बिजनेस

  • मोदी सरकार ने E Cigarette पर लगाया बैन, साथ ही रेल कर्मचारियों को दिया 78 दिनों के बोनस का तोहफा

    मोदी सरकार ने E Cigarette पर लगाया बैन, साथ ही रेल कर्मचारियों को दिया 78 दिनों के बोनस का तोहफा

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज हुई बैठक में कैबिनेट ने ई-सिगरेट पर पाबंदी का फैसला लिया है। इसके साथ ही कैबिनेट ने फैसले पर अमल के लिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कैबिनेट ने इलेक्ट्रिक सिगरेट के इम्पोर्ट, प्रोडक्शन और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ई-सिगरेट के प्रोमोशन पर भी रोक लगाई गई है।

    बता दें कि हाल ही में ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स द्वारा Prohibition of E Cigerettes Ordinance2019 को जांचा गया था। ग्रुफ ऑफ मिनिस्टर्स ने इसमें मामूली बदलाव का सुझाव दिया था।

    इसके साथ ही सरकार ने रेल कर्मचारियों को 78 दिनों का बोनस देने का फैसला किया है। केंद्र सरकार के इस फैसले से रेलवे के 11 लाख 52 हजार कर्मचारियों को 78 दिन का बोनस दिया जाएगा। इस पर रेलवे को 2024 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

    बता दे ई सिगरेट का सेवन करने से व्यक्ति को डिप्रेशन होने की संभावना दोगुनी हो जाती है। एक शोध के मुताबिक जो लोग ई सिगरेट का सेवन करते हैं, उन्हे हार्ट अटैक से होने वाला खतरा 56 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। वहीं लंबे समय तक इसका सेवन करने से ब्लड क्लोट की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

    और भी...

  • सऊदी के तेल संयंत्र पर हमले से तेल कीमतों पर हुआ असर, कच्चे तेल की कीमत में इजाफा

    सऊदी के तेल संयंत्र पर हमले से तेल कीमतों पर हुआ असर, कच्चे तेल की कीमत में इजाफा

     

    सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के दो बड़े ठिकानों पर शनिवार को हुए ड्रोन हमलों के बाद कच्चे तेल की कीमत बीते चार महीने में सबसे अधिक दर्ज की गई है। जो दैनिक वैश्विक तेल आपूर्ति का 5 प्रतिशत है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में व्यापार की शुरुआत में ब्रेंट क्रूड 19 प्रतिशत बढ़कर 71.95 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जबकि अन्य प्रमुख बेंचमार्क, वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट 15 प्रतिशत बढ़कर 63.34 डॉलर हो गया। बता दें कि कच्चे तेल के दाम बढ़ने के बाद भारत में लगातार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा देखने को मिल रहा है।

    हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने आपात भंडार से कच्चे तेल को निकाला है जिसके बाद बाजार को राहत मिली है और कीमतों में थोड़ी कमी आई है। लेकिन फिर भी सऊदी तेल ठिकानों को पहले की तरह तेल उत्पादन वापस शुरू करने में अभी कुछ हफ्ते लग सकते हैं।

    गौरतलब है कि सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको दुनिया की सबसे अहम तेल कंपनियों में से एक है और कच्चे तेल की सबसे बड़ी निर्यातक है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में आने वाला 10 फीसदी कच्चा तेल सऊदी अरब से आता है और उत्पादन कम हुआ तो बाजार में तेल की कीमतें और बढ़ सकती हैं। गौरतलब है कि हिजरा खुरैस में रोजाना लगभग 15 लाख बैरल तेल का उत्पादन होता है। साथ ही दुनिया के सबसे बड़े कच्चे तेल के भंडार वाले अबकैक को निशाना बनाया गया। अबकैक में 70 लाख बैरल तेल प्रोसेस होता है।

    और भी...

