ब्रेकिंग न्यूज़
  • बिहार: महिला ने अपने 4 बच्चों के साथ चलती ट्रेन के सामने लगाई छलांग, मौत
  • बाजार में लौटी रौनक, शुरुआती कारोबार में सेंसेक्‍स 37 हजार के पार
  • INX मीडिया केस: पी. चिदंबरम की अर्जी पर SC में सुनवाई आज, HC के आदेश को दी है चुनौती
  • कोलकाता: मदर टेरेसा की जयंती आज, मदर हाउस में की गईं शांति प्रार्थनाएं
  • उत्तराखंड: देहरादून, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी में भारी बारिश का अलर्ट
  • त्तरकाशी: भूस्खलन के कारण बंद किया गया यमुनोत्री हाईवे

देश

  • वकील से राजनीति तक का सफर तय करने वाले अरुण जेटली

    वकील से राजनीति तक का सफर तय करने वाले अरुण जेटली

     

    देश के पूर्व वित्‍त मंत्री और बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली का शनिवार को 66 साल की उम्र में निधन हो गया है। देश में GST के रूप में एक देश, एक कर देने में उनकी भूमिका महत्‍वपूर्ण थी। अरुण जेटली अटल बिहारी वाजेपयी की सरकार में भी मंत्री रहे। पेशे से सफल वकील अरुण जेटली ने राजनीतिक जीवन में भी खूब नाम कमाया। अरुण जेटली का जन्‍म 28 दिसंबर, 1952 को दिल्‍ली में हुआ था। उनके पिता पेशे से वकील थे।

    अरुण जेटली ने नई दिल्ली के सेंट जेवियर्स स्कूल से 1957-69 तक पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम किया। उन्‍होंने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से 1977 में लॉ की पढ़ाई पूरी की। अरुण जेटली लॉ की पढ़ाई के दौर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के छात्र नेता भी थे। डीयू में पढ़ाई के दौरान ही वह 1974 में डीयू स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष बने।

    1975 में देश में लगे आपातकाल का विरोध करने के पर उन्‍हें 19 महीनों तक नजरबंद रखा गया था। 1973 में वह जयप्रकाश नारायण और राजनारायण द्वारा चलाए जा रहे भ्रष्‍टाचार विरोधी आंदोलन में भी सक्रिय रहे। नजरबंदी खत्‍म होने के बाद उन्‍होंने जन संघ पार्टी ज्‍वाइन की। 1977 में उन्‍हें दिल्‍ली ABVP का अध्यक्ष और ऑल इंडिया सेक्रेटरी बनाया गया। उन्‍हें 1980 में बीजेपी युवा मोर्चा का अध्‍यक्ष और दिल्‍ली ईकाई का सेक्रेटरी बनाया गया था।

    1982 में अरुण जेटली की शादी संगीता जेटली से हुई। इनके दो बच्चे हैं, रोहन और सोनाली, उनके दोनों बच्‍चे वकील हैं। अरुण जेटली ने 1987 में वकालत शुरू की, उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट से लेकर विभिन्‍न हाईकोर्ट में प्रैक्टिस की। 1990 में दिल्‍ली हाईकोर्ट ने उन्‍हें वरिष्‍ठ वकील घोषित किया। 1989 में जेटली वीपी सिंह की सरकार में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल नियुक्‍त किए गए। उन्‍होंने बोफोर्स घोटाले की जांच की दस्‍तावेजी प्रक्रिया पूरी की थी। अरुण जेटली 1991 से बीजेपी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्‍य रहे।

    1999 के आम चुनाव में बीजेपी ने उन्‍हें पार्टी प्रवक्‍ता बनाया। जेटली ने जून 2009 को वकालत रोक दी। उन्‍हें राज्‍यसभा में 2009 से 2014 तक नेता विपक्ष बनाया गया था। 2009 में राज्‍यसभा में नेता विपक्ष बनने पर उन्‍होंने पार्टी महासचिव के पद से इस्‍तीफा दे दिया।

    1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वह सूचना एवं प्रसारण राज्‍यमंत्री बनाए गए। इस सरकार में वह कानून मंत्री भी रहे। उन्‍हें विनिवेश का स्‍वतंत्र राज्‍यमंत्री भी बनाया गया। 2000 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद उन्‍हें कानून, न्‍याय, कंपनी अफेयर तथा शिपिंग मंत्रालय का मंत्री बनाया गया था।

    2014 में अरुण जेटली ने बीजेपी की टिकट पर अमृतसर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा। लेकिन उन्‍हें कांग्रेस के उम्‍मीदवार कैप्‍टन अमरिंदर सिंह से हार मिली। अरुण जेटली गुजरात से राज्‍यसभा सदस्‍य रहे। मार्च 2018 में उन्‍हें उत्‍तर प्रदेश से राज्‍यसभा सदस्‍य चुना गया। 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद उन्‍होंने इस सरकार में वित्‍त मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय जैसे अहम मंत्रालय संभाले। अरुण जेटली के बतौर वित्‍त मंत्री के कार्यकाल में ही सरकार ने भ्रष्‍टाचार और काले धन पर वार करते हुए 2016 में नोटबंदी की थी। सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिए थे।

