अफगान टीम के इस खराब प्रदर्शन को देखते हुए क्रिकेट बोर्ड ने बड़ा फैसला लिया है। अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने स्टार स्पिनर राशिद खान को टेस्ट, वनडे और टा-20 का कप्तान नियुक्त कर दिया है। इसके साथ ही पूर्व कप्तान असगर अफगान को तीनों फॉर्मेंट में उपकप्तान नियुक्त किया गया है।

    वर्ल्ड कप से ठीक पहले भी अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान को लेकर बड़ा विवाद देखने को मिला था। इस समय बोर्ड ने असगर अफगान को कप्तानी से हटाकर गुलबदीन नईब को टीम का नया कप्तान बना दिया था। नईब को टीम का कप्तान बनाए जाने को लेकर काफी विवाद भी देखने को मिला था।

    हालांकि वर्ल्ड कप से ठीक पहले अफगानिस्तान को कप्तान बदलना महंगा पड़ा, क्योंकि नईब की अगुवाई में अफगानिस्तान वर्ल्ड कप में एक भी मुकाबला नहीं जीत पाई और उसे प्वाइंट्स टेबल में आखिरी पायदान पर रहना पड़ा। इसके अलावा वर्ल्ड कप में मोहम्मद शहजाद के टीम से बाहर होने पर भी काफी विवाद देखने को मिला था। वर्ल्ड कप में नईब का प्रदर्शन भी निराशाजनक रहा था। बल्ले से नईब सिर्फ 194 रन तो गेंदबाजी में 9 विकेट लिए थे।

    और भी...

  • wimbledon 2019: रोजर फेडरर नडाल को हराकर पहुंचे फाइनल में, जोकोविच से होगा खिताबी मुकाबला

    wimbledon 2019: रोजर फेडरर नडाल को हराकर पहुंचे फाइनल में, जोकोविच से होगा खिताबी मुकाबला

     

    स्टार टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर ने सेमीफाइनल मुकाबले में दिग्गज राफेल नडाल को 7-6 (3), 1-6, 6-3, 6-4 से हराकर विंबलडन के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। दोनों के बीच आखिरी सेट में एक-एक प्वाइंट के लिए कड़ा मुकाबला हुआ। फेडरर 12वीं बार विंबलडन के फाइनल में पहुंचे हैं। विंबलडन में फेडरर का यह 13वां और नडाल का 9वां सेमीफाइनल मुकाबला था। अब फाइनल में उनका मुकाबला दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नोवाक जोकोविच से होगा।

    वहीं, दूसरे सेमीफाइनल में जोकोविच ने 4 सेट तक चले कड़े मुकाबले में रॉबर्टो बातिस्ता आगुट को 6-2, 4-6, 6-3, 6-2 से हराया। जोकोविच छठी बार विंबलडन टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे हैं। जोकोविच 25वीं बार किसी ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में खेलेंगे। वह अब तक 15 बार खिताब जीतने में सफल रहे हैं।

    बता दे 2008 विंबलडन के फाइनल में नडाल ने फेडरर को हराकर खिताब जीता था। फेडरर और नडाल 11 साल पहले जब यहां आमने सामने खेले थे तो विंबलडन इतिहास का सबसे लंबा मैच खेला था। 4 घंटे 48 मिनट तक चले पांच सेट के मुकाबले में नडाल ने फेडरर को 6-4, 6-4, 6-7, 6-7, 9-7 से हराकर पहला विंबलडन जीता था। नडाल ने फेडरर का लगातार छठी विंबलडन ट्रॉफी जीतने का सपना तोड़ने के साथ ही ग्रास कोर्ट पर 65 मैचों से चला आ रहा अजेय रथ भी रोक दिया था।

    विंबलडन 2019 का सेमीफाइनल मुकाबले जीतने के बाद फेडरर ने कहा कि मैं थक गया हूं। यह मुश्किल मैच था। मैच में बने रहने के लिए नडाल ने बेहरीन शॉट्स खेले। मेरे पास स्पेल थे, जिसे मैं बहुत अच्छी तरह से सर्व कर रहा था। शायद इससे मैच में सबसे ज्यादा प्वाइंट्स मेरे खाते में आते गए। नोवाक ने बॉतिस्टा अगुट के खिलाफ शानदार खेल दिखाया। वह संयोग से नंबर 1 नहीं हैं। मैं उनके साथ खिताबी भिड़ंत के लिए उत्साहित हूं।

    और भी...