  • ऑटो कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा का बड़ा फैसला, मंदी की मार से 17 दिन तक नहीं होगा प्रोडक्शन

    ऑटो कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा का बड़ा फैसला, मंदी की मार से 17 दिन तक नहीं होगा प्रोडक्शन

     

    देश की दिग्‍गज ऑटो कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्‍लांट में 17 दिन तक किसी भी तरह का प्रोडक्‍शन नहीं होगा। कंपनी ने यह फैसला ऐसे समय में लिया है जब देश की ऑटो इंडस्‍ट्री सुस्‍ती के दौर से गुजर रही है। बता दें कि महिंद्रा देश की दूसरी बड़ी ऑटो कंपनी है जिसके प्‍लांट प्रोडक्‍शन कटौती की वजह से बंद हो रहे हैं।

    इससे पहले 7 और 9 सितंबर को मारुति सुजुकी के मानेसर-गुरुग्राम के प्‍लांट में प्रोडक्शन का काम नहीं हुआ था। वहीं हिंदुजा समूह की प्रमुख कंपनी अशोक लीलैंड ने 16 दिन तक प्‍लांट बंद रखने की घोषणा की है। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक महिंद्रा ने शेयर बाजार को अपने प्‍लांट बंद करने के संबंध में जानकारी दी है। महिंद्रा ने बताया है कि इस तिमाही के दौरान 3 दिन अतिरिक्त प्रोडक्‍शन नहीं किया जाएगा।

    दरअसल, बीते 9 अगस्त को कंपनी ने देश के अलग-अलग प्‍लांट में 14 दिन तक प्रोडक्‍शन बंद रखने की घोषणा की थी। इसके बाद अब कंपनी ने अतिरिक्‍त 3 दिन प्‍लांट बंद रखने की बात कही है। इसके साथ ही महिंद्रा ने कहा कि वह इस महीने के अंत तक कृषि उपकरण क्षेत्र में एक से तीन दिन तक उत्पादन बंद रखेगी। कंपनी ने कहा, वाहनों का पर्याप्त भंडार होने की वजह से प्रबंधन को ऐसा नहीं लगता कि इससे बाजार में उसके वाहनों की उपलब्धता पर असर पड़ेगा।

    बता दें कि अगस्‍त महीने में महिंद्रा की कुल बिक्री में 25 फीसदी तक की गिरावट आई है। कंपनी की बिक्री गिरकर 36,085 वाहन रह गई है। पिछले साल अगस्त में महिंद्रा के 48,324 वाहन बिके थे। वहीं देश की वाहन बिक्री के आंकड़े अगस्त में 20 साल के निचले स्‍तर पर पहुंच गए हैं।

    और भी...

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा सीपीआई कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स कंट्रोल में

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा सीपीआई कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स कंट्रोल में

     

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा, महंगाई की दर 4फीसदी नीचे है। मुद्रास्फीति नियंत्रण में है। आज, हम कर-संबंधी सुधार उपायों, निर्यात और घर-खरीदारों पर विचार करेंगे। सीतारमण का कहना है कि अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार का स्पष्ट संकेत है। हम रिएल एस्टेट के लिए कदम उठाएंगे, हमारा लक्ष्य अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाना है।

    बैंकिंग क्षेत्र में असर दिख रहा है। हम निर्यात बढ़ाने के लिए कदम उठाएंगे।  सीतारमण ने कहा, बैंकों से ऋण के प्रवाह में वृद्धि और सुधार हुआ है। सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के प्रमुखों से क्रेडिट फ्लो सिस्टम पर मुलाकात करेंगे। सीतारमण ने कहा कि सीपीआई कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स कंट्रोल में है और महंगाई दर कम है। IP नंबर्स भी बेहतर हैं।

    फिस्कल डेफिसिट 2018-19 में 3.4 फीसदी पर है। पार्शियल क्रेडिट गारंटी स्कीम इम्पलीमेंट हो चुकी है। बैंकों ने अब रेपो रेट से ईएमआई लिंक करनी शुरू कर दी है। 19 सितंबर को बैंकों के चीफ के साथ बैठक है जिसमें इसको लेकर रिपोर्ट मांगी जाएगी।

    उन्होंने कहा कि 12 सितंबर से ई असेसमेंट स्कीम को लागू किया जा चुका है। डीआईएन यानी डॉक्यूमेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर 14 अगस्त से लागू हो चुका है यानी कोई अधिकारी अब आपको पेपर्स के लिए परेशान नहीं कर सकता। औद्योगिक उत्पादन में इस वर्ष की पहली तिमाही में सुधार नजर आ रहा है। 

    उन्होंने कहा कि ई असेसमेंट स्कीम को 12 सितम्बर को नोटिफाई कर दिया गया है। छोटे टैक्सपेयर्स को छोटी मोटी प्रोसीज़रल गलतियों के लिए प्रोसीक्यूट नहीं किया जाएगा। 9 सितम्बर को ये आदेश नोटिफाई किया गया।

     

    और भी...