    2018 में अरुण जेटली का दिल्‍ली स्थित एम्‍स में किडनी ट्रांसप्‍लांट हुआ। जनवरी, 2019 में डॉक्‍टरों को अरुण जेटली को सॉफ्ट टिशू सर्कोमा होने का पता चला। इसके बाद न्‍यूयॉर्क में उनकी सफल सर्जरी हुई।  अरुण जेटली ने 29 मई, 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर खराब स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला दिया और कहा कि उन्‍हें नई सरकार में किसी भी तरह की अहम जानकारी न दी जाए। अरूण जेटली बीजेपी सरकार के उन अमूल्य रत्नों में शुमार रहे जिन्होंने भले ही कभी लोकसभा का चुनाव न जीता हो पर हमेशा बीजेपी की बेजोड़ ताकत और राज़दार रहे।

    और भी...

  • पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन

     

    पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 66 साल की उम्र में निधन हो गया है। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। एम्स ने एक बयान जारी कर कहा है कि वे बेहद दुख के साथ सूचित कर रहे हैं कि 24 अगस्त को 12 बजकर 7 मिनट पर माननीय सांसद अरुण जेटली अब हमारे बीच में नहीं रहे। अरुण जेटली को 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था। एम्स के वरिष्ठ डॉक्टर उनका इलाज कर रहे थे।

    एम्स में जेटली का सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था। वे इस बीमारी के इलाज के लिए 13 जनवरी को न्यूयॉर्क चले गए थे और फरवरी में वापस लौटे थे। जेटली ने अमेरिका से इलाज कराकर लौटने के बाद ट्वीट किया था, घर आकर खुश हूं। जेटली ने अप्रैल 2018 में भी दफ्तर जाना बंद कर दिया था। 14 मई 2018 को एम्स में ही जेटली का गुर्दा प्रत्यारोपण भी हुआ था, वे शुगर से भी पीड़ित हैं। सितंबर 2014 में वजन बढ़ने की वजह से जेटली की बैरियाट्रिक सर्जरी भी कराई गई थी।

    जेटली को छह महीने पहले भी जांच के लिए एम्स में भर्ती किया गया था। डॉक्टरों ने उन्हें इलाज के लिए यूके और यूएस जाने की सलाह दी थी। लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत के बाद भाजपा कार्यालय में हुए कार्यक्रम में भी वो नजर नहीं आए थे। उन्होंने कैबिनेट की बैठक में भी हिस्सा नहीं लिया था। मई 2019 में उन्होंने मोदी से कह दिया था कि नई सरकार में वे शामिल नहीं हो पाएंगे। इसके बाद मोदी उनसे मिलने घर पहुंचे थे।

    और भी...

  • धारा-370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाएंगे राहुल गांधी, प्रशासन ने नहीं दी इजाजत

    धारा-370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाएंगे राहुल गांधी, प्रशासन ने नहीं दी इजाजत

     

    अनुच्छेद 370 हटने के बाद पहली बार राहुल गांधी और विपक्ष के 11 नेता आज जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाएंगे। राहुल के साथ कांग्रेस के ग़ुलाम नबी आज़ाद, केसी वेणुगोपाल, आनंद शर्मा, लेफ़्ट के सीताराम येचुरी, डी राजा,  डीएमके के तिरुची शिवा, टीएमसी के दिनेश त्रिवेदी, एनसीपी के माजिद मेमन, आरजेडी के मनोज झा और जेडीएस के उपेंद्र रेड्डी भी होंगे। इनके अलावा शरद यादव भी कश्मीर जाने वाले नेताओं में शामिल हैं।

    अनुच्छेद 370 ख़त्म होने के बाद राहुल ने ट्वीट कर जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर सवाल उठाए थे।  राहुल गांधी ने ट्वीट किया था कि कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से हिंसा की खबरें आ रही हैं। प्रधानमंत्री को शांति और निष्पक्षता के साथ मामले को देखना चाहिए। इस पर सत्यपाल मलिक ने कहा था, मैं राहुल गांधी जी को कश्मीर आने का निमंत्रण देता हूं। मैं उनके लिए एयरक्राफ्ट का भी इंतजाम करूंगा ताकि वह यहां आकर जमीनी हकीकत देख सकें।  इसके बाद राहुल गांधी ने भी ट्वीट करके आमंत्रण को स्वीकार किया था। उन्होंने ट्वीट किया था, प्रिय मलिक जी, मैं जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आने के आपके न्योते को स्वीकार करता हूं। हमें एयरक्राफ्ट की जरूरत नहीं है बस वहां के नेताओं और जवानों से मिलने दिया जाए।