  • WORLD CUP 2019: रवि शास्त्री ने बताया, आखिर क्यों धोनी को बल्लेबाजी के लिए नंबर 7 पर भेजा

    WORLD CUP 2019: रवि शास्त्री ने बताया, आखिर क्यों धोनी को बल्लेबाजी के लिए नंबर 7 पर भेजा

     

    विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूज़ीलैंड के हाथों 18 रनों से हार के साथ भारतीय टीम का विश्व विजय होने का सपना टूट गया है। मैच के दौरान और मैच के बाद भी हर कोई यहीं सवाल उठा रहा था कि आखिर टीम इंडिया ने मुश्किल परिस्थिति में धोनी को बल्लेबाजी में नंबर 7 पर क्यो भेजा? अब इस पूरे मसले पर टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने बताया है कि धोनी को नीचे भेजने का फैसला टीम का था।

    रवि शास्त्री ने कहा, ये टीम का फैसला था, सभी इस फैसले के साथ थे और ये साधारण सा फैसला था। आप लोग ये चाहते थे कि धोनी जल्दी बल्लेबाज़ी के लिए आएं और फिर अगर वो जल्दी आउट हो जाते तो फिर लक्ष्य हासिल करना की जो चेज़ थी वो पहले ही खत्म हो जाती। हमें आखिर में उनके अनुभव की ज़रूरत थी। वो टीम के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर हैं और अगर हम उनका इस तरह से इस्तेमाल नहीं करते तो फिर ये पाप होता। पूरी टीम इस बारे में स्पष्ट थी।

    इतना ही नहीं इसके अलावा उन्होंने रिषभ पंत के ऊपर बल्लेबाज़ी का भी बचाव किया। रवि शास्त्री ने कहा, पंत जब बल्लेबाज़ी के लिए गए तो वो अच्छी तरह खेल रहे थे। लेकिन टीम ने जिस तरह से विकेटों के गिरने के बाद भी फाइट दिखाई मैं उससे खुश हूं। इसके अलावा रवि शास्त्री ने टीम के सभी खिलाड़ियों से हार के बाद कहा कि खुद पर गर्व करो और बाहर उठे हुए सिर के साथ जाओ। वो खराब 30 मिनट आपसे ये सच नहीं छीन सकते कि पिछले कुछ सालों में तुम एक सर्वश्रेष्ठ टीम हो। ये बात तुम सभी लोग जानते हैं। कोई एक टूर्नामेंट, एक सीरीज़ और 30 मिनट का खेल ये तय नहीं कर सकता। तुम लोगों ने ये इज्ज़त कमाई है। बिल्कुल हम सभी इससे दुखी और निराश हैं। लेकिन आखिर आपको उस पर गर्व करना चाहिए जो आपने पिछले 2 सालों में कमाया है।

     

    और भी...

  • WORLD CUP 2019: इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को सेमीफाइनल में 8 विकेट से हराया, मिलेगा नया विश्व विजेता

    WORLD CUP 2019: इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को सेमीफाइनल में 8 विकेट से हराया, मिलेगा नया विश्व विजेता

     

    आईसीसी वर्ल्ड कप मुकाबले में एजबेस्टन मैदान पर खेले गए दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 8 विकेट से हराकर इंग्लैंड वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंच गया है. 1992 के बाद पहली बार है जब इंग्लैंड की टीम वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची है।

    इंग्लैंड की धमाकेदार शुरुआत हुई और 18वें ओवर में पहला झटका लगा। सलामी बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टो मिचेल स्टार्क की गेंद का शिकार हुए. उनके बाद 20वें ओवर में जेसन रॉय अंपायर के गलत फैसले का शिकार हुए और 85 रन पर पवेलियन लौटना पड़ा। गेंद उनके बल्ले नहीं लगी थी लेकिन अंपायर के आउट देने के बाद उन्हें लौटना पड़ा।

    ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की और 48 ओवर में 223 रन पर ऑल आउट हो गई। स्मिथ ने 119 गेंदों पर 85 और एलेक्स कैरी ने 70 गेंदों पर 46 रन बनाए। इंग्लैंड के लिए क्रिस वोक्स और आदिल राशिद ने 3-3 और जोफ्रा आर्चर ने 2 विकेट लिए। ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट 4 रन के स्कोर पर गिरा। कप्तान फिंच बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए। उन्हें जोफ्रा आर्चर ने चलता किया। उनके बाद डेविड वॉर्नर और पीटर हैंड्सकॉम्ब आउट हुए। इन दोनों बल्लेबाजों को क्रिस वोक्स ने पवेलियन का रास्ता दिखाया।

    अब इंग्लैंड का फाइनल मैच में न्यूजीलैंड से मुकाबला होगा और क्रिकेट को नया विश्व विजेता मिलेगा। क्योकि अब तक दोनों ही टीमों में कोई भी टीम आज तक विश्व कप का खिताब नहीं जीत पायी है।

    और भी...

  • WORLD CUP 2019: हार के बाद धोनी पर दिया कोहली ने बड़ा बयान

    WORLD CUP 2019: हार के बाद धोनी पर दिया कोहली ने बड़ा बयान

     

    आईसीसी विश्व कप-2019 में भारतीय टीम का सफर सेमीफाइनल में खत्म हो गया है। उसे दो दिन तक चले इस रोमांचक सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड के हाथों 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा। इसी के साथ न्यूजीलैंड लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंची है। उसने 2015 विश्व कप में भी फाइनल खेला था।

    फाइनल में न्यूजीलैंड का सामना आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच गुरुवार को खेले जाने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच की विजेता से होगा। वहीं भारत लगातार दूसरी बार सेमीफाइनल में हार कर विश्व कप से बाहर हुई है। 2015 में आस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में भारत को हराया था।

    लेकिन मैच में हार के बाद धोनी को लेकर विराट से सवाल किए गए। जिस पर विराट ने सभी सवालों के जवाब दिए। हार के बाद एमएस धोनी को बल्लेबाज़ी में नीचे भेजने के सवाल पर विराट कोहली ने कहा कि धोनी को निचले क्रम में बल्लेबाज़ी की जिम्मेदारी दी गई थी। उन्हें शुरुआती कुछ मैचों के बाद ये जिम्मेदारी दी गई थी, जिससे की अगर ऐसी जगह पर मैच फंसे तो फिर वो जाकर अच्छे रन कर सके। उन्हें टीम में नंबर 7 पर बल्लेबाज़ी करने का रोल दिया गया था। साथ ही धोनी के भविष्य के प्लान और संन्यास के सवाल पर विराट कोहली ने कहा कि धोनी के भविष्य के बारे में उन्होंने अभी कुछ नहीं कहा है।

    और भी...

  • WORLD CUP 2019: सेमीफाइनल में भारत की 18 रन से हार, न्यूजीलैंड पहुंचा फाइनल में

    WORLD CUP 2019: सेमीफाइनल में भारत की 18 रन से हार, न्यूजीलैंड पहुंचा फाइनल में

     

    भारतीय टीम का चौथी बार आईसीसी क्रिकेट विश्वकप के फाइनल में पहुंचने का सपना आज टूट गया। न्यूजीलैंड ने भारत को कड़े मुकाबले में हराकर आईसीसी विश्व कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। उसने 2 दिन तक चले इस मुकाबले को 18 रन से जीता। इसके साथ ही भारत का विश्व कप से सफर खत्म हो गया। भारत ने इस विश्व कप के लीग राउंड में सबसे अधिक अंकों के साथ सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। लेकिन सेमीफाइनल में वह अपनी लय कायम नहीं रख सका। भारत लगातार दूसरे विश्व कप में सेमीफाइनल में हारा है। दूसरी ओर, न्यूजीलैंड ने लगातार दूसरी बार विश्व कप के फाइनल में प्रवेश किया है।

    न्यूजीलैंड ने विश्व कप के इस पहले सेमीफाइनल में 8 विकेट पर 239 रन का स्कोर बनाया। भारत के टॉपऑर्डर के बल्लेबाजों ने इस स्कोर के जवाब में बुरी तरह समर्पण कर दिया। भारत के पहले तीन बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल और विराट कोहली महज 1-1 रन बनाकर आउट हो गए।