  • Disney के CEO बॉब आइगर ने दिया APPLE के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर पद से इस्तीफा,ये बात बनी वजह

    Disney के CEO बॉब आइगर ने दिया APPLE के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर पद से इस्तीफा,ये बात बनी वजह

     

    अमेरिकी एंटरटेनमेंट कंपनी डिज्नी के सीईओ बॉब आइगर ने एप्पल के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर से 10 सितंबर को इस्तीफा दे दिया। एप्पल ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। आइगर 2011 में एप्पल के बोर्ड में शामिल हुए थे। वे एप्पल की कॉरपोरेट गवर्नेंस कमेटी के प्रमुख थे। कंपनी के कंपेनसेशन बोर्ड में भी थे।

    आइगर ने वीडियो स्ट्रीमिंग में एप्पल और डिज्नी के कॉम्पिटीशन की वजह से इस्तीफा दिया। एप्पल टीवी प्लस सर्विस के जरिए 1 नवंबर से वीडियो स्ट्रीमिंग में उतरेगी। डिज्नी भी नवंबर में ही स्ट्रीमिंग सर्विस शुरू करेगी। एप्पल ने 10 सितंबर को ही स्ट्रीमिंग सर्विस की कीमत और तारीख का ऐलान किया था। आइगर ने उसी दिन इस्तीफा दे दिया।

    एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब्स आइगर के दोस्त थे। 2011 में जॉब्स के निधन के बाद आइगर एप्पल के बोर्ड में शामिल हुए। फॉर्च्यून की रिपोर्ट के मुताबिक निधन से पहले जॉब्स ने ही आइगर से ऐसा करने को कहा था। डिज्नी ने 2006 में जॉब्स की कंपनी पिक्सर को खरीदा था। जॉब्स भी डिज्नी के बोर्ड में रहे थे।

    डिज्नी और एप्पल के कॉरपोरेट संबंध कई साल पुराने हैं। डिज्नी उन शुरुआती कंपनियों में से है जिन्होंने आईफोन और आईपैड के लिए ऐप डेवलप किए थे। आइगर 2005 में डिज्नी के सीईओ बने। उसके कुछ समय बाद ही आईट्यून्स के कंटेंट की घोषणा के वक्त वे स्टीव जॉब्स के साथ स्टेज पर दिखे थे।

    और भी...

  • PNB घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के भाई नेहाल मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस

    PNB घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के भाई नेहाल मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने जारी किया रेड कॉर्नर नोटिस

     

    13,600 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के भाई नेहाल मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया है। इससे पहले ईडी ने इंटरपोल से नेहाल के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने की अपील की थी। 40 साल का नेहाल फिलहाल बेल्जियम की नागरिकता हासिल किए हुए है और अमेरिका में रह रहा है।

    उस पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। उस पर पीएनबी से पैसे को इधर-उधर करने में नीरव मोदी की मदद करने का आरोप है। इसके साथ ही उसने सभी सबूतों को भी नष्ट कर दिया है। ईडी ने आरोप लगाया है कि घोटाले का पता लगने के बाद उसने दुबई और हांगकांग में रह रहे सभी छद्म निदेशकों के सेल फोन को समाप्त कर दिया है और उनका काहिरा के लिए टिकट बुक किया था।

    फिलहाल नीरव मोदी इंग्लैंड की जेल में है। लंदन की वेस्टमिनस्टर कोर्ट में उसके प्रत्यपर्ण की सुनवाई चल रही है। ईडी ने नीरव मोदी की 637 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की हैं। ये संपत्तियां भारत और चार अन्य देशों में स्थित हैं।

    और भी...