    वहीं कुछ दिन पहले ही गुलाम नबी आज़ाद भी श्रीनगर गए थे लेकिन उन्हें एयरपोर्ट से ही वापस भेज दिया गया था। इस बीच जम्मू-कश्मीर प्रशासन का बयान आया है जिसमें कहा गया है कि विपक्षी नेता कश्मीर न आएं और सहयोग करें। प्रशासन ने ट्वीट किया है कि नेताओं के दौरे से असुविधा होगी। प्रशासन का कहना है कि नेता उन प्रतिबंधों का भी उल्लंघन कर रहे होंगे जो अभी तक कई क्षेत्रों में लगे हैं। नेताओं को समझना चाहिए कि शांति व्यवस्था बनाए रखने और नुक़सान रोकने को सबसे ज़्यादा प्राथमिकता दी जाएगी।

    और भी...

  • महाराष्ट्र के भिवंडी में चार मंजिला इमारत गिरी, 2 की मौत, 5 घायल

    महाराष्ट्र के भिवंडी में चार मंजिला इमारत गिरी, 2 की मौत, 5 घायल

     

    महाराष्ट्र के भिवंडी में शनिवार को एक चार मंजिला इमारत गिर गई। पुलिस के अनुसार घटना के समय इमारत के अंदर कुछ लोग मौजूद थे, जो इमारत के गिरने के बाद अंदर ही फंसे रहे गए। पुलिस फिलहाल अंदर फंसे लोगों के निकालने में जुटी है, अभी तक मिली जानकारी के अनुसार सात लोगों को बाहर निकाला गया है। जिनमें से दो की मौत हो गई है और पांच हालत गंभीर बनी हुई है। राहत और बचाव के काम में कई टीमें काम कर रही हैं।

    फंसे लोगों को निकालने के लिए एनडीआरएफ की टीम हर संभव कोशिश कर रही है। पुलिस के अनुसार अभी इस घटना में दो लोगों की मौत की खबर आ रही है। जबकि पांच लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। पुलिस अन्य घायलों को भी सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास कर रही है। सभी घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

    पुलिस के अनुसार इमारत के जर्जर होने की सूचना पहले ही दे गई थी। कई परिवार इमारत खाली कर चुके थे लेकिन कुछ लोग बगैर किसी बताए ही बाद में इमारत के अंदर गए। अब इस बात की भी जांच की जा रही है कि आखिर इन लोगों ने बैगर अनुमति के इमारत में प्रवेश क्यों किया। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार पीड़ित परिवार के लोगों से भी मामले को लेकर पूछताछ की जा रही है।

     

    और भी...

  • निर्मला सीतारमण ने कहा, भारत में नहीं है आर्थिक मंदी का असर, किए ये बड़े ऐलान

    निर्मला सीतारमण ने कहा, भारत में नहीं है आर्थिक मंदी का असर, किए ये बड़े ऐलान

     

    केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार की शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि दुनिया पूरी दुनिया के मुकाबले भारती की अर्थव्यवस्था बेहतर हैं. निर्मला ने कहा कि आज भारत और चीन जैसे देशों के मुकाबले कहीं भारतीय अर्थव्यवस्था ज्यादा बेहतर है. उन्होंने कहा कि अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध तथा मुद्रा अवमूल्यन के चलते वैश्विक व्यापार में काफी उतार-चढ़ाव वाली स्थिति पैदा हुई है.

    निर्मला सीतारमण ने कहा, ऐसा नहीं है कि मंदी की समस्या सिर्फ भारत के लिए है बल्कि दुनिया के बाकी देश भी इस समय मंदी का सामना कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि सुधार एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है और देश में लगातार आर्थिक सुधार हुए हैं. भारत की अर्थव्यवस्था दूसरे देशों के मुकाबले काफी बेहतर हुई है.

    वित्त मंत्री ने कहा कि आर्थिक सुधारों की दिशा में सरकार लगातार काम कर रही है. इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) भरना पहले से काफी आसान हुआ है. जीएसटी को भी और आसान बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि कई देशों की तुलना में हमारी विकास दर भी काफी अच्छी है.

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार पर आरोप लगते हैं कि टैक्स को लेकर लोगों को परेशान किया जा रहा है. हम टैक्स और लेबर कानूनों में लगातार सुधार कर रहे हैं. टैक्स नोटिस के लिए केंद्रीय सिस्टम होगा और टैक्स के लिए किसी को परेशान नहीं किया जाएगा. वित्त मंत्री ने कहा कि 1 अक्टूबर से केंद्रीय सिस्टम से नोटिस भेजे जाएंगे. जिससे टैक्स उत्पीड़न की घटनाओं पर रोक लगेगी.

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कैपिटल गेन्स पर सरचार्ज वापस लिया जाएगा. शेयर बाजार में कैपिटल गेन्स और फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टमेंट (FPI) पर सरचार्ज नहीं लिया जाएगा.

    निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकारी बैंकों को 70 हजार करोड़ रुपये दिए जाएंगे. ऐसे में बैंकों के लिए नए कर्ज देने में कोई परेशानी नहीं होगी. सीतारमण ने कहा, बैंकों ने ब्याज दर में कटौती का फायदा ग्राहकों को MCLR के जरिए देने का फैसला किया है.ब्याज दरों में की गई कटौती का लाभ सीधे ग्राहकों तक पहुंचेगा.

    वित्त मंत्री ने किए ये बड़े ऐलान

    -शेयर बाजार में कैपिटल गेन्स से सरचार्ज हटेगा.

    - स्टार्ट अप टैक्स निपटारे के लिए अलग सेल बनेगा.

    - लोन आवेदन की ऑनलाइन निगरानी की जाएगी.

    - लोन क्लोज होने के बाद सिक्यॉरिटी रिलेटेड डॉक्यूमेंट बैंकों को 15 दिन के अंदर देना होगा.

    - रेपो रेट कम होते की ब्याज दरें कम होंगी.

    - ब्याजदर घटेगी तो EMI कम होगी.

    - बैंकों को ब्याज दरों में कमी का फायदा लोगों को देना होगा.

    - डीमैट अकाउंट के लिए आधारमुक्त KYC होगी.

    - वाहन खरीद बढ़ाने के लिए सरकार कई योजनाओं पर काम कर रही है.

    - 31 मार्च 2020 तक खरीदे गए BS-4 वाहन मान्य होंगे.

    - EV और BS-4 गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन जारी रहेगा.

    - वन टाइम रजिस्ट्रेशन फीस को जून 2020 तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

    और भी...

  • फरार विधायक अनंत सिंह ने साकेत कोर्ट में किया सरेंडर

    फरार विधायक अनंत सिंह ने साकेत कोर्ट में किया सरेंडर

     

    बिहार के मोकामा से विधायक अनंत सिंह ने शुक्रवार को दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर कर दिया। पिछले दिनों पुलिस की छापेमारी के दौरान उनके घर से एक एके 47, दो ग्रेनेड और गोलियां मिली थीं। इसके बाद 17 अगस्त को पुलिस अनंत सिंह को गिरफ्तार करने उनके घर गई, लेकिन वे पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए थे।

    अनंत सिंह 6 दिन फरार रहे। इस दौरान उन्होंने 3 वीडियो जारी किए। इनमें कहा था कि मैं कोर्ट में सरेंडर करूंगा। गुरुवार उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने मेरे घर पर हथियार रखवाए थे। बिहार पुलिस ने अनंत और उनके केयरटेकर सुनील राम के खिलाफ यूएपी एक्ट, आर्म्स एक्ट और आईपीसी की अलग-अलग धाराओं के केस दर्ज किया था।

    केंद्र सरकार ने गैर-कानूनी गतिविधियों को रोकने वाले यूएपी एक्ट में संशोधन किया है। पिछले महीने इसे संसद से मंजूरी मिल चुकी है। अनंत सिंह संशोधन के बाद इस कानून के तहत पहले आरोपी बने हैं। उनके खिलाफ यूएपीए की धारा-13, विस्फोटक अधिनियम और आईपीसी की धारा 414, 120 बी के तहत बाढ़ थाने में केस दर्ज किया गया।

    और भी...

  • INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम को राहत, 26 अगस्त तक गिरफ्तारी पर रोक

    INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम को राहत, 26 अगस्त तक गिरफ्तारी पर रोक

     

    INX मीडिया मामले में सीबीआई हिरासत में भेजे गए कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को ईडी की गिरफ्तारी से शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली है। चिदंबरम ने ईडी की गिरफ्तारी से बचने के लिए याचिका दायर की थी। मामले पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अगली सुनवाई तक प्रवर्तन निदेशालय पी चिदंबरम को गिरफ्तार नहीं कर सकता है। ऐसे में सोमवार तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लग गई है।

    ईडी और सीबीआई के मामलों पर 26 अगस्‍त को सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने 26 अगस्‍त तक उनकी गिरफ्तारी पर अंतरिम रोक लगाई है, उसी दिन मामले की सुनवाई होगी। पी चिदंबरम 26 अगस्‍त तक सीबीआई रिमांड पर रहेंगे। वहीं सीबीआई मामले में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 26 अगस्त को करेगा, क्‍योंकि चिदंबरम 26 अगस्त तक सीबीआई हिरासत में हैं।

    सुनवाई के दौरान पी चिदंबरम के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि प्री अरेस्ट को कानून से ही हटा दिया जाए, जबकि देश भर के हर राज्य में अग्रिम जमानत का प्रावधान है।

    और भी...