    दिनेश कार्तिक भी सिर्फ 6 रन बना सके। वहीं बाद में हार्दिक और पंत ने पारी को संभालने की कोशिश की, लेकिन पंत और हार्दिक 32-32 रन बनाकर आउट हो गए। बाद में धोनी और जड़ेजा ने पारी को संभाला और मैच में रविंद्र जड़ेजा ने शानदार अर्धशतक बनाया। जड़ेजा बड़ा शॉट मारने के चक्कर में आउट हो गए। आखिर में भारत की उम्मीद धोनी थे लेकिन वो मार्टिन गुप्टिल के सीधे थ्रो से रन आउट हो गए। भारतीय टीम इन सबकी कोशिशों के बावजूद 49.3 ओवर में 221 रन बनाकर ऑलआउट हो गई।

     

    और भी...

  • वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में 100 मीटर में गोल्ड मेडल जीतकर दुती चंद ने रचा इतिहास

    वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में 100 मीटर में गोल्ड मेडल जीतकर दुती चंद ने रचा इतिहास

     

    भारत की शीर्ष महिला धाविका दुती चंद ने इटली में चल रहे वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में गोल्ड मेडल जीत इतिहास रच दिया है। दुती ने 30वें समर यूनिवर्सिटी गेम्स में 100 मीटर कॉम्पिटिशन का गोल्ड मेडल अपने नाम किया है। दुती की इस शानदार जीत पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें जीत की बधाई दी है। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर दुती को इस जीत पर बधाई दी है।

    खेल मंत्री किरन रिजिजू ने भी दुती को बधाई दी। रिजिजू ने रेस का एक वीडियो भी अपने हैंडल से शेयर किया। दुती चंद ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 11.32 सेकंड का समय निकाला।स्विट्जरलैंड की डेल पोंट (11.33 सेकंड) दूसरे और जर्मनी की क्वायाई (11.39 सेकंड) तीसरे स्थान पर रहीं। दुती ने 30वें समर यूनिवर्सिटी गेम्स में 100 मीटर कॉम्पिटिशन का गोल्ड मेडल अपने नाम किया है।

    11.24 सेकंड का राष्ट्रीय रिकॉर्ड रखने वाली दुती किसी वैश्विक इवेंट की 100 मीटर रेस में गोल्ड जीतने वाली पहली महिला बन गईं। खेल के इस संस्करण में भारत के लिए यह पहला गोल्ड मेडल है। इससे पहले यूनिवर्सिटी गेम्स के इतिहास में किसी भी भारतीय खिलाड़ी ने 100 मीटर स्पर्धा के फाइनल में भी जगह नहीं बनाई थी।

    और भी...

  • WORLD CUP2019: भारत और न्यूजीलैंड सेमीफाइनल मैच में बारिश का दखल, अब आगे क्या हो सकता है?

    WORLD CUP2019: भारत और न्यूजीलैंड सेमीफाइनल मैच में बारिश का दखल, अब आगे क्या हो सकता है?

     

    ओल्ड ट्रेफर्ड मैदान पर मंगलवार को भारत और न्यूजीलैंड के बीच जारी आईसीसी विश्व कप-2019 के पहले सेमीफाइनल मैच का खेल बारिश के कारण रोक दिया गया है। मैच में जब बारिश आई तब न्यूजीलैंड का स्कोर 46.1 ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 211 था। रॉस टेलर 67 रन और टॉम लाथम तीन रन बनाकर खेल रहे हैं। न्यूजीलैंड ने इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था।

    लेकिन जिस वक्त मैच में बारिश ने खलल डाला वो वक्त टीम इंडिया के लिहाज़ से बेहद खराब रहा, क्योंकि टीम इंडिया शानदार तरीके से मुकाबले में बनी हुई है और उसने न्यूज़ीलैंड के बल्लेबाज़ों पर लगाम कस रखी थी। लेकिन फिर बारिश हुई और भारत के नज़रिये से चीज़ें बिगड़ गई। हालांकि अब फैंस के मन में ये सवाल है कि अगर आज बारिश रुकती है तो अब कितने ओवर का मैच होगा, और अगर आज बारिश नहीं रुकी तो फिर मैच का क्या होगा, साथ ही अगर आज भारत खेलने उतरे और लक्ष्य चेज़ ना कर पाए और बारिश आ जाए तो फिर क्या होगा।