  • IMF की रिपोर्ट भारत की आर्थिक वृद्धि दर अनुमान से कम, 2019-20 में 7 प्रतिशत रहने का अनुमान

    IMF की रिपोर्ट भारत की आर्थिक वृद्धि दर अनुमान से कम, 2019-20 में 7 प्रतिशत रहने का अनुमान

     

    अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने कहा कि कॉरपोरेट और पर्यावरणीय नियामक की अनिश्चितताओं, कुछ गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं की कमजोरी के कारण भारत की आर्थिक वृद्धि दर अनुमान से अधिक कमजोर हुई है।गुरुवार को आईएमएफ ने आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान में 0.3% की कटौती करते हुए वित्त वर्ष 2019-20 में इसके 7% रहने का अनुमान जताया है।

    IMF के प्रवक्ता गेरी राइस ने भारतीय अर्थव्यवस्था की कमजोरी पर चिंता जताते हुए नए आंकड़े पेश करने की बात कही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल-जून की तिमाही में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7 साल के सबसे निचले स्तर 5% पर रही। जबकि पिछले साल इसी तिमाही में यह स्तर 8% पर थी।

    आईएमएफ की शुरुआती रिपोर्ट में वित्त वर्ष 2021 के लिए आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान 7.2% लगाया गया। इससे पहले यह अनुमान 7.5% का आंका गया था। सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मंदी का मुख्य कारण विनिर्माण क्षेत्र और कृषि उत्पादन में तेज गिरावट आना है। इससे पहले, वित्त वर्ष 2012-13 में अप्रैल-जून तिमाही में सबसे कम आर्थिक वृद्धि दर दर्ज की गई थी। उपभोक्ता की मांग और निजी निवेश कम होने से यह स्तर 4.9% रही थी।

    गेरी राईस ने कहा, अमेरिका-चीन के बीच ट्रेड वॉर ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को झटका दिया है। इससे वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि में अगले वर्ष 0.8% घटने की आशंका है। पिछले एक दशक के वित्तीय संकट के दौरान दुनिया भर में विनिर्माण स्तर पर पहले से ही मंदी का दौर जारी है। उन्होंने कहा, हमने विनिर्माण क्षेत्र में कमजोरी दर्ज की है। इस प्रकार की स्थिति वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान भी नहीं देखी गई थी।

    और भी...

  • ऑटो सेक्टर में मंदी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने OLA-UBER को ठहराया जिम्मेदार

    ऑटो सेक्टर में मंदी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने OLA-UBER को ठहराया जिम्मेदार

     

    ऑटो सेक्टर में 20 साल की सबसे बड़ी मंदी आई हुई है। अगस्त में लगातार दसवें महीने अगस्त में यात्री वाहनों की बिक्री कम हुई है। वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम के आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में यात्री वाहनों की बिक्री एक साल पहले इसी माह की तुलना में 31.57 प्रतिशत घटकर 1,96,524 वाहन रह गई। ऑटो सेक्टर में आई मंदी के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ओला और उबर को जिम्मेदार ठहराया है।

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा ऑटो सेक्टर बीएस6 की और लोगों की सोच की वजह से ज्यादा प्रभावित है। अब लोग ओला उबर गाड़ी खरीदने की तुलना में ज्यादा पसंद कर रहे हैं। ऑटोमोबाइल सेक्टर में घटती बिक्री और नौकरी पर मंत्री ने कहा कि सरकारी विभागों को नई गाड़ियां खरीदने की इजाजत दे दी गई है। भारतीय आटोमोबाइल विनिर्माता सोसायटी के आंकड़ों के मुताबिक अगस्त 2019 में घरेलू बाजार में कारों की बिक्री 41.09 प्रतिशत घटकर 1,15,957 कार रह गई जबकि एक साल पहले अगस्त में 1,96,847 कारें बिकी थी। एक साल पहले अगस्त में 2,87,198 वाहनों की बिक्री हुई थी।

    बीते हफ्ते परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ऑटो कंपनियों को भरोसा दिया था कि पेट्रोल और डीजल व्हीकल को बैन करने का कोई प्लान नहीं है। उन्होंने कहा था कि ऑटो सेक्टर में स्लोडाउन वैश्विक आर्थिक कारणों से है। उन्होंने कहा था वित्त मंत्री जल्द इसको इसको सुलझाएंगी।

     

    और भी...