  • तीन तलाक कानून पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई को तैयार, केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस

    तीन तलाक कानून पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई को तैयार, केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस

     

    तीन तलाक कानून के खिलाफ दाखिल याचिका सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट तीन तलाक कानून की समीक्षा करने को तैयार हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर कोई धार्मिक प्रथा को गलत या अपराध करार दिया हो ऐसे में क्या इसे अपराध की सूची में नहीं रखेंगे। तीन तलाक कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में तीन याचिकाएं दाखिल की गई थीं।

    उलेमा-ए-हिंद के मुताबिक तीन तलाक कानून का एकमात्र उद्देश्य मुस्लिम पतियों को दंडित करना है। ये भी कहा गया है कि मुस्लिम पतियों के साथ अन्याय है। जबकि हिंदु समुदाय या अन्य में ऐसा प्रावधान नहीं है। इसके अलावा समस्त केरल जमीयतुल उलेमा व अन्य ने भी इस कानून के खिलाफ याचिका दाखिल की है। याचिका में कहा गया कि कानून से मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है। वहीं तीसरी याचिका आमिर रशादी मदनी ने दाखिल की है।

    बता दें, तीन तलाक भारत में अपराध है। इसके तहत तीन तलाक को गैर कानूनी बनाते हुए 3 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान शामिल है। अगर मौखिक, लिखित या किसी अन्य माध्यम से पति अगर एक बार में अपनी पत्नी को तीन तलाक देता है तो वह अपराध की श्रेणी में आएगा। तीन तलाक देने पर पत्नी स्वयं या उसके करीबी रिश्तेदार ही इस बारे में केस दर्ज करा सकेंगे। पुलिस बिना वारंट के तीन तलाक देने वाले आरोपी पति को गिरफ्तार कर सकती है। एक समय में तीन तलाक देने पर पति को तीन साल तक कैद और जुर्माना दोनों हो सकता है। मजिस्ट्रेट कोर्ट से ही उसे जमानत मिलेगी।

    मजिस्ट्रेट बिना पीड़ित महिला का पक्ष सुने बगैर तीन तलाक देने वाले पति को जमानत नहीं दे पाएंगे। तीन तलाक देने पर पत्नी और बच्चे के भरण पोषण का खर्च मजिस्ट्रेट तय करेंगे, जो पति को देना होगा। तीन तलाक पर बने कानून में छोटे बच्चों की निगरानी और रखवाली मां के पास रहेगी। नए कानून में समझौते के विकल्प को भी रखा गया है।

     

     

    और भी...

  • ISRO ने जारी की चंद्रयान-2 से खींची गई चांद की पहली तस्वीर

    ISRO ने जारी की चंद्रयान-2 से खींची गई चांद की पहली तस्वीर

     

    चंद्रयान-2 ने चांद की पहली तस्वीर भेजी है। इस तस्वीर को स्पेस एजेंसी ISRO ने ट्वीट करके लोगों साथ साक्षा किया है। चंद्रयान-2 ने 21 अगस्त को सफलतापूर्वक चांद की दूसरी कक्षा में प्रवेश कर लिया है। जिसके बाद चंद्रयान-2 ने लूनर सतह से लगभग 2650 किमी की ऊंचाई से तस्वीर ली है।

    ट्वीट कर इसरो ने बताया कि चंद्रयान-2 द्वारी भेजी गई चांद की तस्वीर में ओरिएंटेल बेसिन और अपोलो क्रेटर्स को पहचाना गया है। तस्वीर में चांद पर दो महत्वपूर्ण जगहों, अपोलो क्रेटर और मेयर ओरिएंटेल को दिखाया गया है। आपको बता दें कि चंद्रयान-2 अभियान के तहत शोधयान विक्रम 7 सिंतबर को चांद की सतह पर उतरेगा।

    इसरो ने बुधवार को जानकारी दी थी कि चंद्रयान-2 को चांद की दूसरी कक्षा में पहुंचने में 1,228 सेकेंड लगे। चांद की कक्षा का आकार 118 किलोमीटर गुणा 4,412 किलोमीटर है, जिससे होकर स्पेसक्राफ्ट चांद पर उतरेगा। इससे पहले इसरो ने 4 अगस्त को चंद्रयान-2 की ओर से भेजी गईं पृथ्वी की तस्वीरें शेयर की थीं।

     

    और भी...

  • बंबई HC का आदेश, 1000 करोड़ रुपये के घोटाले में शरद पवार समेत 70 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज के आदेश

    बंबई HC का आदेश, 1000 करोड़ रुपये के घोटाले में शरद पवार समेत 70 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज के आदेश

     

    बंबई हाईकोर्ट ने गुरुवार को पुलिस को महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक में 1,000 करोड़ रुपये के घोटाले के मामले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार, पूर्व उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार समेत 70 अन्य लोगों के खिलाफ पांच दिन के अंदर एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए। जस्टिस एससी धर्माधिकारी और जस्टिस एसके शिंदे की बेंच ने प्रथमदृष्टया साक्ष्यों के आधार पर आर्थिक अपराध शाखा के अधिकारियों को संबंधित कानून के तहत कार्रवाई करने को कहा।