    देखिए अब मैच होने पर क्या होगा, अगर यहां से न्यूज़ीलैंड की टीम बल्लेबाज़ी ना कर पाए और मैच में डकवर्थ लुइस नियन लगाया जाए तो फिर भारत के सामने कितने ओवर में स्कोर क्या होगा। अगर टीम इंडिया 46 ओवर खेलती है तो फिर स्कोर 237 रन होगा। वहीं अगर हमें 40 ओवर में टार्गेट मिलता है तो वो 223 रन होगा। जबकि अगर मैच इससे भी कम 35 ओवर तक जाता है तो टार्गेट 209 रन होगा। लेकिन अगर इससे भी कम 30 ओवर का मैच हो पाया तो फिर टीम इंडिया को 192 रन बनाने होंगे।  इससे भी कम 25 ओवर की स्थिति में टीम इंडिया के सामने टार्गेट 172 रन का होगा। अगर मैच इससे भी कम ओवर यानि 20 ओवर का होता है तो टीम इंडिया को 148 रन बनाने होंगे।

    लेकिन अगर बारिश इसके बाद भी नहीं मानी तो फिर मैच अगले दिल जाएगा। लेकिन अगर कल भी बारिश की वजह से मैच संभव नहीं हो पाया तो फिर टीम इंडिया पॉइंट्स टेबल में अधिक पॉइंट्स के हिसाब से फाइनल में पहुंच जाएगी।

     

    और भी...

  • पाक क्रिकेटर शोएब मलिक ने लिया ODI क्रिकेट से संन्यास, लेकिन टी-20 में खेलते रहेंगे

    पाक क्रिकेटर शोएब मलिक ने लिया ODI क्रिकेट से संन्यास, लेकिन टी-20 में खेलते रहेंगे

     

    जब भी विश्व कप आता है तो उसमें कई खिलाड़ी अपना आखिरी विश्व कप खेल रहे होते है और 2019 के विश्व कप में भी कई खिलाड़ी अपना आखिरी विश्व कप खेल रहे है। इन्हीं में से एक पाकिस्तान के बल्लेबाज शोएब मलिक ने भी एक दिवसीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है। हालांकि शोएब मलिक ने कहा है कि वे देश के लिए टी20 मैच खेलते रहेंगे।

    शोएब मलिक ने अपने क्रिकेट करियर में पाकिस्तान के लिए 287 वनडे मैच खेले है। हालांकि वे विश्व कप में बांग्लादेश के खिलाफ अंतिम मैच में नहीं खेले और मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की। मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, मैं वनडे क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं। मैंने कुछ साल पहले ही फैसला कर लिया था कि मैं पाकिस्तान के लिए आखिरी विश्व कप मैच के बाद वनडे से संन्यास ले लूंगा।

    उन्होंने कहा, संन्यास के बाद मैं अपने परिवार के साथ ज्यादा वक्त बिता पाउंगा और टी-20 क्रिकेट पर भी बेहतर ध्यान दे पाऊंगा। हालांकि मैं इस बात से दुखी हूं कि क्रिकेट के उस फॉर्मेट को अलविदा कह रहा हूं, जिससे कभी मुझे प्यार था। प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद शोएब ने ट्विटर पर भी अपने संन्यास की घोषणा की। शोएब ने ट्वीट कर लिखा, आज मैं वनडे क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उन सभी खिलाड़ियों का शुक्रिया जिनके साथ मैंने खेला, मुझे ट्रेनिंग देने वाले कोच, परिवार, दोस्तों, मीडिया और स्पॉन्सर्स को शुक्रिया। सबसे जरूरी मेरे फैन्स, मैं आप सबसे प्यार करता हूं।