  • Apple ने लॉन्च की iPhone 11 की नई सीरीज, ये हैं फीचर्स और स्पेसिफिकेशन

    Apple ने लॉन्च की iPhone 11 की नई सीरीज, ये हैं फीचर्स और स्पेसिफिकेशन

     

    एप्पल ने अपने iphone के नए मॉडल से पर्दा हटा दिया है। कैलीफोर्निया स्थित कंपनी के मुख्यालय के एप्पल पार्क में आयोजित इवेंट में कंपनी ने अपने नए आईफोन लॉन्‍च कर दिए। कंपनी ने पिछले साल की तरह ही इस बार भी आईफोन के तीन मॉडल लॉन्‍च किए हैं। कंपनी ने जो तीन आईफोन लॉन्‍च किए हैं वो हैं आईफोन 11, आईफोन 11 प्रो और आईफोन 11 मैक्‍स।

    iphone 11 डुअल कैमरे से लैस है। यह ए-13 प्रोसेसर से लैस है जो कंपनी के अनुसार अब तक का सबसे तेज मोबाइल प्रोसेसर है। कंपनी का दावा है कि इसमें अब तक सबसे तेज मोबाइल जीपीयू भी लगा है। कंपनी ने इस फोन की कीमत 699 डॉलर रखी है। इसके साथ ही कंपनी ने iphone 11 प्रो और iphone 11 प्रो मैक्‍स भी लॉन्‍च किया है। यह पहला iphone है जो ट्रिपल कैमरा सेट अप से लैस है।

    iphone 11 में 6.1 इंच का लिक्विड रेटिना डिस्‍प्‍ले है और यह 6 रंगों में उपलब्‍ध होगा। इसके डुअल कैमरा सेटअप में एक वाइड एंगल लेंस है जो 120 डिग्री फील्‍ड व्‍यू की तस्‍वीरें लेने में सक्षम है। दोनों ही कैमरा 12 मेगापिक्‍सल के हैं। iphone 11 में नाइट मोड भी है जो कम रोशनी में बेहतर तस्‍वीरें लेने में मदद करता है। इसमें 60 फ्रेम प्रति सेकेंड की दर से 4K वीडियो रिकॉर्ड किया जा सकता है। iphone 11 को IP68 रेटिंग मिली है जिसका मतलब है कि यह फोन वाटर प्रूफ और डस्‍ट रेसिस्‍टेंट है। iphone के अनुसार इसकी बैटरी iphone एक्‍सआर की तुलना में एक घंटे ज्‍यादा चल सकती है।

    iphone 11 प्रो और iphone प्रो मैक्‍स की अगर बात करें तो इनमें ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप हैं। iphone 11 प्रो में 5.8 इंच की स्‍क्रीन है जबकि iphone 11 प्रो मैक्‍स में 6.5 इंच की स्‍क्रीन है। दोनों ही फोन में स्‍क्रीन की रिजोल्‍यूशन 458ppi है। इसके डिस्‍प्‍ले को सुपर रेटिना का नाम दिया गया है। iphone 11 प्रो और iphone 11 प्रो मैक्‍स में अपने पूर्ववर्ती मॉडलों की तुलना में क्रमश 4 और 5 घंटे ज्‍यादा चलने वाली बैटरी है।

    अगर ट्रिपल सेटअप कैमरों की बात करें तो इनमें 12 मेगापिक्‍सल का वाइड एंगल कैमरा, एक 12 मेगापिक्‍सल का अल्‍ट्रा वाइड एंगल कैमरा और एक टेलीफोटो कैमरा भी है। iphone प्रो सीरीज के फोन 18 वाट के फास्‍ट चार्जर के साथ आएंगे। iphone 11 प्रो की कीमत 999 डॉलर से शुरू होती है जबकि iphone प्रो मैक्‍स की कीमत 1099 डॉलर से शुरू होती है।

    iphone 11 प्रो की कीमत 999 डॉलर से शुरू होती है जबकि iphone प्रो मैक्‍स की कीमत 1,099 डॉलर से शुरू होती है। सभी नए मॉडल 13 सितंबर से प्री ऑर्डर किए जा सकते हैं और ये 20 सितंबर से ग्राहकों को मिलने शुरू हो जाएंगे। अब iphone 8 कीमत 449 डॉलर हो गई है जबकि iphone एक्‍सआर की कीमत 599 डॉलर से शुरू होगी।

    और भी...

  • पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर इंडस्ट्री को मिला 3 दिन का समय, प्लास्टिक बोतल का बताए विकल्प

    पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर इंडस्ट्री को मिला 3 दिन का समय, प्लास्टिक बोतल का बताए विकल्प

     

    सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगाने को लेकर उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर इंडस्ट्री को तीन दिनों का समय दिया है। इंडस्ट्री के लोगों से कहा गया है कि वे प्लास्टिक बोतल के विकल्प का प्रस्ताव लेकर सामने आएं। बता दें, आज इसको लेकर कैबिनेट सचिव की बैठक होने जा रही है, जिसमें अहम फैसले लिए जा सकते हैं।

    सोमवार को उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के साथ इंडस्ट्री के लोगों की बैठक हुई थी, जिसमें दूसरे मंत्रालयों के सचिव भी मौजूद थे। इस बैठक में कुछ लोगों ने यह सुझाव दिया कि सिंगल यूज प्लास्टिक की जगह पर PET बोतल का इस्तेमाल किया जा सकता है। कुछ लोगों ने कार्डबोर्ड पैकिंग को इस्तेमाल में लाने की सलाह दी। वहीं, कुछ लोगों का यह प्रस्ताव था कि शीशे का इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, शीशे की री-साइकिलिंग आसान नहीं है और यह महंगा भी है।

    उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के सचिव एके श्रीवास्तव ने कहा कि बैठक में कई विकल्पों पर चर्चा हुई. फिलहाल, कार्डबोर्ड बोतल के इस्तेमाल पर एक राय बनती नजर आ रही है। हालांकि, इसमें भी प्लास्टिक और मेटल का इस्तेमाल होता है। इंडस्ट्री के लोगों को तीन दिनों का समय दिया गया है। बता दें, PSUs और तमाम मंत्रालयों में 15 सितंबर से सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पूरी तरह पाबंदी लगने जा रही है।

    और भी...

  • ऑटो सेक्टर में मंदी का कहर, लगातार 10वें महीने वाहनों की बिक्री हुई कम

    ऑटो सेक्टर में मंदी का कहर, लगातार 10वें महीने वाहनों की बिक्री हुई कम

     

    देश में ऑटो सेक्टर की परेशानी और बढ़ती जा रही है। देश में लगातार 10वें महीने अगस्त में यात्री वाहनों की बिक्री कम हुई है। वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम के आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में यात्री वाहनों की बिक्री एक साल पहले इसी माह की तुलना में 31.57 प्रतिशत घटकर 1,96,524 वाहन रह गई। एक साल पहले अगस्त में 2,87,198 वाहनों की बिक्री हुई थी।

    भारतीय आटोमोबाइल विनिर्माता सोसायटी के सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक अगस्त 2019 में घरेलू बाजार में कारों की बिक्री 41.09 प्रतिशत घटकर 1,15,957 कार रह गई जबकि एक साल पहले अगस्त में 1,96,847 कारें बिकी थी। इस दौरान दुपहिया वाहनों की बिक्री 22.24 प्रतिशत घटकर 15,14,196 इकाई रह गई, जबकि एक साल पहले इसी माह में देश में 19,47,304 दुपहिया वाहनों की बिक्री की गई। इसमें मोटरसाइकिलों की बिक्री 22.33 प्रतिशत घटकर 9,37,486 मोटरसाइकिल रह गई जबकि एक साल पहले इसी माह में 12,07,005 मोटरसाइकिलें बिकी थीं।

    सियाम के आंकड़ों के मुताबिक अगस्त माह में वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 38.71 प्रतिशत घटकर 51,897 वाहन रही। कुल मिलाकर यदि सभी तरह के वाहनों की बात की जाये तो अगस्त 2019 में कुल वाहन बिक्री 23.55 प्रतिशत घटकर 18,21,490 वाहन रह गई, जबकि एक साल पहले इसी माह में कुल 23,82,436 वाहनों की बिक्री हुई थी।

    और भी...