    मुंबई के एक कार्यकर्ता सुरिंदर एम अरोड़ा द्वारा दाखिल पीआईएल में दोनों पवार के अलावा, एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल समेत कई जानेमाने नेताओं, सरकारी और बैंक अधिकारियों के नाम हैं। इन पर राज्य के शीर्ष सहकारी बैंक को 2007 से 2011 के बीच 1,000 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने का आरोप है। इससे पहले, महाराष्ट्र कोऑपरेटिव सोसाइटीज एक्ट के तहत एक अर्ध न्यायिक जांच समिति ने इस मामले में पवार और अन्य को जिम्मेदार ठहराया था।

    नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रुरल डेवलपमेंट ने भी एमएससीबी की जांच की थी, जिसमें खुलासा हुआ था कि चीनी मिलों और कपास मिलों को बैंकिंग और भारतीय रिजर्व बैंक के कई नियमों की धज्जियां उड़ाकर अंधाधुंध तरीके से कर्ज बांटे गए, जिन्हें लौटाया नहीं गया। अरोड़ा द्वारा जांच के नतीजे और शिकायतों को दाखिल करने के बावजूद इस मामले में किसी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की गई, जिसके बाद उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

    और भी...

  • INX मीडिया मामला: पी चिदंबरम को नहीं मिली राहत, कोर्ट ने 4 दिन के CBI रिमांड पर भेजा

    INX मीडिया मामला: पी चिदंबरम को नहीं मिली राहत, कोर्ट ने 4 दिन के CBI रिमांड पर भेजा

     

    INX मीडिया मामले में सीबीआई की विशेष अदालत से पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम को गुरुवार को राहत नहीं मिली। कोर्ट ने उन्हें 4 दिनों की सीबीआई रिमांड पर भेज दिया। सीबीआई अब उनसे INX मीडिया घोटाले में अगले 4 दिनों तक पूछताछ करेगी और चिदंबरम को दोबारा सोमवार को अदालत के सामने पेश करेगी। सीबीआई कोर्ट में सीबीआई के वकील की ओर से चिदंबरम के लिए 5 दिनों की रिमांड की मांग गई थी लेकिन जज अजय कुमार कुहाड़ ने 4 दिनों के लिए रिमांड दे दी।

    चिदंबरम ने गिरफ्तारी से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका लगाई थी। उस पर आज सुप्रीम कोर्ट में दो जजों की बेंच सुनवाई करेगी हालांकि उससे पहले चिदंबरम गिरफ्तार किए जा चुके हैं। INX मीडिया मामले में चिदंबरम की याचिका पर 12 बजे जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस ए एस बोपन्ना की बेंच सुनवाई करेगी। सुनवाई के लिए पी चिदंबरम की दो अर्जियां हैं, पहली अर्जी सीबीआई की गिरफ्तारी से राहत की मांग से जुड़ी है और दूसरी अर्जी ईडी की गिरफ्तारी से बचने की है।

    गौरतलब है कि इससे पहले 20 अगस्त को चिदंबरम की अंतरिम जमानत याचिका दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दी थी। इसके बाद से ही वो गायब हो गए थे। 21 अगस्त को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाज़ा खटखटाया, लेकिन राहत मिलने के बाद बुधवार को अचानक 27 घंटे बाद वो कांग्रेस दफ्तर पहुंचे। वहां उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि उनके ऊपर कोई आरोप नहीं हैं। इसके बाद वो दिल्ली के जोरबाग स्थित अपने घर चले गए. जहां कई घंटों तक चले ड्रामे के बाद सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के लिए सीबीआई को काफी मशक्कत करनी पड़ी और फिल्मी अंदाज़ में सीबीआई की टीम को चिदंबरम के घर की दीवार फांदकर अंदर दाखिल होना पड़ा।

    और भी...

  • CONGRESS ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी को बताया दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या

    CONGRESS ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी को बताया दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या

     

    पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसे राजनीतिक षड्यंत्र और व्यक्तिगत बदले से प्रेरित बताया। कांग्रेस ने कहा कि गिरती अर्थव्यवस्था, नौकरियों का खत्म होना और रुपये का लगातार अवमूल्यन से देश का ध्यान हटाने के लिए मोदी सरकार ने यह खेल रचा। कांग्रेस ने इस पूरे प्रकरण पर मीडिया की भूमिका पर भी सवाल उठाए और कहा कि कुछ चैनल सरकार की कठपुतली बनकर काम कर रहे हैं।

    कांग्रेस प्रवक्ता ने सत्यमेव जयते का नारा देते हुए कहा कि जांच के बाद सच आखिरकार सामने आ जाएगा। सुरजेवाला ने कहा, चिदंबरम की गिरफ्तारी दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या है। चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति आईएनएक्स मीडिया केस में न तो आरोपी हैं और न ही उनके खिलाफ कोई सबूत हैं। सरकार बदले की भावना से इस तरह की कार्रवाई कर रही है और मुद्दों से ध्यान भटकाना चाहती है।

    उन्होंने कहा कि 40 साल तक देश की सेवा करने वाले नेता को गिरफ्तार कर लिया गया। एजेंसियों के पास उनके खिलाफ केस चलाने का कोई मजबूत आधार नहीं है। कांग्रेस चिदंबरम के साथ खड़ी है। हमें न्यायपालिका और मीडिया के एक हिस्से पर भरोसा है, जो सच्चाई दिखा सकते हैं।

    और भी...