    आपको बता दें कि साल 1999 में वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे क्रिकेट में कदम रखने वाले शोएब ने इस फॉर्मेट में 34.55 की औसत से 7534 रन बनाए है। इसके साथ ही शोएब ने वनडे में 44 अर्द्धशतक और 9 शतक भी लगाए हैं। वनडे के अलावा शोएब मलिक पाकिस्तान के लिए 35 टेस्ट और 111 टी-20 मैच खेल चुके हैं। टेस्ट में शोएब ने 1898 रन बनाए जिसमें उनके नाम 8 अर्द्धशतक और 3 शतक शामिल है। वहीं टी-20 फॉर्मेट में शोएब ने 30.58 की औसत से 2263 रन बनाए। टी-20 में शोएब ने सात अर्द्धशतक लगाए हैं। बल्लेबाजी के अलावा शोएब ने गेंदबाजी में पाकिस्तान के लिए अपना कमाल दिखाया है। वनडे क्रिकेट में शोएब ने 4.66 की इकॉनमी रेट से 158 विकेट भी लिए हैं। वनडे के अलवा शोएब ने टेस्ट में 32 और टी-20 में 28 विकेट अपने नाम कर चुके हैं।

     

     

    और भी...

  • World Cup 2019: पाक नहीं कर सका ‘चमत्कार’,आखिरी मैच जीतकर विश्व कप से हुआ बाहर

    World Cup 2019: पाक नहीं कर सका ‘चमत्कार’,आखिरी मैच जीतकर विश्व कप से हुआ बाहर

     

    पाक कप्तान सरफराज खान ने मैच से पहले कहा था कि अगर वे सेमीफाइनल में जाने के लिए बांग्लादेश के खिलाफ 400 या 450 बनाकर उन्हे जल्दी आउट करने की कोशिश करेंगे। पाकिस्तान मैच तो जीत गया लेकिन सेमीफाइनल से बाहर हो गया और अब सेमीफाइल की 4 टीमें आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत और न्यूजीलैंड है।

    विश्व कप में अपने देश पाक के लिये सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी के 6 विकेट की मदद से पाकिस्तान ने बांग्लादेश को 94 रन से हरा दिया। इमाम उल हक के शतक और बाबर आजम के 96 रन की बदौलत पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 315 रन बनाये। जवाब में बांग्लादेश की टीम 44.1 ओवर में 221 रन पर आउट हो गई। इस विश्व कप में अब तक सर्वाधिक 606 रन बना चुके शाकिब अल हसन को छोड़कर बांग्लादेश का कोई बल्लेबाज नहीं टिक सका।

    शाहीन ने 9.1 ओवर में 35 रन देकर छह विकेट लिये जो विश्व कप में किसी पाकिस्तानी गेंदबाज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। सरफराज अहमद की टीम को हालांकि कोई चमत्कार भी अंतिम चार में नहीं पहुंचा सकता था क्योंकि उसे पूरी बांग्लादेशी टीम को 7 रन पर आउट करना था ताकि न्यूजीलैंड को पछाड़ सके। इमाम और बाबर ने दूसरे विकेट के लिये 150 रन की साझेदारी 146 गेंद में पूरी की। बाबर शतक से 4 रन से चूक गए और 98 गेंद में 11 चौकों की मदद से 96 रन बनाकर आउट हुए।

    इमाम पूरे 100 रन बनाकर 42वें ओवर में अपना विकेट गंवा बैठे। बाबर को मोहम्मद सैफुद्दीन ने बोल्ड किया जबकि इमाम मुस्ताफिजुर रहमान की गेंद पर हिट विकेट आउट हुए। पाकिस्तान का स्कोर 42वें ओवर में तीन विकेट पर 246 रन था। मोहम्मद हाफिज अगले ओवर में मेहदी हसन मिराज की गेंद पर शाकिब अल हसन को कैच देकर लौटे। पाकिस्तान को ताबड़तोड़ रन बनाने की जरूरत थी लेकिन पारी का पहला छक्का 47वें ओवर में इमाद वसीम ने जड़ा। इससे पहले सलामी बल्लेबाज फखर जमां का खराब फार्म लगातार जारी रहा और वह 31 गेंद में 13 रन बनाकर सैफुद्दीन का पहला शिकार बने। बांग्लादेश के लिये मुस्ताफिजुर रहमान ने 5 विकेट लिए।

     

    और भी...