  • SBI का बड़ा ऐलान, होम लोन और एफडी की ब्याज दरों में की कटौती

    SBI का बड़ा ऐलान, होम लोन और एफडी की ब्याज दरों में की कटौती

     

    सार्वजनिक क्षेत्र के देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने MCLR में कटौती का ऐलान किया है। स्टेट बैंक ने MCLR रेट में 10 बेसिस प्वाइंट्स की कटौती की है। यह नियम 10 सितंबर 2019 से लागू हो रहा है। वित्त वर्ष 2019-20 में अब तक MCLR की दरों में पांच बार कटौती की जा चुकी है।

    इसके अलावा बैंक ने डिपॉजिट रेट में भी कटौती की घोषणा की है। SBI ने रिटेल टाइम डिपॉजिट में 20-25 बेसिस प्वाइंट्स और बल्क TD csx 10-20 बेसिस प्वाइंट्स की कटौती की है। कटौती की घोषणा के बाद 10 सितंबर से एक साल के लिए MCLR 8.25 फीसदी से घट कर 8.15 फीसदी पर पहुंच गई।

    1 मई से अब तक एसबीआई कर्ज की दरों में 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर चुका है। 1 मई से पहले एसबीआई की दरें 8.55 फीसदी पर थीं, जो अब घटकर 8.15 फीसदी हो चुकी हैं। इससे पहले एसबीआई ने 10 जून को भी एमसीएलआर की दरों में कटौती की थी।

     

    और भी...

  • अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा इस दिन देगें कंपनी बोर्ड के अध्यक्ष पद इस्तीफा

    अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा इस दिन देगें कंपनी बोर्ड के अध्यक्ष पद इस्तीफा

     

    अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा 10 सितंबर को कंपनी बोर्ड के अध्यक्ष पद से हट रहे हैं। 10 सितंबर को ही जैक मा का बर्थडे है और इसी दिन उन्होंने कंपनी से अलग होने का फैसला किया है। दरअसल, ऑनलाइन दुनिया के दिग्गज कारोबारी और चीन के सबसे अमीर शख्स जैक मा ने एक साल पहले ही अध्यक्ष पद से हटने का संकेत दे दिया था। उन्होंने कहा था कि वो अपने 55वें जन्मदिन के मौके पर 10 सितंबर 2019 को कंपनी के अध्यक्ष पद से छोड़ देंगे।

    उनकी जगह अलीबाबा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेनियल झेंग लेंगे। फॉर्ब्स की 2018 की सूची के मुताबिक जैक मा चीन के सबसे धनी व्यक्ति हैं। फॉर्ब्स ने उनकी दौलत 34.6 बिलियन डॉलर बताई थी। इससे पहले 2014 में भी जैक मा के नाम चीन के सबसे अमीर लोगों में शुमार था। हालांकि 2017 में जैक मा खिसककर तीसरे नंबर पर पहुंच गए थे। लेकिन 2018 में उन्होंने फिर नंबर 1 पर कब्जा कर लिया। अलीबाबा में जैक मा की लगभग 9 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

    जैक मा ने आज से 10 साल पहले अपने उत्ताधिकारी की तलाश शुरू कर दी थी। साल 2013 में उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष बनने के लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी की कुर्सी छोड़ दी थी। अलीबाबा के चेयरमैन पद से हटने के बाद जैक मा शिक्षा के क्षेत्र में काम करेंगे। इसके लिए जैक मा फाउंडेशन के जरिए चीन के ग्रामीण इलाकों में शिक्षा के प्रचार-प्रसार को और बढ़ाने का फैसला किया है।

     

    और भी...

  • मदर डेयरी ने दूध की कीमत में की 2 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी,लेकिन ये बढोत्तरी...

    मदर डेयरी ने दूध की कीमत में की 2 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी,लेकिन ये बढोत्तरी...