  • रविदास मंदिर विवाद: तुगलकाबाद में पत्थरबाजी, भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर गिरफ्तार

    रविदास मंदिर विवाद: तुगलकाबाद में पत्थरबाजी, भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर गिरफ्तार

     

    दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के तुगलकाबाद और उसके आसपास के इलाकों में बुधवार को बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। उपद्रवियों ने 100 से ज्यादा वाहनों में तोड़फोड़ की जिनमें से कुछ गाड़ियां पुलिस की हैं और कुछ आम लोगों की हैं। संत रविदास का मंदिर गिराए जाने का विरोध कर रहे लोगों ने दो बाइकों में आग भी लगाई। इस हिंसक विरोध में कई पुलिस कर्मी घायल हो गए। पुलिस ने उग्र प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस ने भीम आर्मी और दलित समाज से जुड़े 70 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है। भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण को भी हिरासत में ले लिया गया है। संत रविदास मंदिर को तोड़ने के विरोध में यह हिंसा हुई।

    पुलिस के मुताबिक भीम आर्मी के चीफ रावण ने तुगलकाबाद के रविदास मंदिर को तोड़ने को लेकर   जारी विवाद के बीच दिल्ली के जंतर मंतर में रैली करने की अनुमति मांगी थी। उनसे जंतर मंतर पर रैली की अनुमति नहीं दी गई और रामलीला ग्राउंड में रैली करने के लिए कहा गया। बुधवार को रैली करने के बाद लोग मार्च करते हुए तुगलकाबाद की तरफ निकल पड़े। हजारों की संख्या में चल रहे लोगों को कई बार समझाया गया लेकिन वे नहीं माने। इसके चलते कई इलाकों में लंबा ट्रैफिक जाम लग गया. कई जगहों पर एम्बुलेंस फंसी रहीं।

    जैसे ही प्रदर्शनकारी तुगलकाबाद के नजदीक पहुंचे उन्होंने पुलिस और अर्धसैनिक बलों पर पथराव शुरू कर दिया और फिर वाहनों में तोड़फोड़ करने लगे। उन्होंने कुछ बाइकों में आग लगा दी। पुलिस ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और हल्का लाठी चार्ज किया। इस मामले में भीम आर्मी के चीफ समेत 70 लोगों को हिरासत में लिया गया है। उन पर कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

    दलित संगठन भीम आर्मी ने दावा किया है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाईं। प्रदर्शनकारी बसों और ट्रेनों से देश के विभिन्न हिस्सों से आए थे। बता दे 10 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली विकास प्राधिकरण ने रविदास मंदिर को तोड़ दिया था। बाद में कोर्ट ने यह भी कहा था कि इस मामले को लेकर राजनीति न हो। दिल्ली से लेकर पंजाब तक कई राजनीतिक पार्टियां इसे लेकर राजनीति कर रही हैं।

    और भी...

  • INX मीडिया मामले में CBI ने पी. चिदंबरम को किया गिरफ्तार, आज 2 बजे किया जाएगा कोर्ट में पेश

    INX मीडिया मामले में CBI ने पी. चिदंबरम को किया गिरफ्तार, आज 2 बजे किया जाएगा कोर्ट में पेश

     

    INX मीडिया मामले में CBI ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को गिरफ्तार कर लिया है। लुकआउट नोटिस जारी करने वाली CBI और ED की टीम कल देर रात उनके घर पहुंची। दरवाजा बंद देख CBI की टीम दीवार फांदकर अंदर गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उन्हें सीबीआई मुख्यालय ले जाया गया। इससे पहले चिदंबरम ने कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके खुद को निर्दोष बताया। चिदबंरम को दो बजे कोर्ट में पेश किया जाएगा, जहां सीबीआई उनकी 14 दिनों की रिमांड मांगेगी।

    20 अगस्त को गायब हो जाने के बाद कल चिदंबरम कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे थे। जहां उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इसके बाद चिदंबरम जैसे ही जोर बाग स्थित अपने घर पहुंचे, थोड़ी ही देर बाद सीबीआई की टीम भी वहां पहुंच गई। घर का दरवाजा बंद था, जिसके बाद सीबीआई अधिकारी दीवार फांदकर चिदंबरम के घर में घुसे। ED की एक टीम भी चिदंबरम को गिरफ्तार करने उनके घर पहुंची थी।

    कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेस में चिदंबरम ने कहा, मैं कानून से बच नहीं रहा हूं, बल्कि कानूनी संरक्षण की तैयारी कर रहा हूं। उम्मीद है कि जांच एजेंसियां कानून का सम्मान करेंगी।  उन्होंने कहा, मैं इस बात से भौंचक्क हूं कि मुझ पर कानून से भागने का आरोप लगाया जा रहा है, जबकि इसके विपरीत मैं कानूनी संरक्षण पाने की तैयारी कर रहा हूं। मुझ पर आरोप है कि मैं न्याय से भाग रहा हूं, जबकि इसके विपरीत मैं न्याय की खोज में लगा हुआ हूं।

    चिदंबरम ने कहा, INX मीडिया मामले में मैं किसी जुर्म का आरोपी नहीं हूं, न ही मेरे परिवार का कोई आरोपी है। वास्तव में न तो सीबीआई की तरफ से और न ही ईडी की तरफ से अदालत के समक्ष कोई चार्जशीट दाखिल की गई है और सीबीआई की तरफ से दर्ज बयान में भी मुझ पर कोई आरोप नहीं लगाए गए हैं। फिर भी यह व्यापक धारणा फैल गई है कि गंभीर अपराध किया गया है और मेरे बेटे और मैंने ये जुर्म किए हैं।

    चिदंबरम ने कहा, सच्चाई से अलग कुछ हो नहीं सकता। जब मुझे सीबीआई से समन मिला और ईडी ने पूछताछ के लिए बुलाया तो मैंने स्वाभाविक रूप से सक्षम अदालत से गिरफ्तारी के खिलाफ सुरक्षा की मांग की, मुझे अंतरिम संरक्षण दिया गया था। मैंने पिछले 13-15 महीनों से अंतरिम संरक्षण लिया। अब आखिरकार इस मामले पर सुनवाई हो रही है।

    चिदंबरम ने कहा, मैं छिप नहीं रहा था, बल्कि अपने वकीलों के साथ पूरी रात और आज कागजात तैयार करने में जुटा रहा। हमने आज सुबह यह काम पूरा किया। उन्होंने कहा, मेरे वकीलों ने मुझे बताया कि उनकी जोरदार दलीलों के बावजूद आज मामले को सूचीबद्ध नहीं किया गया, न ही इस मामले को कल सूचीबद्ध किया गया है। मैं सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को नमन करता हूं। उन्होंने कहा, अब से शुक्रवार तक मैं सिर उठाकर चलूंगा। मैं कानून का पालन करूंगा, यहां तक कि जांच एजेंसियां नहीं करती हैं तो भी करूंगा। चिदंबरम ने कहा, स्वतंत्रता के नाम पर मैं केवल आशा और प्रार्थना कर सकता हूं कि जांच एजेंसियां कानून का पालन करें। वर्तमान परिस्थितियों में कानून का सम्मान ही मायने रखता है। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करें।

    इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका मंगलवार को खारिज कर दी थी, जिसे उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। बुधवार सुबह सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति एन. वी. रमना की अगुवाई वाली पीठ ने चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया केस में गिरफ्तारी से अंतरिम राहत देने से मना करते हुए उनकी अंतरिम जमानत याचिका तत्काल सुनवाई के लिए प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के पास भेज दी। जांच एजेंसियों ने चिदंबरम की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि मामले में जांच के लिए उनको हिरासत में लेना आवश्यक है, क्योंकि उन्होंने पूछताछ में गलत सूचना दी थी।

     

    और भी...

  • उत्तराखंड के उत्तरकाशी में हेलिकॉप्टर क्रैश, पायलट समेत 3 की मौत

    उत्तराखंड के उत्तरकाशी में हेलिकॉप्टर क्रैश, पायलट समेत 3 की मौत

     

    उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में बुधवार सुबह एक हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। इसमें पायलट राजपाल, को-पायलट और स्थानीय नागरिक रमेश सावर सवार थे। एसडीएस देवेंद्र नेगी ने तीनों की मौत की पुष्टि कर दी है। यह हेलिकॉप्टर भारी बारिश से प्रभावित इलाकों में राहत सामग्री लेकर जा रहा था।

    सेना के हेलिकॉप्टर भारी बारिश से प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव अभियान चला रहे हैं। दुर्घटना का शिकार हुए हेलिकॉप्टर ने राहत सामग्री के साथ मोरी से मोल्दी के लिए उड़ान भरी थी। उत्तरकाशी में 17 अगस्त की रात मोरी तहसील के अराकोट, माकुड़ी और तिकोची गांव में बादल फटे थे। जिससे करीब 25 मकान दब गए।

    सोमवार को राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रभारी सचिव एसए मुरुगेशन ने बताया था कि मोरी में बादल फटने से 21 लोगों की जान गई। वायुसेना के दो हेलिकॉप्टर देहरादून के जॉली ग्रांट एयरपोर्ट और सहस्त्रधारा हेलीपैड से राहत सामग्री लेकर उत्तरकाशी जिले में पहुंचा रहे हैं।

    और भी...