     

    अग्रणी दूध सप्लायर मदर डेयरी ने दूध की कीमत में दो रुपये लीटर तक की बढोत्तरी कर दी है। इस बार कंपनी की तरफ से गाय के दूध की कीमत में इजाफा किया गया है। बदलाव के बाद गाय का दूध दो रुपये बढ़कर 44 रुपये प्रति लीटर हो गया है और यह केवल दिल्ली-एनसीआर में ही लागू होगा।

    आधा लीटर दूध के लिए ग्राहकों को 23 रुपये देने होंगे। दूध की कीमतों में की गई यह वृद्धि शुक्रवार से लागू हो गई है। कीमत में इजाफा करने के पीछे कंपनी का कहना है कि वह किसानों से कच्चा दूध खरीदने के लिए अधिक भुगतान कर रही है। इस कारण गाय के दूध के दाम बढ़ाने पड़ रहे हैं। फिलहाल कंपनी ने अन्य किसी दूध के दामों में बढोतरी नहीं की है। इससे पहले मदर डेयरी ने मई 2019 में फुल क्रीम दूध की कीमत में इजाफा किया था।

    मदर डेयरी की तरफ से कहा गया कि पिछले दो से तीन महीने में गाय के दूध की खरीद पर उसे 2.50 से 3 रुपये प्रति लीटर का अधिक भुगतान करना पड़ रहा है। इस स्थिति में दूध की कीमत बढ़ानी पड़ी। 6 सितंबर से गाय के आधा लीटर दूध के लिए ग्राहकों को 23 रुपये जबकि एक लीटर के लिए 44 रुपये का भुगतान करना होगा। मदर डेयरी की तरफ से दाम बढ़ाए जाने के बाद उम्मीद है कि आने वाले समय में अमूल और अन्य कंपनियां भी कीमत में इजाफा कर सकती हैं।

    और भी...

  • रिलायंस जियो की ब्रॉडबैंड सेवा जियो गीगा फाइबर को आज से देशभर में शुरू

    रिलायंस जियो की ब्रॉडबैंड सेवा जियो गीगा फाइबर को आज से देशभर में शुरू

     

    रिलायंस जियो की ब्रॉडबैंड सेवा जियो गीगा फाइबर को आज से देशभर में शुरू होगी। इसके साथ कंपनी न्यूनतम 100 एमबीपीएस की इंटरनेट गति, आजीवन मुफ्त फोन कॉल, मुफ्त एचडी टीवी और डिश उपलब्ध कराएगी. इसके लिए न्यूनतम शुल्क 700 रुपये मासिक होगा।

    जियो लैंड लाइन से 500 रुपये मासिक किराये पर अमेरिका और कनाडा में असीमित अंतरराष्ट्रीय फोन कॉल भी की जा सकेगी। भारत में जियो गीगा फाइबर की सबसे न्यूनतम स्पीड 100 एमबीपीएस होगी। कंपनी का एक जीबीपीएस तक की स्पीड उपलब्ध कराने के प्लान हैं। जियो गीगा फाइबर के प्लान 700 रुपये मासिक से शुरू होकर 10,000 रुपये मासिक तक होंगे। इसके अलावा 2020 के मध्य तक जियो गीगा फाइबर के प्रीमियम ग्राहक घर बैठे फिल्म के रिलीज के दिन ही उसे देख सकेंगे। इसे जियो ने फर्स्ट डे फर्स्ट शो का नाम दिया है।

    एक रिपोर्ट के मुताबिक शुरुआत के दो महीने में जियो फाइबर कनेक्शन यूजर्स को बिल्कुल मुफ्त मिल सकता है। जियो ने फाइबर सर्विस के लिए 1.5 करोड़ रजिस्ट्रेशन मिलने का दावा किया है। ट्रॉयल फेज में जियो ने पहले ही कुछ जगहों पर फाइबर सर्विस को शुरू कर दिया है। इसलिए माना जा रहा है कि लॉन्च के बाद भी जियो कुछ टाइम के लिए फ्री सर्विस को जारी रख सकती है।

    अभी तक कंपनी यूजर्स के सर्विस को शुरू करने के लिए कोई चार्ज नहीं ले रही है। यूजर्स को कनेक्शन लेने के लिए बस सिक्योरिटी फीस जमा करवानी पड़ती है जो कनेक्शन हटवाने पर वापस मिल जाएगी। एक महीने पहले घोषणा हुई थी कि जियो के प्लान 700 रुपये से लेकर 10 हजार रुपये के बीच हो सकते हैं। लेकिन जियो ने अभी तक फाइबर सर्विस के प्लान की कोई लिस्ट जारी नहीं की है।

    और भी...